शी जिनपिंग का तिब्बत दौरा, नए दलाई लामा का चुनाव, दलाई लामा का चुनाव, Xi Jinping Visit To Tibet, Xi Jinping Tibet Visit, Xi Jinping Lhasa Visit, Next Dalai Lama, New Dalai Lama, Dalai Lama Successor, Dalai Lama Age, Asian Countries News, Asian Countries News İn Hindi, Latest Asian Countries News, Asian Countries Headlines, बाकी एशिया Samachar

शी जिनपिंग का तिब्बत दौरा, नए दलाई लामा का चुनाव

दलाई लामा के घर पहुंचे चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, अगले लामा पर तिब्बतियों को साधने की कोशिश?

दलाई लामा के घर पहुंचे चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, अगले लामा पर तिब्बतियों को साधने की कोशिश? via @NavbharatTimes

23-07-2021 21:44:00

दलाई लामा के घर पहुंचे चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, अगले लामा पर तिब्बतियों को साधने की कोशिश? via NavbharatTimes

नए दलाई लामा को चयन को लेकर तिब्बतियों को मनाने के लिए शी जिनपिंग ने ल्हासा का अचानक दौरा किया है। इस दौरान वे दलाई लामा का घर कहे जाने वाले पोटाला पैलेस भी गए। नए दलाई लामा के चयन पर चीन का अमेरिका और भारत के साथ विवाद है।

हाइलाइट्सअचानक तिब्बत के दौरे पर पहुंचे चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंगल्हासा में दलाई लामा के आधिकारिक निवास पोटाला पैलेस का भी दौरा कियानए दलाई लामा के चयन के लिए तिब्बतियों को साधने की कोशिश कर रहा चीनल्हासाचीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने 2013 में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का महासचिव बनने के बाद पहली बार तिब्बत का दौरा किया है। इस दौरान जिनपिंग ने राजधानी ल्हासा में डेपुंग मठ, बरखोर स्ट्रीट और पोटाला पैलेस जैसे प्रसिद्ध बौद्ध मठों का दौरा भी किया। ल्हासा के पोटाला पैलेस को बौद्ध धर्म के सबसे बड़े धर्म गुरू दलाई लामा का घर कहा जाता है। ऐसे में माना जा रहा है कि शी जिनपिंग अपने इस दौरे से अगले दलाई लामा के चयन के लिए तिब्बतियों को साधने की कोशिश कर रहे हैं।

कार्टून: इस ड्रग्स में वो बॉलीवुड वाली बात कहाँ? - BBC News हिंदी पंजाब में मेयर का 'तालीबानी' फरमान: बठिंडा की मेयर ने कहा- चप्पल और निक्कर पहनकर नगर निगम में न आएं; लोग बोले- गरीब आदमी कहां से जूते लाए ड्रग्स पर बड़ी कार्रवाई: साउथ अफ्रीका से आईं मां और बेटी 25 करोड़ रुपए की ड्रग्स के साथ मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर गिरफ्तार; सूटकेस में खास कैविटी बनाकर बना कर छिपाया गया था

तिब्बत में संस्कृति को खत्म कर रहा चीनशी जिनपिंग का तिब्बत दौरापहले से निर्धारित नहीं था। चीन ने हाल के वर्षों में तिब्बत के बौद्ध मठों पर नियंत्रण बढ़ा दिया है। चीनी सरकार पूरी प्लानिंग के तहत बौद्ध धर्म को कमजोर करने के लिए स्कूलों में तिब्बती भाषा के बजाय चीन की मंडारिन भाषा में पढ़ाई करवा रही है। इतना ही नहीं, तिब्बत में चीनी सरकार की इन नीतियों के आलोचकों को गिरफ्तार कर कड़ी से कड़ी सजा भी दी जा रही है। अगर किसी का दलाई लामा के साथ संबंध पाया जाता है तो उसको भी कड़ी सजा दी जाती है।

ब्रह्मपुत्र नदी के विवादित बांध का किया निरीक्षणचीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ ने बताया कि शी जिनपिंग ने ल्हासा में प्राचीन शहर के संरक्षण के साथ-साथ तिब्बती संस्कृति की विरासत और संरक्षण के बारे में जानने की कोशिश की। इससे एक दिन पहले उन्होंने यारलुंग जांगबो नदी के बेसिन पर पारिस्थितिक संरक्षण कार्य का निरीक्षण करने के लिए न्यिंगची शहर का दौरा किया। यारलुंग जांगबो को भारत में ब्रह्मपुत्र नदी के नाम से जाना जाता है। चीन इसपर एक विवादित बांध बना रहा है, जिससे नदी के प्रवाह को खतरा पैदा हो सकता है। headtopics.com

तिब्बत में धर्म के सहारे पैठ बनाएगा चीन, दलाई लामा के खिलाफ पंचेन लामा का खेलेगा 'कार्ड'पंचेम लामा को मोहरा बनाना चाहता है चीनतिब्बत पर कब्जे के 70 साल बाद भी चीन की पकड़ उतनी मजबूत नहीं हो पाई है, जितना चीनी कम्युनिस्ट पार्टी चाहती है। इसी कारण जिनपिंग प्रशासन अब तिब्बत में धर्म का कार्ड खेलने की तैयारी कर रहा है। चीन अगले दलाई लामा के चयन में तिब्बती लोगों को अपने पक्ष में करने की कोशिश कर रहा है। इसलिए, यहां के लोगों के बीच अपनी पैठ बनाने के लिए चीन अब पंचेन लामा का सहारा लेने की तैयारी कर रहा है।

कौन हैं पंचेन लामातिब्बती बौद्ध धर्म में दलाई लामा के बाद दूसरा सबसे अहम व्यक्ति पंचेन लामा को माना जाता है। उनका पद भी दलाई लामा की तरह पुनर्जन्म की आस्था पर आधारित है। कहा जाता है कि आज से 26 साल पहले चीनी अधिकारियों ने पंचेन लामा का अपहरण कर लिया था। अपहरण के समय पंचेन लामा की उम्र सिर्फ छह साल की थी। वे अब 32 साल के हो चुके हैं। चीन उन्हें दलाई लामा की जगह बौद्ध धर्म का सबसे बड़ा नेता बनाने की कोशिश में जुटा है।

नए दलाई लामा के चयन पर चीन से भिड़ने को तैयार अमेरिका, ट्रंप ने तिब्बत नीति को दी मंजूरीदलाई लामा के उत्तराधिकारी को चुनना क्यों जरूरी?तेनजिन ग्यात्सो, जिन्हें हम 14वें दलाई लामा के नाम से जानते हैं, वे इस साल जुलाई में 86 साल के हो गए हैं। उनकी बढ़ती उम्र और खराब होती सेहत के बीच अगले दलाई लामा के चुनाव को लेकर भी घमासान मचा हुआ है। तिब्बती बौद्ध धर्म में दलाई लामा को एक जीवित बुद्ध माना जाता है जो उनकी मृत्यु के बाद पुनर्जन्म लेते हैं। परंपरागत रूप से जब किसी बच्चे को दलाई लामा के पुनर्जन्म के रूप में चुन लिया जाता है, तब वह अपनी भूमिका को निभाने के लिए धर्म का विधिवत अध्ययन करता है। वर्तमान दलाई लामा की पहचान उनके दो साल के उम्र में की गई थी।

चीन खुद चुनना चाहता है अगला दलाई लामचीन ने ऐसे संकेत दिए हैं कि दलाई लामा के उत्तराधिकारी का चयन चीन ही करेगा। चीन की इन चालाकियों को देखते हुए दलाई लामा नजदीकियों ने पहले ही बताया है कि परंपरा को तोड़ते हुए वे खुद अपने उत्तराधिकारी का चयन कर सकते हैं। अमेरिका पहले ही इस मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं के सामने रखने की मांग कर चुका है। इस पूरे मामले पर अमेरिका और भारत की पहले से नजर है। पिछले साल US दूत सैम ब्राउनबैक ने धर्मशाला में दलाई लामा से मुलाकात की थी। 84 वर्षीय दलाई लामा से मीटिंग के बाद ब्राउनबैक ने कहा था कि दोनों के बीच उत्तराधिकारी के मामले पर लंबी चर्चा हुई थी। headtopics.com

ग्लोबल कोविड समिट में PM मोदी ने दिया विश्व संदेश- 150 से ज्यादा देशों की भारत ने मदद की आकाशवाणी के रामानुज प्रसाद सिंह का निधन, 86 साल की उम्र में ली आखिरी सांस सम्राट मिहिरभोज कौन हैं, जिन्हें लेकर आमने-सामने हैं राजपूत और गुर्जर? - BBC News हिंदी

अब नए दलाई लामा के चयन पर आमने-सामने चीन और अमेरिका, 'तिब्बत कार्ड' से एशिया में बढ़ेगा तनावदलाई लामा के इस बयान से चिढ़ा है चीनदलाई लामा के 2019 में बयान दिया था कि उनका उत्तराधिकारी कोई भारतीय हो सकता है। इस बात पर चीन को मिर्ची लग गई थी। उसने कहा था कि नए लामा को उनकी सरकार से मान्यता लेनी ही होगी। तिब्बती समुदाय के अनुसार लामा, ‘गुरु’ शब्द का मूल रूप ही है। एक ऐसा गुरु जो सभी का मार्गदर्शन करता है। लेकिन यह गुरु कब और कैसे चुना जाएगा, इन नियमों का पालन आज भी किया जाता है।

1959 में भारत पहुंचे थे दलाई लामाकहा जाता है कि जब तिब्बत पर चीन ने पूरी तरह से कब्जा कर लिया था, तब 1959 में अमेरिकी खुफिया एजेंटों ने तत्कालीन दलाई लामा को अरुणाचल प्रदेश के जरिए भारत पहुंचा दिया था। आज भी दलाई लामा और तिब्बत की पूरी निर्वासित सरकार हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में रहती है। इस बात को लेकर चीन कई बार नाराजगी भी जता चुका है।

दलाई लामा को लेकर अमेरिका और चीन में विवाददलाई लामा को लेकर अमेरिका और चीन में काफी समय से विवाद जारी है। वर्तमान राष्ट्रपति जो बाइडन तिब्बत में चीन के मानवाधिकार हनन को लेकर काफी मुखर हैं। तिब्बत और शिनजियांग को लेकर अमेरिका ने चीन पर कई कड़े प्रतिबंध भी लगाए हुए हैं। 2020 में अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बौद्ध धर्म के सर्वोच्च धर्मगुरु के चयन में चीनी हस्तक्षेप को रोकने के लिए नई तिब्बत नीति (तिब्बती नीति एवं समर्थन कानून 2020) को मंजूरी दी थी। इसमें तिब्बत में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास स्थापित करने और यह सुनिश्चित करने के लिए एक अंतरराष्ट्रीय गठबंधन बनाने की बात की गई है।

Navbharat Times News App: और पढो: NBT Hindi News »

अमेठी में स्मृति ने पकौड़ी संग चाय पर की चर्चा: दुकानदार से पूछा- क्या हाल है, बोला- बेटे के दिल में छेद है, बोलीं- दिल्ली लेकर आइए, इलाज की चिंता मत करिए

स्मृति ईरानी अमेठी में हैं। केंद्रीय मंत्री गुरुवार सुबह अचानक नहर कोठी चौराहा पर राम नरेश की दुकान पर पहुंच गईं। वहां उन्होंने पकौड़ी खाई और चाय पी। दुकानदार से उसका हालचाल पूछा। साथ ही क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना। रामनरेश ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि क्षेत्र में सब ठीक चल रहा है, लेकिन वह निजी समस्या से परेशान हैं। उनके बच्चे के दिल में छेद है, जिसका इलाज कराने में वह असमर्थ है। | Discussion on Smriti Irani's tea in Amethi, After drinking tea at the shop, ate dumplings, asked - how are you; After hearing the problem of Ram Naresh called to Delhi, amethi news, political news, यूपी चुनाव से पहले गांधी परिवार अमेठी से दूर है, इसका फायदा स्मृति ईरानी बखूबी उठा रही हैं। बुधवार की रात अमेठी पहुंची केंद्रीय मंत्री गुरुवार सुबह अचानक नहर कोठी चौराहा पर राम नरेश की दुकान पर पहुंच गईं। यहां उन्होंने चाय पीकर और पकौड़ी खाकर चर्चा की। दुकानदार से उसका हालचाल पूछा। साथ ही क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना। रामनरेश ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि क्षेत्र में सब ठीक चल रहा है, लेकिन वह निजी समस्या से परेशान है। उसने बताया कि उसके बच्चे के दिल में छेद है। जिसका इलाज कराने में वह असमर्थ है।

Dangerous Dragon Another Communist Fraud is in the making in Tibet.Every Communist fraud is destroying Tibet every day. Most of the Tibet cultural traditions have been decimated by force. Chinese Prisoners are either forced to work free in factories or marry Tibetan women to change the demography

रिपोर्ट: दलाई लामा के सलाहकार व एनएससीएन नेता भी हो सकते हैं पेगासस के शिकारपेगासस जासूसी मामले की रिपोर्ट में कुछ और नाम सामने आए हैं। इसमें तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा के सलाहकारों और नगालिम Haaan Ab Yo Meri Gali Mai Chandu Bidi Bechne Wale Ko Bhi Laga Hai Ki Wo Bhi Pegasus Ka Shikar Hai Are Kya Bhaiya Tum Kog Bas Hawa Mai Baten Tum Media Walon Ki.. Mereko Ek Baat Samajh Mai Nahi Aayi Media Na Bol Rahi Hai Ki Pakistan,China,Turkey Bhi Iske Shikaar Lapete Mai Kewal India Ke Allies Countries Ko Hi Kyon Target Kiya Jaa Raha Hai Kahin Aap Logon Tak Dollar Virus To Nahi Aya Kahin Se.... BJP का एक-एक कदम BJP की भविष्य की राजनीति तय करेगा। निजीकरण, UP में 1600 शिक्षकों की मौत, 700 किसानों की । Oxygen की कमी से कोई मौत नहीं हुई, Father Stan Swamy की मौत, अयोध्या ज़मीन घोटाला, Pegasus जासूसी कांड, Danik Bhaskar अखबार पर छापा।

‘प्रवासियों के औपचारिक समावेशन के लिए समाज, सरकार तथा बाजार को एक साथ होना होगा’द इंडियन एक्सप्रेस के डिप्टी एसोसिएट एडिटर उदित मिश्रा द्वारा संचालित आईई थिंक माइग्रेशन सीरीज के चौथे संस्करण में पैनलिस्टों ने चर्चा की थी कि क्यों लाखों प्रवासी कामगारों के विषय में राष्ट्रीय परिचर्चा बंद हो गई है और इसे बदलने के लिए क्या किया जा सकता है?

EU वॉचडॉग ने 12 से17 आयु वर्ग के बच्चों के लिए Moderna वैक्सीन को मंजूरी दीयूरोपीय दवाओं की निगरानी करने वाली संस्था यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी (EMA) ने शुक्रवार को 12 से 17 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए मॉडर्ना की कोरोना वायरस वैक्सीन के उपयोग को मंजूरी दे दी. इससे यह महाद्वीप पर किशोरों के कोरोना वायरस से बचाव में उपयोग के लिए दूसरी वैक्सीन बन गई.यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) ने मॉडर्न के ब्रांड नाम का इस्तेमाल करते हुए कहा कि 12 से 17 साल की उम्र के बच्चों में स्पाइकवैक्स वैक्सीन का इस्तेमाल 18 साल और उससे अधिक उम्र के लोगों की तरह ही होगा.

भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद Bharat Biotech ने ब्राजील के पार्टनरों के साथ Covaxin के लिए डील खत्म की : न्यूज एजेंसी PTIभ्रष्टाचार के आरोपों के बाद Bharat Biotech ने ब्राजील के पार्टनरों के साथ Covaxin के लिए डील खत्म की : न्यूज एजेंसी PTI HC_meenaMP नागपुर के 4 वर्ष की आदिवासी लड़की लक्ष्मी मीणा ने भविष्य के प्रधानमंत्री कहकर लिखा RahulGandhi जी को पत्र। कहा आदिवासी, वंचित, गरिब़, छात्रों को शिक्षा से जोड़कर उन्हें राष्ट्रनिर्माण में सहायक बनाने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर चलाएं अभियान।

टोक्यो ओलंपिक में उद्घाटन समारोह के निदेशक को बर्ख़ास्त किया गया - BBC News हिंदीजापान में ओलंपिक खेलों का उद्घाटन समारोह शुरू होने से एक दिन पहले इस कार्यक्रम के निदेशक केंटरो कोबायशी को बर्ख़ास्त किया गया. .....aur hamare yaha hinduo ko jansanhar karne hunduo ke mandir universities todane vaale logo ko hero mante h, vahivahi name apne bachcho k name rakhte hai. Aur secular&liberals history janane vaale justify bhi karte h

पोर्नोग्राफी केस: शिल्पा शेट्टी के घर राज कुंद्रा को लेकर पहुंचीं क्राइम ब्रांच टीमराज कुंद्रा को लेकर क्राइम ब्रांच के अधिकारी शिल्पा शेट्टी के घर पहुंचे गए हैं. शिल्पा के जुहू स्थित घर पर है. बताया जा रहा है कि अधिकारी शिल्पा शेट्टी से सवाल कर सकते हैं क्योंकि वह भी कुंद्रा संग विआन कंपनी की डायरेक्टर है.