Coronathirdwave, Coronavirus, Coronaguidlines, Patralekhachatterjee, Corona Third Wave, Corona Virus, Covid 19 Rules, Corona Guidelines, Columns News İn Hindi, Opinion News İn Hindi, Opinion Hindi News

Coronathirdwave, Coronavirus

तीसरी लहर का इंतजार, हमें करना ही होगा कोविड नियमों का पालन

हर तरफ कोरोना वायरस संक्रमण की आसन्न तीसरी लहर के बारे में चर्चा हो रही है, जिसकी भारत में आने की आशंका है।

24-06-2021 03:56:00

तीसरी लहर का इंतजार, हमें करना ही होगा कोविड नियमों का पालन CoronaThirdWave Coronavirus CoronaGuidlines PatralekhaChatterjee

हर तरफ कोरोना वायरस संक्रमण की आसन्न तीसरी लहर के बारे में चर्चा हो रही है, जिसकी भारत में आने की आशंका है।

एक सामान्य व्यक्ति कैसे इन अशुभ पूर्वानुमानों से मुकाबला करे? अनिश्चितता के इस काले कोहरे का जवाब दो तरह से दिया जा सकता है, जो दूर जाने का नाम ही नहीं ले रहा है। पहला, भाग्यवादी होकर और सब कुछ सर्वशक्तिमान ईश्वर पर छोड़ कर या यह कहकर कि चूंकि भविष्य अनिश्चित है, इसलिए अभी जो कुछ भी करना है, उसे क्यों न करें। मगर यह हमारे लापरवाह व्यवहार का कारण बन सकता है, जैसा कि हमने हाल ही में देखा, जब दिल्ली में मॉल और बाजारों में भारी भीड़ जमा हो गई थी, मानो ठहरी हुई गति को खोल दिया गया हो।

ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वालीं मीराबाई चनू ने ट्रक ड्राइवरों को दिए गिफ्ट्स, ट्रेनिंग के समय कराते थे फ्री में यात्रा टोक्यो ओलंपिक में भारतीय खिलाड़ियों ने दिखाया दम, कल कहां-कहां से हैं मेडल की उम्मीदें? देसी घी के चूरमे से होगा रवि दहिया का वेलकम: ओलिंपिक में सिल्वर जीतने के बाद मां बोली-अगली बार जरूर सोना ही लेकर आएगा मेरा लाल

इस अनिश्चित स्थिति से दूसरे तरीके से भी निपटा जा सकता है-यह स्वीकार करते हुए कि भविष्य अनिश्चित है; इसकी कोई गारंटी नहीं है और कई चीजें किसी के नियंत्रण में नहीं हैं। ऐसा हमेशा से होता रहा है, लेकिन महामारी के दौरान ऐसा ज्यादा होता है। इसका मतलब यह है कि जब सब कुछ किसी के नियंत्रण में नहीं है, तो हमें ऐसा कुछ भी नहीं करना चाहिए, जिससे जोखिम बढ़ जाए। वर्तमान संदर्भ में, इसका मतलब यह है कि आपने टीका लगाया है या नहीं, हर किसी को घर से बाहर निकलते समय मास्क पहनने और भीड़ से बचने की जरूरत है, और अपने नजदीक के बाहरी लोगों के साथ घनिष्ठ शारीरिक संपर्क को कम करने की आवश्यकता है। खुद वैज्ञानिकों के पास भी सभी सवालों के जवाब नहीं हैं।

इसलिए अनिश्चितताओं के जाल को देखते हुए व्यक्ति को अपनी सुरक्षा के लिए हर संभव प्रयास करने की आवश्यकता है। एक देश के रूप में हमें क्या करना चाहिए? मेरा दृढ़ विश्वास है कि इस समय में ईमानदारी सबसे अच्छा हथियार है, क्योंकि सच्चाई जल्दी या बाद में सामने आ ही जाती है। जनता का विश्वास हासिल करने के लिए ईमानदारी और पारदर्शिता भी महत्वपूर्ण है। विश्वास के बिना महामारी के खिलाफ कोई भी प्रतिक्रिया प्रभावी नहीं हो सकती है। चाहे वह कोविड-19 संक्रमण से संबंधित आंकड़ा हो या और कुछ। इस संदर्भ में, यह एक स्वागत योग्य प्रवृत्ति है कि कई राज्य सरकारें अब अपने कोविड-19 से संबंधित मृत्यु के आंकड़ों को संशोधित कर रही हैं। headtopics.com

सटीक कोविड-19 आंकड़ा इतना महत्वपूर्ण क्यों है? सटीक आंकड़ा होना इसलिए जरूरी है, क्योंकि गलत आंकड़े पर आधारित योजना गलत होती है। असली तस्वीर सामने न आने से प्रशासन के साथ-साथ जनता भी ढीली पड़ जाती है। फिर हमें जगाने के लिए दूसरी लहर जितनी बड़ी लहर आती है। तब तक किसी भी कार्रवाई में बहुत देर हो चुकी होती है, जैसा कि एक सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ ने हाल ही में मुझे बताया था। सच बोलना राजनीतिक रूप से जोखिम भरा लग सकता है, लेकिन यही एकमात्र रास्ता है। नीति निर्माताओं को इस बात का भी एहसास होना चाहिए कि कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर ने ग्रामीण भारत को और ज्यादा क्रूरता से प्रभावित किया है। चिंता की बात यह है कि पारंपरिक रूप से कमजोर स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे से बदहाल ग्रामीण इलाकों में शहरी भारत की तुलना में बहुत कम लोगों ने टीका लगवाया है।

इसकी मुख्य वजह यह है कि एक तरफ जहां उन लोगों तक वैक्सीन की पहुंच कम है, वहीं लोगों में वैक्सीन के संभावित खतरे को लेकर डर भी व्याप्त है। इसलिए ग्रामीण इलाकों में टीकाकरण में तेजी लाना अनिवार्य है और कई जगहों पर टीका लगवाने के प्रति प्रचलित हिचकिचाहट का मुकाबला करने के लिए तत्काल कदम उठाए जाने की जरूरत है। अतीत का अनुभव वर्तमान संकट में हमारा मार्गदर्शन कर सकता है। हमें पोलियो के खिलाफ अपनी लड़ाई से सीखने की जरूरत है। पोलियो के खिलाफ लड़ाई में टीकों ने मदद की, लेकिन सामाजिक लामबंदी भी उतनी ही महत्वपूर्ण थी - धार्मिक नेता भी इसमें शामिल हुए, ऐसा ही समुदाय के अन्य प्रभावशाली लोगों, शिक्षाविदों, नागरिक समाज, संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियां, रोटरी क्लब जैसे संगठन के साथ-साथ फ्रंटलाइन स्वास्थ्य कार्यकर्ता भी शामिल थे, जो घर-घर, गली-गली और दुर्गम क्षेत्रों में महत्वपूर्ण आखिरी व्यक्ति तक पहुंचकर टीका लगवाने की कोशिश कर रहे थे।

इसके लिए न केवल जागरूकता अभियान चलाना बहुत महत्वपूर्ण है, बल्कि यह सुनिश्चित करना भी जरूरी है कि प्रासंगिक जानकारी लगातार, प्रभावी ढंग से, विश्वसनीय रूप से एक ऐसी भाषा में संप्रेषित की जाए, जिसे सामान्य लोग (न्यूनतम शिक्षा वाले लोग) भी समझते हैं। यह भी महत्वपूर्ण है कि अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता, जिन्हें अब प्रशिक्षित किया जा रहा है, अनिश्चितता को संप्रेषित करने में सक्षम हों। टीके सुरक्षा प्रदान करते हैं, लेकिन कोई भी टीका सौ फीसदी प्रतिरक्षा प्रदान नहीं करता है और दुर्लभ मामलों में, यहां तक कि टीका लेने वाला व्यक्ति भी संक्रमित हो सकता है। लेकिन टीके की खुराक गंभीर बीमारी की आशंका को कम करने में मदद करेगी।

इस मामले में अधिक विस्तृत संचार की आवश्यकता है, जो ग्राम प्रधानों, समुदाय के प्रभावशाली लोगों, आदि को विस्तार से समझाने पर निर्भर हो, जिसमें न केवल यह बताया जाए कि टीकाकरण क्यों जरूरी है, बल्कि यह भी कि इसके क्या संभावित दुष्प्रभाव हैं। छद्म विज्ञान की महामारी ने वैक्सीन संबंधी झिझक की चुनौती और बढ़ा दी है, जिससे महामारी प्रबंधन को अपूरणीय क्षति होने की आशंका है। इसका मुकाबला करने की जरूरत है। पोलियो पर भारत की जीत का एक महत्वपूर्ण सबक है-आधिकारिक निर्देशों को गंभीरता से लेने से पहले आपको समुदाय, उसके डर, उसकी चिंताओं पर ध्यान देना होगा। हमें संभावित तीसरी लहर के लिए तैयार रहने की जरूरत है, उस लहर द्वारा हमें गतिहीन किए जाने से पहले। headtopics.com

बिहार: 8 साल की बच्ची के साथ रेप, उंगलियों को कुचला, आंख निकाल ली ओलिंपिक मेडलिस्ट पर इनामों की बौछार: मेडल जीतकर मालामाल हुए भारतीय खिलाड़ी, सरकारी नौकरी से लेकर मिला करोड़ों रुपए का प्राइज भारतीय हॉकी के लिए किसी वरदान से कम नहीं टोक्यो की जमीन, आज फिर दोहराया इतिहास

कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना वायरस की तीसरी लहर छह से आठ हफ्ते में आ सकती है; कुछ का कहना है कि यह अक्तूबर के आसपास आएगी। हालांकि इसे दूसरी लहर के प्रकोप से बेहतर ढंग से नियंत्रित किया जा सकेगा, लेकिन यह महामारी कम से कम एक और वर्ष सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए खतरा बनी रहेगी। जाहिर है, यह हम सब के लिए एक चेतावनी है - यदि हम अपने देश में टीकाकरण में तेजी नहीं लाते हैं और कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं करते हैं, तो इस क्रूर तीसरी लहर की आशंका ज्यादा है।

विज्ञापनएक सामान्य व्यक्ति कैसे इन अशुभ पूर्वानुमानों से मुकाबला करे? अनिश्चितता के इस काले कोहरे का जवाब दो तरह से दिया जा सकता है, जो दूर जाने का नाम ही नहीं ले रहा है। पहला, भाग्यवादी होकर और सब कुछ सर्वशक्तिमान ईश्वर पर छोड़ कर या यह कहकर कि चूंकि भविष्य अनिश्चित है, इसलिए अभी जो कुछ भी करना है, उसे क्यों न करें। मगर यह हमारे लापरवाह व्यवहार का कारण बन सकता है, जैसा कि हमने हाल ही में देखा, जब दिल्ली में मॉल और बाजारों में भारी भीड़ जमा हो गई थी, मानो ठहरी हुई गति को खोल दिया गया हो।

इस अनिश्चित स्थिति से दूसरे तरीके से भी निपटा जा सकता है-यह स्वीकार करते हुए कि भविष्य अनिश्चित है; इसकी कोई गारंटी नहीं है और कई चीजें किसी के नियंत्रण में नहीं हैं। ऐसा हमेशा से होता रहा है, लेकिन महामारी के दौरान ऐसा ज्यादा होता है। इसका मतलब यह है कि जब सब कुछ किसी के नियंत्रण में नहीं है, तो हमें ऐसा कुछ भी नहीं करना चाहिए, जिससे जोखिम बढ़ जाए। वर्तमान संदर्भ में, इसका मतलब यह है कि आपने टीका लगाया है या नहीं, हर किसी को घर से बाहर निकलते समय मास्क पहनने और भीड़ से बचने की जरूरत है, और अपने नजदीक के बाहरी लोगों के साथ घनिष्ठ शारीरिक संपर्क को कम करने की आवश्यकता है। खुद वैज्ञानिकों के पास भी सभी सवालों के जवाब नहीं हैं।

इसलिए अनिश्चितताओं के जाल को देखते हुए व्यक्ति को अपनी सुरक्षा के लिए हर संभव प्रयास करने की आवश्यकता है। एक देश के रूप में हमें क्या करना चाहिए? मेरा दृढ़ विश्वास है कि इस समय में ईमानदारी सबसे अच्छा हथियार है, क्योंकि सच्चाई जल्दी या बाद में सामने आ ही जाती है। जनता का विश्वास हासिल करने के लिए ईमानदारी और पारदर्शिता भी महत्वपूर्ण है। विश्वास के बिना महामारी के खिलाफ कोई भी प्रतिक्रिया प्रभावी नहीं हो सकती है। चाहे वह कोविड-19 संक्रमण से संबंधित आंकड़ा हो या और कुछ। इस संदर्भ में, यह एक स्वागत योग्य प्रवृत्ति है कि कई राज्य सरकारें अब अपने कोविड-19 से संबंधित मृत्यु के आंकड़ों को संशोधित कर रही हैं। headtopics.com

सटीक कोविड-19 आंकड़ा इतना महत्वपूर्ण क्यों है? सटीक आंकड़ा होना इसलिए जरूरी है, क्योंकि गलत आंकड़े पर आधारित योजना गलत होती है। असली तस्वीर सामने न आने से प्रशासन के साथ-साथ जनता भी ढीली पड़ जाती है। फिर हमें जगाने के लिए दूसरी लहर जितनी बड़ी लहर आती है। तब तक किसी भी कार्रवाई में बहुत देर हो चुकी होती है, जैसा कि एक सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ ने हाल ही में मुझे बताया था। सच बोलना राजनीतिक रूप से जोखिम भरा लग सकता है, लेकिन यही एकमात्र रास्ता है। नीति निर्माताओं को इस बात का भी एहसास होना चाहिए कि कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर ने ग्रामीण भारत को और ज्यादा क्रूरता से प्रभावित किया है। चिंता की बात यह है कि पारंपरिक रूप से कमजोर स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे से बदहाल ग्रामीण इलाकों में शहरी भारत की तुलना में बहुत कम लोगों ने टीका लगवाया है।

इसकी मुख्य वजह यह है कि एक तरफ जहां उन लोगों तक वैक्सीन की पहुंच कम है, वहीं लोगों में वैक्सीन के संभावित खतरे को लेकर डर भी व्याप्त है। इसलिए ग्रामीण इलाकों में टीकाकरण में तेजी लाना अनिवार्य है और कई जगहों पर टीका लगवाने के प्रति प्रचलित हिचकिचाहट का मुकाबला करने के लिए तत्काल कदम उठाए जाने की जरूरत है। अतीत का अनुभव वर्तमान संकट में हमारा मार्गदर्शन कर सकता है। हमें पोलियो के खिलाफ अपनी लड़ाई से सीखने की जरूरत है। पोलियो के खिलाफ लड़ाई में टीकों ने मदद की, लेकिन सामाजिक लामबंदी भी उतनी ही महत्वपूर्ण थी - धार्मिक नेता भी इसमें शामिल हुए, ऐसा ही समुदाय के अन्य प्रभावशाली लोगों, शिक्षाविदों, नागरिक समाज, संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियां, रोटरी क्लब जैसे संगठन के साथ-साथ फ्रंटलाइन स्वास्थ्य कार्यकर्ता भी शामिल थे, जो घर-घर, गली-गली और दुर्गम क्षेत्रों में महत्वपूर्ण आखिरी व्यक्ति तक पहुंचकर टीका लगवाने की कोशिश कर रहे थे।

ओलिंपिक में भारत को अब तक 5 मेडल: मीराबाई चानू और रवि दहिया ने सिल्वर जीते, सिंधु, लवलिना और पुरुष हॉकी टीम ने ब्रॉन्ज अपने नाम किया तालिबान के खिलाफ अफगान सेना का बड़ा ऑपरेशन: बीते 24 घंटे में 300 से ज्यादा तालिबानी आतंकी मार गिराए, 125 घायल; दहशतगर्दी के ठिकाने ध्वस्त IND vs ENG LIVE: बारिश की वजह से खेल रुका, भारत का स्कोर 125/4

इसके लिए न केवल जागरूकता अभियान चलाना बहुत महत्वपूर्ण है, बल्कि यह सुनिश्चित करना भी जरूरी है कि प्रासंगिक जानकारी लगातार, प्रभावी ढंग से, विश्वसनीय रूप से एक ऐसी भाषा में संप्रेषित की जाए, जिसे सामान्य लोग (न्यूनतम शिक्षा वाले लोग) भी समझते हैं। यह भी महत्वपूर्ण है कि अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता, जिन्हें अब प्रशिक्षित किया जा रहा है, अनिश्चितता को संप्रेषित करने में सक्षम हों। टीके सुरक्षा प्रदान करते हैं, लेकिन कोई भी टीका सौ फीसदी प्रतिरक्षा प्रदान नहीं करता है और दुर्लभ मामलों में, यहां तक कि टीका लेने वाला व्यक्ति भी संक्रमित हो सकता है। लेकिन टीके की खुराक गंभीर बीमारी की आशंका को कम करने में मदद करेगी।

इस मामले में अधिक विस्तृत संचार की आवश्यकता है, जो ग्राम प्रधानों, समुदाय के प्रभावशाली लोगों, आदि को विस्तार से समझाने पर निर्भर हो, जिसमें न केवल यह बताया जाए कि टीकाकरण क्यों जरूरी है, बल्कि यह भी कि इसके क्या संभावित दुष्प्रभाव हैं। छद्म विज्ञान की महामारी ने वैक्सीन संबंधी झिझक की चुनौती और बढ़ा दी है, जिससे महामारी प्रबंधन को अपूरणीय क्षति होने की आशंका है। इसका मुकाबला करने की जरूरत है। पोलियो पर भारत की जीत का एक महत्वपूर्ण सबक है-आधिकारिक निर्देशों को गंभीरता से लेने से पहले आपको समुदाय, उसके डर, उसकी चिंताओं पर ध्यान देना होगा। हमें संभावित तीसरी लहर के लिए तैयार रहने की जरूरत है, उस लहर द्वारा हमें गतिहीन किए जाने से पहले।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

वारदात: Dhanbad के जज की मौत के पीछे का असली सच! देखें

धनबाद में जज उत्तम आनंद की मौत के पीछे अब भी कई सवाल घूम रहे हैं. ये मौत वाकई एक हादसा था या हत्या? इस वीडियो में तस्वीर दिखा रही है कि एक शख्स सड़क के बिल्कुल बायीं ओर जॉगिंग कर रहा है. तभी अचानक पीछे से एक टेंपो आता है और जॉगिंग कर रहे शख्स को धक्का मार कर आगे बढ़ जाता है. पहली नज़र में यही गुमान होता है कि सड़क हादसे का एक मामला है. मगर इससे पहले कि आप किसी नतीजे पर पहुंचे, इसी सीसीटीवी तस्वीर की हर फ्रेम को अब गौर से देखिएगा. इसलिए कि इसी तस्वीर का जो बारीक पहलू है उसके बाद पूरा केस ही पलट जाएगा. इस केस की फॉरेंसिक जांच भी हो रही है. इस मामले में आज रांची हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान लेते हुए सुनवाई की है. इस मामले को गंभीरता से लेते हुए अदालत ने झारखंड के डीजीपी और धनबाद के एसएसपी से जवाब तलब किया है. इस मामले में चीफ जस्टिस की बेंच ने डीजीपी से कहा कि अगर पुलिस जांच करने में विफल रहती है तो यह मामला सीबीआई को जा सकता है. देखें वारदात का ये एपिसोड.

तीसरी लहर पर बंटे IIT प्रोफेसर: IIT कानपुर के एक प्रोफेसर का दावा- अगस्त से बढ़ेंगे कोरोना केस, दूसरे ने रिपोर्ट खारिज की, बोले- कमजोर होगी तीसरी लहरकोरोना की तीसरी लहर पर IIT कानपुर के 2 प्रोफेसरों के दावे अलग-अलग हैं। प्रो. राजेश रंजन की स्टडी के मुताबिक अगस्त में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ेगी। सितंबर-अक्टूबर में पीक आएगा। | Uttar Pradesh, Covid, IIT Kanpur, Vaccination, Third Wave, IITKanpur इन दोनों में भविष्यवक्ता कौन है या समय तय करेगा 😂🙏 IITKanpur कुछ नहीं देश की जनता से खिलवाड़ किया जा रहा है।

कोरोना की तीसरी लहर : आईआईटी के दो प्रोफेसर आमने-सामने, कर रहे अलग-अलग दावेकोरोना की तीसरी लहर को लेकर अलग-अलग अनुमान लगा रहे लोगों की जमात में अब आईआईटी कानपुर भी शामिल हो गया है। तीसरी लहर को

EXPLAINER- क्या है डेल्टा प्लस वैरिएंट, एक्सपर्ट इसे क्यों बता रहे संभावित तीसरी लहर की वजहकोरोना का डेल्टा प्लस वैरिएंट (Delta Plus Variant) सबसे पहले यूरोप में मिला था. यह डेल्टा वैरिएंट और K417N के म्यूटेशन से मिलकर बना है. यह संभावित तीसरी लहर की प्रमुख वजह बन सकता है.

4 राज्यों में मिला कोरोना वायरस का नया म्यूटेशन, बन सकता है तीसरी लहर का कारण | Coronavirus New Variant Indiaकोरोना की दूसरी लहर के कहर बरपाने के बाद कोरोना के नए वैरिएंट डेल्टा प्लस (Corona Delta Plus Variant) ने अब दस्तक दे दी है......यह वैरिएंट अब धीरे-धीरे फैलने लगा है.... मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक.. महाराष्ट्र में 7500 लोगों की जांच में 21 मामले इस नए वैरिएंट (Corona New Variant) के मिले हैं.... जिसमें मुंबई के 2 लोग शामिल हैं.... इन 21 मामलों में सबसे अधिक 9 मामले डेल्टा प्लस वैरिएंट (Covid Delta Plus Variant) के रत्नागिरी में मिले हैं.... जलगांव में 7, मुंबई में 2, पालघर में एक, ठाणे में एक और सिंधुदुर्ग जिले में डेल्टा प्लस वैरिएंट के एक मामला मिले हैं..Covid19India DeltaPlusVariant CoronaThirdWave

Third Covid Wave: एक्सपर्ट ने बताया कैसे रोक सकते हैं कोरोना की संभावित तीसरी लहर का कहर, वैक्सीन को बताया सबसे बड़ा हथियारभारत न्यूज़: नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉक्टर वीके पॉल ने कहा है कि कोरोना की तीसरी लहर आएगी या नहीं, यह लोगों के हाथ में है। अगर लोगों ने ईमानदारी से नियमों का पालन किया और ज्यादा से ज्यादा लोग वैक्सीन लगवाते हैं तो देश कोरोना की तीसरी लहर के कहर से बच सकता है। ताली, थाली और घन्टा बजाकर.

Third Wave ALERT! क्या है कोरोना का नया डेल्‍टा+ वैरिएंट, क्यों माना जा रहा इसे संभावित तीसरी लहर की वजह ?Third Wave ALERT! देश में कोरोना संक्रमण की दर कम होने की वजह से कोरोना की दूसरी लहर खत्म होने ही वाली है। हालांकि अभी हमें सावधानी बरतने की बेहद जरूरत है। देश में तीसरी लहर की आशंका जता दी गई है। क्या तीसरी लहर भारत में संभव है ?