Talibanınafghanistan, India Taliban Relations, Afghanistan Crisis, Taliban, India Taliban Talks, Afghanistan Conflict, Taliban Rule İn Afghanistan, Taliban Capture Afghanistan, Kabul Airport, तालिबान का कब्‍जा, अफगानिस्‍तान पर तालिबान का कब्‍जा

Talibanınafghanistan, India Taliban Relations

तालिबान का दुनिया को आश्वासन, उसकी जमीन का दूसरे देशों के खिलाफ नहीं होगा इस्तेमाल

तालिबान का दुनिया को आश्वासन, उसकी जमीन का दूसरे देशों के खिलाफ नहीं होगा इस्तेमाल #TalibanInAfghanistan

21-10-2021 08:00:00

तालिबान का दुनिया को आश्वासन, उसकी जमीन का दूसरे देशों के खिलाफ नहीं होगा इस्तेमाल TalibanInAfghanistan

15 अगस्त 2021 को काबुल पर तालिबान का कब्जा होने के बाद भारत के साथ उसके प्रतिनिधियों की यह दूसरी मुलाकात है। इसके पहले दोहा में भारत के राजदूत दीपक मित्तल ने तालिबान के राजनीतिक दल के मुखिया शेर मुहम्मद अब्बास स्टेनकजई से मुलाकात की थी।

अफगानिस्तान में तालिबान के आने के बाद अपने रणनीतिक हितों को लेकर फूंक-फूंककर कदम बढ़ रहे भारत ने नए सिरे से तालिबान के साथ संवाद शुरू किया है। बुधवार को मास्को में अफगानिस्तान शांति वार्ता में हिस्सा लेने गए विदेश मंत्रालय के अधिकारियों की तालिबान के प्रतिनिधियों से मुलाकात हुई। तालिबान के आधिकारिक प्रवक्ता की तरफ से बताया गया है कि इस्लामिक अमीरात आफ अफगानिस्तान के उप-प्रधानमंत्री मौलवी अब्दुल सलाम हनाफी ने अफगानिस्तान मामलों पर भारत के विशेष प्रतिनिधि जेपी सिंह से मुलाकात की। दोनों पक्षों ने यह जरूरी माना है कि उन्हें एक दूसरे की चिंताओं का ख्याल रखना चाहिए और कूटनीतिक व आर्थिक रिश्तों को मजबूत बनाना चाहिए।

ऑनलाइन कपड़े ऑर्डर करना महिला को पड़ा भारी, 19 साल के साइबर ठग ने अकाउंट से उड़ाए 75000 महंगी कारों को डिसमेंटल कर बेच देते थे पार्ट्स, पुलिस ने किया गैंग का भंडाफोड़ CM चेहरे पर सिद्धू ने उड़ाया AAP का मजाक: कहा- अरविंद केजरीवाल को पंजाब में दूल्हा नहीं मिल रहा, बारात अकेले ही नाच रही

यह भी पढ़ेंतालिबान की तरफ से यह भी बताया गया है कि भारत ने उन्हें मानवीय आधार पर मदद की पेशकश की है। यह भी बताते चलें कि मास्को में रूस की अगुआई में 11 देशों की तरफ से जारी एक संयुक्त बयान से ठीक पहले तालिबान के साथ भारत की मुलाकात की उक्त खबर आई है। भारत भी इन 11 देशों में शामिल है। इनका बयान बताता है कि तालिबान सरकार की तरफ से सभी सदस्य देशों को यह आश्वासन दिया गया है कि उसकी जमीन का इस्तेमाल किसी भी दूसरे अन्य देश के खिलाफ आतंकी गतिविधियों के लिए नहीं होने दिया जाएगा। भारत हमेशा से इस बात की आशंका जताता रहा है कि अफगानिस्तान में पाकिस्तान परस्त आतंकी उसके हितों के खिलाफ एकजुट हो सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में साफ तौर पर यह कहा था कि यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि अफगानिस्तान की जमीन से आतंकी संगठन दूसरे देशों को निशाना नहीं बनाएं।

यह भी पढ़ेंयह बैठक तब हुई है जब भारत भी अफगानिस्तान से जु़़डे मुद्दों पर एक अंतरराष्ट्रीय सेमिनार आयोजित करने की कोशिश में है। यह बैठक इस बात का भी संकेत है कि तालिबान को लेकर भारत पूरी तरह से व्यवहारिक दृष्टिकोण अपना रहा है। यही वजह है कि भारत ने बुधवार को अफगानिस्तान पर मास्को फारमेट के तहत हुई बैठक में हिस्सा लिया। बैठक में रूस, चीन, पाकिस्तान, ईरान, अफगानिस्तान, कजाखस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान और उज्बेकिस्तान ने भी हिस्सा लिया। headtopics.com

यह भी पढ़ेंबैठक को संबोधित करते हुए रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने अफगानिस्तान से आतंकियों के प़़डोसी देशों में जाने के खतरे को लेकर आगाह भी किया। बाद में उक्त सभी देशों की तरफ से जारी संयुक्त बयान में अफगानिस्तान सरकार के साथ व्यवहारिक संपर्क की जरूरत को बताया गया और कहा कि अंतरराष्ट्रीय बिरादरी इसे मान्यता दे या नहीं दे, लेकिन यह सच्चाई है कि तालिबान ने वहां सरकार बनाई है। सदस्य देशों ने अफगान सरकार से कहा है कि वो भी व्यवहारिक बने और उदारवादी रवैया अपनाए। अपने प़़डोसी देशों के साथ दोस्ताना ताल्लुक बनाए। आंतरिक व बाहरी नीतियों को लेकर भी उदार हो। अफगानिस्तान में स्थायी शांति, सुरक्षा और संपन्नता बहाल करने के लिए काम करे। साथ ही सभी धार्मिक समूहों, महिलाओं और बच्चों के अधिकारों का आदर करे। सदस्य देशों ने इस बात पर खुशी जताई है कि अफगानिस्तान सरकार ने उन्हें ठोस भरोसा दिलाया है कि अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल किसी भी दूसरे देश के खिलाफ आतंकी गतिविधियों को भ़़डकाने के लिए नहीं होगा।

यह भी पढ़ें15 अगस्त, 2021 को काबुल पर तालिबान का कब्जा होने के बाद भारत के साथ उसके प्रतिनिधियों की यह दूसरी मुलाकात है। इसके पहले दोहा में भारत के राजदूत दीपक मित्तल ने तालिबान के राजनीतिक दल के मुखिया शेर मुहम्मद अब्बास स्टेनकजई से मुलाकात की थी। तब मुलाकात का आग्रह तालिबान की तरफ से आया था और यह मुलाकात दोहा स्थित भारतीय दूतावास में हुई थी। इनके बीच अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों की सुरक्षा, संरक्षा और उनकी शीघ्र वापसी को लेकर बातचीत हुई। स्टेनकजई को बाद में तालिबान की तरफ से गठित सरकार में मंत्री भी बनाया गया है, लेकिन माना जाता है कि भारत के साथ संपर्क की वजह से ही उन्हें ज्यादा तवज्जो नहीं दी जा रही है।

और पढो: Dainik jagran »

जरूरत की खबर: मोबाइल पर ज्यादा समय बिताने से बच्चे हो रहे ओवर डेवलपमेंट का शिकार ; जानिए क्या हैं इससे बचने के तरीके

आजकल बच्चे क्लास के अलावा असाइनमेंट, रिसर्च और एंटरटेनमेंट के लिए मोबाइल या लैपटॉप का इस्तेमाल करते हैं। इससे उनका स्क्रीन टाइम कहीं ज्यादा बढ़ गया है। बच्चों का मोबाइल के साथ ज्यादा वक्त बिताने से उन पर नेगेटिव असर हो रहा है। | Children are becoming victims of over development due to spending more time on mobile. Know what are the ways to avoid it

देखे कब तक टिकते है जुबान पर,दुनिया का अनुभव तो कुछ और ही कहता है,सावधानी सतर्कता मे हर्जा क्या है

अपनी पार्टी बनाएंगे, भाजपा के साथ सीटों के बंटवारे के लिए बातचीत को तैयार: अमरिंदर सिंहकांग्रेस नेता और पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने अमरिंदर सिंह के एक नई राजनीतिक पार्टी बनाने और भाजपा से साथ सीट बंटवारे को लेकर तैयार होने की बात पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि अगर कैप्टन भाजपा के साथ जाना चाहते हैं तो ऐसा कर सकते हैं. उन्हें ‘सर्वधर्म सम्भाव’ का प्रतीक माना जाता था. ऐसा लगता है कि उन्होंने अपने अंदर के ‘धर्मनिरपेक्ष अमरिंदर’ को मार दिया है. इनसे कहो G 23 के बूढों को भी अपने साथ ले लें। 80 साल की उम्र में भी संतोष नहीं। घटिया आदमी निकला ये राजा 70 साल तक कांग्रेस ने सब दिया। एक कुर्सी मांग ली तो राजा की तिवरी चढ़ गई अब समय अमरेन्द्र साहब सत नाम वाये गुरु जपने का है न की पार्टी बनाने का ।

तालिबान ने आत्मघाती हमलावरों के परिवार को दिया इनाम, बताया इस्लाम का 'हीरो'तालिबान अब अपने आत्मघाती हमलावरों के परिवारों को इनाम के रूप में पैसे दिए हैं। साथ ही जमीन देने का भी वादा किया है। इन सुसाइड हमलावरों ने पश्चिमी देशों की सेनाओं पर कई हमले किए थे। जिसमें दर्जनों जवानों की मौत हो गई थी।

अफगानिस्तान में तालिबान ने महिला खिलाड़ी का सिर कलम किया, परिवार को दी यह धमकी...काबुल। तालिबान के लड़ाकों ने अफगानिस्तान की जूनियर महिला वॉलीबॉल टीम की खिलाड़ी का सिर कलम कर दिया। जूनियर महिला नेशनल टीम के कोच ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया को इसकी जानकारी दी है। इतना ही नहीं तालिबान के लड़ाकों ने महिला खिलाड़ी के परिवार वालों को भी धमकी देते कुछ बोलने से मना कर दिया।

तालिबान को मलाला का खतः लड़कियों के स्कूल तुरंत खोले जाएं | DW | 20.10.2021नोबेल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई ने तालिबान से अफगानिस्तान में लड़कियों को तुरंत स्कूल लौटने की अनुमति देने का आह्वान किया है. Malala Taliban Afghanistan

कश्मीर गए बाहर के लोगों को जान-बूझकर निशाना बनाया जाना चिंता का विषय: नीतीश कुमारबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जम्मू कश्मीर में बिहार के मज़दूरों की हत्या की निंदा करते हुए कहा कि हमें भरोसा है कि प्रशासन बिहार के लोगों की सुरक्षा का इंतज़ाम करेगा, ताकि आतंकी इस तरह की घटना को अंजाम न दे सके. बीते 17 अक्टूबर को आतंकवादियों ने बिहार के दो मज़दूरों की गोली मारकर हत्या कर दी थी. इस महीने आतंकियों द्वारा नागरिकों को निशाना बनाकर किए गए हमलों में 11 लोगों की मौत हो चुकी है.

उत्तराखंड के चम्पावत में बारिश का कहर, बाढ़ में फंसे 2400 लोगों को किया गया रेस्क्यूचम्पावत। उत्तराखंड के चम्पावत में आफत की बारिश ने एक बार फिर से जहन में 2013 की यादें ताजा कर दी है। चम्पावत जिले के बीते दो दिनों से मूसलाधार बारिश हो रही है, जिसके चलते टनकपुर में शारदा नदी ने विकराल रूप धारण कर लिया है।