तालिबान के डर से अफ़ग़ानिस्तान से मददगारों को अपने यहाँ ले जा रहा अमेरिका - BBC Hindi

तालिबान के डर से अफ़ग़ान मददगारों को अपने देश ले जा रहा अमेरिका

30-07-2021 10:20:00

तालिबान के डर से अफ़ग़ान मददगारों को अपने देश ले जा रहा अमेरिका

ये सभी वो लोग हैं जिन्होंने तालिबान की आक्रामकता और युद्ध के बीच अमेरिकी सेना की मदद की थी. अमेरिकी सेना के वतन वापसी के ऐलान के साथ ही इन्हें तालिबान से मिलने वाली धकमियाँ और ख़तरे भी बढ़ गए हैं.

5:09दानिश सिद्दीक़ी की तालिबान ने की थी बर्बरता से हत्या: रिपोर्टDanish Siddiqui/Twitterदानिश सिद्दीक़ीImage caption: दानिश सिद्दीक़ीतालिबान ने भारतीय फ़ोटो पत्रकार दानिश सिद्दीक़ी की पहचान करने के बाद उनकी ‘बर्बतापूर्वक’ हत्या की थी.अमेरिकी समाचार पत्रिका 'वॉशिंगटन एग्ज़ामिनर' ने अपनी रिपोर्ट में यह दावा किया है.

PBKS vs RR IPL 2021: राजस्थान ने पंजाब के खिलाफ दर्ज की रोमांचक जीत, 2 रन से जीता मुकाबला क्लीन एनर्जी में अडाणी Vs अंबानी: अडाणी ग्रुप 10 साल में करेगा 1.47 लाख करोड़ रुपए का निवेश, ग्रीन हाइड्रोजन प्रॉडक्शन में भी एंट्री का प्लान तैयार सुर्खियों में सना रामचंद गुलवानी: पाकिस्तान में पहली बार हिंदू लड़की प्रशासनिक सेवा के लिए चुनी गई, फर्स्ट अटैम्प्ट में कामयाबी

पत्रिका की रिपोर्ट के मुताबिक़ पुलित्ज़र पुरस्कार से सम्मानित सिद्दीक़ी की मौत महज अफ़गान सेना और तालिबान के बीच हुए संघर्ष में नहीं हुई थी बल्कि तालिबान ने उनकी मौत को बाक़ायदा अंज़ाम दिया था.समाचार एजेंसी रॉयटर्स के लिए काम करने वाले 39 वर्षीय दानिश सिद्दीक़ी रिपोर्टिंग के लिए अफ़गानिस्तान में थे जब कंधार के स्पिन बोल्डक इलाके में उनकी मौत हो गई.

शुरुआती रिपोर्ट्स में कहा गया था कि दानिश की मौत अफ़गान सेना और तालिबान के बीच संघर्ष में हुई.तालिबान ने एक बयान जारी कर उनकी मौत में अपना हाथ होने से इनकार भी किया था.तालिबान ने कहा था, “हमें भारतीय पत्रकार की मौत का खेद है. इस इलाके में रिपोर्टिंग के लिए आने वाले पत्रकार हमें सूचित करें और हम उनका ख़याल रखेंगे.” headtopics.com

Danish Siddiqui/Instagramदानिश सिद्दीक़ीImage caption: दानिश सिद्दीक़ी'मस्जिद पर सिर्फ़ इसलिए हमला क्योंकि सिद्दीक़ी वहाँ थे'अब वॉशिंगटन एग्ज़ामिनर की रिपोर्ट तालिबान के दावों को ग़लत साबित कर रही है.रिपोर्ट के अनुसार दानिश सिद्दीक़ी अफ़गान सेना के साथ स्पिन बोल्डक इलाके में तालिबान-अफ़गान संघर्ष कवर करने गए थे. स्पिन बोल्डक इलाके पर तालिबान का क़ब्ज़ा है.

रिपोर्ट के अनुसार, “जब अफ़गान सेना और दानिश एक कस्टम पोस्ट से थोड़ी ही दूर थे तभी उन पर तालिबान का हमला हुआ और अफ़गान सेना को दो टुकड़ियों में बंटना पड़ा. इस दौरान अफ़गान सेना के कमांडर और कुछ सैनिक दानिश से अलग हो गए.”वॉशिंगटन एग्ज़ामिनर के अनुसार इस बीच गोलीबारी में दानिश सिद्दीक़ी घायल हो गए और उन्हें प्राथमिक उपचार देने के लिए एक स्थानीय मस्जिद में ले जाया गया.

जैसे ही पता चला कि सिद्दीक़ी को मस्जिद में ले जाया दया है, तालिबान ने मस्जिद पर हमला कर दिया.रिपोर्ट में स्थानीय जाँच के हवाले से लिखा गया है कि तालिबान ने मस्जिद पर सिर्फ़ इसलिए हमला किया क्योंकि सिद्दीक़ी वहाँ थे.रिपोर्ट के मुताबिक़, “तालिबान ने जब सिद्दीक़ी को जब पकड़ा तब वो ज़िंदा थे. तालिबान लड़कों ने पहले उनकी पहचान की पुष्टि की और फिर उन्हें गोली मारी.”

Danish Siddiui/TwitterCopyright: Danish Siddiui/Twitter'पहले सिर पर मारा फिर गोलियों से शरीर छलनी किया'अमेरिकन एंटरप्राइज़ इंस्टिट्यूट के वरिष्ठ फ़ेलो माइकल रुबिन के मुताबिक़, “सिद्दीक़ी की मौत के बाद उनकी जो तस्वीरें सोशल मीडिया पर सर्कुलेट हुईं उनमें उनका चेहरा साफ़ पहचान में रहा है. मैंने भारत सरकार के एक सूत्र से मिले सिद्दीक़ी की कुछ और तस्वीरों और एक वीडियो की समीक्षा की.” headtopics.com

Extra Tej Cylinder: इंडेन ने अपनाया नया नुस्‍खा, अब कॉमर्शियल गैस सिलेंडर चलेगा ज्‍यादा दिन तक SAARC के विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द, तालिबान को सार्क में शामिल करने की पाकिस्तान की चाल नाकाम आग से मौत का डरावना VIDEO: बेंगलुरु में गैस लीक होने से 4 मंजिला अपार्टमेंट में आग लगी, बालकनी में फंसी बुजुर्ग महिला जिंदा जली

रुबिन ने लिखा है, “वीडियो में मैंने देखा कि तालिबान के लड़ाकों ने पहले सिद्दीक़ी के सिर पर खूब मारा और फिर गोलियों से उनका शरीर छलनी कर दिया.”रिपोर्ट में कहा गया है कि तालिबान ने जिस तरह सिद्दीक़ी को निशाना बनाकर उनकी हत्या की और गोलियों से उनका शरीर छलनी किया उससे पता चलता है कि युद्ध के अंतरराष्ट्रीय नियमों की ज़रा भी परवाह नहीं करता.

दानिश सिद्दीक़ी अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसी रॉयटर्स के चीफ़ फ़ोटो पत्रकार थे और वो अफ़ग़ानिस्तान में जारी संघर्ष और तनाव को लगातार कवर कर रहे थे.वो अपने ट्विटर अकाउंट पर लगातार वहाँ की स्थिति का ब्योरा दे रहे थे. सिद्दीक़ी ने बताया था कि कैसे एक हमले में वो बाल-बाल बचे थे.

दानिश सिद्दीक़ी और उनकी टीम को रोहिंग्या शरणार्थी संकट की कवरेज के लिए फीचर फोटोग्राफी कैटगिरी में साल 2018 के पुलित्ज़र पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.उन्होंने अफ़ग़ानिस्तान और इराक़ की जंग के अलावा कोरोना महामारी, नेपाल भूकंप और हॉन्ग-कॉन्ग के विरोध प्रदर्शनों को कवर किया था, जिसे ख़ूब तारीफ़ मिली थी.

और पढो: BBC News Hindi »

वारदात: आखिरी खाने से लेकर फंदे तक, देखें नरेंद्र गिरि की मौत का पूरा सच

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को आख़िरी बार ज़िंदा दोपहर साढ़े 12 बजे देखा गया था. रोज़ाना की तरह दोपहर का खाना खाने के बाद महंत नरेंद्र गिरि अपने कमरे में आराम करने के लिए चले गए थे. ये उनका रुटीन था. इस रुटीन में एक और चीज़ शामिल थी. दोपहर का खाना खाने के बाद ठीक तीन बजे उनके चाय पीने का समय होता था लेकिन सोमवार को खाना खाने के बाद अपने कमरे में जाने से पहले उन्होंने शिष्य से कहा कि वो आज चाय नहीं पीएंगे और अगर पीना होगा तो खुद ही बता देंगे. देखें इस पूरे घटनाक्रम पर वारदात.

Inspiring

जयशंकर-ब्लिंकेन की मुलाक़ातः तालिबान और चीन के लिए क्या हैं संकेत - BBC News हिंदीतालिबान नेता चीन में हैं और चीनी विदेश मंत्री से मुलाक़ात हुई है. दूसरी तरफ़ अमेरिकी विदेश मंत्री भारत में हैं और भारतीय विदेश मंत्री से मुलाक़ात की है. अफ़ग़ानिस्तान को लेकर दोतरफ़ा मुलाक़ातें जारी हैं. Now America will save India from China ? Good.

अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के इलाक़े में फ़्लैश फ़्लड, बड़ी संख्या में लोगों की मौत - BBC Hindiअफ़ग़ानिस्तान के पूर्वोत्तर में स्थित नूरिस्तान प्रांत में बुधवार रात भारी बारिश के बाद अचानक आई बाढ़ से बड़ी संख्या में लोग मारे गए हैं. Reham Farma Allah RealEstateSA_PK

अमेरिकी मैगजीन का खुलासा: दानिश सिद्दीकी की पहचान के बाद तालिबान ने की नृशंस हत्याअमेरिकी मैगजीन का खुलासा: दानिश सिद्दीकी की पहचान के बाद तालिबान ने की नृशंस हत्या USmagazine DanishSiddique Afghanistan नफरत का बाजार कितना गर्म है धर्म के नाम पर यहाँ तो कुछ लोग मौत पर जश्न मना रहे थे...जबकि हत्या का कारण उनका भारतीये होना था का वर्षा जब कृषि सुखाने napak kayrana harkat

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री बोले- राज्य में ऑक्सीजन की कमी से नहीं कोई मौतपांडेय की तरफ से ये जवाब विधान परिषद में प्रश्नोत्तर काल के दौरान दिया गया है. दरअसल कांग्रेस विधायक प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा था कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान हुई मौतों में 30 फीसदी से ज्यादा मौतें ICU में इंफेक्शन की वजह से हुईं. UtkarshSingh_ Always maligned UP, Bihar have been role model states when it comes to Covid handling. Maharashtra, Kerala, Delhi have been so terrible and yet, the Media seems to be only reporting nonsense about UP especially! UtkarshSingh_ यहाँ तो कोरोना आया ही नही था UtkarshSingh_ Mere ko lagta hai bihar ke swasth mantri corona ke dusre lahar men apne ghar se nikle hee nahi. healthminister,bihar.

बॉर्डर संघर्ष के बाद असम सरकार की एडवाइजरी- मिजोरम जाने से बचें स्थानीय लोगअसम सरकार ने लोगों के लिए एडवाइजरी जारी करके कहा कि 26 जुलाई की घटना के बाद भी छात्र और युवा संगठन असम के लोगों के खिलाफ भड़काऊ बयान दे रहे हैं.

कर्नाटक: 2023 चुनाव पर भाजपा की नजर, लिंगायत समुदाय के बोम्मई से संभाला वोट बैंक संतुलनकर्नाटक: 2023 चुनाव पर भाजपा की नजर, लिंगायत समुदाय के बोम्मई से संभाला वोट बैंक संतुलन Karnatrtaka BJP BasavarajSBommai