Russia, Afghanistan, Talibanregime

Russia, Afghanistan

तालिबान को लेकर पुतिन ने दिया बड़ा बयान, उठा सकते हैं ये कदम

पुतिन ने कहा है कि तालिबान को आतंकवादी संगठनों की सूची से हटाना संभव है #Russia #Afghanistan #TalibanRegime

22-10-2021 15:58:00

पुतिन ने कहा है कि तालिबान को आतंकवादी संगठनों की सूची से हटाना संभव है Russia Afghanistan TalibanRegime

रूस में अफगानिस्तान के हालातों को लेकर हुई मॉस्को फॉर्मेट बैठक के बाद अब राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने तालिबान को लेकर बड़ा बयान दिया है. पुतिन ने कहा है कि तालिबान को आतंकवादी संगठनों की सूची से हटाना संभव है. रूस ने साल 2003 में तालिबान को आतंकवादी संगठन घोषित किया था.

स्टोरी हाइलाइट्सतालिबान को आतंकी संगठन की लिस्ट से हटा सकते हैं पुतिनसाल 2003 में रूस ने तालिबान को घोषित किया था आतंकी संगठनरूस में अफगानिस्तान के हालात को लेकर हुई मॉस्को फॉर्मेट बैठक के बाद अब राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने तालिबान को लेकर बड़ा बयान दिया है. पुतिन ने कहा है कि रूस तालिबान को आतंकवादी संगठनों की सूची से हटा सकता है. हालांकि, उन्होंने साथ ही जोर देकर ये भी कहा है कि संयुक्त राष्ट्र के स्तर पर ऐसा होना चाहिए.

लखनऊ में बेरोजगारी के मुद्दे पर छात्र संगठनों ने निकाला मार्च, पुलिस ने NDTV के कैमरे को बंद करने के लिए कहा पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था का संकट और गहराया - BBC Hindi रूस ने अगर यूक्रेन पर हमला किया तो हम चुप नहीं बैठेंगे: अमेरिका - BBC Hindi

समाचार एजेंसी तास के मुताबिक, पुतिन ने गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय वल्दाई डिस्कशन क्लब की बैठक में ये बात कही है. उन्होंने कहा कि 'हम सभी उम्मीद करते हैं कि तालिबान, जो निश्चित तौर पर अफगानिस्तान में स्थिति को नियंत्रित कर रहे हैं, ये सुनिश्चित करेंगे कि वहां हालात सकारात्मक हों. हम तालिबान से जुड़े आम फैसलों के संबंध में एकजुटता बनाए रखेंगे और इन्हें आतंकवादी संगठनों की इस सूची से हटाने के निर्णय पर विचार करेंगे. गौरतलब है कि रूस ने साल 2003 में तालिबान को एक आतंकी संगठन घोषित किया था.

तालिबान के साथ संपर्क में रहेंगे: पुतिनपुतिन ने आगे कहा कि 'मुझे ऐसा लग रहा है कि 'हम तालिबान को आतंकवाद की सूची से बाहर निकालने के फैसले के करीब हैं. रूस इस दिशा में प्रगति करना चाहता है. लेकिन ये फैसला उसी प्रक्रिया के हिसाब से होना चाहिए जिससे तालिबान को आतंकवादी संगठन की लिस्ट में शामिल किया गया था.' headtopics.com

तालिबान को आतंकी संगठनों की लिस्ट से बाहर करने के बारे में उन्होंने ये भी कहा कि रूस इस फैसले में अकेला नहीं है. उन्होंने कहा कि 'हम तालिबान के प्रतिनिधियों के साथ सहयोग कर रहे हैं. हमने उन्हें मास्को में आमंत्रित किया और हम अफगानिस्तान में भी उनके साथ संपर्क में रहेंगे.'

एक तरफ जहां पुतिन ने तालिबान को आतंकवादी संगठनों की सूची से हटाने का संकेत दिया है, दूसरी तरफ, इसी हफ्ते रूस की मेजबानी में हुई मॉस्को फॉर्मेट वार्ता में भी तालिबान की सरकार को अफगानिस्तान की नई हकीकत बताया गया है.लाइव मिंट की रिपोर्ट के मुताबिक, मॉस्को फॉर्मेट वार्ता के बाद जारी किए गए बयान में कहा गया है कि अफगानिस्तान के साथ संबंध में इस देश की नई वास्तविकता को भी ध्यान में रखना होगा और अफगानिस्तान की नई सच्चाई ये है कि इसे तालिबान का प्रशासन चला रहा है.

बता दें कि मॉस्को वार्ता में रूस, चीन, पाकिस्तान, ईरान, भारत, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान और उजबेकिस्तान के विशेष प्रतिनिधियों और वरिष्ठ अधिकारियों ने मौजूदगी दर्ज कराई थी. साल 2017 से चली आ रही मॉस्को फॉर्मेट वार्ता में अफगानिस्तान के हालात को लेकर चिंता जाहिर की गई थी और अफगानिस्तान को मानवीय तौर पर सपोर्ट करने के लिए भारत समेत कुछ देशों ने हामी भरी है. अफगानिस्तान में तालिबान सरकार को अंतरराष्ट्रीय मान्यता तो नहीं मिली है लेकिन रूस के राष्ट्रपति का ये बयान तालिबान की सरकार को काफी राहत देने वाला है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें और पढो: आज तक »

रिटायरमेंट के दिन जूते की माला भेंट!: रीवा में यूनिवर्सिटी के डिप्टी रजिस्ट्रार से कर्मचारी यूनियन ने की हरकत; थैंक्यू कहकर दिया जवाब

रीवा में अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के डिप्टी रजिस्ट्रार लाल साहब सिंह से रिटायरमेंट के दिन विदाई समारोह में बदसलूकी का मामला सामने आया है। यूनिवर्सिटी के कर्मचारी यूनियन के पदाधिकारियों ने डिप्टी रजिस्ट्रार को जूते की माला भेंटकर मुर्दाबाद के नारे लगाए। जवाब में अफसर ने कहा-धन्यवाद, थैंक्यू। | Viral Video: Employees unions misbehaved with Deputy Registrar at Rewa APS University

अफगानिस्तान में तालिबान ने महिला खिलाड़ी का सिर कलम किया, परिवार को दी यह धमकी...काबुल। तालिबान के लड़ाकों ने अफगानिस्तान की जूनियर महिला वॉलीबॉल टीम की खिलाड़ी का सिर कलम कर दिया। जूनियर महिला नेशनल टीम के कोच ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया को इसकी जानकारी दी है। इतना ही नहीं तालिबान के लड़ाकों ने महिला खिलाड़ी के परिवार वालों को भी धमकी देते कुछ बोलने से मना कर दिया।

तालिबान ने आत्मघाती हमलावरों के परिवार को दिया इनाम, बताया इस्लाम का 'हीरो'तालिबान अब अपने आत्मघाती हमलावरों के परिवारों को इनाम के रूप में पैसे दिए हैं। साथ ही जमीन देने का भी वादा किया है। इन सुसाइड हमलावरों ने पश्चिमी देशों की सेनाओं पर कई हमले किए थे। जिसमें दर्जनों जवानों की मौत हो गई थी।

रूस ने बताया तालिबान सरकार को मान्यता हासिल करने के लिए क्या करना होगा - BBC Hindiरूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने अफ़ग़ानिस्तान में एक समावेशी सरकार के गठन की अपील की जो देश में 'सभी जातीय और राजनीतिक ताकतों के हितों को दर्शाती हो.' प्रेम दया करुणा और इंसाफ यह हर सरकार के अहम अंग है अगर यह ना हो तो वह सरकार लंबे समय तक नहीं चल सकती। कृष्ण भगवान ने भी महाभारत का युद्ध इसलिए करवाया था ताकि बुरे लोगों का अंत कर प्रेम दया करुणा और इंसाफ कायम कर सकें। किंतु तालिबान का प्रेम दया करुणा इंसाफ से कोई वास्ता नहीं।

तालिबान का दुनिया को आश्वासन, उसकी जमीन का दूसरे देशों के खिलाफ नहीं होगा इस्तेमाल15 अगस्त 2021 को काबुल पर तालिबान का कब्जा होने के बाद भारत के साथ उसके प्रतिनिधियों की यह दूसरी मुलाकात है। इसके पहले दोहा में भारत के राजदूत दीपक मित्तल ने तालिबान के राजनीतिक दल के मुखिया शेर मुहम्मद अब्बास स्टेनकजई से मुलाकात की थी। देखे कब तक टिकते है जुबान पर,दुनिया का अनुभव तो कुछ और ही कहता है,सावधानी सतर्कता मे हर्जा क्या है

इंजमाम ने भारत को बताया सबसे खतरनाक टीम, विलियम्सन की चोट ने बढ़ाई न्यूजीलैंड की चिंताइंजमाम उल हक ने भारत को बताया प्रबल दावेदार, न्यूजीलैंड के लिए केन विलियम्सन की चोट ने बढ़ाई चिंता InzamamUlHaq TeamIndia KaneWilliamson Injury ViratKohli T20WC2021 IndianCricketTeam INDvsPAK T20WorldCup

भारत विकसित कर रहा है खतरनाक हाइपरसोनिक मिसाइल, चीन को देगा चुनौतीवाशिंगटन। अमेरिकी संसद की एक स्वतंत्र रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत उन कुछ चुनिंदा देशों में शामिल है, जो हाइपरसोनिक हथियार विकसित कर रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत लगभग 12 हाइपरसोनिक पवन सुरंगों का संचालन करता है और 13 मैक तक की गति का परीक्षण करने में सक्षम है। उल्लेखनीय है कि चीन ने भी हाल ही में परमाणु संपन्न हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया था।