Tarek Fateh, Pakistani Army Officials İn Us, Treason Death, Pakistani Origin Writer Tarek Fateh

Tarek Fateh, Pakistani Army Officials İn Us

तारेक फतेह ने किया पाकिस्‍तानी साजिश का पर्दाफाश, कहा- राजद्रोह के जरिए देना चाहते हैं फांसी

तारेक फतेह ने किया पाकिस्‍तानी साजिश का पर्दाफाश, कहा- राजद्रोह के जरिए देना चाहते हैं फांसी

24-11-2020 09:24:00

तारेक फतेह ने किया पाकिस्‍तानी साजिश का पर्दाफाश, कहा- राजद्रोह के जरिए देना चाहते हैं फांसी

अमेरिका में रहने वाले रिटायर पाकिस्‍तानी सैन्‍य अधिकारियों द्वारा राजद्रोह और फांसी की सजा देने का खुलासा करते हुए लेखक तारेक फतेह ने कहा कि इसके लिए उनके अलावा 13 और लोगों के नामों की लिस्‍ट जारी की गई है।

पाकिस्तानी मूल के लेखक तारेक फतेह (Tarek Fateh) ने मंगलवार सुबह अमेरिका में रहने वाले पाकिस्‍तानी सैन्‍य अधिकारियों की ओर से मौत की धमकी मिलने की जानकारी दी। उन्‍होंने इस सनसनीखेज जानकारी को अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्‍ट की।  उन्‍होंने बताया, 'अमेरिका में रहने वाले ये रिटायर पाकिस्‍तानी सैन्‍य अधिकारी मुझपर राजद्रोह का आरोप लगाना चाहते हैं और फांसी देना चाहते हैं।' 

लाल क़िले की घटना के बाद किसान आंदोलन का क्या होगा - BBC News हिंदी लाल किले पर प्रदर्शनकरियों के झंडा फहराने का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, CJI को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग लाल क़िले पर झंडा फहराने को लेकर दुनिया भर के अख़बारों ने क्या छापा - BBC News हिंदी

इसके अनुसार, अमेरिका में रहने वाले पाकिस्‍तानी सैन्‍य अधिकारियों (Retired Pakistani Military Officers) द्वारा मौत की धमकी दी गई है। उन्‍होंने पाकिस्‍तान के लिए सबसे अधिक खतरनाक बताते हुए 14 लोगों के नाम वाली एक लिस्‍ट जारी की है।  पिछले माह तारेक फतेह ने फ्रांस में हुए आतंकी हमले की निंदा की थी। इस क्रम में उन्‍होंने पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर भी हमला बोला। इस्लामी अतिवाद का विरोध करने वाले तारेक फतेह एक उदारवादी इस्लाम के पक्ष को बढ़ावा देने के लिए मशहूर हैं। वे दक्षिण एशिया और विशेष रूप से कट्टरपंथी भारतीय और पाकिस्तानी मुसलमानों की अलगाववादी संस्कृति के खिलाफ हैं। इसके अलावा वे बलूचिस्‍तान में मानवाधिकार हनन और पाकिस्तान द्वारा वहां के लोगों के शोषण के मुद्दों को उठाते हैं और इस पर बोलते और लिखते हैं।

यह भी पढ़ें और पढो: Dainik jagran »

Lal Qila पर कब्जा, आंदोलन के नाम पर उत्पात, आंसू-गैस, लाठी और पत्थर! देखें वारदात

दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर जो भी हुआ, वह पूरे देश को सकते में कर गया. ऐसा कभी नहीं होता था. तिरंगे का अपना स्थान होता है, ट्रैक्टर की अपनी जमीन, और विरोध प्रदर्शन की अपनी मर्यादा. सुबह राजपथ पर पूरे सम्मान के साथ तिरंगा फहराया गया. मौका खास था क्योंकि देश 72वां गणतंत्र दिवस मना रहा था. पर अभी चार घंटे भी पूरे नहीं हुए थे कि उसी राजपथ से रीब 6 किलोमीटर दूर लाल किले की प्राचीर ने एक ऐसी तस्वीर दिखाई कि जिसे कोई भी आजाद हिंदुस्तानी आंखें देखना नहीं चाहती थी. आजादी के बाद ये पहला मौका था जब तिरंगे की जगह कोई और झंडा फहरा रहा था. भले ही कुछ वक्त के लिए हो. नामालूम कैसा विरोध था ये और किसका विरोध था ये. देखें वारदात, शम्स ताहिर खान के साथ