Usa, Taiwan, Biden Administration And Taiwan, Us President Joe Biden, Biden Strategy On Taiwan, Chinese President Xi Jinping, Us China War, Sino-Taiwan Dispute, Sino-Taiwan Relationship, Sino-Taiwan Differences, China-Taiwan Major Differences, China And Taiwan Army, Taiwan-Us Relations, What İs Sino-Taiwan Dispute, Taiwan-Us, Jagran Plus, चीन-ताइवान विवाद, चीन-ताइवान के रिश्‍ते, चीन-ताइवान मतभेद, क्‍या है चीन-ताइवान विवाद, ताइवान पर किसका हक

Usa, Taiwan

ताइवान को लेकर चीन के साथ जंग की तैयारी में US! क्‍या है बाइडन के ताजा बयान के निहितार्थ- जानें-एक्‍पर्ट व्‍यू

ताइवान को लेकर चीन के साथ जंग की तैयारी में US! क्‍या है बाइडन के ताजा बयान के निहितार्थ- जानें-एक्‍पर्ट व्‍यू #usa #taiwan #InternationalNews

24-10-2021 12:50:00

ताइवान को लेकर चीन के साथ जंग की तैयारी में US! क्‍या है बाइडन के ताजा बयान के निहितार्थ- जानें-एक्‍पर्ट व्‍यू usa taiwan InternationalNews

बाइडन ने कहा कि ताइवान की सुरक्षा अमेरिका की जिम्‍मेदारी है। बाइडन के इस संदेश का मतलब एकदम साफ है कि अगर चीन ने ताइवान पर आक्रामक रुख अपनाया तो अमेरिका खुलकर समर्थन करेगा। ऐसे में सवाल उठता है कि क्‍या ताइवान को लेकर अमेरिका-चीन में जंग हो सकती है।

अमेरिका में राष्‍ट्रप‍ति बाइडन के सत्‍ता संभालने के बाद चीन ने ताइवान पर आक्रामक रुख अपनाया। इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि एक महीने में चीन ने करीब 150 बार ताइवान के हवाई क्षेत्र का उल्‍लंघन किया है। बाइडन प्रशासन हर बार चीनी आक्रामकता को नजरअंदाज करता रहा है। चीन ने ताइवान को कई बार स्‍पष्‍ट धमकी दी। खासकर अफगानिस्‍तान में अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद चीनी राष्‍ट्रपति शी चिनफ‍िंग ताइवान पर तंज कसते हुए चेतावनी दी थी। बाइडन प्रशासन ने पहली बार ताइवान को लेकर अपने स्‍टैंड को क्लियर किया। आखिर राष्‍ट्रपति बाइडन के इस धमकी के क्‍या है मायने ? अब क्‍या करेगा चीन ? क्‍या ताइवान को लेकर चीन के नजरिए में बदलाव आएगा। इन तमाम सवालों को लेकर क्‍या राय रखते हैं प्रो. हर्ष वी पंत (आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन, नई दिल्ली में निदेशक, अध्ययन और सामरिक अध्ययन कार्यक्रम के प्रमुख)। जानें उन्‍हीं की जुबानी। 

उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य बोले-मथुरा की तैयारी, छिड़ी बहस - BBC News हिंदी काशी विश्वनाथ धाम प्रोजेक्ट का उद्घाटन करेंगे PM मोदी, जानें कैसा होगा इसका ब्लूप्रिंट Parag Agrawal Twitter CEO बने तो अग्रवाल स्वीट्स की क्यों हो रही चर्चा?

यह भी पढ़ेंअमेरिका ताइवान की रक्षा करेगा, बाइडन के इस बयान के क्‍या निहितार्थ हैं ?ताइवान को लेकर अमेरिका में अलग-अलग राष्‍ट्रपतियों की नीतियों में भिन्‍नता रही है। यही कारण है कि ताइवान को लेकर चीन अमेरिकी नीति को एक शंका की निगाह से देखता है। पूर्व राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के सत्‍ता से हटने के बाद चीन ने नए राष्‍ट्रपति जो बाइडन की नीतियों को भी भांपने की कोशिश की है। यही कारण है कि वह ताइवान को लेकर अमेरिका को बार-बार उकसाता है, ताकि अमेरिकी रणनीति का आंकलन किया जा सके। राष्‍ट्रपति बाइडन के ताइवान पर दिए ताजा बयान को इसी कड़ी के रूप में देखा जाना चाहिए। बाइडन प्रशासन ने ताइवान को लेकर अपने स्‍टैंड काे साफ कर दिया। उन्‍होंने कहा कि ताइवान की सुरक्षा अमेरिका की बड़ी जिम्‍मेदारी है। बाइडन के इस संदेश का मतलब एकदम साफ है कि अगर चीन ने ताइवान पर आक्रामक रुख अपनाया तो अमेरिका खुलकर समर्थन करेगा। बाइडन के इस बयान के बाद चीन की स्‍वाभाविक प्रतिक्रिया सामने आई है। 

क्‍या ताइवान को लेकर अमेरिका की नीति में बदलाव होता आ रहा है ?1-देखिए, ताइवान को लेकर अमेरिका की नीति सदैव एक जैसी नहीं रही है। ताइवान को लेकर अमेरिकी नीति में एक तरह की रणनीतिक अस्‍पष्‍टता दिखाई देती रही है। इसको यूं समझिए, 1979 में तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति जिमी कार्टर ने चीन के साथ कूटनीतिक संबंध स्‍थाप‍ित करने के लिए ताइवान के साथ आधिकारिक संबंध समाप्‍त कर लिए थे। उस वक्‍त अमेरिकी कांग्रेस ने ताइवान र‍िलेशंस एक्‍ट पारित किया था। यह कानून इस बात की इजाजत देता था कि अमेरिका ताइवान को रक्षात्‍मक हथ‍ियारों की बिक्री कर सकता था। headtopics.com

यह भी पढ़ें2-इसी तरह से पूर्व राष्‍ट्रपति बिल क्लिंटन ताइवान की आजादी के पक्ष में थे। बाइडन प्रशासन के बाद अगर देखा जाए तो क्लिंटन के कार्यकाल में ताइवान को लेकर अमेरिका और चीन में जबरदस्‍त तनाव था। वर्ष 1996 में ताइवान में चुनाव हो रहे थे। उस वक्‍त चीन ने ताइवान को निशाना बनाते हुए मिसाइल परीक्षण किए और उस पर एक दबाव बनाने की कोशिश की। चीन के इस कदम के बाद क्लिंटन ने ताइवान की ओर बड़े युद्ध विमान भेज कर चीन को यह संदेश दिया था कि ताइवान की सुरक्षा को लेकर अमेरिका समझौता नहीं करेगा। उस वक्‍त अमेरिका ने बड़े पैमाने पर शक्ति प्रदर्शन किया।

यह भी पढ़ें3-इसी तरह से 2001 में अमेरिका के तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति जार्ज डब्‍ल्‍यू बुश ने भी ताइवान को लेकर अपने स्‍टैंड को क्लियर किया था। बुश ने साफ कहा था कि ताइवान को बचाने के लिए अमेरिका जो जरूरी होगा वह करेगा। ऐसी सूरत इसलिए पैदा होती है, क्‍योंकि ताइवान को लेकर अमेरिकी रणनीति अलग किस्‍म की है। अमेरिका, चीन को दुविधा में डालकर रखता है। चीन इस बात को लेकर सदैव शंकित रहता है कि अगर उसने ताइवान पर हमला किया तो अमेरिका की उस पर कितनी कठोर प्रतिक्रिया देगा। यही कारण है कि चीन बार-बार ताइवान को लेकर अमेरिका को उकसाता रहता है। ट्रंप के कार्यकाल में ताइवान और अमेरिका एक-दूसरे के बेहद नजदीक आए। इसे अमेरिका की ताइवान को लेकर चली आ रही नीति में बड़े बदलाव के संकेत के तौर पर देखा गया था।

यह भी पढ़ेंचीन ताइवान को क्‍यों धमकाता है ?दरअसल, वर्ष 2005 में चीन ने एक अलगाववादी विरोधी कानून पारित किया था। इस कानून के तहत चीन ताइवान को बलपूर्वक मिलाने का हक रखता है। इस कानून की आड़ में चीन कई बार ताइवान को धौंस देता रहा है। हालांकि, वह अभी तक ताइवान को मिलाने में नाकाम रहा है। इस कानून के तहत यदि ताइवान अपने आप को स्‍वतंत्र राष्‍ट्र घोषित करता है तो चीन की सेना उस पर हमला कर सकती है। हालांकि, कई साल के तनाव और धमकियों के बाद ताइवान ने अपनी आजादी कायम रखी है। चीन की सरकार बार-बार कहती रही है कि वह ताइवान को ताकत के दम पर चीन में मिला लेगा। इन धमकियों के बावजूद चीन आज तक ताइवान के खिलाफ सैन्‍य कार्रवाई नहीं कर पाया।

और पढो: Dainik jagran »

वारदात: तेज हो गई समीर-नवाब की तकरार, क्या है स्कूल सर्टिफिकेट की सच्चाई?

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के मुंबई के जोनल हेड समीर वानखेड़े के बर्थ सर्टिफिकेट और मैरिज सर्टिफिकेट के बाद महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक कथित रूप से उनके ये दो नए सर्टिफिकेट लेकर आए हैं. नवाब मलिक के मुताबिक समीर दादर के सेंट पॉल हाईस्कूल से प्राथमिक शिक्षा ली थी. इस सर्टिफिकेट में समीर वानखेड़े का नाम वानखेड़े समीर दाऊद लिखा है. यहां ये भी लिखा है कि छात्र की जाति और उपजाति तभी बताई जाए जब वो पिछड़े वर्ग, या अनुसूचचित जाति-जनजाति से आए. जबकि धर्म के कॉलम में लिखा है मुस्लिम. इसके बाद समीर वडाला के सेंट जॉसेफ हाईस्कूल में पढने गए. यहां के स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट में समीर का नाम वानखेड़े समीर दाऊद लिखा है. और धर्म के कॉलम में लिखा है मुस्लिम. दरअसल नवाब मलिक समीर वानखेड़े को मुसलमान साबित करने के लिए इसलिए जुटे हैं क्योंकि अगर उनकी बात सही साबित हो गई तो समीर वानखेड़े के नौकरी खतरे में पड़ जाएगी. देखें वीडियो.

Earthquake in Taiwan: ताइवान में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 6.2 रही तीव्रताEarthquake in Taiwan : ताइवान में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 6.2 रही तीव्रता earthquake Taiwan

वार : असद्दुदीन ओवैसी बोले- सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद केंद्र ने टीका की नीति बदलीवार : असद्दुदीन ओवैसी बोले- सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद केंद्र ने टीका की नीति बदली LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine asadowaisi RahulGandhi asadowaisi RahulGandhi ओवैसी के बाप का क्या जाता है, जो मुंह में आया सो बक दिया, परिवार में भी जो जिम्मेदारी निभाता है, उसके खिलाफ सबसे अधिक नुक्ता-चीनी करने वाले गैर-जिम्मेदार ही होते हैं! asadowaisi RahulGandhi save_our_job_in_hp

बाबा के दरबार में CM योगी ने लगाई हाजिरी, मंत्रों के बीच की पूजा-अर्चनामुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ शनिवार को वाराणसी में थे। यहां उन्‍होंने सबसे पहले काशी विश्‍वनाथ के मंदिर में हाजिरी लगाई। पुजारियों के मंत्रोच्‍चार के बीच उन्‍होंने अर्चना की। इसके बाद बीजेपी पदाधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक से निकलने के बाद मुख्यमंत्री सास्कृतिक संकुल का निरीक्षण करने पहुंचे। इस दौरान सर्किट हाउस अंडर ग्राउंड पार्किंग स्‍थल का हाल भी जाना। फिर शहर में भ्रमण करते हुए मुख्‍यमंत्री ने नगरीय व्‍यवस्‍थाओं का हाल अपनी आंखों से देखा। सीएम के आगमन को देखते हुए शहर भर में सुरक्षा व्‍यवस्‍था काफी कड़ी कर दी गई थी। narendramodi जी के दौरे की तैयारी का जायजा भी तो लेना है अंधविश्वास पाखण्ड फैलाना ही बाबाजी कामुख्य कार्य है क्योंकि वोट उसीसे मिलता है

IND vs PAK: महामुकाबले के लिए पाकिस्तान ने टीम की घोषणा की, बाबर-रिजवान करेंगे ओपनिंगIND vs PAK: भारत के खिलाफ महामुकाबले के लिए पाकिस्तान की प्लेइंग-XI की घोषणा, बाबर-रिजवान करेंगे ओपनिंग INDvPAK T20WorldCupsquad T20WorldCup2021 PakistanCricket indiaVsPakistan

'कृषि नीति पर पुनर्चिंतन की जरूरत' : किसान के फसल जलाने के VIDEO पर बोले वरुण गांधीवरूण गांधी ने शनिवार को एक किसान का वीडियो ट्वीट किया. जिसमें किसान ने 15 दिन तक भी धान की फसल नहीं खरीदे जाने पर उसमें आग लगा दी. आपका पत्ता साफ करने पर चिंतन और मंथन सब हो रहा है 😂 मोदी भक्त अब इन्हें गद्दार और देशद्रोही करार दे देंगे! इन का आवाज उठाने और किसान का साथ देने के लिए धन्यवाद! FarmersProtest_Martyrs PetrolDieselPriceHike lakhimpur_farmer_massacre कृषि नीति पर पुनर्चिंतन आज की सबसे बड़ी ज़रूरत है.

कर्नाटक: भगत सिंह की किताब के चलते यूएपीए के तहत गिरफ़्तार आदिवासी पिता-पुत्र बरीमामला मंगलुरु का है, जहां साल 2012 में पत्रकारिता के छात्र विट्टला मेलेकुडिया और उनके पिता को गिरफ़्तार करते हुए उनके पास मिली किताबों आदि के आधार पर उन पर यूएपीए के तहत राजद्रोह और आतंकवाद के आरोप लगाए गए थे. एक ज़िला अदालत ने उन्हें बरी करते हुए कहा कि पुलिस कोई भी सबूत देने में विफल रही. भगत सिंह की किताबें या अख़बार पढ़ना क़ानून के तहत वर्जित नहीं हैं. girijeshadams इन्हें डर भगत सिंह के सितारों से ही तो है जिनका नारा था हर तरह के शोषण के खिलाफ तब तक संघर्ष रहे जब तक कि आदमी से आदमी का भेद ना खत्म हो जाती।