डेल्टा वैरिएंट की तुलना में पांच गुना ज्यादा संक्रामक है ओमिक्रोन, जानिए फिर भी क्या है राहत की बात

डेल्टा वैरिएंट की तुलना में पांच गुना ज्यादा संक्रामक है ओमिक्रोन, जानिए फिर भी क्या है राहत की बात #coronavirus #DeltaVariant #OmicronVarient #COVID19

Coronavirus, Deltavariant

02-12-2021 19:35:00

डेल्टा वैरिएंट की तुलना में पांच गुना ज्यादा संक्रामक है ओमिक्रोन , जानिए फिर भी क्या है राहत की बात coronavirus DeltaVariant OmicronVarient COVID19

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि बुधवार की शाम आठ बजे तक 37 उड़ानों से आने वाले 7976 का आरटी-पीसीआर टेस्ट किया गया। जिनमें 10 यात्री पाजिटिव पाए गए। इन सब के सैंपल की जिनोम सिक्वेंसिंग के बाद दो लोगों में ओमिक्रोन वैरिएंट पाया गया।

कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट ने भारत में भी दस्तक दे दी है। दक्षिण अफ्रीका से कर्नाटक पहुंचे दो यात्री इस वैरिएंट से संक्रमित पाए गए हैं। दोनों को आइसोलेशन में रखा गया है। उनके सभी प्राइमरी, सेकेंडरी और टर्सियरी संपर्कों की पहचान कर ली गई है और उनकी टेस्टिंग की जा रही है। कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डा.के सुधाकर ने एक ट्वीट कर बताया कि राज्य में ओमिक्रोन से संक्रमित जो दो लोग मिले उनमें से 66 वर्षीय व्यक्ति दक्षिण अफ्रीका का नागरिक है और वह वापस अपने देश लौट गया। वहीं, 46 वर्षीय दूसरा व्यक्ति भारतीय नागरिक व पेशे से डाक्टर है। उसकी कोई ट्रैवेल हिस्ट्री नहीं मिली है।

श्रीलंका को ‘अंधेरे में डूबने’ से बचाने के लिए भारत क्या कर रहा है? - BBC News हिंदी

यह भी पढ़ेंभारत में दूसरी लहर के दौरान तबाही मचाने वाले डेल्टा वैरिएंट की तुलना में ओमिक्रोन वैरिएंट को पांच गुना ज्यादा संक्रामक बताया जा रहा है। लेकिन राहत की बात है कि पूरी दुनिया में इस वैरिएंट से अब तक मिले सभी संक्रमित मामले माइल्ड श्रेणी के पाए गए हैं। ऐसे में तत्काल लाकडाउन जैसे विकल्पों पर विचार से भी स्वास्थ्य मंत्रालय ने मना किया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि बुधवार की शाम आठ बजे तक 37 उड़ानों से आने वाले 7,976 का आरटी-पीसीआर टेस्ट किया गया। जिनमें 10 यात्री पाजिटिव पाए गए। इन सब के सैंपल की जिनोम सिक्वेंसिंग के बाद दो लोगों में ओमिक्रोन वैरिएंट पाया गया। headtopics.com

यह भी पढ़ेंवैसे अग्रवाल ने यह नहीं बताया कि इन दोनों ने वैक्सीन ली थी या नहीं। इस तरह भारत, दुनिया का ऐसा 30वां देश बन गया जहां ओमिक्रोन पाया गया है। इसके पहले 29 देशों में ओमिक्रोन के 373 मामले मिल चुके हैं। इनमें सबसे अधिक द.अफ्रीका में 183, ब्रिटेन में 32, पुर्तगाल में 13, जर्मनी में 10 और घाना में 33 मामले हैं।

दिल्‍ली में कोरोना पॉजिटिविटी रेट गिरकर 22.47% हुआ, 24 घंटे में 11684 नए मामले, 38 लोगों की मौत

यह भी पढ़ेंबहुत तेजी से फैलता है ओमिक्रोनलव अग्रवाल ने अमेरिकी महामारी रोग विशेषज्ञ डाक्टर इरिक फीग्लडिंग द्वारा तैयार माडल का हवाला देते हुए कहा कि शुरुआती ट्रेंड से ओमिक्रोन, डेल्टा वैरिएंट की तुलना में पांच गुना ज्यादा संक्रामक नजर रहा है। इसकी संक्रामकता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 24 नवंबर को द.अफ्रीका और बोत्सवाना से इसके मरीज की सूचना विश्व स्वास्थ्य संगठन को मिली और आठ दिनों में यह 30 देशों में फैल गया।

यह भी पढ़ेंध्यान देने की बात है कि इस साल अप्रैल और मई महीने में डेल्टा ने भारत में बड़ी तबाही मचाई थी। डेल्टा से पांच गुना ज्यादा संक्रामक होना ओमिक्रोन को काफी खतरनाक बना रहा है।डेल्टा की तुलना में कम घातकराहत की बात बस यही है कि अभी तक दुनिया में ओमिक्रोन के सभी मामले माइल्ड किस्म के मिले हैं। इसकी चपेट में आए किसी भी मरीज को अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत नहीं पड़ी है। चपेट आए लोगों में सामान्य रूप से बदन दर्द की शिकायत देखने को मिल रही है। लव अग्रवाल ने यह भी साफ किया कि अभी सीमित डाटा के आधार पर यह अनुमान लगाया गया है और आने वाले दिनों में स्थिति और स्पष्ट होगी।

यह भी पढ़ेंओमिक्रोन के मामले माइल्ड होने के बावजूद पिछले एक हफ्ते में दक्षिण अफ्रीका में कोरोना मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने के बढ़ते आंकड़े खतरनाक संकेत दे रहे हैं। अग्रवाल ने कहा कि यह देखना पड़ेगा कि ओमिक्रोन के मामले बढ़ने से अस्पतालों में मरीज बढ़े है या किसी और कारण से। headtopics.com

एंट्रिक्स-देवास डील पर बीजेपी का कांग्रेस पर हमला, लगाए गंभीर आरोप - BBC News हिंदी

फिर से टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट और आइसोलेशन पर बढ़ेगा जोरओमिक्रोन ने एक बार फिर से पहली और दूसरी लहर की तरह टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट और आइसोलेशन को अनिवार्य कर दिया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ओमिक्रोन का तेजी से फैलना तय है। सरकार ने एक बार फिर से राज्यों को टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट और आइसोलेशन को कड़ाई से पालन करने के लिए कह दिया है।

ओमिक्रोन को फैलने से रोकने में फिजिकल डिस्टेसिंग (उचित शारीरिक दूरी) कारगर हथियार साबित हो सकती है। अग्रवाल ने बताया कि फिजिकल डिस्टेसिंग के नियम का पालन नहीं करने का नतीजा अमेरिका, यूरोप समेत दुनिया के अन्य भागों में देखा जा सकता है।वैक्सीन अब भी कारगर

यह भी पढ़ेंओमिक्रोन में एक साथ 45 से 52 परिवर्तनों में इस पर वैक्सीन की कारगरता पर सवाल खड़ा कर दिया है। दुनिया की अधिकांश वैक्सीन कोरोना के स्पाइक प्रोटीन पर आधारित हैं, जबकि ओमिक्रोन वैरिएंट में स्पाइक प्रोटीन में ही 26 से 32 परिवर्तन देखे जा रहे हैं। नीति आयोग के सदस्य और टीकाकरण पर गठित टास्क फोर्स के प्रमुख डाक्टर वीके पाल ने विश्व स्वास्थ्य संगठन का हवाला देते हुए कहा कि मौजूदा वैक्सीन भी ओमिक्रोन से बचाव में सक्षम है। वैक्सीन से बनने वाली टी-सेल रिस्पांस ओमिक्रोन के मामले में मरीजों की स्थिति गंभीर होने से बचा सकती है। इसीलिए उन्होंने सभी लोगों को तत्काल टीके की दोनों डोज लगाने की जरूरत बताई।

यह भी पढ़ेंकोवैक्सीन हो सकती है ज्यादा कारगरओमिक्रोन के खिलाफ भारत की स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सीन ज्यादा कारगर साबित हो सकती है। आइसीएमआर के महानिदेशक डाक्टर बलराम भार्गव के अनुसार कोवैक्सीन पूरे वायरस से बनी वैक्सीन है और वैज्ञानिक रूप से पूरे वायरस से बनी वैक्सीन किसी भी वैरिएंट के खिलाफ ज्यादा कारगर मानी जाती है। हालांकि उन्होंने यह भी साफ कहा कि ओमिक्रोन के खिलाफ सभी वैक्सीन की कारगरता की नए सिरे से जांच करने की जरूरत है। headtopics.com

बूस्टर डोज फिलहाल नहींओमिक्रोन वैरिएंट ने देश में बूस्टर डोज की जरूरत को बढ़ा दिया है हालांकि डा.वीके पाल ने फिलहाल इससे साफ इन्कार कर दिया है। उन्होंने कहा कि देश में टीकाकरण एक वैज्ञानिक तरीके से चल रहा है। नए वैरिएंट के बावजूद इसमें फिलहाल बदलाव की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि सबसे पहले सभी वयस्क जनसंख्या को टीके की दोनों डोज लगाने की जरूरत है। उन्होंने कोविशील्ड के दोनों डोज के बीच की समय सीमा को घटाने की जरूरत से इन्कार कर दिया।

और पढो: Dainik jagran »

कोरोना की पाबंदियों के बीच होंगे चुनाव, किस पार्टी को मिलेगी जीत? देखें शखंनाद

चुनावी शंखनाद शुरू हो चुका है. चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में चुनाव का ऐलान कर दिया है. नेताओं ने कमर कस ली है. वहीं कई पाबंदियां लागू हो चुकी हैं. सबके अपने दावे हैं, सबके अपने वादे हैं. इस बार मतदाताओं की संख्या बढ़ी है. ऐसे में कोरोना और मतदाताओं की संख्या को देखते हुए चुनाव आयोग ने पूरा प्लान तैयार किया है. चुनाव आयोग की तारीखों के ऐलान के बाद देश के सबसे बड़े सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ की प्रतिक्रया भी सामने आई है. देखें कैसे तारीखों के ऐलान के बाद शुरू हुआ बयानों का दौर.

लेकिन मौतें तो नही हो रही? ईश्वर सबकी रक्षा करें 🙏

असम में बढ़ रही है पुलिस हिरासत में मौतों की तादाद | DW | 02.12.2021असम में एक छात्र नेता की पीट-पीट कर हत्या के मामले का मुख्य अभियुक्त सड़क हादसे में मारा गया है. इसे लेकर बीती मई से अब तक कुल 28 लोगों की पुलिस हिरासत में मौत हो चुकी है. PoliceBrutality CustodialDeaths Assam HumanRights

मुजफ्फरपुर में मोतियाबिंद के ऑपरेशन में गड़बड़ी, 65 में से 15 लोगों की निकालनी पड़ी आंखजानकारी के लिए बता दें कि बीते 22 नवंबर को मुजफ्फरपुर के आई हॉस्पिटल में 65 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था. जिसमें ज्यादातर लोगों की आंखों में इंफेक्शन हो गया.

Omicron Alert: देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की एंट्री, कर्नाटक में मिले दो मामलेOmicron Alert: देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की एंट्री, कर्नाटक में मिले दो मामले OmicronVarient Covid19 Karnataka mansukhmandviya MoHFW_INDIA mansukhmandviya MoHFW_INDIA कर्नाटक सरकार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था बहाल करना चाहिए ताकि वायरस को तेजी से वायरल होनें से रोका जाए। इसें मज़ाक में कतई न लें , नहीं तो बहुत जल्दी विकराल रूप धारण कर लेगा. सज़ग रहे , सतर्क रहें mansukhmandviya MoHFW_INDIA

गाजियाबाद : इंदिरापुरम की सोसायटी की एक बिल्डिंग में 5वें माले पर आग, दिखा भयानक मंजरवहां मौजूद लोगों ने तत्काल इस घटना की जानकारी दमकल विभाग को दी. सूचना पर दमकल की टीम मौके पर पहुंचकर आग बुझाने का प्रयास कर रही है

Covid-19: देशभर में पिछले 24 घंटों में 9,765 नए केस, 477 की मौतदेश में फिलहाल रिकवरी रेट 98.35 फीसदी दर्ज की गई है जो मार्च 2020 के बाद से सबसे ज्यादा है. पिछले 24 घंटों में देशभर में कुल 8,548 मरीज कोविड महामारी से स्वस्थ हुए हैं. अब तक देशभर में कुल 3 करोड़, 40 लाख, 37 हजार, 054 लोग इस महामारी को मात दे चुके हैं. pikaso_me screen shot this Lagta hai ki ab '0' nhi hone denge...kbhi

Bihar Vidhan Sabha : 'विधायकों की पिटाई हो गई, मंत्रियों की बाकी', बिहार विधानसभा में भारी बवालबिहार सरकार में बीजेपी कोटे से मंत्री जीवेश मिश्रा ने सदन के अंदर अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। विधानसभा में मंत्री जीवेश मिश्रा ने पटना के डीएम और एसएसपी पर उनका अपमान करने का आरोप लगाया। मंत्री ने सदन में खड़े होकर कहा है कि पटना के एसपी और डीएम की वजह से उनकी गाड़ी को विधानसभा में आने से रोका गया।