Uttar Pradesh, Dengue, Death, Spread, Delhi, Rain, Water

Uttar Pradesh, Dengue

डेंगू का डंक

डेंगू का डंक in a new tab)

20-10-2021 00:04:00

डेंगू का डंक in a new tab)

हर साल बरसात के बाद डेंगू का प्रकोप बढ़ जाता है।

उत्तर प्रदेश में इसी वजह से डेंगू के मरीजों के इलाज में चिकित्सकों को परेशानियां आर्इं। दिल्ली में डेंगू के बढ़ते मामले इसलिए भी चिंताजनक हैं कि सरकार लगातार इसे लेकर लोगों को जागरूक बनाने का प्रयास करती रहती है। घरों में सफाई रखने, साफ पानी जमा न होने देने को लेकर हिदायत देती रहती है। इसके विज्ञापन लगातार चलते रहते हैं। इस अभियान का असर भी पिछले दो सालों में देखा गया, मगर इस साल फिर से मामले बढ़ते पाए जा रहे हैं, तो इसका अर्थ है कि लोग अब फिर लापरवाही बरतने लगे हैं।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीएए-एनआरसी के छह प्रदर्शनकारियों के हिरासत आदेश को ख़ारिज किया इस्लाम छोड़ हिंदू बनेंगे वसीम रिजवी, यति नरसिंहानंद ग्रहण करवाएंगे सनातन धर्म बीजेपी पर राघव चड्ढा का गंभीर आरोप, कहा- हमारे MLA, MP को खरीदने की कोशिश

यह हकीकत सबको पता है कि डेंगू का मच्छर साफ पानी में पलता है और दिन में ही काटता है। इसके काटने पर पैदा परेशानियों के लक्षण भी सबको पता हैं। फिर भी अगर लोग सतर्कता नहीं बरत रहे, तो यह खतरे की वजह बन सकता है। 2018 से पहले के कुछ सालों के तथ्य छिपे नहीं हैं जब दिल्ली के अस्पतालों में डेंगू मरीजों की भीड़ भरी रहती थी। कई लोग मारे गए थे।

इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने अस्पतालों को हर वक्त तैनात रहने का आदेश दिया था। मगर शायद लोग उन स्थितियों को भूल गए हैं। दिल्ली में देश के दूसरे शहरों की अपेक्षा अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं मानी जाती हैं, यहां विशेषज्ञ चिकित्सकों की भी कमीं नहीं। फिर भी अगर यहां डेंगू के किसी मरीज को नहीं बचाया जा पाता, तो यह चिंता की बात है। हालांकि सरकारें इस तथ्य से अनजान नहीं हैं कि कोई भी विषाणु जब नए सिरे से पांव पसारता है, तो नए रूप में प्रकट होता है, पहले से अधिक ताकत के साथ अता है। इसी तरह मच्छरों से फैलने वाली बीमारियां भी इसीलिए हर बार कुछ जटिल रूप ले लेती हैं, क्योंकि वे बदलते वातावरण के अनुसार खुद को ढाल चुके होते हैं, प्रचलित दवाएं उन पर कम असरकारी साबित होती हैं। headtopics.com

हालांकि डेंगू फैलने के पीछे आम लोगों की लापरवाही बड़ा कारण है, मगर इस आधार पर दिल्ली सरकार और नगर निगम अपनी जवाबदेही से पल्ला नहीं झाड़ सकते। घर-घर जांच अभियान क्यों तेजी नहीं पकड़ पा रहा? जगह-जगह बरसात का पानी जमा देखा जाता है, कूड़ा-करकट समय पर नहीं उठाया जा पाता। पार्कों और खेल के मैदानों की उचित साफ-सफाई नहीं हो पाती, जिसके चलते मच्छरों के पनपने का मौका मिलता है। दिल्ली सरकार मच्छरमार दवाओं के छिड़काव के मामले में क्यों शिथिल दिखती है? जब कोई भी समस्या बढ़ जाती है, तभी सरकारों की नींद क्यों खुलती है। अगर समय-समय पर मच्छरमार दवाओं का छिड़काव किया जाता रहे, साफ-सफाई का समुचित प्रबंध हो, तो इस समस्या पर काबू पाना कठिन नहीं है। मगर विचित्र है कि दिल्ली सरकार और नगर निगम अपने अधिकारों की लड़ाई और एक-दूसरे पर ठीकरा फोड़ने में ही अधिक उलझे नजर आते हैं। असल समस्या पर अपेक्षित गंभीरता नहीं दिखा पाते।

और पढो: Jansatta »

खुद्दार कहानी: जिस हाथ में पेंसिल होनी चाहिए, उसे पेट की भूख मिटाने के लिए थामनी पड़ती है घोड़े की लगाम

ये कुदरत की कैसी मार है। जिस हाथ में पेंसिल होनी चाहिए। उस नन्ही सी जान को अपने पेट की भूख मिटाने के लिए घोड़े की लगाम थामनी पड़ रही है। यह कहानी कश्मीर के पहलगाम की रहने वाली 8 साल की रूही की है, जिसकी मां की दो साल पहले मौत हो चुकी है। पिता बीमार रहते हैं। पिता के अलावा 4 साल के भाई को भी पालने की जिम्मेदारी रूही पर ही आ पड़ी है। घर में बर्तन, कपड़े धोने से लेकर पूरे परिवार का पेट भरने का जिम्मा यही... | Kashmir's little horsewoman; Mother is not there and father is ill, at the age of 8, the responsibility of the family is on the shoulders

Minority vs Majority: लकीर का फकीर बनने से बचने में ही राष्ट्र का कल्याणMinority vs Majority अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक शब्द अब गैरजरूरी हो चले हैं। इन शब्दों के अस्तित्व को आक्सीजन देने वाली संस्थाओं और विभागों को खत्म किए जाने की जरूरत है क्योंकि ये शब्द देश को पीछे धकेलने में कोई कसर नहीं छोड़ते।

महंगे पेट्रोल पर प्रियंका गांधी का तंज, हवाई चप्पल वालों का सड़क पर सफर भी मुश्किलप्रियंका ने एक खबर साझा करते हुए ट्वीट किया कि वादा किया था कि हवाई चप्पल वाले हवाई जहाज से सफर करेंगे, लेकिन भाजपा सरकार ने पेट्रोल-डीजल के दाम इतने बढ़ा दिए कि अब हवाई चप्पल वालों और मध्यम वर्ग का सड़क पर सफर करना भी मुश्किल हो गया है. क्या भारत के इतिहास में पहली बार हवाई जहाज़ से महँगा मोटर गाड़ी का पेट्रोल हो गया है. वो बूढ़ा फेंकू देश का जीना हराम किए हैं बीवी को तो साले ने बेच खाया अब देश भी बेच रहा हैं सिर्फ नाटक नौटंकी ,घटिया राजनीति, मुस्लिम तुष्टिकरण ,और मुसलमानों की राजनीति

अफगानिस्तान में अमेरिकी राजदूत का इस्तीफा, तालिबान के मुद्दे पर सवालों का कर रहे थे सामनाअफगानिस्तान के राजदूत रहते हुए खालिलजाद ने तालिबान नेताओं के साथ अच्छे रिश्ते कायम किए और दोनों पक्षों के बीच वार्ता में वो अहम किरदार थे. All Dear RT Please.. CBI_enquiry_for_LakhbirSingh CBI_enquiry_for_LakhbirSingh CBI_enquiry_for_LakhbirSingh CBI_enquiry_for_LakhbirSingh CBI_enquiry_for_LakhbirSingh CBI_enquiry_for_LakhbirSingh CBI_enquiry_for_LakhbirSingh CBI_enquiry_for_LakhbirSingh

Apple का शानदार ऑफर, मात्र 47 रुपये प्रतिमाह में उठाएं Apple म्यूजिक का लुत्फApple Music Voice Plan यह नया सब्सक्रिप्शन प्लान 90 मिलियन गानों के कैटलॉग 10 हजार प्लेलिस्ट के साथ आएगा। इसमें 100 से ज्यादा ब्रांड न्यू मोड और एक्टिविटी प्लेलिस्ट पर्सनलाइज्ड मिक्स का सपोर्ट मिलेगा। साथ ही अवार्ड विनिंग Apple Music Radio का सपोर्ट मिलेगा।

भारत का सबसे ऊंचा कचरे का पहाड़, इर्द-गिर्द सिमटी ज़िंदगियां और मुश्किलें - BBC News हिंदीपीएम मोदी ने वादा किया था कि कूड़े के पहाड़ों का जल्द ही समाधान किया जाएगा लेकिन ये कितना मुश्किल है. क्या भारत में भ्रष्टाचार का पहाड़ इस कचरे के पहाड़ से ज़्यादा ऊँचा है……….? choga_don ExSecular desimojito AmanChopra_ Sab mile hue hain ji.... same post.... global conspiracy.. 🤔🤔 Bbc ek aisa biased hypocrist n double standard channel jise Bangladesh me ho rahe hindus killings n hindu temple attacks ke bare me baat nahi karni aisy cheeze bbc dunia nahi dikhata bbc AL zazira jesa ek islamic channel he TeraMama9

Dengue Test Fees: पंजाब सरकार का बड़ा कदम, अब निजी अस्पतालों में 600 रुपये में होंगे डेंगू टेस्ट Dengue Test Fees पंजाब के निजी अस्पतालों व लैबोरेट्रीज में डेंगू टेस्ट की फीस निर्धारित कर दी गई है। राज्य में इसकी फीस 600 रुपये होगी। इस संबंध में डिप्टी सीएम ओपी सोनी ने निर्देश दिए हैं । काश: ऐसी निर्धारित फीस आगरा के निजी अस्पतालों में भी हो जाए , जिससे गरीब आदमी अपना ढंग से इलाज कर ले। बहुत लूट मार चल रही है।