देशकाबजट, Budget, Telecom Sector, Telecom, Budget 2019, General Budget 2019, Union Budget 2019, Nirmala Sitaraman, Finance Minister

देशकाबजट, Budget

टेलीकॉम इक्विपमेंट पर ड्यूटी घटाए जाने की सेक्टर की मांग, वित्त मंत्री का क्या होगा प्लान

टेलीकॉम इक्विपमेंट पर ड्यूटी घटाए जाने की सेक्टर की मांग, वित्त मंत्री का क्या होगा प्लान #देशकाबजट

4.7.2019

टेलीकॉम इक्विपमेंट पर ड्यूटी घटाए जाने की सेक्टर की मांग, वित्त मंत्री का क्या होगा प्लान देशकाबजट

देश में डेटा खपत का जिस तरह से विस्तार हो रहा है उसे देखते हुए टेलीकॉम सेक्टर में ग्रोथ हासिल करने की काफी संभावनाएं हैं.

टेलीकॉम विभाग के अपने प्रोजेक्ट्स के अलावा केंद्र के प्रोजेक्ट्स के लिए भी फंड एलोकेशन बढ़ाने की मांग है. अंतरिम बजट में इन प्रोजेक्ट्स के लिए 13,400 करोड़ रुपये के एलोकेशन का एलान किया गया था और इस बार केंद्र के प्रोजेक्ट्स के लिए फंड में कम से कम 15 फीसदी की बढ़ोतरी देखी जा सकती है.

एक कॉम्प्रिहेंसिव टेलीकॉम डेवलपमेंट प्लान बनाया जा रहा है जिससे अंडमान और निकोबार आईलैंड और लक्ष्यद्वीप को देश के दूसरे भागों से जोड़ने की दिशा में बड़ा काम किया जा रहा है. इसका दायरा बढ़ाया जाना चाहिए.

और पढो: ABP न्यूज़ हिंदी
ताज़ा खबर
अभी नवीनतम समाचार

Why Mumbai is Facing such Problem in Every Monsoon? - रवीश कुमार का प्राइम टाइम : क़ुदरत के निशाने पर आ गई है मुंबई, बारिश और चक्रवात का ख़तरा वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बररवीश कुमार का प्राइम टाइम : क़ुदरत के निशाने पर आ गई है मुंबई, बारिश और चक्रवात का ख़तरा हिन्दी न्यूज़ वीडियो। एनडीटीवी खबर पर देखें समाचार वीडियो रवीश कुमार का प्राइम टाइम : क़ुदरत के निशाने पर आ गई है मुंबई, बारिश और चक्रवात का ख़तरा अगले 48 घंटे में मुंबई और महाराष्ट्र में भारी से भारी बारिश होने की आशंका जताई गई है. मंगलवार को मुंबई, पुणे सहित महाराष्ट्र भर में दीवार गिरने से 31 लोगों की मौत हो गई. पुणे में पिछले हफ्ते दीवार गिरने से 17 लोगों की मौत हो गई थी. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बारिश के कारण महाराष्ट्र भर में दीवार गिरने से 46 लोगों की मौत हुई है. मुंबई में ही बारिश के कारण अलग-अलग दुर्घटनाओं में 25 से अधिक लोगों की मौत हो गई है. पुराना अनुभव अब काम नहीं आएंगे. मुंबई की बारिश कभी भी धोखा दे सकती है. मुंबई में समंदर के अलावा नदियों और दलदली ज़मीन का अपना एक सिस्टम बना हुआ था. हम धीरे-धीरे उन पर कब्ज़ा करते चले गए. ये प्राकृतिक सिस्टम महानगर की सुरक्षा के उपकरण थे. अपने आस पास देखिए. प्राकृतिक आपदाओं का स्केल बड़ा होता जा रहा है. बीएमसी की तैयारी तबाही के असर को कुछ कम कर सकती है मगर तबाही नहीं टाल सकेगी. जिन लोगों की बनाई नीतियों के ये परिणाम हैं उन पर बीएमसी का ज़ोर नहीं चलेगा. अब देखिएगा. यहां से भाषा बदलेगी. उस भाषा को ग़ौर से नोट कीजिए. जब आप पूछेंगे कि इस तबाही का ज़िम्मेदार कौन है, कैसे इस तबाही से बचें तो जवाब आएगा हम सबको मिलकर सामूहिक रूप से जिम्मेदारी उठानी होगी. जब भी लापरवाही का स्तर हद से ज्यादा हो जाता है, लापरवाही सामूहिक बताई जाने लगती है और उन्हें बचा लिया जाता है जो कुर्सी पर बैठते हैं. बजट पास करते हैं, योजनाएं बनाते हैं. आम लोग ज़िम्मेदार हो जाते हैं. दुःखद सब ज्यादा हो रहा है मरने वालों की संख्या मोदीराज में ही क्यों

राज्यसभा में उठा शराब की बोतल पर महात्मा गांधी का फोटो छापे जाने का मामलाइजराइल में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का चित्र वहां के एक शराब के ब्रांड बोतल में छापने का मामला मंगलवार को राज्यसभा

कहानियों
दिन की शीर्ष समाचार कहानियां

आज संसद में पेश होगा आर्थिक सर्वे, देश की अर्थव्यवस्था की सेहत का चलेगा पताआर्थिक सर्वे रिपोर्ट को बजट से ठीक एक दिन पहले संसद में पेश किया जाता है. अक्सर देश का आर्थिक सर्वे आम बजट के लिए नीति दिशा-निर्देश के रूप में कार्य करता है. इस इलेक्शन से पहले क्या नही मालूम थी वित्त मंत्रालय को भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में ।

अब फिर क्यों अमरीका से नाराज़ हुआ उत्तर कोरियाडोनल्ड ट्रंप और किम जोंग-उन की मुलाकात के तीन दिन बाद ही एक बार फिर दोनों देशों के बीच रिश्ते तल्ख़ होने के आसार हैं. एक तरफ चींटी के आकार का देश अमेरिका को चुनौती दे रहा है और दूसरी तरफ अमेरिका की धमकी पर भारत ईरान से तेल आयात बंद कर चुका है ‌ भारत में शेर का राज है। उत्तरी कोरिया में राजकुमार का राज है।

कहानियों
दिन की शीर्ष समाचार कहानियां

निर्मला सीतारमण कल पेश करेंगी अपना पहला बजट, इन क्षेत्रों को गति देने पर होगा जोरवैश्विक स्तर पर नरमी और मानसून की चिंता के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण राजग सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट शुक्रवार को पेश करेंगी. बजट में राजकोषीय घाटे को काबू में रखने के साथ आर्थिक वृद्धि तथा रोजगार सृजन को गति देने पर सरकार का जोर रह सकता है. राजकोषीय स्थिति मजबूत करने के लिये कर दायरा बढ़ाने और अनुपालन बेहतर करने के इरादे से 10 करोड़ रुपये से ज्यादा कमाने वालों पर 40 प्रतिशत की एक नई दर से कर लगाया जा सकता है. नौकरीपेशा लोगों के लिये महत्वपूर्ण आयकर के मोर्चे पर कर स्लैब में बदलाव की उम्मीद की जा रही है. 2019-20 के अंतरिम बजट में 5 लाख रुपये तक की आय पर कर छूट देने की घोषणा की गयी थी. फिलहाल 2.5 लाख रुपये से 5 लाख रुपये की आय पर 5 प्रतिशत, 5 लाख रुपये से 10 लाख रुपये तक की आय पर 20 प्रतिशत और 10 लाख रुपये से ऊपर आय पर कर की दर 30 प्रतिशत है. शुभकामनाएं ये बजट संविधान के अनुच्छेद 14;15 की धज्जियां उड़ाने वाला होगा? Khadao mantri tu rafale ghotle ki kimat wasul rahi hai

पीएम मोदी ने की चिराग पासवान की तारीफ, कहा- युवा सांसद उनसे सीखेंबीजेपी की संसदीय दल की बैठक में मंगलवार को पीएम मोदी ने चिराग पासवान की तारीफ की. संसद सत्र के दौरान चिराग की सदन में लगातार उपस्थिति की पीएम मोदी ने खूब सराहना की. उन्होंने पार्टी के युवा सांसदों को भी यही आदत अपनाने की सलाह दी. ichiragpaswan narendramodi Ki Kaise Bihar Ko Sankat k samay wo Goa me Party kar rahe the ichiragpaswan narendramodi napotism ichiragpaswan narendramodi Next CM bihar ka bana na chahiye ichiragpaswan ko !!

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

05 जुलाई 2019, शुक्रवार समाचार

पिछली खबर

बजट 2019: ऑटो सेक्टर में नई भर्तियां रुकीं, छंटनी की आशंका, ऑटो इंडस्ट्री की है ये आस

अगली खबर

कल का बजट आज: रेल बजट के 10 लक्ष्य और बजट से उम्मीदें
बजट 2019: ऑटो सेक्टर में नई भर्तियां रुकीं, छंटनी की आशंका, ऑटो इंडस्ट्री की है ये आस कल का बजट आज: रेल बजट के 10 लक्ष्य और बजट से उम्मीदें