Toolkitcase, Disharavi, Delhipolice, Tractorparadeviolence, टूलकिटमामला, दिशारवि, दिल्लीपुलिस, ट्रैक्टरपरेडहिंसा

Toolkitcase, Disharavi

टूलकिट केस: दिशा रवि के ख़िलाफ़ जांच में कुछ मिला नहीं, पुलिस फाइल कर सकती है क्लोज़र रिपोर्ट

टूलकिट केस: दिशा रवि के ख़िलाफ़ जांच में कुछ मिला नहीं, पुलिस फाइल कर सकती है क्लोज़र रिपोर्ट #ToolkitCase #DishaRavi #DelhiPolice #TractorParadeViolence #टूलकिटमामला #दिशारवि #दिल्लीपुलिस #ट्रैक्टरपरेडहिंसा

26-10-2021 19:30:00

टूलकिट केस: दिशा रवि के ख़िलाफ़ जांच में कुछ मिला नहीं, पुलिस फाइल कर सकती है क्लोज़र रिपोर्ट ToolkitCase DishaRavi DelhiPolice TractorParadeViolence टूलकिटमामला दिशारवि दिल्लीपुलिस ट्रैक्टरपरेडहिंसा

दिल्ली पुलिस ने युवा पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि को किसानों के आंदोलन का समर्थन करने वाले टूलकिट को साझा करने में कथित भूमिका के चलते 14 फरवरी को बेंगलुरु से किया था. उन पर 26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के संबंध में राजद्रोह तथा आपराधिक साज़िश की धाराएं लगाई गई थीं.

नई दिल्ली:किसानों के प्रदर्शन संबंधी कथित टूलकिट साझा करने के मामले में गिरफ्तार युवा पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि के केस में दिल्ली पुलिस पिछले नौ महीने में कुछ भी ठोस निष्कर्ष नहीं निकाल पाई है, जिसके चलते इस केस में क्लोजर रिपोर्ट फाइल किए जाने की संभावना है.

CM चेहरे पर सिद्धू ने उड़ाया AAP का मजाक: कहा- अरविंद केजरीवाल को पंजाब में दूल्हा नहीं मिल रहा, बारात अकेले ही नाच रही Omicron वैरिएंट की बेंगलुरु में दस्तक से बढ़ी टेंशन, कई राज्यों ने बढ़ाई सख्ती पुतिन का भारत दौरा: विदेश मंत्रालय ने कहा- 6 दिसंबर को मोदी से मुलाकात करेंगे रूस के राष्ट्रपति, 2+2 समिट भी होगी

इंडियन एक्सप्रेसने सूत्रों के हवाले से ये जानकारी दी है.दिल्ली पुलिस ने दिशा रवि को जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग द्वारा साझा किए गए किसानों के आंदोलन का समर्थन करने वाले टूलकिट को साझा करने में कथित भूमिका के चलते 14 फरवरी को बेंगलुरु सेगिरफ्तारकिया था.

उन पर 26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के संबंध में राजद्रोह तथा आपराधिक साजिश की धाराएं लगाई गई थीं.पुलिस ने दावा किया था कि 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड के दौरान राजधानी दिल्ली में हुई हिंसा समेत किसान आंदोलन का पूरा घटनाक्रम ट्विटर पर साझा किए गए टूलकिट में बताई गई कथित योजना से मिलता-जुलता है. headtopics.com

इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी आरोप लगाया था कि इस ‘टूलकिट’ में भारत में अस्थिरता फैलाने को लेकर साजिश की योजना थी. पुलिस ने दावा किया था कि इसका संबंध ‘पोएटिक जस्टिस फाउंडेशन’ (पीजेएफ) के खालिस्तान समर्थक कार्यकर्ताओं से है.मुंबई स्थित वकील निकिता जैकब और इंजीनियर शांतनु मुलुक पर भी इस टूलकिट में संशोधन करने का आरोप लगाया गया था.

एक अज्ञात वरिष्ठ अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि पुलिस को पता चला था कि दिशा रवि और जैकब ने 26 जनवरी से पहले कथित तौर पर पीजेएफ के एमओ धालीवाल, जो कि कनाडा में स्थित हैं, के साथ जूम कॉल पर बातचीत की थी.इसे लेकर साइबर सेल ने फरवरी महीने में यूएस वीडियो कम्यूनिकेशन प्लेटफॉर्म जूम को लिखा था, लेकिन अभी तक वहां से कोई जवाब नहीं आया है.

जांचकर्ताओं को ‘टूलकिट’ को लेकर जानकारी प्राप्त करने के लिए गूगल से भी संपर्क करने पर इसी समस्या का सामना करना पड़ा.इसके अलावा यूके ग्रुप एक्सटिंकशन रिबेलियन, जिसके लिए जैकब और शांतनु काम करते हैं, ने भी कोई जवाब नहीं दिया.रिपोर्ट के मुताबिक, जमानत पर रिहा होने के बाद जांच अधिकारियों ने रवि से भी पूछताछ की थी, लेकिन 26 जनवरी की हिंसा को लेकर ‘आपराधिक साजिश’ के संदर्भ में उन्हें कुछ नहीं मिला.

इंडियन एक्सप्रेस ने जांच से जुड़े अज्ञात सूत्र का हवाला देते हुए लिखा है कि मौजूदा परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए पुलिस चार्जशीट फाइल करने की स्थिति में नहीं, इसलिए वे क्लोजर रिपोर्ट फाइल कर सकते हैं.बता दें कि गिरफ्तारी के दस दिन बाद दिशा रवि को जमानत मिली थी और इस बीच मुख्यधारा की मीडिया ने उन्हें और किसान आंदोलन को बदनाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी. headtopics.com

पूर्व अफ़ग़ान राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने तालिबान को बताया अपना भाई - BBC Hindi पंजाब में केजरीवाल की गारंटी: हर बच्चे को मुफ्त शिक्षा देंगे; सेना और पंजाब पुलिस के शहीद जवानों के परिवार को एक करोड़ रुपए सम्मान राशि प्रतिज्ञा रैली के लिए मुरादाबाद पहुंचीं प्रियंका: कहा- भाजपा सरकार में 3 लाख कारीगरों की रोजी-रोटी खत्म हुई

पर्यावरण कार्यकर्ता को जमानत देते हुए दिल्ली की अदालत नेकहाथा कि पुलिस द्वारा पेश किए गए साक्ष्य ‘अल्प एवं अधूरे हैं.अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा ने कहा था कि किसी भी लोकतांत्रिक राष्ट्र में नागरिक सरकार की अंतरात्मा के संरक्षक होते हैं. उन्हें केवल इसलिए जेल नहीं भेजा जा सकता, क्योंकि वे सरकार की नीतियों से असहमत हैं.

अदालत ने कहा कि रत्ती भर भी सबूत नहीं है, जिससे 26 जनवरी को हुई हिंसा में शामिल अपराधियों से पीएफजे या रवि के किसी संबंध का पता चलता हो.इसके अलावा, अदालत ने कहा कि प्रत्यक्ष तौर पर ऐसा कुछ भी नजर नहीं आता, जो इस बारे में संकेत दे कि दिशा रवि ने किसी अलगाववादी विचार का समर्थन किया है.

जेल से रिहा होने के बाद अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर जारीएक बयानमें दिशा ने सवाल किया था कि पृथ्वी पर जीने के बारे में सोचना कब अपराध बन गया?उन्होंने दावा किया कि गिरफ्तारी के दौरान उनकी स्वायत्तता का उल्लंघन किया गया था. उन्होंने कहा था, ‘मेरे कामों को दोषी ठहराया गया था- कानून की अदालत में नहीं, बल्कि टीआरपी चाहने वालों द्वारा.’

और पढो: द वायर हिंदी »

इतिहास में पहली बार ट्रेन से चला प्याज: 220 टन लाल प्याज किसान व्यापारियों ने सीधे असम भेजा, 1836km का सफर करेगा

राजस्थान के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब यहां होने वाली प्याज को ट्रेन से किसी दूसरे राज्य में भेजा गया है। पहली बार अलवर की प्याज रेल से असम भेजा गया है। पूरे प्रदेश में इससे पहले कभी भी प्याज को मालगाड़ी से ट्रांसपोर्ट नहीं किया गया। किसान रेल के जरिए किसानों की उपज को भेजने की उत्तर पश्चिम रेलवे ने यह शुरुआत की है। | उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्र में किसान रेल की अलवर से शुरूआत, 220 टन प्याज अलवर से असम भेजी

rathour_ranjeet ये सरकार अपने ही देश के युवाओं को जांच के नाम पर प्रताड़ित कर रही है कभी टूलकिट के नाम पर कभी ड्रग्स के नामपर। क्या अब खबरिया चैनल माफी मांगेंगे या स्पष्टीकरण देंगे

सुप्रीम कोर्ट ने हत्या के एक मामले में 'गैरजरूरी' अपील के लिए उत्तराखंड सरकार को फटकाराशीर्ष अदालत ने उत्तराखंड सरकार द्वारा दाखिल याचिका को खारिज करते हुए चेतावनी दी कि गैरजरूरी याचिका दायर करने की कोशिश पर जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ हो सकती है कार्रवाई। सर्वोच्च न्यायालय उत्तराखंड द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई कर रहा था।

यूपी में आज भी बारिश के संकेत, दिल्ली में पारा गिरने से ठंड बढ़ने के आसारDelhi Cold Weather : यूपी के पहासू, डिबाई, नरौरा, गभाना, अतरौली, अलीगढ़ में भी अगले कुछ घंटों में बारिश का अनुमान मौसम विभाग ने जताया था.  वहीं दिल्ली में बरसात के कारण सर्दी ने दस्तक दे दी है. अभी तो यूपी में मौसम बिल्कुल साफ दिखाई दे रहा है बारीस का कोई आसार नहीं दिख रहा है कड़वा चौथ वाले दिन ऐसा 70 साल में पहली बार हुआ है हर दुकानदार छोटे मोटे व्यापारी का नुकसान Acha humko toh pata he nahi tha

दो दिन के अंदर इन दो IPO में निवेश का मौका, जानें- कंपनियों के बारे मेंइस महीने के आखिरी हफ्ते में दो आईपीओ ओपन होने जा रहे हैं. पहला आईपीओ FSN ई-कॉमर्स वेंचर्स लिमिटेड के मालिकाना हक वाली कंपनी Nykaa का 28 अक्टूबर को खुलेगा, जबकि 29 अक्टूबर फिनो पेमेंट बैंक (Fino Payment Bank) का IPO ओपन होगा.

बांग्लादेश में मंदिरों पर हमले के बाद डर के साए में जीते हिंदू - BBC News हिंदीबांग्लादेश में सिलसिलेवार तरीक़े से अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के ख़िलाफ़ शुरू हुई हिंसा अब थम गई है लेकिन वहां पर हिंदू अभी भी डर के साए में जी रहे हैं. Why it is happening in Bangladesh and Pakistan, is there no human rights and other laws made for this. Only Hindustan have the regressed law to punish Hindus. Why not the same ther kaum. What about tripura Anti-Muslim violence across Tripura, a northeast Indian state following Bangladesh violence Series of violent attacks by large Hindutva groups continue to target different mosques, houses and shops of Muslims in Tripura. Here is what we know so far

साजिद नाडियाडवाला को Chhichhore के लिए मिला 'नेशनल अवार्ड', सुशांत सिंह राजपूत को किया डेडिकेटफिल्म इंडस्ट्री से भी सुशांत के करीबी उन्हें मिस करते हैं. एक्टर इंडस्ट्री के राइजिंग सुपरस्टार थे और उनका इस तरह दुनिया से रुखसत हो जाना सभी के लिए शॉकिंग था. एक्टर के अंतिम समय की कुछ शानदार फिल्मों में से एक थी छिछोरे. इस फिल्म को नेशनल अवॉर्ड मिला है. इस मौके पर फिल्म के निर्देशक और निर्माता ने सुशांत को याद किया है और उन्हें ट्रिब्यूट दिया है.

एनआईए की कार्रवाई: आईएसआईएस साजिश मामले में बंगलूरू के एक शख्स को गिरफ्तार कियाराष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने शनिवार को आईएसआईएस/आईएसआईएल/दाएश मामले की साजिश में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था।