Oxygenshortage, Coronavirus, Re, Oxygen, Covid Second Wave, Deaths Due To Lack Of Oxygen, Lack Of Oxygen, Health Ministry, Mansukh Mandviya, Rajya Sabha, Kc Venugopal, Congress, Oxygen, Coronavirus, Secon Wave, Covid, Covid 19, Jharkhand, Banna Gupta, Jharkhand Banna Gupta, Dr. Harsh Vardhan स्वास्थ्य मंत्रालय, ऑक्सीजन, ऑक्सीजन की कमी से मौत

Oxygenshortage, Coronavirus

झारखंडः स्वास्थ्य मंत्री बोले- ऑक्सीजन की कमी से मौत के लिए PM मोदी जिम्मेदार, हर्षवर्धन को बलि का बकरा बनाया

ऑक्सीजन की कमी से मौत को लेकर राज्यसभा में दिए केंद्र सरकार के जवाब पर बवाल मचा हुआ है #OxygenShortage #Coronavirus #RE

23-07-2021 01:30:00

ऑक्सीजन की कमी से मौत को लेकर राज्यसभा में दिए केंद्र सरकार के जवाब पर बवाल मचा हुआ है OxygenShortage Coronavirus RE

देश में एक बार फिर ऑक्सीजन की कमी से मौत को लेकर बवाल मच गया है. इस बीच झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा है कि ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत के लिए प्रधानमंत्री मोदी जिम्मेदार हैं. उन्होंने डॉ. हर्षवर्धन को बलि का बकरा बनाया.

स्टोरी हाइलाइट्सझारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता का बयानऑक्सीजन की कमी से मौत के लिए पीएम जिम्मेदारऑक्सीजन की कमी से मौत (Deaths Due to lack of Oxygen) को लेकर राज्यसभा में दिए केंद्र सरकार के जवाब पर बवाल मचा हुआ है. इस बीच झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता (Banna Gupta) का एक बड़ा बयान सामने आया है. बन्ना गुप्ता ने कहा कि ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) जिम्मेदार हैं. उन्होंने डॉ. हर्षवर्धन (Dr. Harsh Vardhan) को बलि का बकरा बनाया.

रवीश कुमार का प्राइम टाइम : क्या NEET अंग्रेजी माध्यम, अमीरों की परीक्षा है? वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर देश भर में बीजेपी की क्या है तैयारी - BBC News हिंदी पीएम मोदी का 71वां बर्थडे : देश में रिकॉर्ड टीकाकरण का लक्ष्य, सीएम योगी का ट्वीट- प्रभु राम आपको लंबी उम्र दें

बन्ना गुप्ता ने दावा किया कि ग्रामीण इलाकों के लिए उन्हें ऑक्सीजन नहीं दी गई थी. उन्होंने कहा,"कोरोना से हुई मौतों का हम ऑडिट करवा रहे हैं. ग्रामीण इलाकों में ऑक्सीजन नहीं दी गई थी. देश में ज्यादातर मौतें ऑक्सीजन की कमी के कारण ही हुई है."उन्होंने आगे कहा,"इन सबके लिए प्रधानमंत्री मोदी ही एकमात्र जिम्मेदार हैं, लेकिन डॉ. हर्षवर्धन को बलि का बकरा बनाया गया. जनता इसे स्वीकार नहीं करेगी."

ये भी पढ़ें--ऑक्सीजन संकट: राज्यों की रिपोर्ट-केंद्र का आंकड़ा, सियासी घमासान से अलग है जमीनी हकीकतऑक्सीजन की कमी से मौत पर क्यों हो रहा बवाल?दरअसल, बीते दिनों राज्यसभा में दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से मारे गए लोगों के बारे में जानकारी मांगी गई थी. इसका जवाब देते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने कहा था,"कोरोना से होने वाली मौतों की जानकारी नियमित आधार पर राज्य और केंद्र शासित प्रदेश केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को देते हैं. लेकिन किसी भी राज्य या केंद्र शासित प्रदेश ने ऑक्सीजन की कमी से होने वाली मौत को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय को जानकारी नहीं दी है." headtopics.com

केंद्र के इस बयान के बाद से ही देश में ऑक्सीजन की कमी से मौत को लेकर बवाल मच गया है. विपक्षी पार्टियां केंद्र पर झूठ बोलने का आरोप लगा रही हैं, तो वहीं केंद्र का कहना है कि उसे राज्यों की ओर से ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों की जानकारी नहीं दी गई है.Live TV

और पढो: आज तक »

कोरोना से बच्चों पर असर की ग्राउंड रिपोर्ट: स्मार्टफोन न होने से गांव का हर तीसरा बच्चा पढ़ाई से महरूम, शहरी बच्चों में मेंटल हेल्थ बड़ी समस्या

कोविड के चलते पिछले 18 महीनों में स्कूली बच्चों की पढ़ाई बुरी तरह प्रभावित हुई है। शहरी इलाकों में तो कुछ हद तक डिजिटल लर्निंग की सुविधाएं ज्यादा रहीं, लेकिन गांवों में खास करके सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे सिर्फ कागजों पर ही 2 क्लास आगे बढ़े हैं, असल में वे कुछ भी नया नहीं सीख पाए हैं। डिजिटल डिवाइड की इस हकीकत को समझने के लिए दैनिक भास्कर शहरी और ग्रामीण इलाकों में ग्राउंड जीरो पर पहुंचा।... | Uttar Pradesh School Reopening Ground Report ऑनलाइन क्लास के लिए रोजाना लिंक भेजे जाते हैं जिन पर सवेर रोजाना क्लास कर रहे हैं। हर तरह की सुख सुविधाओं से लैस हैं, कंप्यूटर, मोबाइल, आइपैड, फास्ट स्पीड इंटरनेट।

मोदी मंत्री मंडल में सारी फैसला पी एम ओ कार्यालय करता है Now modi ki Bjp sure go down with in few month if Mr. L. Pant from danik bhaskar fight n true report kept modi n yogi kept thinking twice meeting going on every day in up n Delhi not like dalalli godi media पहले तो बन्ना गुप्ता गलती से जीता उसके बाद अनाप शनाप बकता है। क्या ऐसे लोगो की बात करना। आज़तक वाले प्रोपगंडा कब से करने लगे इन साडे हुए लोगो का। न रघुबर होता न ये जिंदगी में कभी विधानसभा पहुचते।गलती भाजपा की है।

ऑक्सीजन की कमी से मौत का सच: दूसरी लहर के दौरान भास्कर डिजिटल पर आईं ऐसी 5 खबरें, जो खुद ऑक्सीजन की कमी से मौत की गवाही दे रहीं हैंकेंद्र सरकार ने मंगलवार को राज्यसभा में बताया कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान देश में किसी की भी मौत की वजह ऑक्सीजन की कमी नहीं थी। स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की रिपोर्ट के मुताबिक ऑक्सीजन की कमी से देश में किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई। | Oxygen Shortage, Oxygen Shortage In Patna, Oxygen Shortage, Patna News, Bihar news, COVID-19, COVID-19, Pulse Oximeter, Analyzer, Oxygen ation and Ventilation, Coronavirus Information, COVID-19 Cases, Corona Virus Cases in Bhopal, Coronavirus Update in Madhya Pradesh, coronavirus MP, Coronavirus Outbreak In MP, Health Minister Mansukh Mandaviya क्या राज्य सरकार ने लिख कर दिया कि ऑक्सिजन न होने की वजह से हुई? The centre ONLY collates data submitted by the States!!!!! duffers!! तो दिल्ली ने रिपोर्ट क्यों नहीं की?

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी में किसी की मौत की ख़बर नहींः केंद्र सरकारराज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में स्वास्थ्य राज्यमंत्री भारती प्रवीण पवार ने बताया कि स्वास्थ्य राज्य का विषय है और राज्य एवं केंद्रशासित प्रदेश नियमित तौर पर कोरोना के मामले और मौत की संख्या के बारे में केंद्र सरकार को सूचित करते हैं, लेकिन राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों ने ऐसी कोई सूचना नहीं दी. विकाऊ मीडिया व पत्रकारिता देश विरोधी जनविरोधी खबरे दिखा देश को बदनाम करने का अपना अजेंडा चला रही हे व ये इसके बदले देशविरोध विपछ व विदेशी फ़नडींग ले देश मे पेनीक फेला,भारत सरकार के आत्मनिर्भर भारत मे रोड़ा बने हुये हे,इनके नकेल लागि जाये ,जो देशहित जनहित मे होगा ......

'अभी हमारे पास ऑक्सीजन की कमी से मौतों के आंकड़े नहीं', बोले दिल्ली के डिप्टी CMभाजपा प्रवक्ता बोले- 'किसी ने भी नहीं कहा कि उनके राज्य में ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत हुई है। इसलिए इसके आंकड़े नहीं हैं। क्या ये डेटा केंद्र ने बनाया? नहीं, राज्यों ने नहीं भेजा।

नाकामी: देश के पास नहीं है ऑक्सीजन की कमी से मौतों का पता लगाने वाली प्रणाली ऑक्सीजन या फिर स्वास्थ्य सेवाओं की कमी से एक भी मौत न होने के बाद हर कोई अलग अलग तर्क दे रहा है जबकि स्वास्थ्य विशेषज्ञ

ऑक्सीजन की कमी से मौत नहीं: कोर्ट पहुंचा मामला, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया के खिलाफ याचिका ऑक्सीजन की कमी से मौत नहीं: कोर्ट पहुंचा मामला, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया के खिलाफ याचिका MansukhMandaviya Oxygen Crisis Oxygen Deaths Bihar Amar Ujala सोशल मीडिया के मेरे फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पेज को लाइक और फॉलो करे फेसबुक - इंस्टाग्राम - ट्विटर - व्हाट्सएप्प - समीर श्रीवास्तव Durbhag purda h ga jab Ka vikas h मन्त्री बने बेठे है , देश मे क्या हो रहा है , किस की कमी से हो रहा है ये कुछ पता नही , O2 के कमी से ना गई तो क्या Co2 की बजह से गई जाने । एसे ही मंत्रियो की बजह से देश त्राहि माम कर चुका है ।

केंद्र के 'ऑक्सीजन की कमी' वाले बयान पर सियासत गर्म - BBC News हिंदी ऑक्सीजन की कमी पर केंद्र के बयान को लेकर राजनीति तेज़ हो गई है. कई विपक्षी नेताओं ने इसकी निंदा की है. पढ़ें आज की सुर्खियां. केन्द्र सरकार वही केह रही है जो राज्य सरकार के रिपोर्ट मे है. RSS and Modi are terrorists Constitution should investigate the PM झूंटों की सरकार