ज्ञान विज्ञान: ब्रह्मांड की गहराई को देखेगी अब एक नई आंख

ज्ञान विज्ञान: ब्रह्मांड की गहराई को देखेगी अब एक नई आंख, जल्‍द खुलने वाले हैं कई राज

02-12-2021 04:15:00

ज्ञान विज्ञान: ब्रह्मांड की गहराई को देखेगी अब एक नई आंख, जल्‍द खुलने वाले हैं कई राज

वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि नए जेम्स वेब टेलिस्कोप से ब्रह्मांड में और अंदर तक झांका जा सकेगा। 22 दिसंबर को इसे अंतरिक्ष में भेजने का कार्यक्रम है।

मुकुल व्यासअमेरिकी खगोल वैज्ञानिक एडविन हबल ने सबसे पहले यह सिद्ध किया था कि हमारी मिल्की-वे आकाशगंगा के आगे दिखने वाले अनेक ऑब्जेक्ट दरअसल दूसरी आकाशगंगाओं की मौजूदगी दर्शाते हैं। तब से खगोल वैज्ञानिक यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि सबसे पुरानी आकाशगंगाएं कितनी पुरानी हैं, उनका गठन कैसे हुआ और बाद में उनमें क्या बदलाव हुए?

नेस्ले ने भगवान जगन्नाथ की तस्वीर वाले किटकैट वापस लिए, जताया अफ़सोस - BBC Hindi

हबल के नाम से मशहूर हो चुके नासा के टेलिस्कोप ने ब्रह्मांड के बारे में बहुत सी नई जानकारियां हमें दी हैं। लेकिन उसके बहुत से रहस्य अनसुलझे हैं, बहुत से सवालों के जवाब खोजे जाने बाकी हैं। खगोल वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि नए जेम्स वेब टेलिस्कोप से ब्रह्मांड में ज्यादा गहराई तक झांका जा सकेगा। यह टेलिस्कोप 22 दिसंबर को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा। ब्रह्मांड में दूर तक झांकने के लिए इस टेलिस्कोप में बहुत बड़ा दर्पण लगाया गया है। यह दर्पण करीब 6 मीटर चौड़ा है। इस पर एक शेड लगा हुआ है जिसका आकार टेनिस कोर्ट के बराबर है। यह शेड सूरज के विकिरण को अवरुद्ध करेगा।

इसके अलावा टेलिस्कोप में चार पृथक कैमरे और सेंसर सिस्टम हैं। यह टेलिस्कोप एक सैटलाइट डिश की तरह काम करता है। किसी तारे या आकाशगंगा से आने वाली रोशनी टेलिस्कोप के मुख में प्रवेश करेगी और प्राथमिक दर्पण से टकराकर चार सेंसरों तक जाएगी। एक सेंसर प्रकाश को विभिन्न रंगों में विभक्त करेगा और हर एक रंग की ताकत को नापेगा। एक अन्य सेंसर प्रकाश की वेवलेंथ को नापेगा। जेम्स वेब टेलिस्कोप से वैज्ञानिक यह पता लगाने की कोशिश करेंगे कि हमारी मिल्की-वे आकाशगंगा में तारों का गठन किस प्रकार होता है। साथ ही इससे सौर मंडल के बाहर दूसरे ग्रहों के वायुमंडलों का भी अध्ययन किया जा सकेगा। headtopics.com

₹75,000 करोड़ के टेलिस्कोप से दिखेगा 65 प्रकाशवर्ष दूर स्थित ग्रहइस टेलिस्कोप का एक प्रमुख लक्ष्य पर्यवेक्षण के लायक ब्रह्मांड के छोर के पास स्थित आकाशगंगाओं का अध्ययन करना है। इन आकाशगंगाओं के प्रकाश को ब्रह्मांड पार कर पृथ्वी तक पहुंचने में अरबों वर्ष लगते हैं। टेलिस्कोप से जुड़े एक वैज्ञानिक के अनुसार टेलिस्कोप द्वारा ली जाने वाली तस्वीरों में उन प्राथमिक आकाशगंगाओं को देखा जा सकेगा, जिनका गठन बिग बैंग घटना के 30 करोड़ वर्ष बाद हुआ था। बिग बैंग थियरी के मुताबिक ब्रह्मांडीय महाविस्फोट से ब्रह्मांड की शुरुआत हुई थी। बिग बैंग के बाद बने तारों के पहले जमघट को खोजना बहुत ही जटिल काम है क्योंकि ये प्राथमिक आकाशगंगाए बहुत दूर हैं और मंद दिखाई देती हैं।

भारत-चीन सीमा विवाद: अरुणाचल प्रदेश से 'अपहृत किशोर' का पता लगाने में जुटी भारतीय सेना - BBC News हिंदी

वेब टेलिस्कोप के दर्पण में 16 भाग हैं और वह हबल टेलिस्कोप के दर्पण के मुकाबले 6 गुणा ज्यादा प्रकाश एकत्र कर सकता है। वेब टेलिस्कोप को पर्यवेक्षण के दौरान एक बड़ी जटिल समस्या का सामना करना पड़ेगा। चूंकि ब्रह्मांड का विस्तार हो रहा है, वे आकाशगंगाएं भी पृथ्वी से दूर जा रही हैं जिनका वैज्ञानिकों द्वारा अध्ययन किया जाएगा। दूर जाने वाली आकाशगंगाओं के प्रकाश की वेवलेंथ दृश्य प्रकाश से इंफ्रारेड लाइट में तब्दील हो जाएगी। इंफ्रारेड लाइट एक विद्युत- चुंबकीय रेडिएशन है जिसकी वेवलेंथ दृश्य प्रकाश से बड़ी होती है। वेब टेलिस्कोप इंफ्रारेड प्रकाश को डिटेक्ट कर सकता है लेकिन मंद आकाशगंगाओं को इंफ्रारेड प्रकाश में देखने के लिए टेलिस्कोप का अत्यंत ठंडा होना जरूरी है, नहीं तो वह अपना ही इंफ्रारेड रेडिएशन देखने लगेगा। इसी वजह से टेलिस्कोप के कैमरों और सेंसरों को माइनस 224 सेल्सियस तापमान पर रखने के लिए उसमें एक विशेष हीट शील्ड बनाई गई है।

जेम्स वेब टेलिस्कोप आधुनिक इंजीनियरिंग का उत्कृष्ट नमूना है। इसका विकास नासा, यूरोपियन एजेंसी और कैनेडियन स्पेस एजेंसी ने मिल कर किया है। इस प्रॉजेक्ट पर काम 1996 में शुरू हुआ था। इसे पहले 2005 में अंतरिक्ष में स्थापित किया जाना था, लेकिन प्रक्षेपण की तारीख आगे खिसकती रही। इस दौरान टेलिस्कोप के डिजाइन में सुधार होते रहे। 2016 में टेलिस्कोप के निर्माण का कार्य पूरा हुआ। इसके पश्चात इसके विस्तृत परीक्षण का दौर शुरू हुआ। 2018 में परीक्षण के दौरान टेलिस्कोप की शील्ड फट जाने के बाद नासा ने इसका प्रक्षेपण स्थगित कर दिया। मार्च 2020 में कोविड महामारी के कारण टेलिस्कोप के एकीकरण और परीक्षण के काम को स्थगित करना पड़ा। टेलिस्कोप की टीम ने अब यान की रवानगी से पहले हर उपकरण को अंतरिक्ष की विषम परिस्थितियों में आजमा कर देख लिया है।

डिसक्लेमर : ऊपर व्यक्त विचार लेखक के अपने हैंलेखकNBT एडिट पेजनवभारत टाइम्स में छपने वाले लेख, कॉलम, लेखकों के दृष्टिकोण, विचार आपको इस 'नज़रिया' ब्लॉग में पढ़ने के लिए मिलेंगे।

और पढो: NBT Hindi News »

Cricket Aajtak LIVE| विराट कोहली के बाद टेस्ट टीम का कप्तान कौन ? #ViratKohli #NikhilNaz #RahulRawat #VikrantGupta

काशी विश्वनाथ धाम परियोजना: शुरुआत से जुड़े हैं पीएम मोदी, 13 दिसंबर को करेंगे शुभारंभPM Narendra Modi Unveil Kashi Vishwanath Dham Project: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी में काशी विश्वनाथ धाम प्रोजेक्ट का 13 दिसंबर को उद्घाटन करेंगे. 30 हजार स्क्वेयर फीट में फैले इस विशाल प्रोजेक्ट को श्रद्धालुओं की सुविधाओं में बढ़ोतरी के उद्देश्य से तैयार किया गया है. इसमें ललिता घाट से काशी विश्वनाथ मंदिर तक यात्री सुविधा केंद्र समेत कई सुविधाओं की व्यवस्था की गई है. इस कार्यक्रम में देशभर के विख्यात संतों, ज्योतिर्लिंग के महंत, पीठाधीश्वर और महामंडलेश्वर को आमंत्रित किया गया है. AmanKayamHai_ जितने में बनेगा उसके आधे में बेच देंगे

टेनिस: चीन में नहीं होगा कोई टूर्नामेंट, पेंग शुआई की सुरक्षा को लेकर लिया गया फैसलाटेनिस: चीन में नहीं होगा कोई टूर्नामेंट, पेंग शुआई की सुरक्षा को लेकर लिया गया फैसला WomenTennisAssociation China TennisTournament PengShuai

देवास में अनोखी बकरी: दोपहर में एक आंख की बकरी ने लिया जन्म, देखने के लिए लगा हुजूम, शाम को दम तोड़ादेवास जिले के मोहसिन पुरा क्षेत्र में एक आंख वाली बकरी ने जन्म लिया। इस बकरी का जन्म अराफात खान के घर हुआ है। मामले की खबर फैलते ही अराफात के घर उसे देखने के लिए हुजूम लग गया। लोग इसे कुदरत का करिश्मा मान रहे थे। मंगलवार को इस अजूबा बकरी का जन्म हुआ था। हालांकि शाम काे उसकी मौत हो गई। | मंगलवार दोपहर एक आंख की बकरी ने लिया जन्म, बकरी देखने लगा हुजूम, शाम को तोड़ा दम Kudrat ka Karisma nahi BSDK...yea teri ya kisi aur ki kartut hai...wese jab tweet padha tab he pata lag gaya tha kiski bakri hai 😂😂😂 Unbelive😂👍 Kudarat ka karishama.

कथक गुरु बिरजू महाराज बोले : आधुनिक दौर में भी शास्त्रीय नृत्य को आगे ले जाने वालों की कमी नहींकथक गुरु बिरजू महाराज बोले : आधुनिक दौर में भी शास्त्रीय नृत्य को आगे ले जाने वालों की कमी नहीं BirjuMaharaj KathakDance

Kahani Uttar Pradesh ki: ढांचा विध्वंस के बाद जब किरण बेदी से कोर्ट ने कहा- कल्याण सिंह को जेल में डालिएकल्याण सिंह को जेल भेजे जाने का फैसला सुप्रीम कोर्ट ने दिया था। अदालत ने यह माना कि अपने हलफनामे के खिलाफ कल्याण सिंह ने विवादित ढांचे की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम नहीं किए।

4 दिसंबर को लगेगा साल का अंतिम सूर्य ग्रहण, ज्योतिष के अनुसार क्या करना चाहिए और क्या नहींSurya Grahan 2021: साल का अंतिम सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर को लगने जा रहा है। भारत में सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) नहीं दिखाई देगा, जिस वजह से सूतक काल मान्य नहीं ... Kyu ap koi jyotish hai jo bta rahe hai