जेएनयू छात्रसंघ चुनाव के शुरुआती रुझान में लेफ्ट फ्रंट आगे, घोषित नहीं होंगे नतीजे

उपाध्यक्ष पद की बात करें तो अभी तक लेफ्ट फ्रंट के साकेत मून को 3028 वोट मिले हैं. इसके बाद एबीवीपी की श्रुति अग्निहोत्री को 1165 वोट हासिल हुए हैं

8.9.2019

उपाध्यक्ष पद की बात करें तो अभी तक लेफ्ट फ्रंट के साकेत मून को 3028 वोट मिले हैं. इसके बाद एबीवीपी की श्रुति अग्निहोत्री को 1165 वोट हासिल हुए हैं

लेफ्ट फ्रंट के आइशे घोष 2069 वोट पाकर आगे चल रहे हैं. बापसा के जितेंद्र सुना को अभी तक 985 वोट मिले हैं. एबीवीपी उम्मीदवार मनीष जांगिड़ को 981 वोट हासिल हुए हैं. इसके बाद एनएसयूआई के प्रशांत कुमार को 665, सीआरजेडी की प्रियंका भारती को 137 और निर्दलीय राघवेंद्र मिश्रा को 47 वोट मिले हैं.

उपाध्यक्ष पद की बात करें तो अभी तक लेफ्ट फ्रंट के साकेत मून को 3028 वोट मिले हैं. इसके बाद एबीवीपी की श्रुति अग्निहोत्री को 1165 वोट हासिल हुए हैं. CRJD के ऋषि राज यादव को 216 वोट मिले हैं. इसके अलावा छात्रसंघ के महसचिव पद के लिए अभी तक लेफ्ट फ्रंट के सतीश चंद्र यादव 2228 वोट पाकर आगे हैं.

इसके बाद एबीवीपी के सबरीश पीए को 1182, बापसा के वसीम आरएस को 1070 वोट मिले हैं. संयुक्त सचिव पद पर लेफ्ट फ्रंट के मोहम्मद दानिश 2938 वोट हासिल कर अभी तक सबसे आगे हैं. इसके बाद एबीवीपी के सुमंत्र कुमार साहू को 1310 वोट मिले हैं और वह दूसरे नंबर पर हैं.

दिल्ली हाई कोर्ट ने जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के छात्र संघ चुनाव के नतीजे जारी करने पर रोक लगा दी है. साथ ही मामले की सुनवाई 17 सितंबर तक के लिए टाल दी है. दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि इस मामले में अगले आदेश तक जेएनयू छात्र संघ के चुनाव जारी न किए जाएं.

और पढो: आज तक

Matalb deshdrohi jyada h JNU से अच्छा तो हमारा गावं का सरकारी स्कुल अच्छा हें जहाँ से पढाई करके देशभक्त सैनिक बनते है राष्ट्रहित सर्वोपरि रखते हें ।ओर Jnu से गद्दारों की टुकड़े गैंग What were Indian Muslims before PAGMEMBER SAHIB CAME? DR.C.B. BAGGA M.D. Jnu should be close for ever

कश्मीर के कई हिस्सों में कर्फ्यू जैसी पाबंदियां, मोहर्रम के जुलूस को रोकने के लिएमोहर्रम का जुलूस निकालने से रोकने के लिए शहर सहित कश्मीर के कई हिस्सों में रविवार को कर्फ्यू जैसी पाबंदियां लगाई गई हैं. | nation News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

अगर रात को करते हैं इन चीजों का सेवन तो सेहत को होगा गंभीर नुकसानहम आपको बता रहे हैं ऐसी चीजों के बारे में जिनका सेवन यदि आप रात के समय करते हैं तो सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। जहां तक संभव हो इन 8 चीजों को रात के समय खाने से बचें -

Ajit Doval | अनुच्छेद 370 को हटाने के समर्थन में हैं अधिकांश कश्मीरी : डोभालनई दिल्ली। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने शनिवार को कहा कि वह पूरी तरह आश्वस्त हैं कि अधिकांश कश्मीरी अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के समर्थन में हैं और उन्होंने उन्हें आश्वासन दिया कि कश्मीर में पाबंदियों का मकसद पाकिस्तान को आतंकवाद के जरिए उसकी गलत मंशाओं को अंजाम देने से रोकना है।

दुनिया के अनेक देश भारत के स्वच्छता अभियान से सीखना चाहते हैं: राष्ट्रपति कोविंदकोविंद ने कहा हर किसी ने अपनी जिम्मेदारी के साथ काम किया है। ‘‘ मुझे बताया गया है कि 2017 और 2018 में आयोजित स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रमों में 10 करोड़ से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया। 5 लाख से अधिक स्वच्छाग्रहियों ने दिन रात मेहनत करके स्वच्छता की भावना का संचार किया । ’’

अयोध्या में श्रीराम के अस्तित्व पर सवाल उठाने वाले राक्षस के वशंज हैं: वसीम रिजवीराम मंदिर (Ram temple) के पक्ष में अपने बयानों के लिए चर्चित रहने वाले उत्तर प्रदेश शिया संट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी (Wasim rizvi) ने एक बार फिर बाबरी मस्जिद (Babri Masjid) के पक्षकारों पर निशाना साधा है. बिल्कुल सही कहा है रिजवी जी ने रक्षाष तो देखा नहीं पर इंसानियत के दुश्मन ज़रूर होंगे

केरल के जजों से कहो, आप भारत के ही हैं- सुप्रीम कोर्टसुप्रीम कोर्ट की केरल हाई कोर्ट के जजों पर तीखी टिप्पणी, एस. जयशंकर की पाकिस्तान पर प्रतिक्रिया और अन्य सुर्ख़ियां. BJP ke raj mai aur modi ke raj mai desh ki sari constitution body ko khatm karne ki muhim chal rahi hai suprem court bhi bhi sarkar ke nishane par hai wase to court sarkar ke isharo par hi kaam kar rahi hai par koi khiski khopdi ka aa gaya to sarkar ki pol na khol de Delhi k judg se kaho ap bik chuke ho per ap bhi hi hindustani ho .

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

08 सितम्बर 2019, रविवार समाचार

पिछली खबर

वीडियो देखने में रोज 70 मिनट बिताता है हर भारतीय, सेहत के लिए खतरनाक!

अगली खबर

जेडीयू ने बदला नारा- क्यूं करें विचार जब है ही नीतीश कुमार