Upı, Finance, Banking, Npcı Data, Upi, Payments, Hit, All Time High, 134 Bn Transactions, June

Upı, Finance

जून में UPI ट्रांजेक्शन रिकॉर्ड स्तर पर, 2.62 लाख करोड़ का लेनदेन

मई के मुकाबले जून का महीना यूपीआई भुगतान के लिए काफी अच्छा रहा #UPI #Finance #Banking

02-07-2020 14:25:00

मई के मुकाबले जून का महीना यूपीआई भुगतान के लिए काफी अच्छा रहा UPI Finance Banking

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) के आंकड़ों के अनुसार यूपीआई पर भुगतान जून में रिकॉर्ड 1.34 अरब लेनदेन तक पहुंच गया.

इस दौरान लगभग 2.62 लाख करोड़ रुपये के लेनदेन हुए. बता दें कि यूपीआई एक अंतर बैंक फंड ट्रांसफर की सुविधा है, जिसके जरिए स्मार्टफोन पर फोन नंबर और वर्चुअल आईडी की मदद से पेमेंट की जा सकती है.करीब 9 फीसदी का इजाफाहालांकि, मई के मुकाबले जून का महीना यूपीआई भुगतान के लिए काफी अच्छा रहा. आंकड़ों के मुताबिक मई 2020 के 1.23 अरब लेनदेन के मुकाबले जून में 8.94 प्रतिशत की वृद्धि हुई. इससे पहले अप्रैल में कोरोना वायरस महामारी के कारण लागू लॉकडाउन में यूपीआई लेनदेन घटकर 99.95 करोड़ रह गया था और इस दौरान कुल 1.51 लाख करोड़ रुपये के लेनदेन हुए.

हाथरस: ADG की सफाई, जबरन नहीं किया गया अंतिम संस्कार, खराब हो रहा था शव बाबरी मस्जिद विध्वंस केस का फ़ैसला: न्याय का भ्रम, और जांच पर सवाल - BBC News हिंदी हाथरस गैंगरेपः सुप्रीम कोर्ट में PIL दाखिल, केस यूपी से दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग

लॉकडाउन में ढील के बाद इजाफाअर्थव्यवस्था को खोलने के बाद ऑनलाइन भुगतानों में मई से धीरे-धीरे बढ़ोतरी हुई. एनपीसीआई के आंकड़ों के मुताबिक मई में यूपीआई लेनदेन की संख्या 1.23 अरब थी, इसके बाद जून में लेनदेन की संख्या अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई.साल 2008 में एनपीसीआई का गठन

आपको बता दें कि भारत में खुदरा भुगतान और निपटान प्रणालियों के संचालन को एक प्लेटफॉर्म पर लाने के लिए साल 2008 में नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) का गठन किया गया था. इसने देश में एक मजबूत भुगतान और निपटान बुनियादी ढांचा तैयार किया है.ये पढ़ें—लेनदेन हो या मोबाइल पोर्ट, 16 दिसंबर से बदलेंगे ये 2 नियम

और पढो: आज तक »

Hathras Gangrape Case: कितने हैवान, कितनी निर्भया और कब तक? देखें खबरदार

पहले गैंगरेप किया. फिर गर्दन तोड़ी और बोल न सके इसलिए जीभ काटी. एक बेटी पर इतने ज़ुल्म हुए कि उसकी सांस की डोर ही टूट गई. ये हाथरस का निर्भया कांड है, जिसने पूरे देश को दहलाया है और आक्रोशित किया है. इंसान की खाल में छुपे हैवान आखिर कब तक देश की बेटियों के साथ हैवानियत करते रहेंगे? करीब 8 साल पहले निर्भया कांड के बाद देश कुछ समय के लिए जागा था. ऐसा लगा था कि अब कभी दोबारा ऐसा नहीं होगा. लेकिन ये उम्मीद बार बार टूटती रही. इसलिए आज इस खबर और इस मुद्दे की गहराई में जाना ज़रूरी है. हाथरस की लड़ाई भी हमारी है. आजतक सबके लिए इंसाफ की लड़ाई लड़ता आया है और आज भी ऐसा ही होगा. हाथरस की निर्भया को इंसाफ दिलाना होगा. बात सुशांत सिंह राजपूत केस की भी होगी. साथ ही हम दिखाएंगे कि पराली के धुएं से कैसे छुटकारा मिलेगा. देखिए खबरदार.

जून में खूब बरसा पानी, मौसम विभाग ने जुलाई में भी अच्छी बारिश का जताया अनुमानभारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बुधवार को कहा कि जून महीने में अत्यधिक बारिश हुई और जुलाई में भी अच्छी वर्षा का Namaste Government is a public organization. Please don't outsource government works to private contractors. It's illegal. Don't give government money to private companies. Reduce total vehicles. Don't use cement. Don't take loans Be natural. Kanpur mein kab barsega....

जून में कोरोना का ज्यादा असर, जुलाई-अगस्त में और फैलने के आसारदेश में वायरस को आए छठा माह शुरू हो चुका है। सबसे ज्यादा असर जून में देखने को मिला। WHO MoHFW_INDIA AyushmanNHA DrHVoffice CoronavirusIndia COVID19updates CoronaVirusUpdates WHO MoHFW_INDIA AyushmanNHA DrHVoffice अभी विकासशील अवस्था में है। और दिन प्रति दिन बढ रहा है। WHO MoHFW_INDIA AyushmanNHA DrHVoffice क्यूँ देश के लोगों को दिन रात डराते हो वो अपना खाना पीना अच्छा करे क्या ये बात समझाते हो आप सीधे-सादे इंसानों पर जुल्म ढाते हो सुप्रभात 🌷 GoodMorningWorld WHO MoHFW_INDIA AyushmanNHA DrHVoffice और कौन-कौन टीवी एंकर और विशेषज्ञ इसे गर्मी में झुलसा कर मार रहे थे ?

फिर रिंग में दहाड़ेंगे विजेंदर, लगातार 12 फाइट में जीत का है रिकॉर्ड - Sports AajTakपिछले छह महीने से रिंग से दूर भारत के स्टार मुक्केबाज विजेंदर सिंह को अगले तीन महीने में रिंग में उतरने की उम्मीद है, क्योंकि Inko bhi pata chal geya ki Rahul Gandhi se na ho payega.. Kyu Rahul Gandhi ki chatne kuch nai Mila is ko Jo wapis aagaya yeh Carryminati Expose all Star Of Bollywood Especially Nepotism

चंडीगढ़: सीमा विवाद पर लोगों में गुस्सा, बाजार में कम हो रही चीनी ब्रांड की मांगचंडीगढ़ के एक उपभोक्ता ने बताया कि उन्होंने दो कारणों से चीनी उत्पाद नहीं खरीदने का फैसला किया है. पहला आज पूरा विश्व कोरोना महामारी की चपेट में है जिसका उद्गम स्थल चीन है. दूसरा पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीन ने भारतीय सैनिकों के साथ जो बर्बर रवैया अपनाया वो ठीक नहीं है. manjeet_sehgal 👍👍👍 manjeet_sehgal चीन की सबसे बड़ी ऑनलाइन ट्रेडिंग कंपनी अलीबाबा प्ले स्टोर में बड़ी शान से मौजूद है। पेटीएम भी नहीं हटाया गया। मतलब भारत का पैसा सीधे चीन जा रहा है। जिन प्लेटफॉर्म पर गरीब लोगों का टैलेंट दुनिया देख रही थी। उसे बैन कर दिया गया। कितना गरीब विरोधी है मोदी। बैन करना है तो सब बैन करो। manjeet_sehgal 😜😜😜😜 लॉक डाउन के सर्वे में 100% गिरा था ये 15% घर बैठे सर्वे का रिजल्ट है।

कोरोना से मृत लोगों के शव गढ्डे में फेंकने के वीडियो पर कर्नाटक में बवालवीडियो में नजर आ रहा है कि एक-एक कर एम्बुलेंस से शवों को निकाला गया और बेदर्दी से गड्ढे में किसी कूड़े की तरह फेंक दिया गया. वीडियो में पीपीई सूट पहने कर्मचारी गड्ढे में शव डालते दिख रहे हैं.

सीएम ममता बनर्जी का ऐलान, पश्चिम बंगाल में जून 2021 तक गरीबों को मिलेगा मुफ्त राशनसीएम ममता बनर्जी का ऐलान, पश्चिम बंगाल में जून 2021 तक गरीबों को मिलेगा मुफ्त राशन coronavirus lockdown WestBengal MamataBanerjee MamataOfficial MamataOfficial Bewakoof bana rahi hai. Aaj hi kyon kiya ailan yeh sab samjhate hai. MamataOfficial केजरीवाल, ममता बनर्जी, अशोक गहलोत ये सब रोहिंग्याओं और जमातियों को जिमा रहे हैं। गरीबों का नाम लेकर ,हिन्दुओं को कुछ नहीं मिलेगा । MamataOfficial इ ना चोलबे