जानिए कोरोना के बाद दिल्ली में एनीमिया से पीड़ित पांच साल की उम्र वाले बच्चों की संख्या में हुआ कितने फीसद इजाफा

जानिए कोरोना के बाद दिल्ली में एनीमिया से पीड़ित पांच साल की उम्र वाले बच्चों की संख्या में हुआ कितने फीसद इजाफा #Delhi #Anemia

Delhi, Anemia

28-11-2021 16:00:00

जानिए कोरोना के बाद दिल्ली में एनीमिया से पीड़ित पांच साल की उम्र वाले बच्चों की संख्या में हुआ कितने फीसद इजाफा Delhi Anemia

एनीमिया से पीड़ित करीब पांच साल की उम्र वाले बच्चों की संख्या 10 फीसद बढ़ गई है। इस वजह से दिल्ली में दो तिहाई से ज्यादा नौनिहाल खून की कमी ( एनीमिया ) से पीड़ित हैं। डाक्टर कहते हैं कि खानपान में पर्याप्त पौष्टिक आहार की कमी से यह बीमारी होती है।

कोरोना के दौर में लोगों का कामकाज प्रभावित हुआ और प्रति व्यक्ति आय पर भी असर पड़ा। अब इसे कोरोना का असर कहें या चाहे कुछ और, लेकिन पांचवें राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे की रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि दिल्ली में इससे बच्चों का शारीरिक व मानसिक विकास प्रभावित हो सकता है।

यह भी पढ़ेंदिल्ली में 9,486 परिवारों पर यह सर्वे दो चरणों में हुआ। कोरोना से पहले चार जनवरी 2020 से 21 मार्च 2020 के बीच और कोरोना के दौर में 21 नवंबर 2020 से 20 जनवरी 2021 के बीच। सर्वे में यह बात सामने आई है कि छह माह से 59 माह की उम्र वाले 69.2 फीसद बच्चे एनीमिया से पीडि़त हैं। पांच साल पहले चौथे राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे में यह आंकड़ा 59.7 फीसद है। मौजूदा समय में शहरी क्षेत्र में 68.7 फीसद व ग्रामीण क्षेत्र में 81.7 फीसद बच्चे एनीमिया से पीडि़त पाए गए।दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन के सचिव डा. अजय गंभीर ने कहा कि एनीमिया की बीमारी आयरन की कमी से होती है। इसका कारण यह है कि बच्चों को ठोस आहार कम दिया जा रहा है। खानपान में जो चीजें इस्तेमाल हो रही हैं उसमें भी आयरन युक्त खाद्य वस्तुओं की कमी है। इसलिए बच्चों को रोटी व चावल भी पर्याप्त मात्रा में खिलाना भी जरूरी है।

यह भी पढ़ेंइसके अलावा बच्चों के पेट में कीड़े की समस्या होती है। मनोवैज्ञानिक तौर पर सोचें तो आयरन की कमी को दूर करने के लिए फोलिक एसिड की दवा अक्सर लेना संभव नहीं हो पाता। इसलिए चावल में फोलिक एसिड युक्त पोषक तत्व मिलाकर फोर्टिफायड चावल का इस्तेमाल शुरू करने की बात हो रही है। बच्चों का कद नहीं बढ़ पाने का एक बड़ा कारण एनीमिया व पोषण की कमी है। इसके मद्देनजर ही स्कूल स्वास्थ्य कार्यक्रम में फोलिक एसिड को शामिल किया गया था। headtopics.com

बंगाल के राज्यपाल और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच टकराव बढ़ा, जगदीप धनखड़ के खिलाफ प्रस्ताव लाएगी तृणमूल कांग्रेस

यह भी पढ़ेंमिड-डे मील के आहार व घर में भी बच्चों के खानपान में पौष्टिक चीजों को शामिल कर इस समस्या को दूर किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में समस्या यह है कि यहां दूर दराज के क्षेत्रों से काफी संख्या में लोग पहुंचते हैं। झुग्गी बस्तियों के बच्चों व आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के बच्चों में एनीमिया की परेशानी अधिक होती है। इस वजह से एनीमिया पीडि़त बच्चों की संख्या यहां अधिक है।

यह भी पढ़ेंदो साल की उम्र तक के 83.2 फीसद बच्चों को नहीं मिलता पर्याप्त आहारसर्वे के अनुसार छह से 23 माह तक के 16.8 फीसद बच्चों को ही पर्याप्त आहार मिल पाता है। यानी दो साल की उम्र तक के 83.2 फीसद बच्चों को पर्याप्त आहार नहीं मिल पाता। हालांकि, पिछले सर्वे की तुलना में इस आंकड़े में कुछ सुधार हुआ है। पांच साल की उम्र के 30.9 फीसद बच्चे छोटे कद के हैं। पहले ऐसे बच्चों की संख्या 31.9 फीसद थी। वहीं सामान्य से कम वजन वाले बच्चों की संख्या 21.8 फीसद व अधिक वजन वाले बच्चों की संख्या चार फीसद है।

और पढो: Dainik jagran »

खबरदार: क्या है यूपी में बीजेपी की जाटलैंड पॉलिटिक्स, समझिए

बीजेपी के स्टार प्रचारक केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने चुनाव की कमान पर प्रचार के तीर चढ़ा दिए हैं. अमित शाह गुरुवार को मथुरा-वृंदावन में थे, जहां बांके-बिहारी के दर्शन करने के बाद वो लोगों से मिलने के लिए डोर-टू-डोर गए. प्रचार के पर्चे बांटने के साथ-साथ गृहमंत्री शाह ने जनता को पिछली सरकारों के गुंडाराज की याद भी दिलाई. इसके अलावा यूपी में जाट पॉलिटिक्स भी रूठे को मनाने की मुद्रा में आ गई है. बीजेपी ने जयंत के लिए दरवाजे खुले छोड़े हैं, लेकिन जयंत के तेवर बदले हुए हैं. आज खबरदार में हम बीजेपी की जाटलैंड पॉलिटिक्स को भी डिकोड करेंगे. देखें खबरदार. और पढो >>

गुजरातः कच्छ में MV एविएटर से टकराया अटलांटिक ग्रेस, तेल की वजह से हुआ हादसाकच्छ की खाड़ी भारत के लिए सबसे महत्वपूर्ण शिपिंग मार्गों में से एक है। भारत में आयातित कच्चे तेल का 35 प्रतिशत से अधिक कच्छ की खाड़ी के माध्यम से आता है।

चीन: अमेरिकी सांसदों ने की ताइवान की यात्रा, राष्ट्रपति साइ इंग-वेन से भी की मुलाकातचीन के साथ तनावपूर्ण रिश्तों के बीच अमेरिका के पांच सांसद बृहस्पतिवार की रात अचानक ताइवान पहुंचे। उन्होंने ताइवान

राजस्थान में दलित दूल्हे की बारात पर पुलिस की मौजूदगी में हुआ पथराव - BBC News हिंदीराजस्थान के जयपुर में एक दलित व्यक्ति की बारात पर पथराव करने के आरोप में पुलिस ने दस लोगों को गिरफ़्तार किया है. पढ़ें आज के अख़बारों की प्रमुख सुर्ख़ियां. क्या दलित दूल्हे कि बारात पर BJP वालों ने पथराव करवाया है. Thori service do inhe jail m राजस्थान मे कांग्रेस सरकार है, यहाँ पे allow है, दलित पे अत्त्याचार, यहाँ चलेगा बस बीजेपी शासित राज्यों मे नहीं चल सकता

नीट पीजी काउंसलिंग में हो रही देरी से डाक्टर नाराज, कल से करेंगे देशव्यापी हड़तालनेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट पोस्टग्रेजुएट (NEET PG) काउंसलिंग 2021 में हो रही देरी से नाराज फेडरेशन आफ रेजिडेंट डाक्टर्स एसोसिएशन (FORDA) ने शनिवार से देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है। सुप्रीम कोर्ट में ईडब्ल्यूएस कोटा मानदंड पर निर्णय लंबित है। इसी वजह से देरी हो रही है।

दक्षिण अफ्रीका में टीम भेजने से पहले भारत सरकार से संपर्क करे बीसीसीआइ : अनुराग ठाकुरभारतीय क्रिकेट टीम को साउथ अफ्रीका दौरे पर न्यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज के बाद जाना है। इस दौरे पर जाने से पहले देश के खेल मंत्री ने आदेश दिया है कि बीससीआइ को टीम को साउथ अफ्रीका भेजने से पहले सरकार से संपर्क करना चाहिए।

कोरोना के नए वैरिएंट से दुनिया भर में दहशत, डेल्टा से कितना खतरनाक है Omicron? कोरोना वायरस के नए वैरिएंट पर, इंडिया टुडे टीवी ने मुंबई के फोर्टिस हॉस्पिटल के क्रिटिकल केयर के डायरेक्टर और स्टेट कोविड-19 टास्क फोर्स के सदस्य डॉ राहुल पंडित से बात की. उन्होंने ओमाइक्रॉन के बारे में काफी महत्वपूर्ण जानकारी दी. pankajcreates My seventh sense tells me this new omicron will last for 6 months will be very horrible but after 6 months Maxx June 2022 it will vanish never comeback.only way to avoid getting infected is to getting tested and wear mask and use sanitiser and distance plus maintaining gud hygine pankajcreates pankajcreates Intention of governments and media houses and doctors scienists all have only goal that is public health safety and awareness. GOODLUCK TO ALL.GOD BLESS ALL.