Laddus, Sweet, Stories Of Laddus, Benefits Of Laddus, Diwali 20201, Happy Diwali 20201, Diwali Sweets, Renu Jain, Laddu News, Laddu Sweets, Hpcommanmanıssue, Jagran Plus, दिवाली की मिठाई, लड्डू, लड्डू के किस्से, लज्जतार लड्डू, लड्डुओं की खासियत

Laddus, Sweet

जानिए लड्डुओं के लज्जतदार किस्से, भारतीय समाज में कई शुभ अवसर पर इनका होता है आदान-प्रदान

जानिए लड्डुओं के लज्जतदार किस्से, भारतीय समाज में कई शुभ अवसर पर इनका होता है आदान-प्रदान

26-10-2021 20:30:00

जानिए लड्डुओं के लज्जतदार किस्से, भारतीय समाज में कई शुभ अवसर पर इनका होता है आदान-प्रदान

लड्डुओं बिना हर त्योहार अधूरा है। जब पर्व हो दीवाली का तब तो भगवान गणेश की पूजा में लड्डू विशेष स्थान रखते हैं। लज्जत भरे इस गोल-मटोल आकर्षण की दुनिया दीवानी है। तमाम तरह से तैयार किए जाने वाले लड्डुओं की कहानी बता रही हैं रेणु जैन...

त्योहार हों या कोई खुशखबरी, बात जब मुंह मीठा कराने की हो, तो भले ही चलन में कुछ भी हो जाए, लड्डुओं की लज्जत अपनी जगह कभी नहीं खो सकती। भारतीय समाज में कई शुभ अवसर पर लड्डुओं का आदान-प्रदान होता है। सामान्यत: पीले रंग का लड्डू ऐसी आभा लिए होता है कि सारे मिष्ठान एक तरफ हो जाते हैं। लड्डू ही एक ऐसी मिठाई है जो कई तरह से तैयार की जाती है। सैकड़ों प्रकार से बनाए जाने वाले लड्डुओं की एक विशेषता यह भी है कि शहर दर शहर लड्डू अपने अलग रंग, रूप और स्वाद में रंगता जाता है। गोल-गोल लड्डू का इतिहास भी कई रोचक और दिलचस्प कथाओं से भरा है। मानव इतिहास का अध्ययन करने वाले बताते है कि ईसा पूर्व चौथी सदी में लड्डू का आविष्कार हमारी प्राचीन चिकित्सा पद्धति के महानुभव सुश्रुत ने किया था। उस समय घी, तिल, गुड़, शहद, मूंगफली जैसी चीजों को कूटकर गोल आकार के पिंड बनाए जाते थे जो मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होते थे। लड्डू दवा के तौर पर दिए जाएं या मिठाई के रूप में, इसको चाहने वालों की कमी नहीं है।

यूपी: प्रैक्टिकल परीक्षा के नाम पर दूसरे स्कूल ले जाकर 17 छात्राओं का शोषण - BBC News हिंदी '30 दिनों के अंदर दोषी आर्मी मैन को करें अरेस्ट, AFSPA तुरंत हटाएं', नगा जनजाति समूह ने सौंपे 5 सूत्रीय ज्ञापन तस्लीम को ज़मानत, इंदौर में चूड़ी बेचते हुए की गई थी पिटाई, बच्ची से छेड़छाड़ का था आरोप

यह भी पढ़ेंसेहत व स्वाद का साथीलड्डू शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द लड्डुका से हुई है जिसका अर्थ होता है -छोटी गेंद। लड्डुओं के प्राचीन इतिहास में यह बात भी दर्ज है कि चोल वंश के शासन के दौरान नारियल के लड्डू बहुत पसंद किए जाते थे। सूखा नारियल, आटा, गुड़, सूखे मेवे जैसी चीजों के कारण लड्डू लंबे समय तक खाने योग्य रहते थे। लंबी-लंबी यात्राओं पर जाने वाले व्यापारी तथा युद्ध के मैदानों में जाने वाले सैनिक अपने साथ लड्डू ले जाते थे जो उन्हें भूख से तृप्ति भी देते और साथ ही ऊर्जा भी। इससे लड्डू बाहरी दुनिया के संपर्क में भी आता गया और लड्डू बनाने के नए नए तरीके जुड़ते गए। हर कोई अपनी जरूरत स्वाद और सामग्री की उपलब्धता के अनुसार लड्डू की रेसिपी में बदलाव लाता रहा। ब्रिटिश जमाने में चीनी के प्रचलन के कारण लड्डुओं में भी मिठास के लिए उसका प्रयोग होने लगा। कहते है भारत में लड्डू बनाने में सबसे ज्यादा व नए-नए पारसियों ने किए। खजूर, अंजीर, सूखे मेवे यहां तक कि उन्होंने सूखे फल, सब्जियों के बीज तक डालकर लड्डुओं को और अधिक लज्जतदार बनाया। प्राचीन भारत मे तिल, शहद भी डालकर लड्डू को नया स्वाद दिया गया। तब इम्युनिटी के रूप में रोज एक लड्डू खाने की सलाह भी दी जाने लगी। एक अच्छी बात यह भी जुड़ गई कि महीनों खराब नहीं होने वाला लड्डू नाश्ते का जिसे नायाब साथी भी बन गया।

यह भी पढ़ेंमानेर से इंग्लैंड तक पहुंचा जायकानुक्ती(बूंदी) के लड्डू का नाम सुनकर भला किसे मुंह में पानी नहीं आता! कहते हैं पहली बार मुगल बादशाह आलम दिल्ली से बूंदी के लड्डू लेकर मनेर शरीफ (पटना) पहुंचे थे। वहां जब लड्डू खाया गया तो सभी लड्डुओं के दीवाने हो गए। फिर शाह आलम दिल्ली से अपने कारीगर लेकर मनेर पहुंचे तथा वहां स्थानीय कारीगरों को लड्डू बनाना सिखाया। एक मजेदार तथा रोचक बात यह भी थी कि शाह आलम पहली बार इमली के पत्तों से बने दोने में लड्डू लकर पहुंचे थे। आज आलम यह है कि मनेर के कारीगर लड्डू बनाने में इतने माहिर हो गए कि इनके बनाए लड्डुओं के दीवाने अमेरिका, इंग्लैंड, दुबई के अलावा कई अन्य देशों में भी हो गए। इन लड्डुओं का स्वाद अंग्रेजों को ऐसा भाया कि उन्होंने मनेर के लड्डुओं को विश्व प्रसिद्ध लड्डू का प्रमाणपत्र देकर नवाजा। कहते हैं मनेर के लड्डू का जायका कई अभिनेताओं की भी पसंद है। कई नामी हस्तियां हैं जो तीज-त्योहार, शादियों तथा अन्य समारोह का शुभारंभ आर्डर देकर बनवाए गए इन्हीं लड्डुओं से करते हैं। headtopics.com

यह भी पढ़ेंमिला शुद्धता का प्रमाणपत्र भीपटन्स के महावीर मंदिर में हनुमान जी को लगाया जाने वाले प्रसाद (लड्डू) को भारत सरकार के खाद्य मंत्रालय से शुद्धता की गारंटी के लिए 'ब्लेजफुल हाइजीन आफरिंग टू गाडÓ का प्रमाण पत्र दिया है। पटना के इस महावीर मंदिर में देसी घी, बेसन, मेवे से बने लड्डू नैवेद्यम् का भोग भगवान हनुमान को लगाया जाता है। तिरुपति से आए खास कारीगर इन लड्डुओं को बनाते हैं।

यह भी पढ़ेंमेहमानों का स्वागत बस लड्डुओं सेवैसे तो राजस्थान अपने रंग-बिरंगे पहनावे के अलावा अन्य कई चीजों के लिए भी मशहूर है। राजस्थान के सोजत को विश्व प्रसिद्ध मेंहदी नगरी भी कहा जाता है। यहां विदेश से कई व्यापारी मेंहदी खरीदने आते हैं। मेहमान हो या व्यापारी, जो भी यहां आते हैं मेहमाननवाजी में माहिर सोजतवासी मेंहदी के साथ यहां के स्पेशल गाल के लड्डू भी देते है। ये लड्डू देसी गेंहू के कण या मैदे में घी, मावा, शक्कर, इलायची, सूखे गुलाब आदि से तैयार किए जाते हैं। यहां के लड्डू मुंबई, हैदराबाद, चेन्नई, दिल्ली के साथ अमेरिका तथा दुबई तक अपनी छाप छोड़ चुके हैं।

यह भी पढ़ेंमंदिर जहां बनते है करोड़ों लड्डूवैसे तो मंदिर में प्रसाद की परंपरा से हम सब वाकिफ हैं। भारत के विख्यात मंदिर में शामिल तिरुपति बालाजी में प्रतिदिन तीन लाख लड्डू तैयार होते हैं। कहते हैं इस मंदिर में लड्डू का इतिहास 300 साल से भी ज्यादा पुरारा है। खास बात यह है कि आसानी से कम कीमत में मिलने वाला यह लड्डू कई दिनों तक खराब नहीं होता। इन लड्डुओं को बनाने की जगह को खुफिया रसोई या पोटू कहते हैं। यहां कुछ खास लोगों को ही जाने की अनुमति है। इस मंदिर के प्रसाद का लड्डू पाने के लिए एक सुरक्षा दायरे से होकर गुजरना पड़ता है। हैरानी की बात यह है कि 174 ग्राम का यह लड्डू अपने आप में बड़ा खास होता है। इसे बेसन, किशमिश, मक्खन, इलायची और काजू से तैयार किया जाता है। कई लोग इसकी रेसिपी से इस लड्डू को बनाने का प्रयास कर चुके पर तिरुपति मंदिर के लड्डू जैसा कभी बना नहीं पाए।

यह भी पढ़ेंविश्व रिकार्ड में दर्ज लड्डू का नामदुनिया का सबसे बड़ा लड्डू आंध्र प्रदेश स्थित तपेश्वर के निवासी बी. बी. एस. मल्लिकाजुर्न राव ने बनाया था। 29,465 किलोग्राम का एक लड्डू बनाकर उन्होंने सबको अचंभित किया था। 6 सितंबर 2016 को उन्होंने यह स्वादिष्ट रिकार्ड दर्ज किया। headtopics.com

Omicron : महाराष्ट्र में नहीं मिल रहे विदेश से लौटे 109 लोग, मोबाइल फोन बंद, घरों पर लगे हैं ताले Parliament Winter Session LIVE : विपक्ष के हमलों की धार कैसे की जाए कुंद? बीजेपी संसदीय दल की बैठक में बन रही रणनीति रूस के हमले के ख़तरों के बीच यूक्रेन को मिला पश्चिमी देशों का समर्थन - BBC Hindi

लड्डू की होली निरालीवैसे तो सभी रंगों से होली खेलते है। रंगों का यह त्योहार सभी गिले-शिकवे भुलाने के लिए भी मशहूर है। बरसाना, गोकुल और वृंदावन में होली की मस्ती देखने देश विदेश से लोग आते हैं। पर क्या इस बात पर यकीन करेंगे कि द्वापर युग से ही बरसाना में लड्डुओं से होली खेली जाती है। जी हां, इस अनोखी होली खेलने के दौरान बरसाना में लड्डुओं की डिमांड बढ़ जाती है। उन दिनों यहां टनों के हिसाब से लड्डू बनाए जाते है। ये लड्डू बूंदी, बेसन तथा मावे के होते है।

यह भी पढ़ेंफायदे लड्डुओं केवैसे तो हर तरह के लड्डू का अपना स्वाद होता है पर सर्दियों का मौसम आते ही घर के बड़े-बुजुर्ग कहते सुने जा सकते है कि गोंद तथा सूखे मेवे के लड्डू खाने से शरीर मे गर्माहट, ताकत तथा स्फूर्ति बनी रहती है। गर्भवती व स्तनपान करवाने वाली मांओं को भी गोंद के लड्डू खिलाने की सलाह दी जाती है। आमतौर पर गोंद, सूखे मेवे, घी गुड़, शक्कर जैसी चीजें को लड्डू में डालने से लड्डू बहुत पौष्टिक हो जाते है। ठंड में इसकी एक तय मात्रा में सेवन करने से शरीर मे रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है। हड्डियां मजबूत करने के साथ याद्दाश्त भी तेज रहती है। मौसमी बीमारियां आपसे दूर रहती हैं। जोड़ों के दर्द में बुजुर्ग लड्डू में मेथी दाने भी डालते हैं जो उन्हें दर्द से निजात देते हैं। 

और पढो: Dainik jagran »

SP कार्यकर्ताओं से लेकर प्रशिक्षित शिक्षकों तक, UP में लाठीमार लड़ाई! देखें शंखनाद

उत्तर प्रदेश के चंदौली से लखनऊ तक आज जमकर लाठियां चली हैं. चंदौली में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता पुलिस से भिड़े तो लखनऊ में पुलिसवालों ने नौकरी की मांग कर रहे प्रशिक्षित शिक्षकों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. बता दें कि चंदौली में सीएम योगी से मिलने जा रहे समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं का पुलिस से टकराव हो गया. झड़प के दौरान सकलडीहा से समाजवादी पार्टी के विधायक प्रभु नारायण यादव ने डिप्टी एसपी अनिरुद्ध सिंह के साथ हाथापाई की और डिप्टी एसपी के सिर में अपने सिर से टक्कर भी मारी. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड.

मझधार में फंसी पीएम मोदी की संसदीय क्षेत्र वाराणसी के नाविकों की ज़िंदगीवीडियो: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के मल्लाह रोज़गार को लेकर बेहद परेशान हैं. कोरोना वायरस महामारी ने उनकी ज़िंदगी को तबाह कर दिया है. घर चलाना मुश्किल होता जा रहा है और किसी प्रकार की कोई सरकारी सहायता न मिलने से वे बेहद हताश और निराश हैं. Desh bachane ke leye jaan jati h to jane do modi h to desh h 🤣🤣🤣🤣 vote for nota

दिल्ली: पुराने सीमापुरी इलाके में आग लगने से चार लोगों की मौत, जांच में जुटी पुलिसदिल्ली के पुराने सीमापुरी इलाके में आगजनी में चार लोगों की मौत की खबर है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक आग एक तीन मंजिला

अमेरिका: शॉपिंग मॉल में गोलीबारी में दो की मौत, एक पुलिसकर्मी समेत चार घायलपुलिस ने हमलावर को हिरासत में ले लिया है और शॉपिंग मॉल को भी खाली करा दिया गया है। पुलिस का कहना है कि इस मामले में छानबनी

क्रूज़ ड्रग्स मामला: रिश्वत मामले में एनसीबी ने अपने अधिकारी समीर वानखेड़े की जांच शुरू कीमुंबई क्रूज़ ड्रग्स मामले में स्वतंत्र गवाह प्रभाकर सैल ने दावा किया हैं कि अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन ख़ान को छोड़ने के लिए एनसीबी की मुंबई क्षेत्रीय इकाई के निदेशक समीर वानखेड़े और कुछ अधिकारियों द्वारा 25 करोड़ रुपये की मांग की गई थी. एनसीबी और समीर वानखेड़े ने इन आरोपों के ख़िलाफ़ अदालत का रुख़ किया है. शिकारी खुद यहाँ शिकार हो गया Bollywood valo ko bachane ki kosis..... bina post se hataye kun si janch hogi?

चीन में लौटा कोरोना का कहर, 4 लाख की आबादी वाले Lanzhou में लॉकडाउनलांझू। चीन में कोरोनावायरस का कहर एक बार फिर तेजी से बढ़ता दिखाई दे रहा है। 4 लाख की आबादी वाले लांझू (Lanzhou) संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पूरी तरह लॉकडाउन लगा दिया गया है।

एलन मस्क ने फिर की Dogecoin की तारीफ, SHIB के बारे में दिया चौंकाने वाला बयान!एलन मस्क ने "डॉजकॉइन करोड़पति" ग्लौबर कॉन्टेसोटो के जवाब में ट्वीट किया कि वह Dogecoin को "लोगों के क्रिप्टो" (the people's crypto) के रूप में देखते हैं और बताया कि वह क्रिप्टोकरेंसी को सपोर्ट क्यों करते हैं। भारत देश में वंचित और शोषित वर्गों का एकमात्र सहारा सिर्फ संविधान ही हैं धार्मिक किताबों से कई गुना ज्यादा शक्तिशाली हैं,हमारा पवित्र ग्रन्थ भारत का संविधान