Afghanistan, Sjaishankar, Situation İn Afghanistan, S Jaishankar On Afghanistan İssue, S Jaishankar On Afghanistan, S Jaishankar, Afghanistan, Antony Blinken İndia Visit, Antony Blinken, İndia Us Relations

Afghanistan, Sjaishankar

जयशंकर ने कहा: एकतरफा इच्छाओं को थोपने से अफगानिस्तान में नहीं आएगी स्थिरता

जयशंकर ने कहा: एकतरफा इच्छाओं को थोपने से अफगानिस्तान में नहीं आएगी स्थिरता #Afghanistan #SJaishankar

29-07-2021 01:04:00

जयशंकर ने कहा: एकतरफा इच्छाओं को थोपने से अफगानिस्तान में नहीं आएगी स्थिरता Afghanistan SJaishankar

विदेशमंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को कहा कि युद्धग्रस्त अफगानिस्तान में एकतरफा इच्छाओं को थोपने से कभी भी स्थिरता नहीं

जयशंकर ने कहा कि पिछले दो दशकों के दौरान अफगान सिविल सोसायटी खासकर महिलाओं, अल्पसंख्यकों के अधिकारों को लेकर जो कुछ हासिल किया, वह स्पष्ट है। अफगानिस्तान को फिर से आतंकवाद का घर नहीं बनने देना चाहिए और न ही शरणार्थियों का स्रोत।उन्होंने कहा कि दुनिया अफगानिस्तान को स्वतंत्र, संप्रभु और लोकतांत्रिक देश के तौर पर देखना चाहती है लेकिन इसकी आजादी और गवर्नेंस तभी सुनिश्चित होगी जब वह बुरे प्रभावों से मुक्त होगा। उन्होंने कहा कि हमारी नजर अफगानिस्तान, हिंद-प्रशांत और खाड़ी क्षेत्र पर है। उन्होंने कहा कि यह वार्ता ऐसे अहम पड़ाव पर हुई है जब अहम वैश्विक एवं क्षेत्रीय चुनौतियों के प्रभावी निराकरण की जरूरत है। हमारी द्विपक्षीय साझेदारी इस स्तर तक बढ़ी है कि यह हमें बड़े मुद्दों से मिलकर निपटने में सक्षम बनाती है।

राजस्व में कमी की भरपाई के लिए दूसरी छमाही में 5.03 लाख करोड़ रुपये का कर्ज लेगी सरकार दिग्विजय के शिशु मंदिर वाले बयान पर होगी FIR: राष्ट्रीय बाल आयोग ने DGP को लिखा पत्र; कहा- पूर्व CM के बयान से बच्चों के सम्मान को ठेस पहुंची, FIR दर्ज करें ट्रेन के सामने से युवती को बचाने का VIDEO: सुसाइड के इरादे से पटरी पर खड़ी हो गई MBA पास लड़की, ट्रेन आती देख ऑटो ड्राइवर ने खींचकर बचाई जान

भारत और अमेरिका के रिश्ता दुनिया के सबसे अहम संबंधों में से एक : ब्लिंकनअमेरिकी विदेशमंत्री एंटनी ब्लिंकन ने इस मौके पर कहा कि दुनिया में कुछ ही ऐसे संबंध है जो अमेरिका भारत के बीच के रिश्ते से अधिक अहम हैं। उन्होंने कहा कि दुनिया के अग्रणी लोकतंत्रों के तौर पर हम अपने सभी लोगों को स्वतंत्रता, समानता एवं अवसरों को लेकर अपनी जिम्मेदारियों को गंभीरता से लेते हैं। भारत और अमेरिका के कदम ही 21वीं सदी और उसके बाद के दौर का स्वरूप तय करेंगे और यही वजह है कि भारत के साथ साझेदारी मजबूत करना अमेरिका की विदेश नीति की शीर्ष प्राथमिकताओं में एक है।

जयशंकर और डोभाल से की द्विपक्षीय बातचीतइससे पहले ब्लिंकन ने विदेशमंत्री जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से अलग-अलग द्विपक्षीय वार्ता की। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ब्लिंकन और जयशंकर की तस्वीर ट्वीट कर लिखा कि दोनों नेताओं ने अफगानिस्तान में तेजी से बदल रहे सुरक्षा हालात, हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भागीदारी बढ़ाने, कोरोना से निपटने के प्रयासों में सहयोग समेत विभिन्न क्षेत्रों में व्यापक मुद्दों पर चर्चा की। डोभाल के साथ के मुलाकात में दोनों देशों के द्विपक्षीय तथा क्षेत्रीय मुद्दों समेत अफगानिस्तान में सुरक्षा स्थिति पर बातचीत की। headtopics.com

चीन को नजरअंदाज कर ब्लिंकन ने की दलाई लामा के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकातचीन की आपत्तियों को दरकिनार कर ब्लिंकन ने तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। इसके मायने हैं कि बाइडन प्रशासन तिब्बत के मुद्दे को अपना समर्थन देता रहेगा। निर्वासित तिब्बत सरकार के अधिकारी न्गोदूप डोंगचुंग ने तिब्बती आंदोलन को लगातार अमेरिकी समर्थन के लिए ब्लिंकन का धन्यवाद किया।

सिविल सोसायटी से मुलाकात में अमेरिकी विदेशमंत्री ने कहा, हमारे लोकतंत्र प्रगति कर रहेसिविल सोसायटी के लोगों से मुलाकात के दौरान ब्लिंकन ने कहा कि हमारे लोकतंत्र प्रगति कर रहे हैं और मित्रों के रूप में हम इस बारे में बात करते हैं क्योंकि लोकतंत्र को मजबूत करने और हमारे आदर्शों को वास्तविक बनाने का कठिन कार्य अकसर चुनौतीपूर्ण होता है। हम जानते हैं कि अमेरिका में, अपने संस्थापकों के शब्दों में, एक अधिक परिपूर्ण संघ बनने की आकांक्षा रखते हैं। हमारा देश पहले दिन से स्वीकार करता रहा है कि हम हमेशा अपने लक्ष्य के करीब होंगे, लेकिन प्रगति करने का तरीका यह है कि उन आदर्शों को प्राप्त करने के लिए निरंतर प्रयास करना होगा।

कई बार यह प्रक्रिया, दर्द भरी होती है, कई बार कुरूप लेकिन लोकतंत्र की ताकत को इसे अपनाना है। उन्होंने कहा कि भारत में, जिसमें मुक्त मीडिया, स्वतंत्र अदालतें, एक जीवंत और स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव प्रणाली शामिल है, जो दुनिया में कहीं भी नागरिकों द्वारा स्वतंत्र राजनीतिक इच्छा की सबसे बड़ी अभिव्यक्ति है। उन्होंने कहा कि अमेरिका और भारत लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति प्रतिबद्धता साझा करते हैं। यह हमारे संबंधों की बुनियाद का हिस्सा है और भारत के बहुलवादी समाज और सद्भाव के इतिहास को दर्शाता है। नागरिक संस्थाएं इन मूल्यों को बढ़ावा देने में मदद करती हैं।

उन्होंने कहा कि सफल लोकतांत्रिक देशों में जीवंत नागरिक संस्थाएं शामिल होती हैं और कहा कि लोकतंत्रों को अधिक खुला, ज्यादा समावेशी, ज्यादा लचीला और अधिक समतामूलक बनाने के लिए उनकी जरूरत होती है। उन्होंने कारोबारी सहयोग, शैक्षणिक कार्यक्रम, धार्मिक एवं आध्यात्मिक संबंधों तथा लाखों परिवारों के बीच संबंधों को समूचे संबंध का प्रमुख स्तंभ बताया। headtopics.com

बच्ची के दुष्कर्मी-हत्यारे को फांसी की सजा: जज ने कहा- '8 साल की बच्ची खुद का बचाव नहीं कर सकती, उससे दुष्कर्म और हत्या राक्षसी काम है, ऐसे लोगों को समाज में जीने का कोई अधिकार नहीं' कोवैक्सिन की मंजूरी में और देरी होगी: WHO ने भारत बायोटेक से मांगी तकनीकी जानकारियां, भारतीयों के विदेश जाने पर फंसेगा पेंच सिद्धू के सलाहकार का फिर कैप्टन पर हमला: पूर्व DGP मुस्तफा बोले- ऑपरेशन इंसाफ पूरा हुआ; खुदा के लहजे में बोलने वालों के घमंड पर वक्त खाक डाल गया

विस्तार आ सकती है। उन्होंने यह बात अमेरिकी विदेशमंत्री एंटनी ब्लिंकन के साथ संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में कही। जयशंकर का बयान अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी और तालिबान के साथ चल रही शांति प्रक्रिया में सभी पक्षों को शामिल न किए जाने के संदर्भ में देखा जा रहा है।

विज्ञापनजयशंकर ने कहा कि पिछले दो दशकों के दौरान अफगान सिविल सोसायटी खासकर महिलाओं, अल्पसंख्यकों के अधिकारों को लेकर जो कुछ हासिल किया, वह स्पष्ट है। अफगानिस्तान को फिर से आतंकवाद का घर नहीं बनने देना चाहिए और न ही शरणार्थियों का स्रोत।उन्होंने कहा कि दुनिया अफगानिस्तान को स्वतंत्र, संप्रभु और लोकतांत्रिक देश के तौर पर देखना चाहती है लेकिन इसकी आजादी और गवर्नेंस तभी सुनिश्चित होगी जब वह बुरे प्रभावों से मुक्त होगा। उन्होंने कहा कि हमारी नजर अफगानिस्तान, हिंद-प्रशांत और खाड़ी क्षेत्र पर है। उन्होंने कहा कि यह वार्ता ऐसे अहम पड़ाव पर हुई है जब अहम वैश्विक एवं क्षेत्रीय चुनौतियों के प्रभावी निराकरण की जरूरत है। हमारी द्विपक्षीय साझेदारी इस स्तर तक बढ़ी है कि यह हमें बड़े मुद्दों से मिलकर निपटने में सक्षम बनाती है।

भारत और अमेरिका के रिश्ता दुनिया के सबसे अहम संबंधों में से एक : ब्लिंकनअमेरिकी विदेशमंत्री एंटनी ब्लिंकन ने इस मौके पर कहा कि दुनिया में कुछ ही ऐसे संबंध है जो अमेरिका भारत के बीच के रिश्ते से अधिक अहम हैं। उन्होंने कहा कि दुनिया के अग्रणी लोकतंत्रों के तौर पर हम अपने सभी लोगों को स्वतंत्रता, समानता एवं अवसरों को लेकर अपनी जिम्मेदारियों को गंभीरता से लेते हैं। भारत और अमेरिका के कदम ही 21वीं सदी और उसके बाद के दौर का स्वरूप तय करेंगे और यही वजह है कि भारत के साथ साझेदारी मजबूत करना अमेरिका की विदेश नीति की शीर्ष प्राथमिकताओं में एक है।

जयशंकर और डोभाल से की द्विपक्षीय बातचीतइससे पहले ब्लिंकन ने विदेशमंत्री जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से अलग-अलग द्विपक्षीय वार्ता की। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ब्लिंकन और जयशंकर की तस्वीर ट्वीट कर लिखा कि दोनों नेताओं ने अफगानिस्तान में तेजी से बदल रहे सुरक्षा हालात, हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भागीदारी बढ़ाने, कोरोना से निपटने के प्रयासों में सहयोग समेत विभिन्न क्षेत्रों में व्यापक मुद्दों पर चर्चा की। डोभाल के साथ के मुलाकात में दोनों देशों के द्विपक्षीय तथा क्षेत्रीय मुद्दों समेत अफगानिस्तान में सुरक्षा स्थिति पर बातचीत की। headtopics.com

चीन को नजरअंदाज कर ब्लिंकन ने की दलाई लामा के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकातचीन की आपत्तियों को दरकिनार कर ब्लिंकन ने तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। इसके मायने हैं कि बाइडन प्रशासन तिब्बत के मुद्दे को अपना समर्थन देता रहेगा। निर्वासित तिब्बत सरकार के अधिकारी न्गोदूप डोंगचुंग ने तिब्बती आंदोलन को लगातार अमेरिकी समर्थन के लिए ब्लिंकन का धन्यवाद किया।

सिविल सोसायटी से मुलाकात में अमेरिकी विदेशमंत्री ने कहा, हमारे लोकतंत्र प्रगति कर रहेसिविल सोसायटी के लोगों से मुलाकात के दौरान ब्लिंकन ने कहा कि हमारे लोकतंत्र प्रगति कर रहे हैं और मित्रों के रूप में हम इस बारे में बात करते हैं क्योंकि लोकतंत्र को मजबूत करने और हमारे आदर्शों को वास्तविक बनाने का कठिन कार्य अकसर चुनौतीपूर्ण होता है। हम जानते हैं कि अमेरिका में, अपने संस्थापकों के शब्दों में, एक अधिक परिपूर्ण संघ बनने की आकांक्षा रखते हैं। हमारा देश पहले दिन से स्वीकार करता रहा है कि हम हमेशा अपने लक्ष्य के करीब होंगे, लेकिन प्रगति करने का तरीका यह है कि उन आदर्शों को प्राप्त करने के लिए निरंतर प्रयास करना होगा।

गोवा के पूर्व CM फलेरो का कांग्रेस से इस्तीफा, सोनिया गांधी को लिखा पत्र- 'पार्टी का पतन रुकने की कोई उम्मीद नहीं' नकल के लिए सैनिटरी नैपकिन में डिवाइस छुपाई: 8 सेमी के गैजेट में बना दिया मोबाइल फोन, लड़के-लड़कियों को इसे अंडरगारमेंट में छुपाना था; 25 लोगों को डेढ़ करोड़ में बेचा कौन होगा पंजाब का नया एडवोकेट जनरल?: डीएस पटवालिया, अनमोल रतन सिद्धू के बाद अमरप्रीत सिंह देयोल का नाम आया, CM चन्नी अब तक फाइनल नहीं कर पाए नाम

कई बार यह प्रक्रिया, दर्द भरी होती है, कई बार कुरूप लेकिन लोकतंत्र की ताकत को इसे अपनाना है। उन्होंने कहा कि भारत में, जिसमें मुक्त मीडिया, स्वतंत्र अदालतें, एक जीवंत और स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव प्रणाली शामिल है, जो दुनिया में कहीं भी नागरिकों द्वारा स्वतंत्र राजनीतिक इच्छा की सबसे बड़ी अभिव्यक्ति है। उन्होंने कहा कि अमेरिका और भारत लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति प्रतिबद्धता साझा करते हैं। यह हमारे संबंधों की बुनियाद का हिस्सा है और भारत के बहुलवादी समाज और सद्भाव के इतिहास को दर्शाता है। नागरिक संस्थाएं इन मूल्यों को बढ़ावा देने में मदद करती हैं।

उन्होंने कहा कि सफल लोकतांत्रिक देशों में जीवंत नागरिक संस्थाएं शामिल होती हैं और कहा कि लोकतंत्रों को अधिक खुला, ज्यादा समावेशी, ज्यादा लचीला और अधिक समतामूलक बनाने के लिए उनकी जरूरत होती है। उन्होंने कारोबारी सहयोग, शैक्षणिक कार्यक्रम, धार्मिक एवं आध्यात्मिक संबंधों तथा लाखों परिवारों के बीच संबंधों को समूचे संबंध का प्रमुख स्तंभ बताया।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

Delhi में बड़े Terror Module का पर्दाफाश, जांच एजेंसियों ने 6 को दबोचा, देखें स्पेशल रिपोर्ट

दिल्ली में पाकिस्तान की बड़ी साजिश का खुलासा करते हुए एजेंसी ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. जानकारी के मुताबिक इस पाकिस्तानी आतंकी मॉड्यूल के लिए काम करने वाले 6 लोगों में से दो ने पाकिस्तान में ट्रेनिंग हासिल की थी. जांच एजेंसियों ने पाकिस्तान द्वारा पोषित एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है. इस मामले में जांच एजेंसियों ने 6 लोगों को गिरफ़्तार किया है. पकड़े गए संदिग्ध भारत में इस आतंकी मॉड्यूल को ऑपरेट कर रहे थे. इन सभी से लगातार पूछताछ की जा रही है. एजेंसी का दावा है कि पकड़े गए इन संदिग्ध आतंकियों के पास से बड़ी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद हुए हैं. देखिए स्पेशल रिपोर्ट का ये एपिसोड.

पेगासस पर दंगल जारी, राहुल ने सरकार को घेरा तो BJP ने याद दिलाया यूपी-कर्नाटकमॉनसून सत्र में अबतक कई बार संसद की कार्यवाही को रद्द करना पड़ा है, क्योंकि सदन में ज़बरदस्त विरोध प्रदर्शन जारी है. इसी गतिरोध पर अब कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सरकार पर हमला बोला है, तो वहीं भारतीय जनता पार्टी ने राहुल गांधी पर पलटवार किया है. Himanshu_Aajtak ये पेगासुस कोनसे राक्षस का नाम है जो देश के गंभीर मुद्दे को भी खा रहा। Himanshu_Aajtak यह बिदेशी लग रहा है!

'टीका खुद लगाएं.....दूसरों को भी लगवाएं', टीकाकरण को बढ़ावा देने लोगों ने ली सामूहिक शपथये तो हम सब जानते है कि कोरोना को हराना है तो कोरोना गाइडलाइन्स का पालन करने के साथ ही वैक्सीनेशन ही एक मात्र हथियार हैं.लेकिन देश में टीकाकरण की सुस्त रफ्तार को लेकर भी सवाल उठ रहें हैं. इन सब के बीच बिहार के खगड़िया से आई ये खबर वाकई लोगों को वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित कर सकती हैं. टीकाकरण को बढ़ावा देने के लिए सामूहिक शपथ ग्रहण की अनोखी कोशिश बिहार के खगड़िया जिले से आई है. यहां मौजूद लोगों ने ना सिर्फ खुद टीका लगवाया है बल्कि परिवार और समाज को भी टीका लगवाने के लिए प्रेरित करने की कसम खा रहे हैं. लोगों के संपूर्ण प्रयास का नतीजा भी बेहद पॉजिटिव मिला है. देखें ये वीडियो. यह एक सराहनीय कदम है इससे लोगों में प्रेरणा बढ़ेगी। Very Good… it is easy to take n oath but difficult to stick or execute…let see

जयशंकर-ब्लिंकेन की मुलाक़ातः तालिबान और चीन के लिए क्या हैं संकेत - BBC News हिंदीतालिबान नेता चीन में हैं और चीनी विदेश मंत्री से मुलाक़ात हुई है. दूसरी तरफ़ अमेरिकी विदेश मंत्री भारत में हैं और भारतीय विदेश मंत्री से मुलाक़ात की है. अफ़ग़ानिस्तान को लेकर दोतरफ़ा मुलाक़ातें जारी हैं. Now America will save India from China ? Good.

मजबूत होंगे संबंध: भारत पहुंचे ब्लिंकन, जयशंकर और डोभाल से आज करेंगे मुलाकातमजबूत होंगे संबंध: भारत पहुंचे ब्लिंकन, जयशंकर और डोभाल से आज करेंगे मुलाकात IndiaUSRelations AntonyBlinken BlinkenInIndia QUAD DrSJaishankar

केरल सरकार को झटका: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सदन में संपत्तियों को नुकसान पहुंचाना अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता नहींसुप्रीम कोर्ट ने कहा- सदन में संपत्तियों को नुकसान पहुंचाना अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता नहीं SupremeCourt vijayanpinarayi vijayanpinarayi ऐसी संपत्ति को निकट भविष्य में बरबादी के लिये न छोड़ा जाये। बीस साल बाद व 1.30 करोड़ जनसंख्या के लिये इस छोटे से राज्य में दो राजधानी का कोई औचित्य नहीं है। vijayanpinarayi Ye kya ho raha tarikh pe tarikh Nyay kab milega ? ashokgehlot51 Sos_Sourabh GovindDotasra zeerajasthan_ 1stIndiaNews DainikBhaskar TheUpenYadav REET reet2018_नियुक्ति_दो REET2018_धरनाप्रदर्शन_बीकानेर REET2018_JOINING_DO vijayanpinarayi 😀 😀 😀 Bas sadan ke bahar hi अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता dikhana hai kya Supreme C

राज कुंद्रा को 14 दिन की न्यायिक हिरासत: कस्टडी को बढ़ाना चाहती थी मुंबई पुलिस, अदालत ने कहा-बहुत हुई पूछताछ, आप नए सबूत लेकर आओपोर्न फिल्में बनाने और उन्हें ऐप के जरिए दिखाने के मामले में गिरफ्तार राज कुंद्रा की पुलिस कस्टडी आज खत्म हो गई। कुछ ही देर पहले उन्हें मुंबई के एस्प्लेनेड कोर्ट में पेश किया गया। जहां डिफेंस की मजबूत दलील के बाद अदालत ने कुंद्रा को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। हालांकि, क्राइम ब्रांच की टीम ने कुंद्रा की कस्टडी बढ़ाने की अपील की थी। | Pornography film case: news and update Police custody of Raj Kundra ends today, Sherlyn Chopra also summoned for questioning MumbaiPolice सीधे सीधे लिंक😷