Opinion, Columnist

Opinion, Columnist

जयप्रकाश चौकसे का कॉलम: जीना भले ही कभी आसान ना रहा हो परंतु आज की तरह मरना इतना कठिन तो कभी नहीं रहा

जयप्रकाश चौकसे का कॉलम: जीना भले ही कभी आसान ना रहा हो परंतु आज की तरह मरना इतना कठिन तो कभी नहीं रहा #Opinion #Columnist

14-05-2021 07:58:00

जयप्रकाश चौकसे का कॉलम: जीना भले ही कभी आसान ना रहा हो परंतु आज की तरह मरना इतना कठिन तो कभी नहीं रहा Opinion Columnist

विगत सदी के एक दौर में बनी फिल्मों के नाम और कुछ फिल्म गीत इस तरह हैं, ‘जिस देश में गंगा बहती है’, ‘गंगा जमुना’, ‘गंगा की सौगंध’। गीत हैं, ‘गंगा आए कहां से’, ‘गंगा जाए कहां रे’, भांग की मस्ती में गया गीत ‘मैं छोरा गंगा किनारे वाला, खइके पान बनारस वाला’। फिल्मकार दीपा मेहता ने ‘अर्थ’ ‘फायर’ नामक फिल्में बनाने के बाद बनारस से अपनी फिल्म ‘वाटर’ की शूटिंग प्रारंभ की। | Living may not have been easy, but dying like today has never been so difficult

Living May Not Have Been Easy, But Dying Like Today Has Never Been So DifficultAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐपजयप्रकाश चौकसे का कॉलम:जीना भले ही कभी आसान ना रहा हो परंतु आज की तरह मरना इतना कठिन तो कभी नहीं रहा8 घंटे पहले

कोरोना वैक्सीन की खरीद व कीमत का मुद्दा संसदीय समिति की बैठक में उठा तो भड़के BJP सांसद : सूत्र अमरिंदर सिंह ने दिया पंजाब कांग्रेस में सुलह का फार्मूला, गांधी परिवार से मुलाकात नहीं हिमाचल में गडकरी के सामने बवाल: मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के सिक्योरिटी ऑफिसर और कुल्लू SP के बीच जमकर चले लात-घूंसे

कॉपी लिंकजयप्रकाश चौकसे, फिल्म समीक्षकविगत सदी के एक दौर में बनी फिल्मों के नाम और कुछ फिल्म गीत इस तरह हैं, ‘जिस देश में गंगा बहती है’, ‘गंगा जमुना’, ‘गंगा की सौगंध’। गीत हैं, ‘गंगा आए कहां से’, ‘गंगा जाए कहां रे’, भांग की मस्ती में गया गीत ‘मैं छोरा गंगा किनारे वाला, खइके पान बनारस वाला’। फिल्मकार दीपा मेहता ने ‘अर्थ’ ‘फायर’ नामक फिल्में बनाने के बाद बनारस से अपनी फिल्म ‘वाटर’ की शूटिंग प्रारंभ की।

उन्होंने केंद्र एवं प्रांत सरकार से आज्ञा ले ली थी। मात्र 5 दिन की शूटिंग के बाद हुड़दंगियों ने फिल्म यूनिट पर आक्रमण किया। सेट्स तोड़े गए, उपकरण चोरी चले गए। एक हुड़दंगी ने शूटिंग रोकने के लिए गंगा में कूदकर आत्महत्या कर ली और शूटिंग रोक दी गई। कुछ समय पश्चात फिल्मकार की बेटी ने उसी हुड़दंगी को दिल्ली में घूमते हुए देखा। headtopics.com

उस हुड़दंगी ने बताया कि इस तरह गंगा में कूदकर आत्महत्या करना उसका पेशा है। इसके लिए उसे कुछ धन मिलता है। वह पानी के भीतर तैरकर दूर निकल जाता है। बहरहाल दीपा ने अपनी फिल्म की शूटिंग श्रीलंका में की और अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में पुरस्कार भी दिया गया।

हमारी मान्यता रही है कि मरने वाले व्यक्ति के मुंह में गंगाजल डालने से उसके लिए स्वर्ग के द्वार खुल जाते हैं। घर-घर गंगाजल रखने की परंपरा रही है। कमाल की बात यह है कि वर्षों तक रखा, गंगाजल भी प्रदूषित नहीं होता। ज्ञातव्य है कि बादशाह अकबर ने ऐसी व्यवस्था की थी कि घुड़सवारों की अलग-अलग टोलियां हरिद्वार से मश्क में गंगाजल लेकर बादशाह तक पहुंचाते थे।

गंगोत्री अपने किनारों पर लगे वृक्षों की जड़ों से मिनरल लेकर आती है, इसलिए गंगाजल मनुष्य को सेहतमंद रखता है। हमारे पहले प्रधानमंत्री ने गंगा का विवरण एक कवि की तरह किया है, ‘मैंने गंगा का मौसम के साथ बदलता हुआ मिजाज देखा है, अल सुबह गंगा मुस्कुराती और नृत्य करती हुई लगती है तथा शाम के गहराते साए में रहस्यमय लगती है, शीत ऋतु में गंगा शांत दिखती है, वर्षा के समय गरजती, बरसती है।’ हमारे सारे महाकाव्यों की घटनाएं गंगा किनारे घटती हुई प्रस्तुत की गई हैं। गंगा हमारी संस्कृति की प्रतीक है।

गंगा महिमा के विवरण अब काल्पनिक लगते हैं। गंगा में महामारी से मरने वालों के शव फेंक दिए गए हैं। शवदाह की व्यवस्था करना अत्यंत कठिन हो गया है। लकड़ी महंगी हो गई है। यह अत्यंत दुख की बात है कि अब जेरे बहस यह मुद्दा हुआ है कि यह शव बिहार में फेंके गए या उत्तर प्रदेश में फेंके गए। शवों की शिनाख्त नहीं की जा सकती, क्योंकि उनके साथ आधार कार्ड या वोटर आईडी नहीं रखी गई है। जीना भले ही कभी आसान ना रहा हो परंतु आज की तरह मरना इतना कठिन तो कभी नहीं रहा है। headtopics.com

कोरोना: डेल्टा+ से MP में पहली मौत की पुष्टि, अब तक सामने आए 5 मामले इससे बड़ी लापरवाही नहीं हो सकती: मुंबई के सरकारी हॉस्पिटल के ICU में भर्ती मरीज की आंख कुतर गया चूहा, इलाज के दौरान मौत हुई योगी संग लंच के बाद केशव का यू-टर्न: UP के डिप्टी CM मौर्य बोले- CM के साथ थे, हैं और रहेंगे; 11 दिन पहले कहा था- CM का फेस दिल्ली तय करेगा

क्या मुर्दों के टीले पर बैठकर आसमान से निकटता स्थापित की जा सकती है? ज्ञातव्य है कि रांगेय राघव के उपन्यास का नाम है ‘मुर्दों का टीला’। आज हालात ऐसे हो गए हैं कि जो लोग कुछ दिन पहले व्यवस्था की प्रशंसा करते थे, वे लोग भी अब लुंज पड़ी व्यवस्था की आलोचना कर रहे हैं। जमीर का जागना शुभ संकेत हैं। पैट्रिक कावानाह ने ‘रेगलान रोड’ में लिखा है कि ‘दुख को वृक्ष से गिरा हुआ पत्ता मानना चाहिए और बेहतर सुबह की कामना करना चाहिए।’ बकौल साहिर लुधियानवी ‘वो सुबह हमीं से आएगी।

यह खुशी की बात है कि कुछ सामाजिक संस्थाओं ने अपने प्रयास से वैक्सीन प्राप्त कर ली है। अधिकतम लोगों को कम समय में वैक्सीन उपलब्ध कराई जाए, तो महामारी की लहर को थामा जा सकता है। आज व्यवस्था ने ही देश को आइसोलेशन वार्ड बना दिया है। वर्तमान में हम ऐसी जगह पहुंच गए हैं कि जिसके नीचे जाना अब संभव नहीं है। अत: यह तय है कि हम अब इस संकट से मुक्त हो जाएंगे। इदन्नमम, यह प्रार्थना सभी के लिए है।

और पढो: Dainik Bhaskar »

'CM Yogi ही होंगे बीजेपी का चेहरा', देखें और क्या बोले Arun Singh

यूपी के चुनाव को लेकर जो सस्पेंस बना हुआ था वो अब साफ हो गया है. बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने कहा है कि बीजेपी ये चुनाव मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के चेहरे पर ही लड़ेगी. आजतक से एक्सक्लूसिव बातचीत में अरुण सिंह ने केशव प्रसाद मौर्य के उस बयान को भी खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि यूपी सीएम का चेहरा दिल्ली से तय होगा. वहीं बीजेपी के एक और महासचिव बीएल संतोष जो लखनऊ में हैं उन्होंने ट्वीट कर यूपी में तेज वैक्सीनेशन पर मुख्यमंत्री योगी की पीठ थपथपाई है. देखें एक और एक ग्यारह का ये एपिसोड.

Cm ashokgehlot51 जी गाँवों में आप 100 km घूम लो 1 भी पुलिस कर्मी न दिखेगा। नफरी कमी से कोरोना कभी न जा पायेगा हाथ खङे मत कीजिये गृहविभाग की पुलिस भर्ती 18 की वेटिंग व 19 में पदवृदधि से 8500 पदों पर जोईनिग दीजिये PoliceRajasthan artizzzz sakshijoshii RajCMO VaibhavGehlot80 जमीर का जागना शुभ संकेत है, सुबह हमीं से आयेगी

काग्रेंस का पालतू🐕 पत्रकार

टाइटल कंट्रोवर्सी: सलमान खान की फिल्म 'कभी ईद कभी दिवाली' का टाइटल हुआ 'भाईजान', कंट्रोवर्सी के बाद इन फिल्मों के भी बदले गए नाम13 मई को रिलीज होने वाली फिल्म राधे के बाद सलमान खान जल्द ही 'भाईजान' फिल्म में नजर आएंगे। इस फिल्म का टाइटल पहले कभी ईद कभी दिवाली रखा गया था हालांकि मेकर्स ने अब इसका नाम बदल दिया है। टाइगर 3 के बाद सलमान इस फिल्म की शूटिंग शुरू करेंगे जिसमें उनके साथ पूजा हेगड़े और आयुष शर्मा भी लीड रोल में नजर आएंगे। 'भाईजान' से पहले भी कभी कंट्रोवर्सी तो कभी किसी कारण से अब तक कई फिल्मों के टाइटल रिलीज से पहल... | salman khan's movie kabhi eid kabhi diwali's new title is now bhaijan, these film title also changed before its released बायकॉट भाईजान s m k RahulGandhi jai hind ,sir government moratorium nahi la rahe hey so Garib admi es covid me roti ke parshan hey wha loan ki EMI kha se la ye ga so aap ko ye bat sharkar se kare chay hey

Coronavirus Update: शहरों से निकलकर गांवों तक पहुंच रहा कोरोना संक्रमण का संकटवैश्विक संकट का एक प्रयोजन दुनिया की सभ्यताओं के परीक्षण का भी हो सकता है। कोविड से उत्पन्न स्थितियों में यह संदर्भ और भी प्रासंगिक हो चला है। इसका एक चिंताजनक पहलू यह सामने आया है कि इसके निशाने पर अब ग्रामीण इलाके भी हैं। Rural people are not aware of the consequences of Corona virus

पिक्सल के इस फोन पर मिल रहा है डिस्काउंटफ्लिपकार्ट सेल के दौरान गूगल पिक्सल 4ए पर 2,000 रुपये का डिस्काउंट दिया जा रहा है। साथ ही इस फोन को 5000 रुपये की मंथली ईएमआई पर भी खरीदा जा सकता है, जिसकी जानकारी फ्लिपकार्ट ने अपनी वेबसाइट पर शेयर की है।

Vaccine Maitri : बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका को वैक्सीन देकर भारत से कीमत वसूल रहा है चीनभारत न्यूज़: Chinese Vaccine Supply to Neighbouring Countries : चीनी कंपनियां भारत से ज्यादा पैसे लेकर पड़ोसियों को मुफ्त में वैक्सीन देकर दरियादिली का नाटक कर रही हैं। हकीकत में तो पड़ोसियों को दी जा रही मुफ्त वैक्सीन की कीमत पिछले दरवाजे से भारत से वसूली जा रही है। भारत ने इसका विरोध भी किया।

Renault की कारों पर मिल रहा बंपर डिस्काउंट, जानिए ग्राहकों को मिलेगा कितना फायदाजहां एक तरफ कई कार कंपनियों की कारें इस साल दूरी बार महंगी हो गई हैं वहीं Renault की कारों पर मिल रहा डिस्काउंट कार ग्राहकों के लिए राहत भरी खबर से कम नहीं है। तो चलिए जानते हैं कि कौन सी कार पर कितना डिस्काउंट मिल रहा है।

Dearness Allowance news : लाखों कर्मचारियों के महंगाई भत्‍ते का ऐलान, जानिए इस बार क्‍या रहा बदलावDearness Allowance news PSU बैंक के 8.5 लाख कर्मचारियों का महंगाई भत्‍ता (Dearness Allowance DA) जारी हो गया है। यह DA मई जून और जुलाई 2021 के लिए है। इसमें इस बार 7 Slab की कमी आई है। इतनी तंमयता से सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर लिखते तो देश का कल्याण हो जाता l What about contractual employee of Centre and states Nobody think. Shameful PMOIndia ArvindKejriwal