छत्तीसगढ़ः सारकेगुड़ा में गोलबंद हो रहे हैं आदिवासी

छत्तीसगढ़ः सारकेगुड़ा में गोलबंद हो रहे हैं आदिवासी

7.12.2019

छत्तीसगढ़ः सारकेगुड़ा में गोलबंद हो रहे हैं आदिवासी

जांच आयोग ने 190 जवानों को 'फ़र्ज़ी मुठभेड़' का दोषी पाया, सुरक्षाबलों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर की तैयारी.

ये एक्सटर्नल लिंक हैं जो एक नए विंडो में खुलेंगे शेयर पैनल को बंद करें छत्तीसगढ़ के बीजापुर ज़िले के सारकेगुड़ा गाँव में महुआ के पेड़ के आस-पास गाँव वाले सफाई में लगे हुए हैं. यहाँ एक बार फिर गाँव वाले उसी तरह जुटने के बारे में सोच रहे हैं जैसा 28 जून 2012 की रात को वो जमा हुए थे, जब सुरक्षा बलों ने उन्हें माओवादी समझकर चारों तरफ से घेरा और अंधाधुंध गोलियां चलाई थीं. पास ही तेंदू का पेड़ भी है. सिर्फ़ ये दोनों पेड़ ही नहीं, बल्कि आसपास वो तमाम पेड़ हैं जिनपर गोलियाँ लगीं थीं और मरने वालों के खून के छींटे उनपर पड़े थे. लोग इस एनकाउंटर के बारे में बातें कर रहे हैं और सारकेगुड़ा के प्रधान चिन्हु से सलाह भी ले रहे हैं. अपने आँगन में लेटे हुए चिन्हु बीमार हैं इसलिए वो गांववालों की बातचीत में बढ़-चढ़कर हिस्सा नहीं ले पा रहे. ज़मीन पर बिछी हुई चटाई पर बैठे हुए चिन्हु ने बीबीसी से कहा कि जो गोलियों के निशान पेड़ों पर थे वो अब ख़त्म हो गए हैं. मगर जो आत्मा पर लगे, वो अभी तक हरे हैं. Image caption सारकेगुडा के प्रधान चिन्हु एकजुट होने की कोशिश सारकेगुड़ा, छत्तीसगढ़ के बीजापुर ज़िले के बासागुडा थाना क्षेत्र में आता है. साल 2012 में जिस रात ये घटना घटी थी, उस वक़्त सारकेगुड़ा में कोर्सागुड़ा और राजपेंटा के आदिवासी भी मौजूद थे. इस मामले की जांच के लिए सेवानिवृत जज के नेतृत्व में गठित आयोग ने सुरक्षाबलों के 190 जवानों को 'फ़र्ज़ी मुठभेड़' का दोषी पाया है. अब छत्तीसगढ़ के इस सुदूर अंचल के लोग उसी जगह पर बड़े पैमाने पर जमा होने की योजना बना रहे हैं जहाँ घटना घटी थी. सभी लोग आपस में रायशुमारी कर रहे हैं कि गोली चलाने वालों के ख़िलाफ़ आपराधिक मामला बासागुड़ा थाने में दर्ज किया जाए या नहीं. इस संघर्ष का नेतृत्व सारकेगुड़ा की ही कमला काका कर रही हैं जो घटना की चश्मदीद भी हैं. कमला काका का भतीजा राहुल भी उन लोगों में से था जिसकी गोली लगने से मौत हो गई थी. इसके अलावा मारे जाने वालों में उनके चचेरे भाई समैया भी थे. अब कमला काका के बुलावे पर सामजिक कार्यकर्ता हिमांशु और सोनी सोरी भी सारकेगुड़ा पहुँच गए हैं. Image caption कमला काका सरकारों का खेल आशंका व्यक्त की जा रही है कि सिर्फ़ सारकेगुड़ा ही नहीं बल्कि आसपास के कई और गाँव के रहने वाले आदिवासी राज्य सरकार पर दबाव डालने के लिए गोलबंद होने लगे हैं. यहीं रहने वाले सत्यम मडकाम ने भी अपने दो भाइयों को खोया है जिनकी समाधि पास ही में बनाई गई है. उन्हें न्यायमूर्ति अग्रवाल की रिपोर्ट के बारे में पता चला तो वो और भी ज़्यादा दुखी हो गए क्योंकि मौजूदा राज्य सरकार कांग्रेस की है जिसने घटना के ख़िलाफ़ आंदोलन किया था और इस मुद्दे को विधानसभा के अंदर और बाहर भी उठाया था. कांग्रेस ने जांच समिति भी गठित की थी. Image caption सत्यम मडकाम अपने दोनों भाइयों की समाधि के पास मगर गाँव के दिनेश इरपा की पत्नी जानकी को इसलिए दुःख है कि अब जब कांग्रेस राज्य सरकार में है वो इस मामले में कुछ नहीं कर रही है. वैसे जब घटना घटी थी तो केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी और उस वक़्त के गृह मंत्री पी चिदंबरम ने भी मरने वाले आदिवासियों को 'माओवादी' कहा था. Image caption इरपा जानकी गाँव के गनपत इरपा कहते हैं कि घटना के बाद मरने वालों के आश्रितों को दो लाख रुपये मुआवज़ा मिला था. लेकिन जानकी कहती हैं कि क्या इंसान की जान की क़ीमत सिर्फ दो लाख रुपये हैं. वैसे सरकारी सूत्रों की अगर मानी जाए तो ये रिपोर्ट राज्य सरकार के पास 17 अक्टूबर को पहुँच गई थी. लेकिन इसे ज़ाहिर नहीं किया गया. मामला तब सामने आया जब इस रिपोर्ट के अंश अखबारों में छपने लगे. कांग्रेस द्वारा गठित जांच कमिटी में उस वक़्त शामिल विक्रम शाह मंडावी अब बीजापुर के विधायक बन चुके हैं. बीबीसी से बात करते हुए वो कहते हैं कि उनकी पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से मुलाक़ात की और घटना के दोषियों पर कार्रवाई की मांग की. Image caption आदिवासी महिलाओं के साथ बीबीसी संवाददाता सलमान रावी सामाजिक कार्यकर्ता इसे हास्यास्पद मानते हैं क्योंकि क़ानून व्यवस्था राज्य सरकार के अधीन है. राज्य में उस वक़्त भारतीय जनता पार्टी की सरकार थी. मगर जब रिपोर्ट आई है तो कांग्रेस की सरकार है. सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी का कहना था कि कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल को राज्यपाल के पास जाने की बजाय मुख्यमंत्री के पास जाना चाहिए था क्योंकि इसपर फ़ैसला तो केंद्र सरकार को नहीं बल्कि राज्य सरकार को लेना है. Image caption सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी विक्रम मंडावी का कहना है कि उनकी पार्टी यानी कांग्रेस के सभी आदिवासी विधायक जल्द ही मुख्यमंत्री से मिलेंगे और दोषियों पर कार्रवाई के लिए अनुरोध करेंगे. हालांकि इन सबके बीच सारकेगुड़ा में सामाजिक कार्यकर्ताओं की हलचल बढ़ गई है. वो अब गाँव वालों से विमर्श कर रहे हैं ताकि घटना के अभियुक्त सुरक्षा बलों के जवानों के ख़िलाफ़ औपचारिक रूप से प्राथमिकी दर्ज कराई जा सके. 'रोजगार के लिए लौटे लेकिन मिली गोलियां...' सारकेगुड़ा वो गाँव है जहाँ से आदिवासी पलायन कर आंध्र प्रदेश चले गए थे. वो ख़ुद को माओवादियों और सुरक्षा बलों के बीच पिसा हुआ पा रहे थे. मगर सामाजिक कार्यकर्ताओं की अपील के बाद लिंगागिरी और सारकेगुड़ा के आदिवासी वापस लौटे थे. इनको आश्वासन दिया गया था कि अब ये यहाँ सुरक्षित रहेंगे. गाँव के गनपत इरपा कहते हैं कि उनका परिवार और गाँव के दूसरे आदिवासी बड़ी उम्मीद लेकर वापस लौटे थे. वो कहते हैं,"यहाँ आदिवासी इसलिए लौटे क्योंकि हमें भरोसा दिया गया कि हम सुरक्षित रहेंगे. रोज़गार भी मिलेगा. मगर मिला क्या? गोलियां.." वैसे रिपोर्ट के आने के बाद से न तो विपक्ष यानी भारतीय जनता पार्टी का कोई नेता यहाँ आया और ना ही सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी का ही नेता. कांग्रेस के स्थानीय विधायक विक्रम मंडावी बीबीसी से कहते हैं कि वो एक दो दिनों में वहां जाएंगे और लोगों से बात करेंगे. इससे पहले विधायक रह चुके भारतीय जनता पार्टी के नेता महेश गागडा ने भी कभी गाँव के लोगों से मुलाक़ात नहीं की. वक़्त के साथ सारकेगुड़ा भी बदल गया है. पहले लोग बासागुडा थाने के पास वाले पुल से जाया नहीं करते थे, लेकिन अब जाने लगे हैं. सड़क भी पक्की बन रही है. मगर जगरगुंडा तक जो सड़क इसे जोड़ेगी वो अभी भी कच्ची है. सामजिक कार्यकर्ता हिमांशु कहते हैं कि सड़क आदिवासियों के लिए नहीं बनाई जा रही है बल्कि इस इलाके में पाए जाने वाले लौह अयस्क के दोहन के लिए बनाई जा रही है. वो कहते हैं,"आदिवासियों का जंगल ही बचा रह जाए और उनकी भी जान भी बची रह जाएगी, यही यहाँ के लोगों पर बड़ा अहसान होगा." ये भी पढ़ेंः और पढो: BBC News Hindi

दिल्ली के जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास 200 से ज्यादा महिलाओं ने जाम की सड़क, भीम आर्मी के 'भारत बंद' का दिया हवाला



PM नरेंद्र मोदी के 'लिट्टी चोखा' खाने पर कन्हैया कुमार बोले- बिहारियों को नहीं दे सकते धोखा

सीएए विरोधी जनांदोलन से पैदा हो रहे गीत और कविताएं प्रतिरोध की नई इबारत लिख रहे हैं



बवाल बढ़ने पर बोले AIMIM के वारिस पठान, वापस लेता हूं अपनी बात

उत्तर प्रदेश में दलित राजनीति और उससे जुड़ा दलित आंदोलन चेतनाशून्य हो चला है



नेहरू के बहाने बीजेपी पर तंज, मनमोहन सिंह बोले- राष्‍ट्रवाद के नाम पर उग्रवाद फैला रहे

प्रेग्नेंट महिलाओं पर इस यूनिवर्सिटी में आया नया कोर्स 'गर्भ संस्कार', लड़के भी ले सकेंगे एडमिशन



क्यों फिर नक्सली बनाने पर तुले हो..! वैसे भी आदिवासी होना सरकारी दृष्टि मे नक्सली होने की गारंटी है.. असुरक्षा की भावना लोगों को गोलबंद होने पर मजबूर कर देती है.. आखिरकार नरसंहार का दोषी कौन क्या वो सज़ा का हकदार होंगे.. कतई नहीं.. क्योंकि मरने वाले आम भारतीय (आदिवासी) है.. मूर्ख बीबीसी पहले यह तो बताओ आदिवासी के मुखिया सिर्फ आदिवासी है कि नक्सलवादी कितने पढ़े लिखे साक्षर को छोड़कर शिक्षित आदिवासी इस गठबंधन में शामिल हो रहे हैं नक्सलवादी आदिवासियों के मुखिया कभी नहीं हो सकते इन्हीं लोगों ने हमारा विकास का रास्ता रोक रखा है जय बुढा देव जय दंतेश्वरी

सारकेगुडा मुठभेड़ मामला: थाने में धरने पर बैठे आदिवासीपुलिस का कहना है कि सात साल पुराने इस मामले में प्राथमिकी दर्ज नहीं की जा सकती.

राहुल गांधी बोले, भारत बना दुनिया का रेप कैपिटल...निशाने पर पीएम मोदीउन्होंने कहा, 'आदिवासियों के खिलाफ अत्याचार हो रहे हैं, उनकी जमीनें छीनी जा रही हैं। हिंसा में हो रहे इस नाटकीय वृद्धि RahulGandhi INCIndia पप्पू पागल हो गया है RahulGandhi INCIndia शर्म कर RahulGandhi INCIndia सुकन्या पे न्याय कब मिलेगा

‘हैदराबाद एनकाउंटर’: पुलिस के दावों पर उठ रहे पाँच सवालपुलिस की कहानी में वो कौन से हिस्से हैं जिनपर सवाल उठ रहे हैं और क्यों लोगों को इस कहानी पर विश्वास नहीं हो रहा? Good कोई सवाल नहीं सब ठीक है, वो अपराधी थे आरोपी नहीं उठाते रहो सवाल उठाने वालों,तुम्हारे घर में भी बेटियां होंगी वो सुरक्षित होंगी पर उन गरीब,आम लड़कियों के लिए यही इंसाफ सबसे बेहतर विकल्प रहा और उन चारों खूनी दरिन्दों का वही हश्र हुआ जिसके वो अधिकारी थे। HyderabadEncounter HyderabadJustice

कर्नाटक उपचुनाव: 15 सीटों पर बंपर वोटिंग, BJP को हर हाल में जीतनी होंगी इतनी सीटेंखास बात है कि जिन 15 सीटों पर विधानसभा चुनाव हो रहे हैं, उनमें 2018 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी इन सभी सीटों पर चुनाव हार गई थी. 15 में से 13 सीटों पर जीत दर्ज करेगी बीजेपी....

कश्मीरी यूज़र्स के WhatsApp अकाउंट हो रहे हैं गायब, यह है वजहदरअसल, पूरा मामला कुछ कश्मीरी व्हाट्सऐप यूज़र्स को ग्रुप चैट्स से एग्जिट होने को लेकर है। कई व्हाट्सऐप यूज़र्स ने सोशल मीडिया पर स्क्रीनशॉट्स को साझा करते यह दावा किया। 3 लाख कश्मीरी पंडित गायब हुए थे तो चूड़ी क्यों नही तोड़े? सिर्फ व्हाट्सएप गायब होने से इतनी तकलीफ हो रही है तो सोचो .... जिनके घर द्वार खेती बाड़ी जमीन जायदाद सब कुछ छीन लिया गया हो उसको कितनी पीड़ा हो रही होगी ... संविधान हटाओ , गीता ग्रन्थ लाओ

'क्या हमारे पास ऐसे पर्याप्त प्रमाण थे कि ये अपराध उन्होंने ही किया?'हैदराबाद मामलाः क्या पुलिस ऐसे लोगों के साथ भी यही करती जो पहुँच वाले हैं? बिल्कुल नहीं कर पाती उन्नाव के कुलदीप सिंह सेंगर को ही देख लीजिए उन्नाव के सेंगर (हरामी) का एनकाउंटर कौन कौन चाहता है? Yes



अब डोनाल्ड ट्रंप बोले- PM मोदी ने मुझसे कहा था कि '1 करोड़' लोग करेंगे मेरा स्वागत

मुलाकात के बाद बोले उद्धव ठाकरे, PM ने पूरे देश में NRC लागू नहीं करने का दिया आश्वासन

भारत के उग्रवादी विचार के निर्माण के लिए राष्‍ट्रवाद, 'भारत माता की जय' नारे का हो रहा है गलत इस्‍तेमाल : मनमोहन सिंह

ट्रंप की भारत यात्रा से पहले व्हाइट हाउस ने दी जानकारी, पीएम मोदी के सामने अमेरिकी राष्ट्रपति उठाएंगे धार्मिक स्वतंत्रता का मुद्दा

डोनल्ड ट्रंप के लिए भारत में 'धार्मिक आज़ादी' एक अहम मुद्दा

नागपुर में चंद्रशेखर बोले- RSS पर लगना चाहिए बैन, तभी खत्म होगा मनुवाद

CAA के खिलाफ जनसभा में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' नारा बोलने वाली लड़की ने एक सप्ताह पहले लिखी थी FB पोस्ट 'सभी देश जिंदाबाद'

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

07 दिसम्बर 2019, शनिवार समाचार

पिछली खबर

कश्मीर की चर्चा ब्रिटेन चुनाव में कैसे हो रही है?

अगली खबर

गूगल की पैरेंट कंपनी एल्फ़ाबेट इंक की कमान सुंदर पिचाई के हाथ में
दिल्ली के जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास 200 से ज्यादा महिलाओं ने जाम की सड़क, भीम आर्मी के 'भारत बंद' का दिया हवाला PM नरेंद्र मोदी के 'लिट्टी चोखा' खाने पर कन्हैया कुमार बोले- बिहारियों को नहीं दे सकते धोखा सीएए विरोधी जनांदोलन से पैदा हो रहे गीत और कविताएं प्रतिरोध की नई इबारत लिख रहे हैं बवाल बढ़ने पर बोले AIMIM के वारिस पठान, वापस लेता हूं अपनी बात उत्तर प्रदेश में दलित राजनीति और उससे जुड़ा दलित आंदोलन चेतनाशून्य हो चला है नेहरू के बहाने बीजेपी पर तंज, मनमोहन सिंह बोले- राष्‍ट्रवाद के नाम पर उग्रवाद फैला रहे प्रेग्नेंट महिलाओं पर इस यूनिवर्सिटी में आया नया कोर्स 'गर्भ संस्कार', लड़के भी ले सकेंगे एडमिशन LIVE: प्रमोशन में आरक्षण पर भीम आर्मी का आज भारत बंद, दरभंगा में रोकी ट्रेन बहुमुखी प्रतिभा के धनी प्रधानमंत्री मोदी की सोच दूरदर्शी है: जस्टिस अरुण मिश्रा कायल जेमिसन: वेलिंगटन टेस्ट में टीम इंडिया के सिरदर्द बने क्या है तेजस्वी यादव की 'हाईटेक बस' यात्रा का पूरा विवाद? भीम आर्मी का भारत बंद: कई दलों का समर्थन, बिहार-यूपी में अलर्ट
अब डोनाल्ड ट्रंप बोले- PM मोदी ने मुझसे कहा था कि '1 करोड़' लोग करेंगे मेरा स्वागत मुलाकात के बाद बोले उद्धव ठाकरे, PM ने पूरे देश में NRC लागू नहीं करने का दिया आश्वासन भारत के उग्रवादी विचार के निर्माण के लिए राष्‍ट्रवाद, 'भारत माता की जय' नारे का हो रहा है गलत इस्‍तेमाल : मनमोहन सिंह ट्रंप की भारत यात्रा से पहले व्हाइट हाउस ने दी जानकारी, पीएम मोदी के सामने अमेरिकी राष्ट्रपति उठाएंगे धार्मिक स्वतंत्रता का मुद्दा डोनल्ड ट्रंप के लिए भारत में 'धार्मिक आज़ादी' एक अहम मुद्दा नागपुर में चंद्रशेखर बोले- RSS पर लगना चाहिए बैन, तभी खत्म होगा मनुवाद CAA के खिलाफ जनसभा में 'पाकिस्तान जिंदाबाद' नारा बोलने वाली लड़की ने एक सप्ताह पहले लिखी थी FB पोस्ट 'सभी देश जिंदाबाद' ट्रंप के दौरे के खर्च पर क्यों भिड़ीं कांग्रेस और बीजेपी सलमान खुर्शीद ने उठाया राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने का मुद्दा, कहा- पार्टी का एक बड़ा वर्ग चाहता है कि वह अध्यक्ष बनें अब्दुल्ला, मुफ्ती की जल्द रिहाई के लिए प्रार्थना करता हूं : राजनाथ सिंह चौतरफा विरोध के बाद झुके वारिस पठान, 15 करोड़ मुसलमान वाले बयान पर मांगी माफी डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के खर्च पर विवाद, प्रियंका गांधी ने पूछा- सरकार ने कितना पैसा दिया?