India, China, Arms, Purchase, Security, Threat, Ballistic Missiles, Heavy Security, Budget

India, China

चीन पर शिकंजे का नया दांव

चीन पर शिकंजे का नया दांव in a new tab)

23-09-2021 00:35:00

चीन पर शिकंजे का नया दांव in a new tab)

चीन का बढ़ता रक्षा बजट भारत के लिए चिंता का बड़ा कारण है।

शक्ति संतुलन और सामूहिक सुरक्षा की मान्यताएं सैन्य प्रतिरोध के सिद्धांत पर आधारित होती हैं। हालांकि शांति की स्थापना के लिए युद्ध की आवश्यकताओं को भी स्वीकार किए जाने से कोई परहेज नहीं दिखता। चीन की सामरिक, आर्थिक और राजनीतिक महत्त्वाकांक्षाओं और आक्रामक व्यवहार ने एशिया-प्रशांत क्षेत्र में युद्ध की आशंकाओं को बढ़ा दिया है।

चीन के नए सीमा क़ानून पर भारत ने कहा- ये हमारे लिए चिंता की बात है - BBC Hindi म्यांमार में कई बम धमाके, सैन्य सत्ता के खिलाफ़ बढ़ता जा रहा है विरोध - BBC Hindi आगरा: पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने के आरोप में तीन कश्मीरी छात्र गिरफ़्तार - BBC Hindi

अब इस क्षेत्र के ऐसे देश भी परमाणु जखीरा और अत्याधुनिक हथियार बढ़ाने को मजबूर हो गए हैं जो अब तक अपेक्षाकृत शांत समझे जाते थे। हाल में अमेरिका, ब्रिटेन और आॅस्ट्रेलिया के बीच जो रक्षा समझौता हुआ है, उसे आॅकस नाम दिया गया है। इस समझौते के अनुसार अमेरिका अपनी पनडुब्बी तकनीक आॅस्ट्रेलिया को देगा। जाहिर है, इसके बाद आॅस्ट्रेलिया की नौसेना दुनिया की उन चुनिंदा सैन्य शक्तियों की बराबरी में खड़ी होगी जो परमाणु हथियारों से सुसज्जित मानी जाती हैं। कई दशकों पहले अमेरिका ने यह तकनीक ब्रिटेन से भी साझा की थी। अब आॅस्ट्रेलिया उसका नया साझीदार बन गया है। आॅस्ट्रेलिया को लेकर अमेरिका का बढ़ता सैन्य सहयोग किसी सैन्य समझौते से बढ़ कर इस समूचे क्षेत्र के लिए दूरगामी कदम नजर आता है।

पिछले कुछ वर्षों में चीन को लेकर आॅस्ट्रेलिया बहुत मुखरता से सामने आया है। चीन आॅस्ट्रेलिया का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार रहा है, लेकिन आॅस्ट्रेलिया ने अपने राष्ट्रीय हितों की खातिर चीन को चुनौती देने से परहेज भी नहीं किया। इसकी शुरूआत 2018 में हुई जब आॅस्ट्रेलिया दुनिया का ऐसा पहला देश बन गया जिसने चीनी कंपनी ख़्वावे के 5 जी नेटवर्क पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसके बाद कोरोना महामारी को लेकर भी आॅस्ट्रेलिया ने विश्व समुदाय से यह मांग कर डाली कि वह कोरोना विषाणु की उत्पत्ति को लेकर चीन की भूमिका की जांच करे। चीन ने जब आॅस्ट्रेलिया पर दबाव बनाने की कोशिश की तो आॅस्ट्रेलिया ने पलटवार करते हुए न केवल चीन में रहने वाले वीगर मुसलमानों पर अत्याचारों को लेकर उसकी कड़ी आलोचना की, बल्कि उसकी महत्त्वाकांक्षी बेल्ट एंड रोड परियोजना से जुड़े दो समझौते भी रद्द कर दिए। गौरतलब है कि आॅस्ट्रेलिया क्वाड समूह का सदस्य है जिसे चीन विरोधी माना जाता है। headtopics.com

आॅस्ट्रेलिया और चीन के बीच गहराते विवाद के पीछे अमेरिका और इन दोनों देशों के एशिया-प्रशांत क्षेत्र में आपसी हित हैं। आॅस्ट्रेलिया सबसे छोटा महाद्वीप है जो दक्षिणी गोलार्ध में स्थित है और उत्तर तथा पूर्व में प्रशांत महासागर और पश्चिम-दक्षिण में हिंद महासागर से घिरा है। आॅस्ट्रेलिया और चीन आपस में समुद्री सीमाएं साझा करते हैं। इसलिए आॅस्ट्रेलिया दक्षिण चीन सागर में चीन की दादागीरी से चिंतित है। उसे लग रहा है कि अगर हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की पनडुब्बी सामरिक दबाव डालने के लिए घूम सकती है तो निश्चित ही यह भविष्य में पश्चिमी-प्रशांत क्षेत्र में भी आ सकती है। आॅकस समझौते के बाद आॅस्ट्रेलिया अब परमाणु-संचालित पनडुब्बियों का निर्माण करेगा। ये खास पनडुब्बियां महीनों तक पानी में रह सकती हैं और लंबी दूरी तक मिसाइलें दाग सकती हैं। फिर, आॅस्ट्रेलिया में एटमी पनडुब्बियों की मौजूदगी दक्षिणी गोलार्ध में अमेरिकी प्रभाव को बढ़ाने में भी मददगार होगी। पिछले एक दशक में अमेरिका ने एशिया प्रशांत क्षेत्र में चीन का सामना करना के उद्देश्य से कई कदम उठाएं हैं। इस दृष्टि से क्वाड समूह के गठन और सक्रियता के बाद अब आॅकस बेहद खास माना जा रहा है। यह विशुद्ध सैन्य समझौता है।

क्वाड देशों के आपसी हितों के इतर अमेरिका के हालिया रुख को बेहद आक्रामक माना जा रहा है। इसका कारण यह भी है कि क्वाड के सदस्य जापान और भारत, चीन के खिलाफ उस मुखरता से सामने नहीं आए जैसे तेवर आॅस्ट्रेलिया ने दिखाए। हालांकि इसके पीछे भारत की अपनी क्षेत्रीय और सामरिक मजबूरियां रही हैं। वह अमेरिका से मजबूत संबंध तो चाहता है लेकिन रूस और ईरान जैसे धुर अमेरिकी विरोधी देशों से भी रिश्ते सामान्य हैं। वहीं जापान अपने आर्थिक हितों को लेकर ज्यादा प्रतिबद्ध नजर आता है जिसमें उसकी चीन से आर्थिक साझेदारी शामिल है। जाहिर है, अमेरिका के लिए इस क्षेत्र में आॅस्ट्रेलिया ऐसा खास देश बन गया है जो चीन को लेकर लगातार आक्रामक रुख अपना रहा है।

अमेरिका की नजर हिंद प्रशांत क्षेत्र के रणनीतिक और आर्थिक महत्त्व पर भी है। इस क्षेत्र में चीन ने कई देशों को चुनौती देकर विवादों को बढ़ाया है। चीन वन बेल्ट वन रोड परियोजना को साकार कर दुनिया में अपना प्रभुत्व स्थापित करना चाहता है और उसके केंद्र में हिंद प्रशांत क्षेत्र की अहम भागीदारी है। चीन-पाकिस्तान की बढ़ती साझेदारी ने भी समस्याओं को बढ़ाया है। चीन पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह का प्रमुख भागीदार है। श्रीलंका का हंबनटोटा बंदरगाह, बांग्लादेश का चटगांव बंदरगाह, म्यांमा की सितवे परियोजना सहित मालद्वीप के कई निर्जन द्वीपों पर चीनी कब्जे से भारत की सामरिक और समुद्री सुरक्षा संबंधी चुनौतियां बढ़ गई हैं।

गौरतलब है कि हिंद प्रशांत क्षेत्र में अड़तीस देश शामिल हैं जो विश्व के कुल सतह क्षेत्र का चवालीस फीसद, कुल आबादी का पैंसठ फीसद, कुल जीडीपी का बासठ फीसद और विश्व के व्यापार में छियालीस फीसद करते हैं। हिंद-प्रशांत क्षेत्र से जुड़े बंदरगाह दुनिया के के सर्वाधिक व्यस्त बंदरगाहों में हैं। इसके अंतर्गत एक महत्त्वपूर्ण क्षेत्र दक्षिण चीन सागर आता है। दक्षिण चीन सागर का इलाका हिंद महासागर और प्रशांत महासागर के बीच है और चीन, ताइवान, वियतनाम, मलेशिया, इंडोनेशिया, ब्रुनेई और फिलीपींस से घिरा हुआ है। यहां कई आसियान देशों के साथ चीन का विवाद है। लेकिन चीन पर आर्थिक निर्भरता के चलते अधिकांश देश चीन को चुनौती देने में नाकाम रहे हैं। headtopics.com

पेगासस का प्रेत और लोकतंत्र की आत्मा Prime Time With Ravish Kumar: Supreme Court पता लगाएगा, कौन है ये Big Brother? Toyota की इस कार ने फुल टैंक में 1360 किलोमीटर की माइलेज देकर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

जहां तक सवाल है भारत का तो चीन को लेकर भारत की चिंताएं किसी से छिपी नहीं हैं। भारतीय नौसेना में इस समय एकमात्र आइएनएस अरिहंत परमाणु पनडुब्बी ही तैनात है। इससे पहले रूस से किराए पर ली गई आइएनएस चक्र परमाणु पनडुब्बी भारतीय समुद्री क्षेत्र की रखवाली करती थी। अभी तक भारत समुद्री सुरक्षा को लेकर काफी हद तक रूस पर निर्भर रहा है। चीन ने बैलिस्टिक मिसाइलों के लिए भारी निवेश किया है।

ऐसे में चीन को रोकने के लिए अमेरिका ही प्रतिबद्ध नजर आता है। इसके लिए उसकी अपने अन्य सहयोगियों से भी उम्मीदें बढ़ गई हैं। अमेरिका, ब्रिटेन और आॅस्ट्रेलिया के बीच आॅकस के आकार लेने के बाद क्वाड के बाकी सहयोगी देशों जापान और भारत पर सैन्य समझौते को लेकर दबाव बढ़ेगा। बाइडन प्रशासन यह स्वीकार कर चुका है कि चीन ही आर्थिक, राजनयिक, सैन्य और तकनीकी दृष्टिकोण से उसका प्रतिद्वंद्वी है जो स्थिर और खुली अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था की निरंतर चुनौती से पार पाने में सक्षम है। नाटो भी चीन को सामूहिक सुरक्षा के लिए चुनौती बता कर अमेरिका की चीन के प्रति आक्रामक और नियंत्रणकारी नीति को अपना पूर्ण समर्थन देने की घोषणा कर चुका है।

सामूहिक सुरक्षा की स्पष्ट अवधारणा है कि विश्व में युद्ध को समाप्त नहीं किया जा सकता, बल्कि शक्ति पर नियंत्रण रखने की कोशिश की जा सकती है, जो युद्ध का मूल कारण है। पूर्व अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो पहले ही कह चुके हैं कि चीन से भारत और दक्षिण-पूर्वी एशिया में बढ़ते खतरों को देखते हुए अमेरिका ने यूरोप से अपनी सेना की संख्या कम करने का फैसला किया है। जाहिर है आॅस्ट्रेलिया के बाद अमेरिका की अपेक्षाएं भारत से होंगी। हिंद महासागर से भारत के बड़े सामरिक और आर्थिक हित जुड़े हैं। इसलिए अब पूरी संभावना है कि भारत भी अपनी समुदी सीमा को मजबूत करने के लिए आॅकस जैसे समझौते को लेकर आगे बढ़े।

और पढो: Jansatta »

दंगल: क्रूज ड्रग्स केस में आर्यन खान के बाद अनन्या पांडे?

मुंबई क्रूज ड्रग्स केस में क्या आर्यन खान के बाद अभिनेत्री अनन्या पांडे का नंबर है? ऐसा सवाल इस वजह से उठ रहे है क्योंकि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने आर्यन के साथ ड्रग्स चैट को लेकर पूछताछ के लिए समन भेजा है. एनसीबी के जांच से बॉलीवुड पर आंच बढ़ती जा रही है. गुरुवार को शाहरुख खान बेटे आर्यन से मिलने ऑर्थर जेल पहुंचे. शाहरुख-आर्यन के बीच 15 मिनट तक मुलाकात हुई है. तो अब आर्यन के जमानत याचिक पर 26 अक्टूबर को हाईकोर्ट में सुनवाई होगी. आर्यन की न्यायिक हिरासत 30 अक्टूबर तक बढ़ा दी गई है. तो अनन्या पांडे से समीर वानखेड़े पूछताछ कर रहे हैं. देखें वीडियो.

पीएम मोदी और बाइडेन की मुलाकात पर टिकी निगाहें, तालिबान-चीन पर बनेगी रणनीति : विशेषज्ञPM Modi : क्वॉड (QUAD ) नेताओं बैठक के अलावा 25 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA)  के वार्षिक सम्मेलन के दौरान अपना संबोधन देंगे. प्रधानमंत्री 25 सितंबर को कुछ बड़ी अमेरिकी कंपनियों के सीईओ (CEO) से भी मुलाकात कर सकते हैं. जो बाइडेन के राष्ट्रपति बनने के बाद मोदी की यह पहली अमेरिकी यात्रा है. अबकी बार ट्रंप कार्ड किस मुह से करेंगे मुलाकात ये तो थूक के चाटने जैसा होगा अबकी बार ट्रम्प सरकार लक्षदीप की जमीन को बेचेगा अमेरिका को इसके अलावा सब कुछ ढोंग होगा

मह‍िलाओं के हकों पर Taliban का डाका, महिला मामलों के मंत्रालय पर भी तालातालिबान की सरकार आने के बाद महिलाओं पर जोर जुल्म का सिलसिला पहले हफ्ते में ही शुरू हो गया था. साफ हो गया था कि तालिबान महिलाओं के हकों को लेकर बातें चाहे बड़ी-बड़ी करे लेकिन उसके असल इरादे कुछ और हैं. इसके बावजूद अफगानिस्तान में महिलाएं दम साधे इस बात का इंतजार करती रहीं कि तालिबान को अक्ल आएगी और वो अपने वादों के मुताबिक महिलाओं के लिए कुछ नरमी दिखाएगा. लेकिन अब ये उम्मीद धुंधला रही है और यही वजह है कि काबुल की सड़कों पर नारेबाजी करने के बाद ये महिलाएं महिला मामलों के मंत्रालय की उस इमारत के बाहर पहुंची जिस पर अब ताला जडा जा चुका है.ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

फ़्रांस और चीन जिस ऑकस समझौते से चिढ़े हैं, उस पर बोला भारत - BBC News हिंदीऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और अमेरिका के बीच हुए ऑकस रक्षा समझौते से दुनिया भर में हलचल है लेकिन इस भारत अब तक ख़ामोश था. 'लव-जिहाद' के शक़ में नाबालिग लड़के को पीटा, वीडियो इसी दावे के साथ वायरल,... via YouTube हला बोल: एक बी!बीएम मोडी 71 जन्मदिन पर 2 .50 करोड़ का टीकाकरण narendramodi 👇👇👇

UNGA में बाइडेन का संबोधन: चीन का जिक्र कर कहा- अमेरिका नया कोल्ड वॉर नहीं चाहता, आतंकवाद का सहारा लेने वाले हमारे सबसे बड़े दुश्मनचीन से तनातनी के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि हम एक नया शीत युद्ध (Cold War) नहीं चाहते हैं, जहां पर दुनिया का बंटवारा हो जाए। अमेरिकी उन सभी देशों के साथ काम करने को तैयार है, जो शांति के साथ आगे बढ़ना चाहते हैं, क्योंकि हम सभी अपनी असफलताओं के परिणाम भुगत चुके हैं। | Referring to China , said - America does not want a new cold war, ready to work together with everyone

ग्रेटर नोएडाः 500 रुपये के नोट पर हुआ विवाद, साले ने जीजा का कर दिया कत्लआरिफ ने 500 रुपये के नोट नहीं मिलने पर अपनी पत्नी से पूछताछ की, लेकिन इसी बात पर उसकी पत्नी ने उससे झगड़ा शुरू कर दिया. बाद में पत्नी ने अपने मायके वालों को फोन करके बुला लिया.

यूरोपियन स्पेस एजेंसी में चंद्रमा पर शोध करेगा सरकारी स्‍कूल में पढ़ा कांगड़ा का अनुज, जानिएAnuj Chaudhary Kangra सूबे के एक लाल ने यूरोपियन स्पेस एजेंसी में जगह पाकर पहाड़ का नाम रोशन किया है। जी हां यहां बात हो रही है जिला कांगड़ा की नगरोटा बगवां विधानसभा क्षेत्र के जंदराह गांव के 25 वर्षीय अनुज चौधरी की। Prabhu kre TOUCH new heights Every day beta,but apni SANATAN SANSKRITI SE JURHE rhna, JAI MAA KANGRE WALI KI