China, Malaysia, Southeastasia, चीन, आसियान, मलेशिया, फिलीपींस, दक्षिण चीन सागर, सीमा विवाद

China, Malaysia

चीनी आक्रामकता के साए में आसियान के साथ संबंधों के तीस साल | DW | 09.06.2021

मलेशिया सैन्य तौर पर तो चीन को नुकसान नहीं पहुंचा सकता लेकिन कूटनीतिक तौर पर मलेशिया की नाराजगी लंबे दौर में चीन को महंगी पड़ सकती है. @rahulmishr_ #China #Malaysia #SoutheastAsia

09-06-2021 18:03:00

मलेशिया सैन्य तौर पर तो चीन को नुकसान नहीं पहुंचा सकता लेकिन कूटनीतिक तौर पर मलेशिया की नाराजगी लंबे दौर में चीन को महंगी पड़ सकती है. rahulmishr_ China Malaysia SoutheastAsia

चीन और दक्षिण एशियाई देशों के संगठन आसियान के दस देश अपने संबंधों की तीसवीं सालगिरह मनाने के लिए चीन के चोंगचिंग शहर में इकट्ठा हुए थे. लेकिन माहौल दोस्ती और उमंग से कहीं ज्यादा संदेह और छल के अहसास का था.

मलेशिया के साथ चीन के संबंध काफी अच्छे रहे हैं. बरसों की तल्खी के बाद 1974 में जब दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संबंधों की स्थापना हुई, तब से इनमें व्यापक बदलाव आया है. खास तौर पर पिछले दो दशकों में इन रिश्तों में ज्यादा नजदीकियां आयी हैं. लेकिन जिस चीन के लिए मलेशिया पालक पांवड़े बिछा कर बैठा रहता है जब उसी चीन ने मलेशिया की सीमा में एक के बाद एक अतिक्रमण करना शुरू किया तो मलेशिया की हैरानी और परेशानी का ठिकाना नहीं रहा. 31 मई को जब चीन के लड़ाकू विमान मलेशिया की हवाई सीमा में बिना इजाजत उड़ते पाए गए तो इससे मलेशिया की वायु सेना में काफी रोष दिखा.

राजस्थान: पाकिस्तान की जीत पर खुशी मनाने वाली शिक्षिका को नौकरी से निकाला, FIR दर्ज - BBC Hindi पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने वाले कश्मीरी छात्रों पर यूएपीए के तहत केस दर्ज - BBC Hindi कश्मीरः 'क्रॉस फ़ायरिंग' में मारे गए शाहिद के परिवार का आरोप- ये टारगेट किलिंग है - BBC Hindi

चीन के जहाज इलाके में अतिक्रमण करते रहते हैंमलेशिया का खुला विरोधजिस इलाके में चीनी लड़ाकू विमान उड़ते पाये गए वह मलेशिया के विशेष आर्थिक क्षेत्र में आता है लेकिन चीन उस पर अपना अधिकार जमाने की चेष्टा करता रहा है. दक्षिण चीन सागर क्षेत्र में चीनी सेना और मिलीशिया का अतिक्रमण आम हो चुका है. मलेशिया अतिक्रमण की इन घटनाओं पर ज्यादा शोर शराबा करने के बजाय सार्वजनिक तौर पर दबी जबान विरोध करता रहा है. चीन को इस बात का अच्छी तरह अंदाजा है कि कोविड-19 महामारी के बीच वैक्सीन की कमी से जूझ रहे मलेशिया के लिए चीन के इस आक्रामक कदम का तुरंत जवाब देना संभव नहीं होगा. लेकिन ऐसी उम्मीदों के उलट मलेशिया ने चीन की हवाई अतिक्रमण की हरकत पर जमकर विरोध जताया.

विदेश मंत्री हिशमुद्दीन हुसैन ने आधिकारिक  वक्तव्य जारी करने के साथ-साथ सोशल मीडिया पर भी चीनी सेना की हरकत की आलोचना की. उसी दिन मलेशिया के विदेश मंत्रालय ने चीनी राजदूत ओयांग यूजिंग को तलब किया और अपनी सरकार का विरोध जताया. हालंकि चीनी लड़ाकू विमान मलेशिया की सीमा में सरावाक प्रांत के हवाई जोन के अंदर 110 किलोमीटर तक आ गए थे, लेकिन चीन इस बात से ही साफ मुकर गया कि उसके जहाज मलेशिया की सीमा में गलती से भी घुसे थे. वहीं चीनी मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि हवाई उड़ान तो हुई थी लेकिन वह एक रेस्क्यू आपरेशन प्रक्रिया का हिस्सा थी. चीनी मीडिया के कुछ हलकों में यह भी कहा गया कि मलेशिया इस बात को जरूरत से ज्यादा तूल दे रहा है. वह देश जिनके साथ चीन के संबंध आम तौर पर खटास भरे रहते हैं उनकी बातों को तो दरकिनार कर भी दिया जाय लेकिन उस देश का क्या जिसने चीन के साथ संबंधों में कभी कोई खरोंच न आने देने की हर कोशिश की है? headtopics.com

गौर से देखा जाय तो मलेशिया की सिर्फ यही गलती है कि दक्षिण चीन सागर के कुछ विवादित क्षेत्रों में उसकी भी दावेदारी है और दक्षिण पूर्व एशिया के अन्य दावेदारों, ब्रूनेई, फिलीपींस और वियतनाम की तरह वह भी इस क्षेत्र को विवादित मानता है. स्प्रैटली द्वीपसमूहों के अलावा सरावाक प्रांत के नजदीक लूकोनिया शोएल पर मलेशिया की दावेदारी है. यह इलाका मलेशिया के लिए खासी अहमियत रखता है क्योंकि हाइड्रोकार्बन संसाधनों के अलावा जैविक समुद्री संसाधन और मछलियां भी यहां प्रचुर मात्रा में पायी जाती हैं. लेकिन दक्षिण चीन सागर के मामले में भी वियतनाम जैसे देशों के उलट मलेशिया चीन या किसी और देश के साथ विवाद को कम से कम हवा देने में यकीन रखता है.

दक्षिण चीन सागर में इलाके के देशों के दावेचीन के लिए भी अहम हैं मलेशिया से रिश्तेमलेशिया के पांव में बेड़ियां कई हैं जिनकी वजह से वह चीन को लेकर सजग लेकिन शांत रहता है. आर्थिक मामलों में चीन मलेशिया का सबसे बड़ा सहयोगी है. दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आर्थिक ताकत होने के अलावा चीन मलेशिया का सबसे बड़ा व्यापारिक पार्टनर भी है. कोविड की मार झेल रही मलेशियाई अर्थव्यवस्था के लिए चीन उम्मीद की एक बड़ी किरण है. चीन के कुछ अहम औद्योगिक और इन्फ्रास्ट्रक्चर निवेश मलेशिया को चीनी कंपनियों पर बहुत निर्भर बनाते हैं. वैक्सीन का ही उदाहरण ले लीजिए. वैसे तो मलेशिया ने बड़े पैमाने पर फाइजर वैक्सीन मंगाने का करार अमेरिकन कंपनी से कर रखा है लेकिन फाइजर ने मलेशिया को एक तो जरूरत से कम टीके दिए हैं और आपूर्ति में भी देरी की है. ऐसे में चीन की वैक्सीन पर निर्भर रहने के अलावा मलेशिया सरकार के पास कोई और चारा नहीं है.

दक्षिण चीन सागर में विवादों के बीच, चीन ने नाइन-डैश लाइन के जरिये अपने रवैए को और आक्रामक बनाया है. इंडोनेशिया, वियतनाम, फिलीपींस, जापान, और ताइवान जैसे देशों की सीमाओं में लगातार अतिक्रमण किया है जिससे इन देशों ने भी अपने तेवर तीखे करने शुरू कर दिए हैं. मलेशिया सैन्य तौर पर तो चीन को नुकसान नहीं पहुंचा सकता लेकिन कूटनीतिक तौर पर मलेशिया की नाराजगी लंबे दौर में चीन को महंगी पड़ सकती है. मलेशिया दक्षिण पूर्व एशिया में उसके गिने चुने दोस्तों की फेरहिस्त में है. मलेशिया ने दक्षिण पूर्व एशिया में चीन की कूटनीतिक पकड़ और सॉफ्ट पावर बढ़ाने में योगदान दिया है. चीनी हवाई अतिक्रमण की यह घटना अपने आप में एक अपवाद बनी रहे यही चीन और मलेशिया संबंधों के लिए बेहतर होगा.

राहुल मिश्र मलाया विश्वविद्यालय के एशिया-यूरोप संस्थान में अंतरराष्ट्रीय राजनीति के वरिष्ठ प्राध्यापक हैं. और पढो: DW Hindi »

आखिर सवालों मे क्यों है केंद्रीय जांच एजेंसियों की साख? देखें 10 तक

राष्ट्र की आंतरिक सुरक्षा की रीढ़ मानी जाने वाली जांच एजेंसियों के लिए सबसे ज्यादा जरूरी चीज है साख. लेकिन वो साख अब सवालों में हैं. आपको शायद याद होगा साल 2013 में कोयला घोटाले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सीबीआई पिंजरे में बंद वो तोता बन गयी है जो अपने मालिक की बोली बोलती है. अब साल है 2021, सीबीआई ही नहीं बल्कि ईडी और एनसीबी तक जैसी बड़ी जांच एजेंसियों पर भरोसा छोटा ना हो इसलिए जरूरी है दस्तक देना. इस वक्त मुंबई में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी नशे के जाल से देश को बचाने वाली एजेंसी वो तालाब बन गई है, जिसके पानी की साख पर सवाल उठ रहे हैं. देखिए 10 तक का ये एपिसोड.

rahulmishr_ Excellent

Burning Train: कैफियत एक्सप्रेस के स्लीपर कोच के निचले हिस्से में आग, यात्रियों में अफरा-तफरीBurning Train रात डेढ़ बजे कानपुर टूंडला रेलखंड में पनकी के पास हुआ हादसा आधा घंटे खड़ी रही ट्रेन। ट्रेन के गार्ड ने अग्निशमन उपकरण से बुझाई आग सहम गए थे यात्री। अगर गार्ड की नजर नहीं पड़ती तो आग बोगी को अपनी चपेट में ले लेती।

UP के पूर्वांचल में बदला मौसम का मिजाज, इन इलाकों में बारिश के आसार | purvanchal,लखनऊ। उत्तरप्रदेश में पूर्वांचल से लेकर लखनऊ तक कई जिलों में हुई हल्की बारिश के बाद मौसम का मिजाज बदल गया है। मौसम विभाग के मुताबिक लगभग 15 जिलों में अगले कुछ घंटों में बारिश हो सकती है। यहां लगभग 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की भी संभावना है।

सबको फ्री वैक्सीन के पीएम मोदी के ऐलान के क्या हैं मायने, पांच प्वाइंट में समझेंप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश की किसी भी राज्य सरकार को वैक्सीन पर कुछ भी खर्च नहीं करना होगा. अब तक देश के करोड़ों लोगों को मुफ्त वैक्सीन मिली है, अब 18 वर्ष की आयु के लोग भी इसमें जुड़ जाएंगे. Right sir Lock down kb khatam hoga modi ji फिर पांच झूठ

आसियान देशों में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए अब चीन ने उठाया ये बड़ा कदम आसियान देशों में अपना प्रभाव बढ़ाने के मकसद से चीन इस सप्‍ताह सदस्‍य देशों के विदेश मंत्रियों का सम्‍मेलन आयोजित कर रहा है। इसका एक मकसद अमेरिका को भी कांउटर करने का है। यह सम्मेलन मंगलवार को देश के चोंगकिंग शहर में आयोजित किया जाएगा।

कोविड-19: संक्रमण के एक दिन में 100,636 नए मामले और 2,427 लोगों की मौतभारत में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 28,909,975 हो गए हैं और अब तक 349,186 की मौत हो चुकी है. विश्व में 17.33 करोड़ से ज़्यादा संक्रमण के मामले सामने आए हैं, जबकि 37.29 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई है. Aur xutiye mana rahe hai COVID control ho gaya

Share Market Today : फ्लैट ओपनिंग के बाद लुढ़के सेंसेक्स-निफ्टी, मेटल और बैंकिंग शेयरों में गिरावटSensex, Nifty today: बाजार में आज सपाट ओपनिंग हुई है. दोनों ही बेंचमार्क इंडेक्स फ्लैट नोट पर खुले. सेक्टरों में गिरावट देखी गई. बैंकिंग शेयर आज ओपनिंग में कमजोर दिखे हैं. आज ग्लोबल बाजारों से मिले-जुले संकेत मिले थे. please released SSC selection post IX notification. SSC selection post viii is already declared. please released it many of the student's ages are above 30 in this month June.