चिराग़ पासवान: 'चाचा' पशुपति पारस क्यों हुए बाग़ी, एलजेपी में बिखराव की इनसाइड स्टोरी - BBC News हिंदी

चिराग़ पासवान: 'चाचा' पशुपति पारस क्यों हुए बाग़ी - इनसाइड स्टोरी

14-06-2021 17:33:00

चिराग़ पासवान: 'चाचा' पशुपति पारस क्यों हुए बाग़ी - इनसाइड स्टोरी

राम विलास पासवान ने बेटे चिराग़ को उत्तराधिकारी बनाया था लेकिन पिता की मौत के नौ महीने बाद कैसे छूट गई उनकी पार्टी से पकड़, पढ़िए.

?बिहार की राजनीति में सोमवार सुबह जिस राजनीतिक घटनाक्रम का एक अध्याय पूरा हुआ है, उसकी शुरुआत बिहार विधानसभा चुनाव से हुई.चिराग़ के चाचा पशुपति नाथ पारस ने पत्रकारों से कहा, “कुछ असामाजिक तत्वों ने हमारी पार्टी में सेंध लगाई और उसने 99 फीसदी कार्यकर्ताओं की भावना की अनदेखी करते हुए गठबंधन को तोड़ दिया. और ये गठबंधन एक दूसरे ही ढंग से तोड़ा गया. किसी से हम दोस्ती करेंगे, किसी से प्यार करेंगे, किसी से नफरत करेंगे. इसका परिणाम ये हुआ कि बिहार में एनडीए गठबंधन कमजोर हुआ. और लोक जनशक्ति पार्टी बिलकुल समाप्ति के कगार पर पहुंच गयी. पिछले छह महीने से हमारी पार्टी के पाँचों सांसदों की इच्छा थी कि पार्टी को बचा लिया जाए. मैंने पार्टी को तोड़ा नहीं, बचाया है.”

भारत-चीन सीमा पर तनाव: लद्दाख का विवाद आख़िर कब और कैसे सुलझेगा? - BBC News हिंदी प्रधानमंत्री मोदी से मिलीं ममता बनर्जी, बताया क्या हुई बात - BBC Hindi मिज़ोरम के साथ संघर्ष पर असम के मुख्यमंत्री बोले- एक इंच ज़मीन नहीं लेने देंगे - BBC News हिंदी

पारस अपने कदम को सही ठहरा रहे हैं लेकिन स्पष्ट रूप से ये नहीं बताते हैं कि आख़िर राम विलास पासवान की मौत के मात्र नौ महीने के अंदर पार्टी में फूट कैसे पड़ गयी.बिहार की राजनीति को क़रीब से समझने वाले वरिष्ठ पत्रकार मणिकांत ठाकुर मानते हैं कि इस बंटवारे की एक वजह बाग़ी पक्ष की व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाएं हैं.

इमेज स्रोत,LJPइमेज कैप्शन,रामविलास पासवान और उनके छोटे भाई रामचंद्र पासवानमहत्वाकांक्षा का टकरावमणिकांत ठाकुर कहते हैं, “राम विलास पासवान ने जिस तरह राष्ट्रीय स्तर पर एक चर्चित दलित नेता की छवि अख़्तियार की थी, उसे देखकर लगता था कि अब उनके दल में उन जैसा दूसरा नेता नहीं होगा. और जब तक उनके हाथ में शक्ति रही तब तक उनके परिवार में किसी की उनसे ऊंची आवाज़ में बहस करने की मजाल नहीं थी. रामविलास जी भी पूरी मुस्तैदी से परिवार के सभी सदस्यों का ख्याल रखते थे. पशुपति नाथ पारस को विधायक से सांसद तक रामविलास जी ही पहुंचाए हैं. इसके चलते उन पर अक्सर एक आरोप लगता था कि एलजेपी एक परिवार की पार्टी है." headtopics.com

वो आगे कहते हैं, "रामविलास जी इस बात से कभी हिचकिचाते नहीं थे. बल्कि वे खुलकर इसका बचाव करते थे. लेकिन उनके जाने के बाद से जिस तरह पार्टी की बागडोर और चुनावी फैसले लेने की ज़िम्मेदारी चिराग़ पासवान के कंधों पर आई, जिस तरह से फैसले लिए गए, उससे परिवार में असंतोष के भाव पनपने शुरू हुए हैं. अब इन लोगों ने ये देखा कि ये (चिराग़ पासवान) जो चाहेंगे वह करेंगे. रामविलास जी के भाई रामचंद्र पासवान के बेटे प्रिंस राज की महत्वाकांक्षाएं चिराग़ पासवान जैसी ही हैं. ऐसे में पशुपति नाथ पारस से लेकर प्रिंस राज समेत अन्य लोगों, जो कि रामविलास जी के पीछे चलने के लिए राज़ी थे, को चिराग़ पासवान के पीछे चलना मंजूर नहीं है.”

इमेज स्रोत,TWITTER@ICHIRAGPASWANइमेज कैप्शन,चिराग़ पासवान और उनके भाई प्रिंस राज पासवानविचारोंमें अंतरबिहार के पिछले विधानसभा चुनाव के वक़्त चिराग़ पासवान सीएम नीतीश कुमार के प्रति अपने आक्रामक रुख के लिए चर्चा में थे.चिराग़ ने टीवी इंटरव्यू और चुनावी सभाओं में नीतीश कुमार को खुलकर निशाना बनाया जिसका असर नतीजों में भी दिखाई दिया.

ठाकुर बताते हैं कि चिराग़ और एलजेपी का नीतीश कुमार पर हमलावर रुख़ पशुपति नाथ पारस के राजनीतिक स्वभाव से मेल नहीं खाता था. और पढो: BBC News Hindi »

बारिश से तबाही के 15 फोटो: महाराष्ट्र में बाढ़-लैंडस्लाइड से 138 लोगों की मौत, 53 घायल और 99 लापता; बाढ़ प्रभावित इलाकों से 1.35 लाख लोगों को हटाया गया

महाराष्ट्र में बारिश के चलते हालात खतरनाक बने हुए हैं। लगातार कई दिनों से हो रही बारिश की वजह से सांग्ली, सतारा, रत्नागिरी, रायगढ़, कोल्हापुर और ठाणे में भयानक हादसे हुए हैं, जिनमें 138 लोगों की मौत हुई है। यहां NDRF की 34 टीमें राहत और बचाव कार्यों में जुटी हैं, लेकिन बारिश और बाढ़ के बाद बर्बादी के निशान साफ देखे जा सकते हैं। | Monsoon update in Indian states; heavy rains expected in Bihar, Rajasthan, Uttar Pradesh, Maharashtra उत्तर प्रदेश, राजस्थान और बिहार में अगले दो दिनों में हो सकती है भारी बारिश; महाराष्ट्र में नहीं थम रही आसमानी आफत

नेता लोग घटिया होते हैं मौसम विज्ञानि सक्रीय हो उठा है। इतिहास में कभी चाचा ने भतीजा ओर भतीजे ने चाचा को छोड़ा क्या!! Chirag ko aag lag gaee ghar ke hi chirag se Just a maze of family politics इनलोग से पहले मिलो फिर पता चलेगा ? Ye neta kya desh ka bhala karenge Inse apna ghar sambhala nahi ja raha जो मेहनत से मकाम हासिल करते हैं, उनको उसकी अहमियत पता होती है। लेकिन चिराग को तो विरासत में मिली है इसलिए संभाल नहीं पाय

हमें तो अपनो ने लूटा ग़ैरों में कहा दम था चिराग़ पासवान राइट नाव😹 Karma.

चिराग पासवान के ख़िलाफ़ चाचा पशुपति कुमार पारस ने खोला मोर्चा - BBC Hindiलोजपा सांसद और पार्टी अध्यक्ष चिराग पासवान के चाचा पशुपति कुमार पारस ने एएनआई से बातचीत में कहा है कि वो पार्टी को बचाना चाहते हैं. यहां युपी जैसा कुछ घटित होने वाला है नहीं क्योंकि चिराग पढ़ा लिखा वे संस्कारी है ..... आखिर चाचा ही क्यों लेते हैं पंगा 😂😂 जो चिराग टिमटिमा रहे है यह याद दिलाते हैं कि धृतराष्ट्र आज भी जिंदा है और हर राजघरानों में भी ?

बिहार : LJP के सियासी ड्रामे के बीच चाचा पशुपति पारस से मिलने पहुंचे चिराग पासवानलोक जनशक्ति पार्टी के भीतरी कलह सबके सामने आने के बाद बिहार की राजनीति में सियासी चहलदमी का दौर तेज हो गया है. लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान पार्टी के सांसद और चाचा पशुपति कुमार पारस के आवास पर उनसे मिलने पहुंचे है. इस मौके पर वहां भारी संख्या में मीडिया मौजूद है. REET2018_JOINING_DO Sos_Sourabh ashokgehlot51 GovindDotasra pantlp DrSatishPoonia lkantbhardwaj RajShikshaNews RajCMO कब होगा न्याय इस पर कब ध्यान दोगे। me_moharsingh RahulGandhi priyankagandhi बीजेपी और जेडीयू ने एलजेपी को हमेशा के लिए सफाया कर दिया अगले विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार खुद निपट जाएंगे, भाजपा ने उन्हें 2022 में स्लीपर, सृजन, ऐस्टीमेट धोटाला में जेल भेजकर मानेगी

चिराग पासवान चाचा पशुपति कुमार पारस से मिलने उनके घर पहुंचे - BBC Hindiलोजपा के 5 सांसदों ने लोकसभा अध्यक्ष को पत्र लिखकर पशुपति कुमार पारस को संसदीय दल का नेता बनाने की मांग की थी जिसके बाद पशुपति कुमार पारस ने चिराग पासवान के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है. 16 करोड़ 5 मिनट में... सही है जब राम जी देते है तो छप्पर फाड़ के देते है... जय श्री राम 16 करोड़ नही 16.5 करोड़ चिराग तले अंधेरा

मैंने LJP को तोड़ा नहीं, उसे बचाया है : बागी नेता पशुपति पारस पासवानलोक जनशक्ति पार्टी में हुई टूट और चिराग पासवान के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंकने के बाद पशुपति पारस ने आज प्रेस कांफ्रेंस करके अपना पक्ष रखा है. पार्टी को तोड़ने के आरोपों के जवाब में उन्होंने कहा कि मैं पार्टी को तोड़ने नहीं बल्कि बचा रहा हूं. उन्होंने इसे मजबूरी भरा फैसला बताते हुए कहा कि यह मजबूरी का फैसला है, हम तीन भाई थे. हमारे पांचो सांसद की इच्छा थी कि पार्टी को टूटने से बचाया जाए. मेरा दुर्भाग्य है कि मेरे दोनों भाई छोड़कर गए हैं. उन्होंने कहा कि कुछ असामाजिक तत्व ने आकर विध्न डाला और हमारे 99 प्रतिशत कार्यकर्ता नाराज हैं. 2014 में सभी की इच्छा थी कि हम एनडीए को पार्ट बने. Technical helper vacancy jari kro

मां की ताजपोशी का प्रस्ताव ले चाचा के पास गए चिराग, पर नहीं बनी बातपांचों सांसदों ने पशुपति कुमार पारस को पार्टी का नेता चुन लिया। वहीं सांसद चौधरी महबूब अली कैसर को पार्टी का उपनेता चुना गया है।

बिहार: एलजेपी में चिराग पासवान के खिलाफ बगावत, जेडीयू में शामिल हो सकते हैं पांचों सांसदबिहार की राजनीति में बड़ा नाटकीय मोड़ आ गया है. राम विलास पासवान की एलजेपी में फूट पड़ गई है. पांच सांसद चिराग पासवान से नाराज हैं और उनकी तरफ से लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को एक चिट्ठी भी लिखी गई है. मांग की गई है कि अब उन्हें अलग मान्यता दी जाए. वे पांचों सांसद जेडीयू ज्वॉइन कर सकते हैं. Himanshu_Aajtak iChiragPaswan अब कौन सा नारा देंगे श्रीमान? Himanshu_Aajtak Father Jitna chalak the beta utna bda Gobar Ganesh h iChiragPaswan Himanshu_Aajtak इन्हें भोजपुरी सिनेमा में काम करना चाहिए, राजनीति में अभिनय ज़्यादा लंबा नहीं चलता, कट हो ही जाता है