Manmohansingh, Economy, Former Pm Manmohan Singh, Manmohan Singh, İndian Economy, Pm Manmohan Singh, Petrol Diesel Price, Petrol-Diesel Price Hike, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, पेट्रोल-डीजल, महंगाई, Business News İn Hindi, Business Diary News İn Hindi, Business Diary Hindi News

Manmohansingh, Economy

चिंता: पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा- देश की अर्थव्यवस्था के लिए आगे की राह और कठिन

देश में पेट्रोल-डीजल के दाम अब तक के सबसे उच्चतम स्तर पर हैं। इसकी वजह से थोक महंगाई दर में भी वृद्धि हुई है। इसे लेकर

23-07-2021 21:58:00

चिंता: पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा- देश की अर्थव्यवस्था के लिए आगे की राह और कठिन ManmohanSingh Economy INCIndia BJP4India

देश में पेट्रोल-डीजल के दाम अब तक के सबसे उच्चतम स्तर पर हैं। इसकी वजह से थोक महंगाई दर में भी वृद्धि हुई है। इसे लेकर

उन्होंने शुक्रवार को कहा कि देश के लिए आगे की राह 1991 के आर्थिक संकट से भी ज्यादा चुनौतीपूर्ण है और देश को सभी भारतीयों के लिए सम्मानजनक जीवन सुनिश्चित करने के लिए अपनी प्राथमिकताओं को फिर से जांचना होगा। आगे कहा कि देश में अर्थव्यवस्था के लिहाज से काफी मुश्किल वक्त आने वाला है।

नक्सलियों की आय के स्रोतों को बंद करना बेहद ज़रूरी: अमित शाह - BBC Hindi न्यायापालिका में महिलाओं को हक से मांगना चाहिए आरक्षण: सीजेआई रमन्ना - BBC Hindi इसराइल और यूरोप की कंपनियां कैसे अब खाने के लिए टिड्डे और झींगुर जैसे कीड़े तैयार कर रही हैं? - BBC News हिंदी

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह देश के जाने माने अर्थशास्त्री हैं और देश के वित्त मंत्री की गद्दी भी बेहतर तरीके से संभाल चुके हैं। मनमोहन सिंह 1991 के ऐतिहासिक बजट के 30 साल पूरा होने के मौके पर अपनी बात रख रहे थे। उन्होंने कोरोना महामारी के बाद पैदा हुए आर्थिक संकट पर चिंता व्यक्त की।

उन्होंने कहा कि 1991 में 30 साल पहले, कांग्रेस पार्टी ने भारत की अर्थव्यवस्था के महत्वपूर्ण सुधारों की शुरुआत की थी और देश की आर्थिक नीति के लिए एक नया मार्ग प्रशस्त किया था। पिछले तीन दशकों के दौरान विभिन्न सरकारों ने इस मार्ग का अनुसरण किया और देश की अर्थव्यवस्था तीन हजार अरब डॉलर की हो गई और यह दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। headtopics.com

अपने बयान में मनमोहन सिंह ने कहा कि ये सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि इन 30 सालों में करीब 30 करोड़ भारतीय नागरिक गरीबी को मात दे चुके हैं लाखों करोड़ों नौकरियों के मौके बने हैं। सुधारों की प्रक्रिया आगे बढ़ने से स्वतंत्र उपक्रमों की भावना शुरू हुई जिसका परिणाम यह है कि भारत में कई विश्व स्तरीय कंपनियां अस्तित्व में आईं और भारत कई क्षेत्रों में वैश्विक ताकत बनकर उभरा।

उन्होंने कहा कि वह सौभाग्यशाली हैं कि उन्होंने कांग्रेस में कई साथियों के साथ मिलकर सुधारों की इस प्रक्रिया में भूमिका निभाई। इससे उनको काफी खुशी और गर्व की अनुभूति होती है। आगे कहा कि पिछले तीन दशकों में हमारे देश ने शानदार आर्थिक प्रगति की। लेकिन कोविड के कारण हुई तबाही और करोड़ों नौकरियां जाने से वह बहुत दुखी हैं।

विस्तार विपक्ष सरकार पर हावी है। संसद में हंगामा काफी चल रहा है। वहीं आर्थिक मोर्चे पर भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने चिंता जताई है।विज्ञापनउन्होंने शुक्रवार को कहा कि देश के लिए आगे की राह 1991 के आर्थिक संकट से भी ज्यादा चुनौतीपूर्ण है और देश को सभी भारतीयों के लिए सम्मानजनक जीवन सुनिश्चित करने के लिए अपनी प्राथमिकताओं को फिर से जांचना होगा। आगे कहा कि देश में अर्थव्यवस्था के लिहाज से काफी मुश्किल वक्त आने वाला है।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह देश के जाने माने अर्थशास्त्री हैं और देश के वित्त मंत्री की गद्दी भी बेहतर तरीके से संभाल चुके हैं। मनमोहन सिंह 1991 के ऐतिहासिक बजट के 30 साल पूरा होने के मौके पर अपनी बात रख रहे थे। उन्होंने कोरोना महामारी के बाद पैदा हुए आर्थिक संकट पर चिंता व्यक्त की। headtopics.com

पंजाब में चरणजीत सिंह चन्नी की सरकार का पहला कैबिनेट विस्तार - BBC Hindi जीएसटी रिफंड पाने के लिए आधार कार्ड का सत्यापन हुआ अनिवार्य - BBC Hindi नीतीश ने फिर दोहराई जाति जनगणना की मांग, बताया राष्ट्र हित में - BBC Hindi

उन्होंने कहा कि 1991 में 30 साल पहले, कांग्रेस पार्टी ने भारत की अर्थव्यवस्था के महत्वपूर्ण सुधारों की शुरुआत की थी और देश की आर्थिक नीति के लिए एक नया मार्ग प्रशस्त किया था। पिछले तीन दशकों के दौरान विभिन्न सरकारों ने इस मार्ग का अनुसरण किया और देश की अर्थव्यवस्था तीन हजार अरब डॉलर की हो गई और यह दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है।

अपने बयान में मनमोहन सिंह ने कहा कि ये सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि इन 30 सालों में करीब 30 करोड़ भारतीय नागरिक गरीबी को मात दे चुके हैं लाखों करोड़ों नौकरियों के मौके बने हैं। सुधारों की प्रक्रिया आगे बढ़ने से स्वतंत्र उपक्रमों की भावना शुरू हुई जिसका परिणाम यह है कि भारत में कई विश्व स्तरीय कंपनियां अस्तित्व में आईं और भारत कई क्षेत्रों में वैश्विक ताकत बनकर उभरा।

उन्होंने कहा कि वह सौभाग्यशाली हैं कि उन्होंने कांग्रेस में कई साथियों के साथ मिलकर सुधारों की इस प्रक्रिया में भूमिका निभाई। इससे उनको काफी खुशी और गर्व की अनुभूति होती है। आगे कहा कि पिछले तीन दशकों में हमारे देश ने शानदार आर्थिक प्रगति की। लेकिन कोविड के कारण हुई तबाही और करोड़ों नौकरियां जाने से वह बहुत दुखी हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

US दौरे पर PM मोदी, अब होगा आतंक पर वार! देखें हल्ला बोल

दो साल बाद अमेरिका के लिए पीएम मोदी की उड़ान तेजी से बदलती दुनिया में भारत की आन-बान और शान को दमदार अंदाज़ में दर्ज कराएगी. ये पहला मौका होगा जब प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर जो बाइडेन आमने सामने मुलाकात करेंगे. माना जा रहा है कि पीएम मोदी और जो बाइडेन की मुलाकात में अफगानिस्तान में तालिबान राज और उसके बाद के बढ़ते खतरे पर भी बात होगी. भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूती देने के अलावा प्रधानमंत्री के एजेंडे में आतंकवाद पर दुनिया को कड़ा संदेश देना भी शामिल होगा. SCO की बैठक में पीएम मोदी आतंकवाद को लेकर चीन और पाकिस्तान के सामने खरी-खरी सुना चुके हैं. आज हल्ला बोल में देखें इसी मुद्दे पर चर्चा.

INCIndia BJP4India मौन मोहन तुम मौनी बाबा ही बने रहो,तुम कभी ना बोले था बोल सकते हो,तुम सिर्फ रीमोर्ट से ही कन्ट्रोल होते हो।। INCIndia BJP4India Yes he is right INCIndia BJP4India कोई फायदा नही अभी प्याज वाली आंटी प्याज नही खाती इसलिए खायेगी तो इकोनॉमी ही INCIndia BJP4India आदरणीय सरकार देश की अर्थ व्यवस्था चालान काटकर जुर्माना लगाकर नौकरी फ़ार्म शुल्क वृद्धी कर गैस पेट्रोल डीज़ल मूल्य बढ़ाकर करने के अलावा दूसरा तरीक़ा जानती ही नहीं जिस देश की जनता का नौकर कहे उसके रसोईया में प्याज़ इस्तमाल किया ही नहीं जाता ऐसे नौकरों से उम्मीद ही क्या की जा सकती ?

INCIndia BJP4India कहा नहीं होगा भाइ,, लिखा होगा 🤔🤔😷😷😷😷🙏 INCIndia BJP4India Better than corruption INCIndia BJP4India Unhone nahi kaha , unhe kahne ke liye kaha gaya. Few understand this. 😆😆 INCIndia BJP4India पत्रकीर्कता करने की जरूरत क्या है पत्तल चटाई करो बस। 7 साल से देश की अर्थव्यवस्था हर दिन गड्ढे में जा रही है तुम्हे दिखाई नहीं देता

INCIndia BJP4India Itna arth sahsr to mungfali bechne vala bhi janta hai aap use jyada kya jante ho vo batao vo bhi vistra me INCIndia BJP4India Thank God, you started to speak. Good for your health. Hope Italian Sambar has given you some relaxation. INCIndia BJP4India हमें क्या हम तो भक्त लोग हैं 😏😏😏

नाकामी: देश के पास नहीं है ऑक्सीजन की कमी से मौतों का पता लगाने वाली प्रणालीऑक्सीजन या फिर स्वास्थ्य सेवाओं की कमी से एक भी मौत न होने के बाद हर कोई अलग अलग तर्क दे रहा है जबकि स्वास्थ्य विशेषज्ञ

INCIndia BJP4India INCIndia BJP4India राजमाता के तलुवे चाट चाट कर सही कर दो न ,, INCIndia BJP4India Hmm......congress hoti to aage ki raah bhi nhi hoti... INCIndia BJP4India

Kargil फतह की 22वीं सालगिरह पर Indian Army की बाइक रैली, देखें देश का गौरवद्रास ये वो जगह है, जहां आने पर दिल जोश से भर जाता है. ये वो जगह है जो हिंदुस्तान के शौर्य और पराक्रम का गवाह है. ये याद दिलाता है उन जवानों कि जिन्होंने अपनी जान देकर कारगिल का युद्ध जीता. उन शहीदों की याद में आर्मी ने दो दिनों की ध्रुव कारिगल बाइक रैली की. कल उधमपुर से शुरु हुआ ये सफर आज द्रास में खत्म हुआ. रैली के दूसरे दिन जवानों का ये काफिला चिनार कोर हेडक्वार्टर से निकला, तो सभी के दिल जोश से भरे हुए थे. एक साथ 25 बाइक्स की आवाज आसमान में गूंज रही थी. इस बाइक रैली की अगुवाई खुद दोनों कोर कमांडर कर रहे थे. देखें तेज 'देश का गौरव'.

ओलंपिक खेलों में विजयगाथा लिखने को बेताब देश की बेटियां, अभूतपूर्व सफलता की कामनामहिलाओं को खेल में समर्थन मिलने से समाज में बड़े बदलाव देखने को मिले जिससे कई पूर्वाग्रह खत्म हो गए। अब उम्मीद है कि टोक्यो ओलिंपिक से सफलता की एक नई गाथा शुरू होगी। आज लड़कियां समाज के हर क्षेत्र और पहलू को प्रभावित कर अपनी छाप छोड़ रही हैं। Anurag_Office BJP4India जय हो

बॉलीवुड के चमकते चेहरों के पीछे छिपी कमाई की भद्दी सोचमुंबई फिल्मजगत में इन दिनों दो घटनाओं की चर्चा है। टी सीरीज के प्रमुख भूषण कुमार पर एक महिला द्वारा लगाया गया यौन शोषण का आरोप और राज कुंद्रा की कथित पोर्न फिल्म कारोबार में संलिप्तता। वैसे तो बाॅलीवुड के दिनभर ज्ञान बांटते रहते हैं। परंतु जैसे ही कोई बाॅलीवुड वाला गंभीर अपराध में पकड़े जाता है तो बाॅलीवुड वाले चुप्पी साध लेते हैं।

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम : हाईकोर्ट जजों की नियुक्ति के लिए 80 नामों की सिफारिशसुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम : हाईकोर्ट जजों की नियुक्ति के लिए 80 नामों की सिफारिश SupremeCourt Collegium Rajyasabha KirenRijiju

आंदोलन के दौरान किसानों की मौत पर बोले कृषि मंत्री- सरकार के पास कोई रिकॉर्ड नहींकृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्यसभा में लिखित उत्तर में कहा, ‘‘इन कृषि कानूनों के कारण किसानों के मन में पैदा हुई आशंकाओं के कारणों का पता लगाने के लिए कोई अध्ययन नहीं कराया गया है।’’