Coronavaccine, Coronavirus, Corona Vaccine, Corona Vaccine Registration, Corona Update, Corona Update Noida, Coronavirus İndia, Corona Cases İn İndia Today, Covid Vaccine, Covid-19 Vaccine, Delhi News İn Hindi, Latest Delhi News İn Hindi, Delhi Hindi Samachar

Coronavaccine, Coronavirus

चिंता: वैक्सीन लेने के बाद रक्त का जमने लगा थक्का, एक मरीज की मौत, छह का इलाज जारी

वैक्सीन लेने के बाद रक्त का थक्का जमने के मामले अब भारत में भी सामने आए हैं।

19-10-2021 06:00:00

वैक्सीन लेने के बाद रक्त का थक्का जमने के मामले अब भारत में भी सामने आए हैं। coronavaccine MoHFW_INDIA

वैक्सीन लेने के बाद रक्त का थक्का जमने के मामले अब भारत में भी सामने आए हैं।

अस्पताल के अनुसार कोविड वैक्सीन के जरिए इन मरीजों में थ्रोम्बोटिक थ्रोम्बोसाइटोपेनिया (वीआईटीटी) नामक परेशानी देखने को मिली जो रक्त का थक्का जमने के बाद देखने को मिलती है। अभी छह मरीज जीवित हैं और एक की मौत हो चुकी है।डॉक्टरों के अनुसार इन सात में से पांच मामले केरल से जुड़े हैं और वहां से जांच के लिए सैंपल कुरियर के जरिए दिल्ली आए थे। वहीं दिल्ली निवासी एक मरीज को धौलाकुआं स्थित सैन्य अस्पताल से रैफर करके भेजा गया था लेकिन मरीज की हालत नाजुक होने की वजह से बचाया नहीं जा सका।

मन की बात LIVE: मोदी बोले- मुझे सत्ता में रहने का आशीर्वाद मत दीजिए, मैं हमेशा सेवा में जुटा रहना चाहता हूं त्रिपुरा नगर निकाय चुनावों में बीजेपी का दबदबा, टीएमसी बना मुख्य विपक्षी दल - BBC Hindi सऊदी अरब पाकिस्तान की करेगा मदद, उसके बैंक में रखेगा अरबों डॉलर और देगा तेल - BBC News हिंदी

अस्पताल की वरिष्ठ डॉ. (प्रो.) ज्योति कोतवाल ने इन सभी मरीजों पर चिकित्सीय अध्ययन भी किया है जिसे इंडियन जर्नल इंडियन जर्नल ऑफ हेमटोलॉजी एंड ब्लड ट्रांसफ्यूजन में बीते 29 सितंबर को प्रकाशित किया गया। डॉ. कोतवाल ने बताया कि इस साल जून माह के दौरान ही उनके यहां पहला मामला दर्ज किया गया था लेकिन उसके बाद केरल और दिल्ली से छह और मरीज उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती हुए। इन मरीजों के सैंपल भी उन्हें कुरियर से प्राप्त हुए थे और जांच के बाद वीआईटीटी की पुष्टि होने के बाद इन्हें भर्ती कराया गया। डॉ. कोतवाल ने बताया कि कोरोना की वैक्सीन लेने के बाद रक्त का थक्का और कम प्लेटलेट्स के दुर्लभ मामले हैं। इन्हें चिकित्सीय विज्ञान में थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम (TTS) के साथ VITT या थ्रोम्बोसिस के रूप में जाना जाता है। अभी तक डेनमार्क, यूके, जर्मनी और कनाडा में ऐसे मामले मिल चुके हैं और बीते 11 अगस्त को अमेरिका में भी इसके लिए उपचार संबंधित दिशा निर्देश जारी किए गए।

30 दिनों में दिखाई देते हैं लक्षणडॉक्टरों के अनुसार वैक्सीन लेने के बाद तीन से 30 दिन के भीतर लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इसके अलावा यदि डी-डिमर बढ़ा हुआ है और पीएफ हेपरिन एंटीबॉडी मौजूद है तो चिकित्सीय विज्ञान के जरिए एक अनुमानित निदान किया जा सकता है। अगर टीकाकरण को लेकर देखें तो एक लाख में से एक या फिर 1.27 लाख में से किसी एक व्यक्ति में ही इस तरह की परेशानी देखने को मिल सकती है। headtopics.com

विस्तार अभी तक यूके और अमेरिका में ही ऐसे मामले दर्ज किए जा रहे थे लेकिन सोमवार को नई दिल्ली स्थित सर गंगाराम अस्पताल ने वैक्सीन लेने के बाद रक्त का थक्का जमने की वजह से एक मरीज की मौत होने की पुष्टि की है। जबकि छह मरीज अभी भी उपचाराधीन हैं।विज्ञापनअस्पताल के अनुसार कोविड वैक्सीन के जरिए इन मरीजों में थ्रोम्बोटिक थ्रोम्बोसाइटोपेनिया (वीआईटीटी) नामक परेशानी देखने को मिली जो रक्त का थक्का जमने के बाद देखने को मिलती है। अभी छह मरीज जीवित हैं और एक की मौत हो चुकी है।

डॉक्टरों के अनुसार इन सात में से पांच मामले केरल से जुड़े हैं और वहां से जांच के लिए सैंपल कुरियर के जरिए दिल्ली आए थे। वहीं दिल्ली निवासी एक मरीज को धौलाकुआं स्थित सैन्य अस्पताल से रैफर करके भेजा गया था लेकिन मरीज की हालत नाजुक होने की वजह से बचाया नहीं जा सका।

अस्पताल की वरिष्ठ डॉ. (प्रो.) ज्योति कोतवाल ने इन सभी मरीजों पर चिकित्सीय अध्ययन भी किया है जिसे इंडियन जर्नल इंडियन जर्नल ऑफ हेमटोलॉजी एंड ब्लड ट्रांसफ्यूजन में बीते 29 सितंबर को प्रकाशित किया गया। डॉ. कोतवाल ने बताया कि इस साल जून माह के दौरान ही उनके यहां पहला मामला दर्ज किया गया था लेकिन उसके बाद केरल और दिल्ली से छह और मरीज उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती हुए। इन मरीजों के सैंपल भी उन्हें कुरियर से प्राप्त हुए थे और जांच के बाद वीआईटीटी की पुष्टि होने के बाद इन्हें भर्ती कराया गया।

दुर्लभ मामलेडॉ. कोतवाल ने बताया कि कोरोना की वैक्सीन लेने के बाद रक्त का थक्का और कम प्लेटलेट्स के दुर्लभ मामले हैं। इन्हें चिकित्सीय विज्ञान में थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम (TTS) के साथ VITT या थ्रोम्बोसिस के रूप में जाना जाता है। अभी तक डेनमार्क, यूके, जर्मनी और कनाडा में ऐसे मामले मिल चुके हैं और बीते 11 अगस्त को अमेरिका में भी इसके लिए उपचार संबंधित दिशा निर्देश जारी किए गए। headtopics.com

कोरोना के इलाज के नाम पर भारत के लोग कितना क़र्ज़ में डूबे? - BBC News हिंदी UP-TET का पर्चा लीक, 21 लाख छात्रों के साथ धोखा: 4 घंटे में 23 गिरफ्तार, नाकाम शिक्षा मंत्री बोले- एक महीने में दोबारा होगी परीक्षा अखिलेश यादव से मिलने पहुंचे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर, गठबंधन पर हो सकती है बात

30 दिनों में दिखाई देते हैं लक्षणडॉक्टरों के अनुसार वैक्सीन लेने के बाद तीन से 30 दिन के भीतर लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इसके अलावा यदि डी-डिमर बढ़ा हुआ है और पीएफ हेपरिन एंटीबॉडी मौजूद है तो चिकित्सीय विज्ञान के जरिए एक अनुमानित निदान किया जा सकता है। अगर टीकाकरण को लेकर देखें तो एक लाख में से एक या फिर 1.27 लाख में से किसी एक व्यक्ति में ही इस तरह की परेशानी देखने को मिल सकती है।

और पढो: Amar Ujala »

शंखनाद: Samajwadi Party की साइकिल पर बैठेंगी कितनी सवारी?

जैसे जैसे दिन बीत रहे हैं, उत्तर प्रदेश का रण धारदार होता जा रहा है, सत्ता पक्ष और विपक्ष अपने-अपने दल को बढ़ाने में लगे हुए हैं, गठबंधनों का दौर चल रहा है. इसी कड़ी में आज कांग्रेस की बागी नेता अदिति सिंह आज बीजेपी में शामिल हुईं तो दूसरी ओर आम आदमी पार्टी के संजय सिंह ने अखिलेश यादव से मुलाकात की. साथ ही कृष्णा पटेल वाली अपना दल पार्टी ने भी समाजवादी का दामन थाम लिया. यूं समझिए कि गठबंधन वाली राजनीति बहुत तेजी से विस्तारित हो गई है, ताकि पार्टियां अपने विरोधियों को मात दे सकें. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड.

MoHFW_INDIA 100करोड़ लोगों की संख्या पूरी होने को है जिन्हें टीका लगाया गया है और आप ये क्या लेकर आ रहे हैं कि खून का थक्का?अरे भाई जरा%तो निकालें।

कर्नाटकः 'जबरन धर्म परिवर्तन' का पता लगाने के लिए चर्चों के सर्वेक्षण कराने के आदेशहोसदुर्ग से भाजपा विधायक गुलहट्टी शेखर ने 13 अक्टूबर को पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक कल्याण पर विधायी समिति की बैठक की अध्यक्षता करने के बाद कहा कि इस सर्वे का उद्देश्य कर्नाटक के कुछ हिस्सों में बड़े पैमाने पर हो रहे 'जबरन धर्म परिवर्तन' की जांच करना है.

विभिन्न मानवाधिकार उल्लंघनों के बीच आयोग के अध्यक्ष द्वारा सरकार की तारीफ़ के क्या मायने हैंजिस राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को देशवासियों के मानवाधिकारों की रक्षा करने, साथ ही उल्लंघन पर नज़र रखने के लिए गठित किया गया था, वह अपने स्थापना दिवस पर भी उनके उल्लंघन के विरुद्ध मुखर होने वालों पर बरसने से परहेज़ न कर पाए, तो इसके सिवा और क्या कहा जा सकता है कि अब मवेशियों के बजाय उन्हें रोकने के लिए लगाई गई बाड़ ही खेत खाने लगी है? ashoswai Inko b rajyasabha ya loksabha jana hoga tabhi to desh ko barbaad krne walo k gungaan kr the.. योगी और मोदी का एकी नारा.....! 'ना घर बसा हमारा' 'ना बसने देगे तुम्हारा'।

स्कॉटलैंड ने बांग्ला टाइगर्स का किया शिकार, शाकिब अल हसन बने सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजटी20 वर्ल्ड कप का महासंग्राम रविवार से शुरू हो चुका है। पहले दिन के दूसरे मुकाबले में स्कॉटलैंड ने बड़ा उलटफेर करते हुए बांग्लादेश को 6 रनों से मात दी। इसके अलावा बांग्लादेश के स्टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन लसिथ मलिंगा को पछाड़ टी20 इंटरनेशनल के सर्वाधिक विकेट टेकर बन गए हैं।

भास्कर LIVE अपडेट्स: भारत और इजराइल एक-दूसरे के वैक्सीन सर्टिफिकेट को मान्यता देंगे, दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की मीटिंग में फैसलाभारत और इस्राइल ने एक-दूसरे के कोविड-19 वैक्सीन के सर्टिफिकेट को मान्यता देने का निर्णय लिया है। यह निर्णय विदेश मंत्री एस. जयशंकर की इस्राइल के विदेश मंत्री याएर लापिड के साथ हुई बातचीत के दौरान लिया गया। जयशंकर इस समय इस्राइल के दौरे पर गए हुए हैं। | Breaking News Headlines Today, Pictures, Videos and More From Dainik Bhaskar (दैनिक भास्कर), drugs case News Today Good step Israel is vaccinating India for a comman reason

जब धर्मांतरण का आरोप लगाकर विहिप और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने चर्च में गाए भजनघटना का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें देखा जा सकता है कि दर्जनों पुरुष और महिलाएं हुबली के बेरिदेवारकोप्‍पा चर्च के अंदर बैठे हुए हैं और भजन गा रहे हैं।

यूपी विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव राजभर का निधन, अखिलेश यादव ने जताया दुखयूपी विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव राजभर का सोमवार को निधन हो गया. वह वर्तमान में बीएसपी के टिकट पर आजमगढ़ की दीदारगंज सीट से विधायक थे. iSamarthS शत् शत् नमन