Ravivari Stambh, Jansatta Article, Jansatta Sunday Column, Jansatta Special, Sunday Article

Ravivari Stambh, Jansatta Article

चर्चाः सिनेमा में साहित्य की आवाजाही

चर्चाः सिनेमा में साहित्य की आवाजाही

14.7.2019

चर्चाः सिनेमा में साहित्य की आवाजाही

साहित्यिक कृतियों पर फिल्में बनाने का चलन पुराना है। अनेक बड़े फिल्मकार कहानियों, उपन्यासों आदि से प्रभावित हुए और उन्होंने अपनी कलात्मकता से उन्हें फिल्म के रूप में ढालने का प्रयास किया। कई रचनाओं ने इस कदर प्रभावित किया कि उन पर कई फिल्मकारों ने अलग-अलग फिल्में बनार्इं। उनमें से कुछ निस्संदेह कला की दृष्टि से सराहनीय हैं, पर अनेक पर आरोप लगते रहे कि फिल्मकार ने रचना के साथ न्याय नहीं किया। हालांकि दोनों माध्यमों के अलग मिजाज हैं, फिर भी इनका परस्पर संबंध क्षीण नहीं होता। आखिर वह क्या चीज है, जो किसी रचना पर फिल्म बनाते समय फिल्मकार के रास्ते में बाधा बनती है! इस बार की चर्चा इसी पर। - संपादक

अगर सिनेमा में साहित्य का यह एक सीमांत है, तो दूसरा सीमांत है- कवि शैलेंद्र निर्मित ‘तीसरी कसम’ को रुपहले पर्दे (सेल्यूलाइड) पर रेणु की कल्पना का मनोरम अवतार कहा जाना। ‘गोदान’ के सारे सामाजिक सरोकारों की कब्र पर बनी त्रिलोक जेटली की फिल्म प्रेमचंद देख पाते, तो अपने बाल नोच लेते। फिर गुलजार के पांच घंटे वाले दूरदर्शनी ‘गोदान’ में 1935 के होरी (पंकज कपूर) को चमचमाता जूता पहन के हल जोतते देखते, तो न जाने क्या कर लेते। पर अपनी दो कहानियों पर बनी सत्यजित रे की फिल्में ‘सद्गति’ और ‘शतरंज के खिलाड़ी’ देखते, तो निस्संदेह गदगद होते। गरज यह कि इन्हीं दो ध्रुवों के बीच सिमटा-फैला है सिनेमा में साहित्य का संसार, जिसे समझा जा सकता है- बनाने वाले के मकसदों और कला-कौशलों की जानिब से।

ऐसे क्लासिक उदाहरण तो कम ही होते हैं, पर भारतीजी के उपन्यास ‘सूरज का सातवां घोड़ा’ की यथावत प्रस्तुति को लेकर श्याम बेनेगल की प्रतिबद्धता भी कृति की प्रकृति के अनुसार क्लासिक नहीं, बस स्टाइलिश है। ‘तिरियाचरित्तर’ पूरे गांव की पंचायत के सामने स्त्री के जननांग को दागने जैसे क्रूर-वीभत्स अत्याचार की रोंगटे खड़े कर देने वाली कहानी को शिवमूर्ति ने बड़ी गर्मजोशी से लिखा है और बासुजी ने बिना कोई रद्दोबदल किए बड़े ‘कूलली’ बनाया है। शायद ये विधान और तेवर भी विधागत प्रकृति के ही अनुकूल वाजिब हैं, वरना ‘कूल’ होकर कहानी नष्ट भी हो सकती थी और गर्माहट से भर कर फिल्म उस वेदना को सोख भी सकती थी।

लेकिन ‘उसने कहा था’ जैसी बेजोड़ रचना पर बनी फिल्म देख कर सिर पीट लेना पड़ा। बचपन के अनकहे प्रेम में ‘तेरी कुड़माई हो गई?’ पर ‘धत’ कह कर भाग जाने और एक दिन ‘हां, हो गई, देखते नहीं हो यह रेशम का शालू’ के बाद मौन हो गए नायक लहना का कभी उसके कहे पर जान की कुर्बानी दे देने को न समझ कर मोना गुलाटी ने दोनों को गली-चौबारों में घुमा-घुमा कर पूरी बस्ती में बदनाम करके ही सच का प्रेम साबित किया। कहानी का शरीर ही क्षत-विक्षत नहीं हुआ, उसकी आत्मा (प्रेम) का भी सत्यानाश हो गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

और पढो: Jansatta

कोहली और शास्त्री के लौटने पर टीम के वर्ल्ड कप में प्रदर्शन की समीक्षा करेगी सीओएइंडिया वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हार गई थी, टॉप ऑर्डर की विफलता से 240 रनों का लक्ष्य भी हासिल नहीं कर पाई सीओए अध्यक्ष विनोद राय ने कहा- कोहली-शास्त्री के लौटने पर उनसे बातचीत जरूर करेंगे समीक्षा बैठक में अंबाती रायडू के चयन का मुद्दा भी उठ सकता है | CoA to review India\'s World Cup performance once coach, captain return Shastri ko discharge Karo Q1. Kiske galati se team india 🇮🇳 would cup se bahar huaa.. BCCI Give minimum five year leave to imVkohli and RaviShastriOfc they make the team a battlefield with cheap politics.

अमेरिका में निजता उल्लंघन के मामले में फेसबुक पर लगा 5 अरब डॉलर का जुर्माना: रिपोर्टअमेरिकी नियामकों ने फेसबुक पर सोशल नेटवर्क की गोपनीयता और डेटा सुरक्षा खामियों के लिए 5 अरब डॉलर का जुर्माना लगाया है. अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल ने शुक्रवार को यह जानकारी दी है. Facebook America ka hain Too india main kya ker raha hain Hindustan main eska name Indian Ke tarika hona chahiye Taki paisa indian koi bekti ko mil Sake aur logo ko rojgar bhi mile Taki videshi gulami se hindustan ko Mukti mil sake America ka brand hindustan main Logo ki purchasing power chhin Li hain Jisse log garib aur majdoor ho Gaye hain Hindustan main job ke liye keval Majduri aur navkari hain Yaha china ki tarah tecnology nahi hain Yaha bacho ke liye tecnology banane ka avsar nahi hain

सपना चौधरी पर टिप्‍पणी केस में दिग्विजय चौटाला के जवाब से संतुष्‍ट नहीं महिला आयोगमहिला आयोग दिग्विजय चौटाला के जवाब से संतुष्ट नहीं है. महिला आयोग ने सोमवार को दिग्विजय चौटाला को व्यक्तिगत तौर पर पेश होने को कहा है.

दिल्ली में पर्यवेक्षकों की नियुक्ति पर कांग्रेस में घमासान, राहुल गांधी से की शीला की शिकायतदिल्ली में पर्यवेक्षकों की नियुक्ति पर कांग्रेस में घमासान, राहुल गांधी से की शीला की शिकायत RahulGandhi Sheiladikshit Delhicongress घटना 7 जून को हुआ, Bahrain में बैठी इंडियन एंबेसी को आखिर किसके दबाव में काम करना पड़ रहा है, दायित्व को क्यों नहीं निभा रहा? लचर रवैया क्यों दिखा रहे हैं? अब तक एक पोस्टमार्टम रिपोर्ट की सूचना नहीं ले पाए.

राजस्थान में पटवारी के 3835 पदों पर भर्ती, कृषि उपज मंडी में भी 801 नौकरियांजयपुर। राजस्थान सरकार पटवारी के 3835 पदों पर भर्ती करेगी। राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इन रिक्त पदों पर भर्ती के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

अमरनाथ यात्रियों का जत्था आज होगा रवाना, बंद के कारण आई थी बाधाबम बम भोले के जयघोष के साथ रविवार तड़के आधार शिविर भगवती नगर जम्मू से अमरनाथ यात्रियों का जत्था रवाना होगा।

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

14 जुलाई 2019, रविवार समाचार

पिछली खबर

आकर्षण और विकर्षण के बीच

अगली खबर

दार्जिलिंग के ऐतिहासिक टॉय ट्रेन नेटवर्क से छिन सकता है वर्ल्ड हेरिटेज साइट का दर्जा