Socialdistancing, Mumbai, Airlines, Coronavirus, Lockdown, Entrance, Exit, Umpteen Hand Sanitizers, Social Distancing, Safety İn Place, Mumbai Airport

Socialdistancing, Mumbai

घरेलू उड़ानें शुरू होने के बाद मुंबई एयरपोर्ट पर क्या-क्या बदलाव?

एंट्रेंस से पहले और एयरपोर्ट में प्रवेश के बाद स्क्रीनिंग, #socialdistancing पर ज़ोर. #Mumbai #Airlines | @journovidya

30-05-2020 05:52:00

एंट्रेंस से पहले और एयरपोर्ट में प्रवेश के बाद स्क्रीनिंग, socialdistancing पर ज़ोर. Mumbai Airlines | journovidya

एयरपोर्ट में एंट्रेंस पर यात्री का टेम्प्रेचर लिया जाता है. फिर आई कार्ड, वेब चेक-इन डिटेल्स CISF कर्मी को देनी पड़ती है. आरोग्य सेतु ऐप भी एंट्री से पहले देखा जाता है. उस पर ग्रीन यानी ‘लो रिस्क’ दिखने पर ही एंट्री दी जाती है. अगर ऐप पर रेड स्टेट्स दिखता है तो यात्री को टेम्परेरी आइसोलेशन सेंटर में भेजा जाता है. उल्लंघन पर नागरिक प्रशासन को इसकी सूचना दी जाती है.

मुंबई एयरपोर्ट पर इस वक्त टर्मिनल 2 (T2) ही ऑपरेशनल है. एयरपोर्ट के बाहर पहुंचते ही यहां उस व्यवस्था में काफी बदलाव महसूस किया जा सकता है, जो लॉकडाउन से पहले यहां सामान्य दिनों में हुआ करती थी. पहले वाहन से निकलने के एंट्रेंस तक पहुंचने के लिए तीन लाइन हुआ करती थीं. सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए अब यहां यात्रियों के लिए दो लाइन ही उपलब्ध है. यात्री वाहन से अपनी एयरलाइंस के साइन बोर्ड के पास उतर सकते हैं, फिर वहां से एंट्रेंस तक पहुंचने के लिए लंबी कतार में लगना पड़ता है. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए एयरपोर्ट पर फ्लावर मार्किंग की गई है.

राजस्थान: सचिन पायलट को कांग्रेस ने उपमुख्यमंत्री पद से हटाया सचिन पायलट डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से बर्खास्त 'पायलट के लिए BJP के दरवाजे खुले', ओम माथुर ने और क्या कहा, देखें VIDEO

वेब चेक-इन अनिवार्ययात्रियों को फ्लाइट टाइम से दो घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचना जरूरी है. साथ ही अब वेब चेक-इन अनिवार्य कर दिया गया है. एंट्रेंस पर यात्री का टेम्प्रेचर लिया जाता है. फिर आई कार्ड, वेब चेक-इन डिटेल्स CISF कर्मी को देनी पड़ती है. आरोग्य सेतु ऐप भी एंट्री से पहले देखा जाता है. उस पर ग्रीन यानी ‘लो रिस्क’ दिखने पर ही एंट्री दी जाती है. अगर ऐप पर रेड स्टेट्स दिखता है तो यात्री को टेम्परेरी आइसोलेशन सेंटर में भेजा जाता है. उल्लंघन पर नागरिक प्रशासन को इसकी सूचना दी जाती है.

अगर किसी के पास आरोग्य सेतु के लिए स्मार्टफोन नहीं है तो उस यात्री से सेल्फ डिक्लेयरेशन फॉर्म भरवाया जाता है. इन सबमें वक्त लगता है, इसलिए कतार भी लंबी देखी जा सकती हैं.एंट्रेस पर CISF कर्मी शीशे के पीछे से ही आईकार्ड देखता है. यात्री को वेब चेक-इन का बारकोड मोबाइल पर स्कैन करना होता है. एंट्रेस पर सैनिटाइजर्स के साथ ब्लीच्ड डोरमैट भी उपलब्ध हैं, जिससे जूतों के तले की सफाई हो सके. अगर वेब चेक-इन नहीं है, तो हर एंट्रेस पर गाइडेंस देने के लिए एयरलाइन्स कर्मी मौजूद रहते हैं.

सेल्फ सर्विस किओस्कमेन एंट्रेस से एयरपोर्ट में दाखिल होने के बाद यात्री को सेल्फ सर्विस किओस्क के पास जाना होता है. यहां पहले की तरह बोर्डिंग पास और टैग्स प्रिंट किए जा सकते हैं. अगर चेक-इन बैगेज नहीं तो यात्री सीधा सिक्योरिटी चेक की ओर जा सकता है. लगेज ड्रॉप के पहले की तरह कतार में लगना पड़ता है. यहां एयरलाइन कर्मी शीशे के पीछे मौजूद रहते हैं. वो लगेज या बैग्स को टच नहीं करते. आईकार्ड चेक शीशे के पार से मैग्नीफायर से किया जाता है. बैग्स को लोडिंग के लिए भेजने से पहले टैग्स बारकोड की स्कैनिंग भी की जाती है.

सिक्योरिटी चेकसिक्योरिटी कर्मी खुद ही सोशल डिस्टेंसिंग का बहुत ध्यान रख रहे हैं. वो यात्रियों या लगेज से न्यूनतम कॉन्टेक्ट करते हैं. ये सभी मास्क, शील्ड, ग्लव्स से लैस रहते हैं. कुछ PPE किट्स के साथ भी देखे जाते हैं. पैसेंजर लगेज के स्कैनर्स पर जाने के दौरान ये स्टिक्स का इस्तेमाल करते हैं. जिन टब्स में बैग्स, फोन, बेल्ट, घड़ियां, शूज रखे जाते हैं उन्हें हर यूज के बाद सैनेटाइज किया जाता है.

CISF कर्मी ज्यादा होने के बावजूद फिजीकल स्कैनिंग कम हो रही है. यात्री को खुद ही सुनिश्चित करना होता है मेटल डिटेक्टर बीप न करे और रेड ना हो. इसके लिए यात्री घड़ी, जूते तक उतार देते हैं और हाथ ऊपर हवा में रखते हैं.वॉशरूम्स में सोशल डिस्टेंसिंगएयरपोर्ट्स पर हाथ साफ करने के लिए सैनेटाइजर्स जगह जगह रखे गए हैं. साथ ही अब यात्री हैंड सैनेटाइजर्स की 350 मिली की बॉटल साथ ले जा सकता है. पहले सिर्फ 100 मिली ही साथ ले जाने की इजाजत थी. पब्लिक वाटर फाउंटेंस को बंद कर दिया गया है. अब सिर्फ पानी की बोतलों की रीफिलिंग कर सकते हैं. यूरिनल्स अब आल्टरनेट क्रम में उपलब्ध हैं. वॉशबेसिन्स ऑपरेशनल हैं लेकिन हैंड ड्रायर्स अब यूज नही किए जा सकते.

एयरपोर्ट पर पीले रंग के बिन्स उपलब्ध हैं जहां यूज्ड हैंड ग्लव्स, मास्क, PPE किट्स को डिस्पोज ऑफ किया जा सकता है. बायोमेडिकल कचरा उठाने के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी ने नियमों के मुताबिक कॉन्ट्रेक्टर की व्यवस्था की है.मुंबई शहर में दुकानें बंद, एयरपोर्ट पर खुलीं

न पार्टी के मुखिया रहे, न सरकार के डिप्टी, बगावत से सचिन पायलट ने क्या-क्या खोया? कांग्रेस की बैठक में सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को मंत्रिपद से हटाने का प्रस्ताव पारित राजस्थान के घमासान के बीच बोले सचिन पायलट- सत्य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं

एयरपोर्ट पर दुकानों पर ग्राहकों के लिए खास हिदायतें हैं. कुछ ने तो जूते उतार कर दुकान में प्रवेश की बात लिखी हुई है. कुछ दुकानदार टेम्प्रेचर चेक भी लेते हैं. हैंड सैनेटाइजर का यूज अनिवार्य है. एयरपोर्ट पर कॉफी शॉप और बेकरी स्टोर भी खुले दिखे. लॉकडाउन की वजह से दुकानों के कर्मचारी नहीं पहुंच पा रहे हैं. इसलिए एयरपोर्ट पर 50 फीसदी से कम ही दुकानें खुली हैं.

लाउंज भी खुलाअगर किसी यात्री के पास ज्यादा वक्त है तो यात्री लाउंज खुला है. लाउंज मैनेजर ललित गंगावाने कहते हैं, ‘’अगर कोई यात्री आता है तो टेम्प्रेचर फिर नापा जाता है और सैनेटाइजर यूज के लिए दिया जाता है. सीटिंग अरेंजमेंट में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जा रहा है. हम यात्रियों से न्यूनतम कॉन्टेक्ट कर रहे हैं. ऑर्डर डिजिटली लिया जाता है. सब कुछ साफ सफाई से सर्व किया जाता है.”

डिपार्चरक्योंकि मुंबई एक साइलेंट एयरपोर्ट है इसलिए यहां एनाउंसमेंट्स नहीं की जातीं. यात्रियों को खुद ही अपने बोर्डिंग गेट्स तक जाना होता है. सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से कतारों की लंबाई ज्यादा है. एयरलाइन की तरफ जाने से पहले आई कार्ड और बोर्डिंग पास की फिर स्कैनिंग होती है. एयरलाइंस की ओर से हर यात्री को पाउच दिए जा रहे हैं जिसमें मास्क, शील्ड और सैनेटाइजर्स होते हैं.

एराइवलविमान से उतरने के बाद यात्री एयरपोर्ट पर लगेज कलेक्ट करने के लिए कन्वेयर बेल्ट तक पहुंचते हैं. यहां सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए नियमित तौर पर एनाउंसमेट्स होती हैं. यहां बेल्ट के पास वेटिंग के लिए प्लास्टिक चेयर्स भी उपलब्ध हैं लेकिन यात्री बहुत कम ही इनका इस्तेमाल करते हैं.

बेल्ट के पास खड़े होने के लिए भी सोशल डिस्टेंसिंग की मार्किंग की गई है. लगेज कलेक्ट करने के बाद बाहर से आए यात्रियों को BMC के अधिकारियों के काउंटर्स की ओर जाना होता है. एग्जिट एरिया को सिर्फ दो कतारों के लिए कॉर्डन ऑफ किया गया है. यहां सभी यात्रियों का टेम्प्रेचर लिया जाता है. फिर एक अधिकारी हाथ पर अनिवार्य 14 दिन के होम आइसोलेशन की मुहर लगाता है.

आगे का प्लान और पढो: आज तक »

journovidya अगर आप को संक्रमण से बचना है तो हर मिलने वाले व्यक्ति और हर वस्तु को संक्रमित समझ अपना बचाव करते रहे। journovidya थर्मल स्क्रीनिंग खानापूर्ति है। इससे 1% मरीजो का पता लगाना मुश्किल है। journovidya विडंबना :स्थानीय परिवहन उपलब्ध नहीं, फ्लाइट चालू है, यानी यात्री अपने घर से एयर पोर्ट कैसे जाएगा?

चीन के साथ सरहद पर तनाव को लेकर पीएम मोदी का 'मूड ठीक नहीं' है: ट्रंपअमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि उन्होंने चीन के साथ जारी 'बड़े टकराव' पर पीएम मोदी से बात की थी. ट्रंप ने दावा किया कि दोनों देशों के बीच तनाव को लेकर पीएम मोदी का मूड ठीक नहीं है. Haaaahaaaaaa 🤣🤣🤣🤣 मोदी का जुड़वाँ भाई 56 INCH KA KUCH TO FAYDA HUA LAL AAKNH DIKHNE KA SAMAY AA GAYA AB CHINA KO MOTI JI... गजब के हो ट्रम्प सर्, तनाव में किसका मूड ठीक रहता है, चीन के साथ साथ नेपाल के साथ भी तो तनाव चल रहा है।

भारत ने पाक को दिखाया आईना, अयोध्या मामले पर बोलने पर जमकर लताड़ाभारत ने पाक को दिखाया आईना, अयोध्या मामले पर बोलने पर जमकर लताड़ा Pakistan India Ayodhya ayodhyaverdict PMOIndia ImranKhanPTI DrSJaishankar PMOIndia ImranKhanPTI DrSJaishankar Pakistani .... ImranKhanPTI DrSJaishankar इमरान तू मेरे ही भारत पर papistan बना कर पाप मुस्लिम देस बना दिया और हजारो मन्दिर करोडो हिन्दूओ की हत्या की।अब उसी भारत मे मन्दिर पर तेरी गांड फट रही।चाह्ता क्या है यहाँ भी मुगल काल बन जाये।अब पकिस्तान को लूट कर मिला कर अखंड भारत फ़िर से बनेगा।न कोई मस्जिद मजार मदरसा न मुल्ला PMOIndia ImranKhanPTI DrSJaishankar Pak ko itni value q di jati h wo kch b bole ky frk parhta h kr wo kch ni sakta . but jo kr rhe h u ka jawab dena must h China Nepal

पुलवामा-1 आतंकी हमले की वो बातें जिनसे आज भी दहल जाता है दिलIndia News: सुरक्षा बलों ने गुरुवार को पुलवामा में फरवरी 2019 जैसे बड़े आतंकी हमले की खतरनाक साजिश को नाकाम कर दिया। 14 फरवरी 2019 को हुए पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे। आज भी उस हमले को याद कर दिल दहल जाता है।

कोई सरेआम तो कोई गुमनाम मगर बोल रहा है, गुजरात बोल रहा हैगुजरात हाईकोर्ट में कोविड-19 से जुड़ी याचिकों की सुनवाई करने वाली बेंच में बदलाव किया गया है. जस्टिस जे बी पारदीवाला और आई जे वोरा की बेंच ने गुजरात की जनता को आश्वस्त किया था कि अगर सरकार कोविड-19 की लड़ाई में लापरवाह है तो आम लोगों की ज़िंदगी का रखवाला अदालत है. 1शिक्षा 2 स्वास्थ्य3न्याय ये फ्री में मिले बाकी फ्री में कुछ मत दो मुफ्तखोरी लोगोंको मक्कार देश को कमजोर बनाते हैं । पर इसको तो लोगो ने दिखा दिए की रामायण सब देखना चाहते थे और ये पूछता रह गया कि कोन जनता रामायण देखना चाहती है 🤣🤣🤣 WeSupport_Tejashwi

वैलिडिटी है लेकिन डाटा हो गया है खत्म, तो रिचार्ज कराएं ये खास प्लांसJio airtel vodafone best add on recharge plans: अगर आपके रिचार्ज प्लान का डाटा समय से पहले हो गया है खत्म, तो ये एड-ऑन रिचार्ज पैक आपके लिए बेस्ट हैं।

भारत और अमेरिका में हवाई यात्रा करने पर क्या-क्या है गाइडलाइंस?भारत में सरकार ने राज्य सरकारों को यात्रा के बाद क्वारंटीन के नियम बनाने को कहा है जबकि अमेरिका में ऐसा प्रावधान नहीं

कांग्रेस के सचिन अब क्या बीजेपी के लिए 'बल्लेबाज़ी' करेंगे? WHO ने कहा- कोरोना अभी बद से बदतर होगा, वैक्सीन और इम्युनिटी से भी निराशा Kanpur Encounter Case : 50 हजार का इनामी शशिकांत गिरफ्तार, विकास दुबे के घर से एके-47 राइफल बरामद सचिन पायलट के साथ माने जा रहे तीन विधायकों का U-टर्न, कहा- 'हम कांग्रेस के सच्चे सिपाही' नेपाल के पीएम ओली अयोध्या और राम पर अपने ही देश में घिरे नेपाल के प्रधानमंत्री ओली का बेतुका बयान, बोले- भारत ने बनाई नकली अयोध्या सचिन पायलट BJP के संपर्क में, 30 MLA भी छोड़ सकते हैं कांग्रेस का दामन प्रयागराज : विरोध करने के बाद भी घर पर जबरन की गई भगवा रंग से पुताई, योगी के मंत्री बोले- विरोध करने वाले विकास विरोधी योगी सरकार की 'ठोंको नीति' से इंसाफ़ मिलेगा या अपराध बढ़ेगा? कोरोना वायरस: रूस का दावा, उसने कोरोना की वैक्सीन का सफल परीक्षण किया - BBC Hindi कोरोना वायरस: महामारी रोकने के लिए दक्षिण अफ्रीका ने लगाई शराब पर पाबंदी - BBC Hindi