घरेलू हिंसाः वो अफ़ग़ान महिला जिनके पति ने उनकी नाक काट दी

घरेलू हिंसाः वो अफ़ग़ान महिला जिनके पति ने उनकी नाक काट दी

09-08-2020 02:07:00

घरेलू हिंसाः वो अफ़ग़ान महिला जिनके पति ने उनकी नाक काट दी

अफ़ग़ानिस्तान की इस महिला की सर्जरी के बाद अब उनकी नाक फिर से जोड़ी गई है.

शेयर पैनल को बंद करेंअपने पति के हाथों लगातार हिंसा झेल रही ज़र्का के पति ने एक दिन गुस्से में आकर चाकू से उनकी नाक काट दी और उन्हें वहीं लहूलुहान छोड़ कर चला गया. एक सर्जन ने उनकी नाक की सर्जरी की है.पढ़िए अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के नियंत्रण वाले इलाके की इस महिला की कहानी -

सबसे प्रशंसनीय लोगों की लिस्ट आई सामने, पीएम मोदी सहित शाहरुख और अमिताभ का भी जलवा कायम 'मोदी जी को 'सपनों का सौदागर' इसीलिए तो कहते हैं', उदाहरण दे दिग्विजय सिंह ने कसा तंज 'माल है क्या' वाली चैट पर दीपिका का कबूलनामा, बढ़ेंगी मुश्किलें?

10 हफ्ते से ज्यादा तक दर्द सहने के बाद ज़र्का को उम्मीद की एक किरण दिखाई दी है. उनके चेहरे को फिर से ठीक करने के लिए किए गए ऑपरेशन के बाद जब उनकी पट्टियां बदली गईं तो उन्होंने डॉक्टरों से कहा,"मैं खुश हूं. मुझे मेरी नाक वापस मिल गई है."ज़र्का ने हाथ में पकड़े आइने में देखा कि उनकी नई नाक टांकों और खून के थक्कों से ढकी हुई थी.

87 फीसदी महिलाएं घरेलू हिंसा का शिकारअफ़ग़ानिस्तान में महिलाओं के ख़िलाफ़ घरेलू हिंसा आम बात है. यूएन पॉपुलेशन फंड ने एक राष्ट्रीय सर्वे का हवाला देते हुए कहा है कि 87 फीसदी अफ़ग़ानी महिलाओं को शारीरिक, यौन या मनोवैज्ञानिक में कम से कम एक तरह की हिंसा का सामना करना पड़ता है.

हिंसा के सबसे बुरे मामलों में महिलाओं के पति या पुरुष रिश्तेदार उन पर तेजाब या चाकू से हमला कर देते हैं.ज़र्का के साथ हिंसा के आख़िरी वाकये में उनके पति ने एक चाकू से उनकी काट काट दी. वे कहती हैं,"मेरे पति को हर किसी पर शक रहता था."उन पर आरोप लगाने के बाद अक्सर उनकी पिटाई होती थी और यह रोजाना की बात हो गई थी. वे कहती हैं,"वे मुझसे कहते थे कि मैं एक अनैतिक शख्स हूं. मैंने उन्हें बताया कि यह सच नहीं है."

28 साल की ज़र्का की शादी को 10 साल हो गए हैं और उनका एक छह साल का बेटा है. वो कहती हैं कि उनके पति अक्सर उनको पीटते थे, लेकिन उन्होंने कभी यह नहीं सोचा था कि मामला यहां तक चला जाएगा.रिकवरीइमेज कॉपीरइटDr Zalmai Khan Ahmadzaiज़र्का ने बीबीसी को बताया,"जब मैंने खुद को आज शीशे में देखा तो नाक काफी रिकवर हो गई थी."

तीन घंटे के ऑपरेशन के दौरान उन्हें लोकल एनेस्थेसिया दिया गया था.युद्ध की विभीषिका से जूझ रहे देश में इस तरह के चेहरे के रीकंस्ट्रक्शन करने की काबिल कुछ चुनिंदा सर्जनों में डॉ. जलमई खान अहमदज़ई का नाम आता है. वे भी मरीज़ की सेहत में हुए सुधार से काफी खुश हैं.

वे कहते हैं,"ज़र्का का ऑपरेशन काफी अच्छा हुआ. उन्हें कोई संक्रमण नहीं है."पिछले करीब एक दशक से डॉ. जलमई पतियों, पिताओं और भाइयों के हाथों विकृत की गई दर्जनों महिलाओं का इलाज कर चुके हैं.चेहरे को विकृत करने की इस्लामिक कानूनों में इजाज़त नहीं है, लेकिन इसके बावजूद ये क्रूर काम रुका नहीं है.

कृषि बिल पर बोले राहुल गांधी- सरकार ने बहुत बड़ी गलती की, कानून तुरंत वापस लीजिए आज तक @aajtak मथुरा: कृष्ण जन्मभूमि का विवाद पहुंचा कोर्ट, परिसर से शाही ईदगाह मस्जिद हटाने की मांग

लंबा सफरज़र्का खैरकोट जिले की हैं. यह काबुल से 250 किमी दक्षिण में पाकिस्तानी सीमा के पास है.वे पढ़ या लिख नहीं सकती हैं. उनका गांव तालिबान के नियंत्रण में है. स्थानीय नेताओं और चरमपंथियों के बीच बातचीत ने उन्हें काबुल में इलाज के लिए जाने में मदद दी.

उस वक्त डॉ. जलमई कोरोना वायरस से लड़ रहे थे और इस लड़ाई में अपनी पत्नी को खो चुके थे. 49 साल के डॉ. जलमई ने अपनी पत्नी को जलालाबाद में दफनाया और ज़र्का के काबुल आने पर काम पर लौट आए.वे कहते हैं,"जब वे मेरे पास आई थीं तब उनकी हालत बहुत खराब थी. उनकी नाक में बुरी तरह संक्रमण फैल चुका था."

उन्होंने एंटी-सेप्टिक और एंटी-इनफ्लेमेटरी गोलियां दीं. ज़र्का के शरीर में खून की कमी थी और उन्हें इसके लिए मल्टी-विटामिन टैबलेट्स भी दी गईं. 5 हफ्ते बाद ज़र्का काबुल वापस आईं और 21 जुलाई को उनकी सर्जरी हुई.इमेज कॉपीरइटImage captionडॉ. जलमई खान अहमदज़ई ने ज़र्का का मुफ़्त में इलाज किया है.

ज़र्का ने बीबीसी को अपनी रिकवरी को शूट करने और घरेलू हिंसा के बारे में बात करने की सहमति दी.वे कहती हैं कि उनके पति उनकी ही उम्र के हैं. जब उनकी शादी हुई थी तब उनकी उम्र काफी कम थी. उन्हें याद नहीं है कि शादी के वक्त उनकी मंजूरी मांगी गई थी या नहीं.बदले में शादी

सालों बाद उन्हें पता चला कि उनके चाचा ने उनका सौदा किया था. जिन्होंने उनके पति की चार बहनों में से एक से शादी की थी.वे कहती हैं,"मेरे चाचा दुल्हन की कीमत नहीं चुका सकते थे. ऐसे में उन्होंने मुझे उन्हें दे दिया."अफ़ग़ानिस्तान में कुछ पेरेंट्स दूल्हे से पैसे लेकर बेटियों की शादी करते हैं. हालांकि यह अवैध है, लेकिन ऐसा बड़े पैमाने पर होता है.

शादी के बाद ज़र्का को पता चला कि उनका पति अपनी सभी बहनों के साथ हिंसा और मारपीट करता था. शादी के एक साल बाद ही ज़र्का का पति किसी और से शादी करना चाहता था. अफ़ग़ानिस्तान में बहुविवाह असामान्य बात नहीं है.लेकिन, उनका पति दुल्हन को देने लायक पैसे नहीं जुटा पाया था. ज़र्का को इस निराशा और गुस्से की कीमत चुकानी पड़ रही थी.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने बढ़ाया मनोबल: पीएसी के हेड कांस्टेबल व एसआइ को तुरंत प्रमोशन राजकीय सम्मान के साथ दिग्गज सिंगर एस पी बालासुब्रमण्यम को दी गई अंतिम विदाई ड्रग्स केस: NCB के कुछ सवालों पर दीपिका ने साधी चुप्पी

वे कहती हैं,"वे मुझे पीटते थे और मुझे अपनी जान का डर लग रहा था."इमेज कॉपीरइटDr Zalmai Khan Ahmadzaiमई में वे भागकर अपने पेरेंट्स के घर पहुंच गईं. उन्होंने अपने पिता से गुहार लगाई कि उन्हें अपने पति से मुक्त करा दिया जाए.घर छोड़ने से पहले उन्होंने अपने पति की इजाजत़ नहीं ली थी और ऐसे में उनका पति उनके मायके पहुंच गया.

ज़र्का बताती हैं,"जब मैं एक रात घर से बाहर थी, वे सुबह मेरे पेरेंट्स के यहां आ गए. उनके पास एक बड़ा चाकू था. उन्होंने मेरे पिता से मुझे उन्हें सौंपने के लिए कहा. मेरे पिता और चचेरे भाइयों ने उन्हें कहा कि वे मुझे उन्हें तब तक नहीं सौंपेंगे जब तक कि वे गारंटर नहीं लेकर आते."

उनके पति ने गारंटर मुहैया कराए जिन्होंने उनके पिता से ज़र्का की सुरक्षा का वादा किया.लेकिन, जब वे अपनी ससुराल लौटकर आईं तो हालात पहले और खराब हो चुके थे.वे कहती हैं,"उन्होंने मुझे फिर से पीटा और मुझ पर चाकू लेकर दौड़े. मैं एक पड़ोसी के यहां भागकर पहुंची. पड़ोसियों ने दखल देकर मुझे उस वक्त बचा लिया, लेकिन यह एक अस्थाई समाधान था."

वे कहती हैं,"उन्होंने पहले मुझे घर के अंदर लिया और कहा कि वे मुझे मेरे घरवालों के पास ले जाएंगे."लेकिन यह एक जाल था. उन्हें एक दूसरे घर ले जाया गया. वे उन्हें घसीटकर बगीचे में ले गए. उनके पति के पास राइफल भी थी. वे कहती हैं,"उन्होंने मुझे पकड़ लिया. उन्होंने अपनी जेब से चाकू निकाला और मेरी नाक काट दी."

दर्दनाक और खून ही खूनज़र्का के पति ने उनसे कहा कि चूंकि वे उन्हें बिना बताए अपने पिता के घर चली गई थीं इसलिए उन्होंने उनकी नाक काटी है.उनकी नाक काटकर वे उन्हें वहीं लहूलुहान छोड़कर चले गए. वे कहती हैं,"मुझे जोरों का दर्द हो रहा था और बहुत खून बह रहा था. मुझे सांस लेने में भी तकलीफ हो रही थी."

उनकी चीखें सुनकर पड़ोस के लोग मदद के लिए दौड़े. एक पड़ोसी ने उनकी नाक के कटे हुए हिस्से को ढूंढ लिया.उन्हें स्थानीय डॉक्टर के यहां ले जाया गया, लेकिन डॉक्टर ने कहा कि उनकी नाक के कटे हिस्से को जोड़ना मुमकिन नहीं है.इमेज कॉपीरइटDr Zalmai Khan Ahmadzaiरिकवरी की कोशिश में लगी ज़र्का टूटा हुआ महसूस करती हैं. उनके पिता और रिश्तेदार इस घटना का बदला लेना चाहते थे, लेकिन उन्हें उनका पति नहीं मिला.

ज़र्का बताती हैं,"वे बहुत ज्यादा गुस्से में हैं. वे धमकी दे रहे हैं कि यदि वे उन्हें मिल गए तो वे उन्हें मार डालेंगे. मेरे पिता और चाचाओं ने गारंटर के घर पर फायरिंग भी की और उन पर चिल्लाए भी."उनके परिवार से पहले पुलिस ने उनके पति को पकड़ लिया और जेल में डाल दिया.

रक्तरंजित चेहराशुरुआत में ज़र्का का इलाज स्थानीय स्तर पर हुआ, लेकिन यह नाकाफी था. वे कहती हैं,"मैं अपने चेहरे की सर्जरी चाहती थी. चाहे ये जैसा भी लगे लेकिन मैं अपनी नाक वापस चाहती थी."खून से सने चेहरे के साथ ज़र्का की तस्वीरें बड़े पैमाने पर वायरल हो चुकी थीं और इन्हीं से डॉ. जलमई का ध्यान उन पर गया.

उन्होंने मुफ्त में उनका इलाज करने का ऑफर सोशल मीडिया पर दिया. स्थानीय अधिकारियों के जरिए वे उन तक पहुंचे जिसके बाद ज़र्का को काबुल लाया गया.इमेज कॉपीरइटDr Zalmai Khan Ahmadzaiलोकल एनेस्थिसिया देकर उनकी सर्जरी हुई और ज़र्का को पता था कि क्या हो रहा है.

डॉ. जलमई उनकी सेहत पर नज़र बनाए हुए हैं. उनका कहना है कि ज़रूरत पड़ने पर उन्हें लेजर ट्रीटमेंट या सिलिकॉन इंप्लांट्स भी दिया जाएगा.डॉ. जलमई कहते हैं कि उन्होंने किसी आम अफ़ग़ान मरीज से इस इलाज के लिए 2,000 डॉलर लिए होते. साथ ही वे 500 डॉलर की दवाएं भी उन्हें दे चुके हैं.

ज़र्का को अपने बेटे की चिंता है. वह अभी भी उनके पति के परिवार के पास ही है. वे कहती हैं,"मैंने तीन महीने से अपने बेटे माशूक को नहीं देखा है. मैं उसे बहुत प्यार करती हूं. मैं उसे अपने पास रखना चाहती हूं."चूंकि, वे कुछ कमाती नहीं हैं ऐसे में कानून के मुताबिक़ उनके पति के पास उनके बेटे की कस्टडी रहेगी. इसका दर्द उन्हें है.

और पढो: BBC News Hindi »

जिस वॉट्सऐप ग्रुप में दीपिका ने लिखा था ‘माल है क्या’, उसकी खुद ही एडमिन निकलीं; ग्रुप से इंडस्ट्री की कई हस्तियां जुड़ी थीं

दीपिका पादुकोण ने जिस वॉट्सऐप ग्रुप में 'हैश' (हशीश) और 'माल है क्या' जैसी लाइन लिखी थी, उसे 2017 में बनाया गया था,सूत्रों के मुताबिक, कुछ महीने पहले ही यह ग्रुप डिलीट किया गया, इसमें कई नामचीन सितारे और उनके मैनेजर जुड़े थे | Deepika Padukone Manager Karishma Prakash Drug Connection Investigation | Here's Latest News Updates Narcotics Control Bureau (NCB)

Allah Rehem kare aise zalimo se 😟

अगले साल भारत में होगा टी-20 विश्व कप, महिला विश्व कप 2022 के लिए तयआईसीसी से मिली जानकारी के अनुसार साल 2021 का टी-20 वर्ल्ड कप भारत और 2022 का टी-20 वर्ल्ड कप ऑस्ट्रेलिया में होगा. Congratulations!!!Very well done!!! Best Wishes🇮🇳💕💥 अच्छा , इस खबर से तो हमें अभूतपूर्व ख़ुशी मिली होगी । .......Aur tumhe cricket ki padi hai

शर्मसार: पांच अस्पतालों ने गर्भवती महिला को भर्ती करने से मना किया, मौतएक 20 वर्षीय गर्भवती महिला को समस्या होने पर पांच अस्पतालों ने कथित तौर पर भर्ती करने से मना कर दिया, जिसके बाद उसकी मौत हो गई। PRODefImphal BJP4Manipur CeoManipur PIBImphal manipur_police MoHFW_INDIA PRODefImphal BJP4Manipur CeoManipur PIBImphal manipur_police MoHFW_INDIA यह कैसा न्याय है। PRODefImphal BJP4Manipur CeoManipur PIBImphal manipur_police MoHFW_INDIA मंदिर पर फोकस करते हैं 😢 PRODefImphal BJP4Manipur CeoManipur PIBImphal manipur_police MoHFW_INDIA इंसानियत को शर्म सार करने वाली खबर... देश में होने वाली इस तरह की हर मौत narendramodi और अंधभक्तों के कर्मों के खाते में गुनाह की तरह लिखी जायेगी इतना तो तय है जिस दिन खुद का मुसीबत से वास्ता पड़ेगा उस वक्त राम के बजाए इंसान की जरूरत महसूस हो जायेगी

पहेली बनी चीनी महिला की बीमारी: दो साल में पेट बढ़कर 19 किलो का हुआ, न नींद आ रही है और न चल फिर पा रही हैं;...चीनी महिला हुआंग गुओशियान के मुताबिक, दवाओं से पेट का दर्द ठीक हुआ लेकिन इसका बढ़ना खत्म नहीं हुआ,हुआंग इससे पहले लिवर सिरोसिस, ओवेरियन कैंसर और बिनाइन ट्यूमर से भी जूझ चुकी हैं​​​​​ China Woman Big Stomach; Know The Health Concerns Of Huang Guoxian Or Khao bkwas cheeze pet me zinda h sb paalo wahi sabhi animals ko...

बूढ़ी महिला को पीटते हुए कैमरे में कैद हुआ यूपी के अस्पताल का गार्ड, पुलिस ने किया गिरफ्तारउत्तर प्रदेश के प्रयागराज में एक सरकारी अस्पताल के सिक्योरिटी गार्ड द्वारा एक बेघर बूढ़ी महिला को बेरहमी से पीटने की वारदात कैमरे में कैद हो गई. आरोपी गार्ड को बीती रात पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर होने के बाद लोगों में बेहद रोष था. Jail me dalo isko कभी बंगाल व केरल भी घुम आया करो . यूपी के मुख्यमंत्री श्री योगी जी से निवेदन करता हूँ क्या आप के राम राज्य मे कोई गरीब सुनवाई होती है कोई भी कोई भी गरीब आदमी व महिलाओं छोटे छोटे व्यापारी भाईयो सिकाईत दज॔ कराता है जनसुनवाई मे भेजता है क्या उसको न्याय मिल पाता है मुख्यमंत्री जी आपसे जनता बहुत उम्मीदें करता है

Bhind News: पत्नी से विवाद में पति ने 3 बेटियों संग लगा दी कुएं में छलांग, चारों की मौतभिंड न्यूज़: Death of Father and 3 Daughters: एमपी के भिंड जिले में पत्नी के साथ विवाद के चलते एक व्यक्ति ने अपनी तेीन बेटियों के साथ कुएं में कूदकर जान दे दी। सुबह घर का दरवाजा खुला देख पड़ोसियों को शक हुआ और उन्होंने युवक के पिता को सूचना दी। पुलिस ने तीनों शवों को कुएं से निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

जब तालिबान ने नजीबुल्लाह की हत्या कर उनकी लाश को लैंप पोस्ट पर लटकायानजीबुल्लाह को सिर में गोली मार क्रेन पर लटकाया गया और फिर राज महल के नज़दीक लैंप पोस्ट से टांग दिया गया. पढ़िए रेहान फ़ज़ल की विवेचना.