Groundreport, Vaccination, Coronavaccine, Coronaupdate, Coronavirus, Covid 19, Coronavaccine, Delhi News, Vaccination İn Delhi, Vaccination Centre Delhi, Lack Of İnformation, Stock Over, Ground Report, Exclusive, Delhi News İn Hindi, Latest Delhi News İn Hindi, Delhi Hindi Samachar

Groundreport, Vaccination

ग्राउंड रिपोर्ट : जानकारी के अभाव में टीकाकरण केंद्रों से वापस लौट रहे युवा, स्टॉक की भी किल्लत

राजधानी में तीन दिन पहले 18 से 44 आयु वर्ग के लोगों के लिए सीधे केंद्र पर जाकर वैक्सीन लगवाने की सुविधा (वॉक इन वैक्सीनेशन)

25-06-2021 03:12:00

ग्राउंड रिपोर्ट : जानकारी के अभाव में टीकाकरण केंद्रों से वापस लौट रहे युवा, स्टॉक की भी किल्लत GroundReport Vaccination Coronavaccine CoronaUpdate Coronavirus Covid19 Coronavaccine drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI

राजधानी में तीन दिन पहले 18 से 44 आयु वर्ग के लोगों के लिए सीधे केंद्र पर जाकर वैक्सीन लगवाने की सुविधा (वॉक इन वैक्सीनेशन)

अभिषेक पांचालकी रिपोर्ट -लोकनायक अस्पताल : यहां काफी भीड़, बेहतर इंतजामदिल्ली सरकार के लोकनायक अस्पताल में टीकाकरण के लिए काफी बेहतर इंतजाम हैं। यहां वैक्सीन लगवाने आए लोगों की काफी संख्या थी। अस्पताल की नई इमारत का पूरा एक तल वैक्सीनेशन के लिए आरक्षित रखा गया है। चार केंद्रों पर टीका लगाया जा रहा है। यहां वॉक इन वैक्सीनेशन और ऑनलाइन पंजीकरण दोनों प्रकार की व्यवस्था है। जो लोग सीधा केंद्र पर आकर टीका लेने आए थे उनको टोकन वितरित किए गए। यहां सिविल डिफेंस के कई कर्मचारी पूरी प्रक्रिया संभाल रहे हैं। लोग एक-एक करके आते रहे और उनका पंजीकरण करके टीका लगता रहा।

भारत के विकास में कोरोना ने लगाया ब्रेक: GDP ग्रोथ का अनुमान घटाने पर IMF चीफ इकोनॉमिस्ट ने NDTV से कहा.. पुराने मोबाइल फोन और लैपटॉप से बने हैं Tokyo Olympics 2020 में मिलने वाले मेडल पेगासस जासूसी: ममता बनर्जी ने मोदी सरकार को दी चुनौती

केंद्र पर तैनात एक नर्सिंग अधिकारी ने बताया कि 18 से 44 आयु वर्ग के लिए टोकन वितरित किए गए थे। टोकन पर लिखे समय के अनुसार लोगों को बुलाया जा रहा है। टीका लगने का नंबर आने के बाद आधार कार्ड या अन्य दस्तावेज की जांच कर सीधा केंद्र पर ही पंजीकरण किया जा रहा है। इसके बाद वैक्सीन लगाई जा रही है। ऑनलाइन पंजीकरण वालो के लिए भी अलग से केंद्र बना हुआ है। इनका पहले की व्यवस्था के तहत टीकाकरण हो रहा है। अधिकारी ने बताया कि वॉक इन वैक्सीनेशन की सुविधा के बाद रोजाना काफी संख्या में लोग आ रहे हैं। इनमें करीब 90 फीसदी युवा है। 45 साल से अधिक उम्र के काफी कम लोग ही अब वैक्सीन लगवाने आ रहे हैं।

अटल बाल विद्यालय, मंदिर मार्ग :ऑनलाइन पंजीकरण वालों को ही टीकामंदिर मार्ग के अटल बाल विद्यालय को भी टीकाकरण केंद्र बनाया गया है। यहां भी दोनों प्रकार से टीका लगाया जा रहा है (ऑनलाइन और सीधा केंद्र पर पंजीकरण)। इस स्कूल में दो टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं। एक में ऑनलाइन पंजीकरण वालों के लिए व्यवस्था की गई है और दूसरे में सीधा केंद्र पर आकर वैक्सीन लेने वालों के लिए है। इस केंद्र पर कुछ ही लोग मौजूद हैं, उनमें से भी अधिकतर बिना ऑनलाइन पंजीकरण वाले हैं। जिनको यहां से वापस भेजा जा रहा है। इस स्कूल में दोपहर के समय में ही वॉक इन वैक्सीनेशन बंद कर दिया गया था, लेकिन यहां काफी युवा ऐसे आ रहे थे जिन्होंने ऑनलाइन पंजीकरण नहीं कराया था और वह सीधा इस केंद्र पर आकर वैक्सीन लगवाना चाहते थे। इन सभी को टीका का स्टॉक खत्म होने का हवाला देकर वापस भेजा दिया गया, जो लोग ऑनलाइन पंजीकरण के माध्यम से आ रहे थे सिर्फ उन्हें ही वैक्सीन लगाई गई। headtopics.com

स्कूल में टीकाकरण की व्यवस्था देख रहे एक डॉक्टर ने बताया कि सरकार के नियम के मुताबिक, सेंटर पर मौजूद कुल वैक्सीन के स्टॉक का 50 फीसदी ही ऑफलाइन पंजीकरण के तहत लगाया जाएगा। इसके लिए टोकन दिए जाएंगे और जो लोग पहले आएंगे उनको यह सुविधा मिलेगी। उन्होंने बताया कि सुबह के समय में ही वॉक इन टीकाकरण वालों के लिए निर्धारित 50 फीसदी स्टॉक खत्म हो गया था। ऐसे में जो लोग इस समय आ रहे है, उन्हें इस सुविधा के तहत वैक्सीन नहीं लगाई जा रही है। उन्होंने बताया कि अब अधिकतर युवा ही वैक्सीन लगवाने आ रहे हैं। 45 से अधिक वालों की संख्या काफी कम है।

आरएमएल अस्पताल : यहां केवल कोवाक्सिन, उसकी भी केवल दूसकी खुराककेंद्र सरकार के राम मनोहर लोहिया अस्पताल (आरएमएल) के वैक्सीन केंद्र पर टीका लगवाने वाले सिर्फ चार से पांच लोग ही मौजूद मिले। इसके अलावा यहां सिविल डिफेंस के कर्मचारी और डॉक्टर हैं। यहां कोवाक्सिन की दूसरी डोज ही लगाई जा रही है। केंद्र पर तीन लोगों ने वैक्सीन लगवाई है और वह निरीक्षण कक्ष में बैठे। कुछ युवा भी वैक्सीन लगवाने आए थे, जिन्हें वापस भेजा गया।

टीकाकरण केंद्र पर मौजूद एक डॉक्टर ने बताया कि अस्पताल में शुरू से ही सिर्फ कोवाक्सिन लगाई जा रही है। फिलहाल वैक्सीन का पर्याप्त स्टॉक नहीं है। इसलिए सिर्फ दूसरी खुराक वालों को ही ऑनलाइन पंजीकरण के माध्मय से स्लॉट दिया जा रहा है। यहां अभी वॉक इन वैक्सीनेशन की सुविधा नहीं है। केंद्र पर टीका लगाने आए करोग बाग निवासी प्रवीण ने बताया कि उन्हे यह जानकारी थी कि 21 जून से दिल्ली के अस्पतालों में सीधा वैक्सीन केंद्र पर जाकर पंजीकरण कराने के बाद टीका लगवा सकते हैं। इसलिए ही वह यहां आए थे, लेकिन जब उन्होंने टीका लगवाने के विषय में जानकारी ली तो उनसे कहा गया कि यहां सिर्फ कोवाक्सिन की दूसरी डोज लगाई जा रही है।

टीकाकरण के नए नियमों के बाद दिल्ली में काफी तेज गति से वैक्सीनेशन हो रहा है। पिछले 24 घंटे में 1 लाख से ज्यादा वैक्सीन लगाई गई है। अब तक करीब 69 लाख लोगों का टीकाकरण हो चुका है। इनमें 25 फीसदी युवा है। दिल्ली में पिछले एक सप्ताह में 6 लाख टीके लगाए जा चुके हैं। headtopics.com

IPS राकेश अस्थाना की नियुक्ति पर हंगामा, AAP विधायक दिल्ली विधानसभा में उठाएंगे मुद्दा महाराष्ट्र : कोरोना से जान गंवाने वालों में 95% ने नहीं लगावाया था टीका, चिकित्सा शिक्षा विभाग का अध्ययन महाराष्ट्र कैबिनेट का बड़ा फैसला, छात्रों को राहत, निजी स्कूलों को करनी होगी फीस में 15% कटौती

राजधानी में अभी तक कुल आबादी में से 34 प्रतिशत यानी, 69 लाख लोगों को वैक्सीन लगी है। इनमें 51,77,601 को पहली और 16,27,998 को दूसरी खुराक लगी है। पहली और दूसरी खुराक लेने वालों में सबसे अधिक संख्या 45 से अधिक आयुवर्ग के लोगों की है। इसके बाद युवाओं और अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मचारियों का नंबर है।

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1,09,655 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। इनमें 98,295 ने पहली खुराक ली और 11,360 को दूसरी खुराक दी गई। पहली खुराक लेने वालों में अधिकतर युवा रहे।टीकाकरण के पात्र लोगों में इतनों को लग चुकी है वैक्सीन18 से 44 आयुवर्ग- 25 फीसदी

45 से अधिक उम्र के- 47 फीसदीस्वास्थ्य कर्मचारी- 83 प्रतिशकअग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मचारी-73 प्रतिशतविस्तार शुरू हो चुकी है। व्यवस्था शुरू होने के बाद टीकाकरण केंद्रों पर भीड़ भी बढ़ने लगी है। केंद्रों पर वैक्सीन लगाने के काफी अच्छे इंतजाम है, लेकिन टीकाकरण के नए नियमों की जानकारी के अभाव में कुछ युवा मायूस भी लौट रहे हैं। कुछ केंद्रों पर काफी जल्दी ही स्टॉक खत्म हो रहा है। इससे दोपहर बाद आने वाले लोगों को वैक्सीन नहीं लग रही है। विभिन्न केंद्रों से पेश है संवाददाता

अभिषेक पांचालकी रिपोर्ट -विज्ञापनलोकनायक अस्पताल : यहां काफी भीड़, बेहतर इंतजामदिल्ली सरकार के लोकनायक अस्पताल में टीकाकरण के लिए काफी बेहतर इंतजाम हैं। यहां वैक्सीन लगवाने आए लोगों की काफी संख्या थी। अस्पताल की नई इमारत का पूरा एक तल वैक्सीनेशन के लिए आरक्षित रखा गया है। चार केंद्रों पर टीका लगाया जा रहा है। यहां वॉक इन वैक्सीनेशन और ऑनलाइन पंजीकरण दोनों प्रकार की व्यवस्था है। जो लोग सीधा केंद्र पर आकर टीका लेने आए थे उनको टोकन वितरित किए गए। यहां सिविल डिफेंस के कई कर्मचारी पूरी प्रक्रिया संभाल रहे हैं। लोग एक-एक करके आते रहे और उनका पंजीकरण करके टीका लगता रहा। headtopics.com

केंद्र पर तैनात एक नर्सिंग अधिकारी ने बताया कि 18 से 44 आयु वर्ग के लिए टोकन वितरित किए गए थे। टोकन पर लिखे समय के अनुसार लोगों को बुलाया जा रहा है। टीका लगने का नंबर आने के बाद आधार कार्ड या अन्य दस्तावेज की जांच कर सीधा केंद्र पर ही पंजीकरण किया जा रहा है। इसके बाद वैक्सीन लगाई जा रही है। ऑनलाइन पंजीकरण वालो के लिए भी अलग से केंद्र बना हुआ है। इनका पहले की व्यवस्था के तहत टीकाकरण हो रहा है। अधिकारी ने बताया कि वॉक इन वैक्सीनेशन की सुविधा के बाद रोजाना काफी संख्या में लोग आ रहे हैं। इनमें करीब 90 फीसदी युवा है। 45 साल से अधिक उम्र के काफी कम लोग ही अब वैक्सीन लगवाने आ रहे हैं।

अटल बाल विद्यालय, मंदिर मार्ग :ऑनलाइन पंजीकरण वालों को ही टीकामंदिर मार्ग के अटल बाल विद्यालय को भी टीकाकरण केंद्र बनाया गया है। यहां भी दोनों प्रकार से टीका लगाया जा रहा है (ऑनलाइन और सीधा केंद्र पर पंजीकरण)। इस स्कूल में दो टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं। एक में ऑनलाइन पंजीकरण वालों के लिए व्यवस्था की गई है और दूसरे में सीधा केंद्र पर आकर वैक्सीन लेने वालों के लिए है। इस केंद्र पर कुछ ही लोग मौजूद हैं, उनमें से भी अधिकतर बिना ऑनलाइन पंजीकरण वाले हैं। जिनको यहां से वापस भेजा जा रहा है। इस स्कूल में दोपहर के समय में ही वॉक इन वैक्सीनेशन बंद कर दिया गया था, लेकिन यहां काफी युवा ऐसे आ रहे थे जिन्होंने ऑनलाइन पंजीकरण नहीं कराया था और वह सीधा इस केंद्र पर आकर वैक्सीन लगवाना चाहते थे। इन सभी को टीका का स्टॉक खत्म होने का हवाला देकर वापस भेजा दिया गया, जो लोग ऑनलाइन पंजीकरण के माध्यम से आ रहे थे सिर्फ उन्हें ही वैक्सीन लगाई गई।

असम-मिज़ोरम सीमा विवाद: असम पुलिस के घायल जवान की मौत, मृतक संख्या सात हुई Modi सरकार vs ऑल में तब्दील हुआ Pegasus जासूसी विवाद, देखें खबरदार बिहार के स्वास्थ्य मंत्री बोले- राज्य में ऑक्सीजन की कमी से नहीं कोई मौत

स्कूल में टीकाकरण की व्यवस्था देख रहे एक डॉक्टर ने बताया कि सरकार के नियम के मुताबिक, सेंटर पर मौजूद कुल वैक्सीन के स्टॉक का 50 फीसदी ही ऑफलाइन पंजीकरण के तहत लगाया जाएगा। इसके लिए टोकन दिए जाएंगे और जो लोग पहले आएंगे उनको यह सुविधा मिलेगी। उन्होंने बताया कि सुबह के समय में ही वॉक इन टीकाकरण वालों के लिए निर्धारित 50 फीसदी स्टॉक खत्म हो गया था। ऐसे में जो लोग इस समय आ रहे है, उन्हें इस सुविधा के तहत वैक्सीन नहीं लगाई जा रही है। उन्होंने बताया कि अब अधिकतर युवा ही वैक्सीन लगवाने आ रहे हैं। 45 से अधिक वालों की संख्या काफी कम है।

आरएमएल अस्पताल : यहां केवल कोवाक्सिन, उसकी भी केवल दूसकी खुराककेंद्र सरकार के राम मनोहर लोहिया अस्पताल (आरएमएल) के वैक्सीन केंद्र पर टीका लगवाने वाले सिर्फ चार से पांच लोग ही मौजूद मिले। इसके अलावा यहां सिविल डिफेंस के कर्मचारी और डॉक्टर हैं। यहां कोवाक्सिन की दूसरी डोज ही लगाई जा रही है। केंद्र पर तीन लोगों ने वैक्सीन लगवाई है और वह निरीक्षण कक्ष में बैठे। कुछ युवा भी वैक्सीन लगवाने आए थे, जिन्हें वापस भेजा गया।

टीकाकरण केंद्र पर मौजूद एक डॉक्टर ने बताया कि अस्पताल में शुरू से ही सिर्फ कोवाक्सिन लगाई जा रही है। फिलहाल वैक्सीन का पर्याप्त स्टॉक नहीं है। इसलिए सिर्फ दूसरी खुराक वालों को ही ऑनलाइन पंजीकरण के माध्मय से स्लॉट दिया जा रहा है। यहां अभी वॉक इन वैक्सीनेशन की सुविधा नहीं है। केंद्र पर टीका लगाने आए करोग बाग निवासी प्रवीण ने बताया कि उन्हे यह जानकारी थी कि 21 जून से दिल्ली के अस्पतालों में सीधा वैक्सीन केंद्र पर जाकर पंजीकरण कराने के बाद टीका लगवा सकते हैं। इसलिए ही वह यहां आए थे, लेकिन जब उन्होंने टीका लगवाने के विषय में जानकारी ली तो उनसे कहा गया कि यहां सिर्फ कोवाक्सिन की दूसरी डोज लगाई जा रही है।

25 फीसदी युवाओं को लग चुकी है वैक्सीनटीकाकरण के नए नियमों के बाद दिल्ली में काफी तेज गति से वैक्सीनेशन हो रहा है। पिछले 24 घंटे में 1 लाख से ज्यादा वैक्सीन लगाई गई है। अब तक करीब 69 लाख लोगों का टीकाकरण हो चुका है। इनमें 25 फीसदी युवा है। दिल्ली में पिछले एक सप्ताह में 6 लाख टीके लगाए जा चुके हैं।

राजधानी में अभी तक कुल आबादी में से 34 प्रतिशत यानी, 69 लाख लोगों को वैक्सीन लगी है। इनमें 51,77,601 को पहली और 16,27,998 को दूसरी खुराक लगी है। पहली और दूसरी खुराक लेने वालों में सबसे अधिक संख्या 45 से अधिक आयुवर्ग के लोगों की है। इसके बाद युवाओं और अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मचारियों का नंबर है।

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1,09,655 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। इनमें 98,295 ने पहली खुराक ली और 11,360 को दूसरी खुराक दी गई। पहली खुराक लेने वालों में अधिकतर युवा रहे।टीकाकरण के पात्र लोगों में इतनों को लग चुकी है वैक्सीन18 से 44 आयुवर्ग- 25 फीसदी

45 से अधिक उम्र के- 47 फीसदीस्वास्थ्य कर्मचारी- 83 प्रतिशकअग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मचारी-73 प्रतिशतविज्ञापन25 फीसदी युवाओं को लग चुकी है वैक्सीनविज्ञापनआपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

इन राज्यों में राहत की बारिश बनी भारी आफत? देखें तस्वीरें

बारिश ने पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाकों के लोगों के सामने लिए बड़ी मुश्किलें लाकर खड़ी कर दी. एक तरफ जहां पहाड़ों पर लोग भूस्खलन से जान गंवा रहे हैं तो दूसरी तरफ मैदानी इलाकों में बाढ़ ने कहर मचा रखा है. दरभंगा में बाढ़ के पानी से कुशेश्वरस्थान के लोग परेशान तो मध्य प्रदेश के कई जिले भी बाढ़ से त्रस्त हैं. सबसे बुरी हालात में महाराष्ट्र है जहां बारिश और बाढ़ से अबतक तकरीबन 112 लोग जान गंवा चुके हैं. इन सबके अलावा कर्नाटक से लेकर तेलंगाना तक में मौसम ने अपना कहर बरपा रखा है. देखें वीडियो.

AGM से पहले रिलायंस के शेयर में नरमी, सेंसेक्स 208 अंक की तेजी के साथ खुलासुबह बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स 208 अंक की तेजी के साथ 52,514.57 पर खुला. आज रिलायंस इंडस्ट्रीज का एजीएम है, इसके पहले इसके शेयरों में नरमी दिख रही है. महाराष्ट्रात नाव देण्यावरून घाणेरडे राजकारण चालते

कोरोना के मद्देनजर यूपी और हरियाणा के एनसीआर के शहरों में जानिये- शादी की नई गाइडलाइनNew Marriage Guidelines दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले जान लें कि दिल्ली यूपी और हरियाणा सरकार ने शादी समारोह के लिए मेहमानों की संख्या और स्थल को लेकर क्या गाइडलाइन जारी की है। कोविड प्रोटोकॉल का भी पालन करना होगा।

Toycathon 2021 के प्रतिभागियों से प्रधानमंत्री मोदी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे बातचीतप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी टायकैथन-2021 के प्रतिभागियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से आज बातचीत करेंगे। यह जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने दी। वहीं बुधवार को उन्होंने ट्वीट करके कहा कि 24 जून को सुबह 11 बजे वे टायकैथन-2021 के प्रतिभागियों के साथ संवाद करेंगे

ब्रिटेन में डेल्टा वेरिएंट के कारण कोविड-19 के मामलों और मौतों में तेज इजाफाब्रिटेन के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक कोविड वैक्सीन की एक खुराक लेने के बावजूद लोग दोबारा संक्रमण के शिकार हो रहे हैं। ब्रिटेन के मंत्री मार्क ड्रेकफोर्ड ने कहा कि डेल्टा वैरिएंट की वजह से कोविड की तीसरी लहर चल रही है।

राजस्थान-पंजाब के बाद झारखंड में कांग्रेस के लिए संकट, 4 विधायकों के बागी तेवरअब ये शिकायत सीधे कांग्रेस झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह और राष्ट्रीय सचिव के वेणुगोपाल को बताई गई है. दोनों ही नेताओं से मुलाकात हो चुकी है और साफ कर दिया है कि इस समय ना संगठन की तरफ से कोई सुनवाई है और ना ही सरकार कोई तवज्जो दे रही है. satyajeetAT Are they indian by colour of skin? I am concerned n confused? satyajeetAT ye he duniya ki sabse badi congress party..... jo abhi desh me he ya nahi he kuch pata nahi he..... kyaa bolte he inhe khud ko pata nahi he

महाराष्ट्र में सियासी हलचल के बीच संजय राउत की NCP प्रमुख शरद पवार से मुलाकातअब ये बैठक काफी मायने इसलिए रखती है क्योंकि पिछली कुछ दिनों में ऐसे बयान देखने सुनने को मिले हैं, जिस वजह से इस सरकार की एकजुटता पर ही सवाल उठने लगे.