Coronavirus, Covid 19, Groundreport, Delhi News, Corona İn Delhi, Ground Report, Exclusive, Vaccine Crisis İn Delhi, Delhi News İn Hindi, Latest Delhi News İn Hindi, Delhi Hindi Samachar

Coronavirus, Covid 19

ग्राउंड रिपोर्ट दिल्ली : बिस्तर, ऑक्सीजन और दवाओं के बाद अब वैक्सीन भी नहीं

देश की राजधानी का स्वास्थ्य सिस्टम कोरोना मरीजों को इलाज देने में नाकाफी साबित हो रहा है।

30-04-2021 02:15:00

ग्राउंड रिपोर्ट दिल्ली : बिस्तर, ऑक्सीजन और दवाओं के बाद अब वैक्सीन भी नहीं coronavirus covid19 Groundreport ArvindKejriwal drharshvardhan

देश की राजधानी का स्वास्थ्य सिस्टम कोरोना मरीजों को इलाज देने में नाकाफी साबित हो रहा है।

हालात इस कदर खराब हैं कि केंद्र सरकार आगामी एक मई से दिल्ली सहित पूरे देश में 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का टीकाकरण शुरू कर रही है। दिल्ली में कोविन वेबसाइट ने युवाओं को हैरान कर दिया है। वेबसाइट पर इन्हें पंजीयन तो मिल गया, लेकिन जब अप्वाइंटमेंट की बारी आई तो उन्हें घंटों दिमाग लगाने के बाद भी कोई सेंटर नहीं मिला।

दिल्ली में विधायकों की सैलरी में बंपर बढ़ोतरी, 54 की जगह 90 हजार करने का प्रस्ताव Jammu Kashmir: बांदीपोर में सुरक्षाबलों से आतंकियों की मुठभेड़, 3 आतंकी ढेर Bhuvneshwar ने पेश की नजीर, 100 फीसदी हुआ Vaccination

इसे लेकर मिलीं शिकायतों के बाद जब ‘अमर उजाला’ संवाददाता ने जमीनी हकीकत पता करने का प्रयास किया तो राजधानी के सरकारी और प्राइवेट केंद्रों की स्थिति सामने आई। पड़ताल में पता चला कि दिल्ली को 16 जनवरी से अब तक 36,90,710 डोज मिली हैं, जिनमें से 3.96 फीसदी बर्बाद हो गईं। 32,43,300 डोज का इस्तेमाल किया गया।

फिलहाल 4,47,410 लाख डोज उपलब्ध हैं। साथ ही अगले तीन दिन में राजधानी को 1.50 लाख वैक्सीन डोज और मिलने वाली हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के यह आंकड़े राजधानी में वैक्सीन की कमी नहीं बता रहे हैं, लेकिन स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का कहना है कि दिल्ली में अभी वैक्सीन नहीं है। कंपनियों से कहा है कि जल्द से जल्द आपूर्ति करें। headtopics.com

पंजीयन के बाद सामने आई सच्चाईएक मई से चौथा चरण शुरू होने के चलते 32 वर्षीय शेफाली गुलाटी ने बुधवार को कोविन वेबसाइट पर पंजीयन किया, लेकिन ओटीपी उन्हें अगले दिन बृहस्पतिवार सुबह मिला। उन्होंने फिर प्रयास किया तो पंजीयन हो गया, परंतु अप्वाइंटमेंट ही नहीं मिला। कोविन वेबसाइट पर लिखा था कि अभी आपके लिए किसी भी केंद्र पर वैक्सीन नहीं है। शेफाली का कहना है कि दिल्ली में न बेड हैं और न ऑक्सीजन। दवाएं मिल नहीं रही हैं। अब वैक्सीन का भी यह हाल हो चुका है।

केंद्रों ने कहा, गिनती की डोज हैंपूर्वी दिल्ली के चार अलग-अलग वैक्सीन केंद्रों पर पहुंचकर जब स्टॉक के बारे में जानकारी ली गई तो पता चला कि उनके पास नए लोगों के लिए वैक्सीन नहीं है। चाचा नेहरू अस्पताल में केवल 58 डोज हैं। एलबीएस में 66 और विरमानी में 76 डोज हैं, लेकिन यह सभी 45 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए हैं। साथ ही यह डोज उन्हीं लोगों के लिए हैं जिन्होंने हाल ही में दूसरी डोज के लिए अप्वाइंटमेंट लिया था।

स्पूतनिक का पता नहीं, कोविशील्ड थोड़ी बचीराजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल स्थित वैक्सीन भंडारण में जब वास्तविक स्थिति का पता लगाया गया तो वहां मौजूद कर्मचारी रमेश कुमार ने कहा कि स्पूतनिक वैक्सीन का उन्हें कोई आइडिया नहीं है। अभी उनके पास केवल कोविशील्ड वैक्सीन के ही वॉयल हैं और वह भी ज्यादा नहीं है। वहीं, कर्मचारी विवेक सिंह ने कहा कि कोवाक्सिन तो उनके पास पहले से ही वितरित हो चुकी है। वह केंद्र सरकार के ही अस्पतालों में मिल रही है।

कोरोना से लड़ने वाली स्वास्थ्य सेवाओं की हालत1. अस्पताल में बेड : खाली नहीं2. वेंटिलेटर : एक भी खाली नहीं3. मरीजों को ऑक्सीजन : मुश्किल भरा4. रेमडेसिविर, टोसिलिजुमैब : नहीं5. ऑक्सीजन के नए सिलिंडर : नहीं6. कोरोना वैक्सीन की डोज : आउट ऑफ स्टॉक7. ऑक्सीमीटर व अन्य चिकित्सीय उपकरण : बाजार में नहीं headtopics.com

दिल्ली में विधायकों की बल्ले-बल्ले: अब हर माह 54 के बदले मिलेगा 90 हजार रुपये वेतन, कैबिनेट ने दी मंजूरी Himachal Pradesh: सड़क पर भरभरा कर गिरा पहाड़ का हिस्सा, देखें Sirmaur का भयानक मंजर Olympic Games: अब कांस्य पदक के लिए खेलेगा भारत, देखें सेमीफाइनल में कहां हुई चूक

8. मरीजों को फोन पर चिकित्सीय सलाह : वो भी नहीं9. मरीजों के लिए हेल्पलाइन : व्यस्त ही व्यस्त10. शवों के लिए एंबुलेंस : लंबी वेटिंग11. श्मशान घाट पर लकड़ी : आउट ऑफ स्टॉक12. मरीजों के लिए एंबुलेंस : लंबी वेटिंगविस्तार बिस्तर, ऑक्सीजन व जरूरी दवाओं के लिए मची मारामारी के बीच अब कोरोना से बचने के लिए वैक्सीन भी खत्म हो चुकी है।

विज्ञापनहालात इस कदर खराब हैं कि केंद्र सरकार आगामी एक मई से दिल्ली सहित पूरे देश में 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का टीकाकरण शुरू कर रही है। दिल्ली में कोविन वेबसाइट ने युवाओं को हैरान कर दिया है। वेबसाइट पर इन्हें पंजीयन तो मिल गया, लेकिन जब अप्वाइंटमेंट की बारी आई तो उन्हें घंटों दिमाग लगाने के बाद भी कोई सेंटर नहीं मिला।

इसे लेकर मिलीं शिकायतों के बाद जब ‘अमर उजाला’ संवाददाता ने जमीनी हकीकत पता करने का प्रयास किया तो राजधानी के सरकारी और प्राइवेट केंद्रों की स्थिति सामने आई। पड़ताल में पता चला कि दिल्ली को 16 जनवरी से अब तक 36,90,710 डोज मिली हैं, जिनमें से 3.96 फीसदी बर्बाद हो गईं। 32,43,300 डोज का इस्तेमाल किया गया।

फिलहाल 4,47,410 लाख डोज उपलब्ध हैं। साथ ही अगले तीन दिन में राजधानी को 1.50 लाख वैक्सीन डोज और मिलने वाली हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के यह आंकड़े राजधानी में वैक्सीन की कमी नहीं बता रहे हैं, लेकिन स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का कहना है कि दिल्ली में अभी वैक्सीन नहीं है। कंपनियों से कहा है कि जल्द से जल्द आपूर्ति करें। headtopics.com

पंजीयन के बाद सामने आई सच्चाईएक मई से चौथा चरण शुरू होने के चलते 32 वर्षीय शेफाली गुलाटी ने बुधवार को कोविन वेबसाइट पर पंजीयन किया, लेकिन ओटीपी उन्हें अगले दिन बृहस्पतिवार सुबह मिला। उन्होंने फिर प्रयास किया तो पंजीयन हो गया, परंतु अप्वाइंटमेंट ही नहीं मिला। कोविन वेबसाइट पर लिखा था कि अभी आपके लिए किसी भी केंद्र पर वैक्सीन नहीं है। शेफाली का कहना है कि दिल्ली में न बेड हैं और न ऑक्सीजन। दवाएं मिल नहीं रही हैं। अब वैक्सीन का भी यह हाल हो चुका है।

केंद्रों ने कहा, गिनती की डोज हैंपूर्वी दिल्ली के चार अलग-अलग वैक्सीन केंद्रों पर पहुंचकर जब स्टॉक के बारे में जानकारी ली गई तो पता चला कि उनके पास नए लोगों के लिए वैक्सीन नहीं है। चाचा नेहरू अस्पताल में केवल 58 डोज हैं। एलबीएस में 66 और विरमानी में 76 डोज हैं, लेकिन यह सभी 45 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए हैं। साथ ही यह डोज उन्हीं लोगों के लिए हैं जिन्होंने हाल ही में दूसरी डोज के लिए अप्वाइंटमेंट लिया था।

राजनीति: कुछ देर में अमित शाह से मिलेंगे शरद पवार, सियासी हलचलें तेज Pornography Case: टॉपलेस, न्यूड शॉट्स से पहले साइन होता था कॉन्ट्रैक्ट, हुआ बड़ा खुलासा CBSE 10th Results 2021 Live Updates: सीबीएसई बोर्ड 10वीं के रिजल्‍ट घोषित, यहां चेक करें अपना स्कोर

स्पूतनिक का पता नहीं, कोविशील्ड थोड़ी बचीराजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल स्थित वैक्सीन भंडारण में जब वास्तविक स्थिति का पता लगाया गया तो वहां मौजूद कर्मचारी रमेश कुमार ने कहा कि स्पूतनिक वैक्सीन का उन्हें कोई आइडिया नहीं है। अभी उनके पास केवल कोविशील्ड वैक्सीन के ही वॉयल हैं और वह भी ज्यादा नहीं है। वहीं, कर्मचारी विवेक सिंह ने कहा कि कोवाक्सिन तो उनके पास पहले से ही वितरित हो चुकी है। वह केंद्र सरकार के ही अस्पतालों में मिल रही है।

कोरोना से लड़ने वाली स्वास्थ्य सेवाओं की हालत1. अस्पताल में बेड : खाली नहीं2. वेंटिलेटर : एक भी खाली नहीं3. मरीजों को ऑक्सीजन : मुश्किल भरा4. रेमडेसिविर, टोसिलिजुमैब : नहीं5. ऑक्सीजन के नए सिलिंडर : नहीं6. कोरोना वैक्सीन की डोज : आउट ऑफ स्टॉक7. ऑक्सीमीटर व अन्य चिकित्सीय उपकरण : बाजार में नहीं

8. मरीजों को फोन पर चिकित्सीय सलाह : वो भी नहीं9. मरीजों के लिए हेल्पलाइन : व्यस्त ही व्यस्त10. शवों के लिए एंबुलेंस : लंबी वेटिंग11. श्मशान घाट पर लकड़ी : आउट ऑफ स्टॉक12. मरीजों के लिए एंबुलेंस : लंबी वेटिंगआपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

मंडे मेगा स्टोरी: कोरोना के 15 महीने और राजस्थान-मध्यप्रदेश के रोजगार-कारोबार का हाल, सीधे सड़क से

ये सफर ट्रक का था। ड्राइवर लखन थे और हम उनके बाजू में बैठे। काली सड़क, आस-पास के जंगल-पठार, कहीं सूखा-कहीं बारिश और सफर करीब छह सौ किमी का। दिन आए और रात गई। | We completed the 600 km journey by truck and explored the different sectors falling on the way. Introducing Ground Reality of Transport, Kota Coaching, Kota Stone, Tourism, Jewelry and Small Industries...

ArvindKejriwal drharshvardhan Kis state me pori facility hai ArvindKejriwal drharshvardhan Ram 🙏 bharose rehna hai ab.. ArvindKejriwal drharshvardhan Wah yhi sunna baki tha

ग्राउंड रिपोर्ट : दिल्ली में सक्रिय हैं सेहत के सौदागर, एक बेड की कीमत दो लाखग्राउंड रिपोर्ट : दिल्ली में सक्रिय हैं सेहत के सौदागर, एक बेड की कीमत दो लाख Delhi Coronavirus Groundreport Bedsinhospitals ArvindKejriwal drharshvardhan ArvindKejriwal drharshvardhan 'आपदा में अवसर' ये मंत्र लोगों ने मोदी जी से ही तो सीखा है।

'सत्ता याद रखे, भूला नहीं जाएगा', मोदी सरकार पर भड़ास निकालते हुए बोले पुण्य प्रसून बाजपेयीCorona Dangerous Situation: कोरोना के प्रकोप के बीच दवाओं और ऑक्सीजन की कमी पर बोलते हुए बाजपेयी केंद्र सरकार पर बिफरते दिखे। पुण्य प्रसून बाजपेयी ने एक के बाद एक तीन ट्वीट.. बिकलु सही बात बोले है ppbajpai जी , सच बोलने के कारण ही तो आजतक से इनको हटाया गया था मगर फिर भी ये रुके नही है और अपना पत्रकारिता धर्म को निभाते जा रहे है चुनाव जीवी है बड़ी मुश्किल से सिर्फ बांग्लादेश का दौरा, एक साल में करके आपने आप को शांत कर रखा है कोरोना की त्रासदी को मद्दे नजर रखते हुए इस बार पश्चिमी बंगाल में कांग्रेसी विधायकों ने एकमत से बिकने से इंकार कर दिया है। बाकी देश में विधायक बिक्री के लिए उपलब्ध रहेंगे।

ग्राउंड रिपोर्ट: प्राइवेट अस्पतालों में रात को हो रहा बड़ा खेल, फोन पर बोल रहे झूठ, मौके पर मिल रहा बिस्तरग्राउंड रिपोर्ट: प्राइवेट अस्पतालों में रात को हो रहा बड़ा खेल, फोन पर बोल रहे झूठ, मौके पर मिल रहा बिस्तर Groundreport Coronaindelhi OxygenShortage ArvindKejriwal drharshvardhan ArvindKejriwal drharshvardhan This is the failure of state and central govt both. Becz everyone is making money means everyone all has got cuts. They are vultures.

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को लगाई फटकार, कहा- सोशल मीडिया पर ऑक्सीजन, बेड की शिकायत गलत नहींशुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से वैक्सीन के दामों, दवाइयों और ऑक्सीजन की किल्लत को लेकर भी जवाब तलब किया। Mohamma42501291 Sahi kiya Supreme Court ne ye hona जरूरी hai

तमिलनाडु : सरकारी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 13 मरीजों की मौत, अधिकारियों का इनकारतमिलनाडु : सरकारी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 13 मरीजों की मौत, अधिकारियों का इनकार LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI TamilNadu PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI rashtrapatibhvn PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI Some more. Very depressing.