गुजरात में दलित आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या, जनवरी में मिली थी सुरक्षा - BBC News हिंदी

गुजरात में दलित आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या, जनवरी में मिली थी सुरक्षा

04-03-2021 07:03:00

गुजरात में दलित आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या, जनवरी में मिली थी सुरक्षा

अपने गाँव के एकमात्र दलित परिवार के इस कार्यकर्ता ने गाँव के विकास और मनरेगा स्कीम के फंड की जानकारी के लिए कई आरटीआई दाख़िल किए थे.

पुलिस सुरक्षा के बावजूद हमलावरों ने किया हमलाएफ़आईआर में लिखा हुआ है कि बोरिचा की सुरक्षा में इसी साल दो जनवरी को निहत्थे पुलिसकर्मी की ड्यूटी लगाई गई थी. हालाँकि उनकी जान का ख़तरा ज़्यादा था और बोरिचा चाहते थे कि उनकी सुरक्षा में बंदूकधारी पुलिसकर्मी की ड्यूटी लगे.

ऑक्‍सीजन संकट: दिल्‍ली HC ने कहा, 'इमरजेंसी जैसे हालात ने दिखाया, सरकार के लिए लोगों की जानों की फिक्र नहीं' ऑक्सीजन की कमी पर सरकार के रवैए से चकित दिल्ली हाई कोर्ट - आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi मध्‍य प्रदेश: कोरोना संक्रमित पत्‍नी को लेकर 8 घंटे तक भटकता रहा BSF जवान, बमुश्किल करा पाया अस्‍पताल में भर्ती

स्थानीय पुलिस सब इंस्पेक्टर पीआर सोलंकी ने बोरिचा की इस मांग को ख़ारिज कर दिया था. आरोप है कि सोलंकी ने इस मांग को लेकर बोरिचा को अपमानित भी किया था. बोरिचा की बेटी निर्मला ने अपनी शिकायत में कहा है कि जब उनके पिता पर हमला हुआ तो निहत्था पुलिसकर्मी मौजूद था लेकिन वो कुछ कर नहीं पाया और हमलावरों ने जान ले ली.

पूरा मामला क्या है?सानोदर गाँव में बोरिचा का परिवार एक मात्र दलित परिवार है. बोरिचा ने गाँव के विकास और मनरेगा स्कीम के फंड की जानकारी हासिल करने के लिए कई आरटीआई दाख़िल किए थे. इससे पहले कथित ऊंची जाति के कुछ लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर भी दर्ज कराई गई थी. इन पर आरोप है कि बोरिचा कथित रूप से वैसी ज़मीन की जुताई कर रहे थे जिसका स्वामित्व किसी के पास नहीं था, तभी हमला किया. headtopics.com

निर्मला का कहना है कि इस मामले में अदालत आठ मार्च को फ़ैसला सुनाएगी. निर्मला का यह भी कहना है कि उनके पिता पर इस मुक़दमे को लेकर दबाव बनाया जा रहा था कि अदालत से बाहर इसे सुलझा लिया जाए.एक स्थानीय दलित एक्टिविस्ट अरविंद मकवाना ने बीबीसी से कहा कि बोरिचा इस मामले में झुके नहीं इसलिए उनकी हत्या कर दी गई.

इमेज स्रोत,Getty Imagesगुजरात में आरटीआई एक्टिविस्ट और उनकी सुरक्षाकॉमनवेल्थ ह्यूमन राइट्स इनिशिएटिव वेबसाइट के अनुसार गुजरात में पिछले 11 सालों में अब तक 12 आरटीआई एक्टिविस्टों की हत्या हो चुकी है. मार दिए गए आरटीआई एक्टिविस्ट की सूची में बोरिचा 13वें नंबर पर हैं.

इस वेबसाइट के अनुसार देश भर में 89 आरटीआई एक्टिविस्टों की हत्या हुई है. गुजरात में 17 आरटीआई एक्टिविस्टों पर जानलेवा हमले हुए हैं और देश भर में यह तादाद 173 है. इसके अलावा गुजरात में 17 वैसे आरटीआई एक्टिविस्ट हैं जिन्हें उत्पीड़न का सामना करना पड़ा या धमकियाँ मिलीं. राष्ट्रीय स्तर पर यह तादाद 185 है.

गुजरात में जिन आरटीआई एक्टिविस्टों की हत्या हुई, उनके नाम इस तरह हैं- चिराग पटेल (मार्च 2019), नांजी सोंदार्वा (मार्च 2018), राजेश सवालिया (जुलाई 2018), कार्सन अला (जनवरी 2016), रतनसिंह चौधरी (अक्टूबर 2015), शैलेश कांतिलाल (जून 2015), अमित कपासिया (दिसंबर 2011), जयेश बरोट (नवंबर 2011), योगेश शेखर (नवंबर 2011), नदीम सईद (नवंबर 2011), अमित जेतवा (जुलाई 2010), विश्राम दोदिया (फ़रवरी 2010). headtopics.com

वैक्सीन लेने वाले कोरोना से कम संक्रमित: सरकार का दावा - आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi दिल्ली ने एक बार फिर ऑक्सीजन सप्लाई के लिए केंद्र से लगाई गुहार - आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi कोविड की दूसरी लहर देश की अर्थव्यवस्था को इतना क्यों दहला रही है? - BBC News हिंदी

गुजरात में क्या आरटीआई को कमज़ोर बना दिया गया है?आरटीआई एक्टिविस्ट पंक्ति जोग मानती हैं कि यहाँ आरटीआई एक्ट के कई सेक्शन को कमज़ोर कर दिया गया है. आधिकारिक रूप से यहाँ आरटीआई में एक संशोधन किया गया है लेकिन सरकारी अधिकारियों के नकारात्मक रवैए के कारण इस एक्ट की धार पहले ही मोटी कर दी गई है.

पंक्ति कहती हैं कि सरकारी विभागों से जुड़ी जानकारी ख़ुद से ही सार्वजनिक कर देनी चाहिए लेकिन ये ना तो ख़ुद से करते हैं और न ही मांगने पर देते हैं. पंक्ति कहती हैं कई कारण बताकर सरकारी अधिकारी सूचना देने से इनकार कर देते हैं. और पढो: BBC News Hindi »

35 साल बाद बेटी जन्मी तो अनूठा जश्न: दादा का सपना था हेलिकॉप्टर से पोती गांव आए, इसके लिए 5 लाख रुपये में बेची फसल, गांव वालों ने हेलीपैड से रास्ते तक बिछाए फूल

जिले के कुचेरा क्षेत्र के गांव निम्बड़ी चांदावता के एक किसान परिवार ने अपने घर में 35 साल बाद हुए बेटी के जन्म की खुशी को अनूठे अंदाज में मनाया। बेटी को अपने ननिहाल से हेलिकॉप्टर में घर लेकर पहुंचे। यहां हेलीपैड से लेकर घर तक रास्ते में गांव वालों ने फूल बिछाए। इसके लिए बाकायदा 10-12 दिन पहले से तैयारियां शुरू हो गई थीं। सामान्य किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाले बेटी के दादा मदन लाल प्रजापत ने फसल... | Newborn daughter first time Came home from helicopter, parents laid flowers on the way from heliped to house, Nagaur latest news update

Wo kisi bhi news me victim ka cast batanaa zaroori hai kya kya kar rahe ho aap news wale aise jaati ko mention karke m kya batanaa chahate ho aap Have you seen only these news in india Result of interference in powerful people's wasted interests, tihadi31 Rss Existential crisis में? PMOIndia Plz help me sir🙏

😢😢😢 Shame लगता है गलती से खबर दी आपने , वरना ये खबर तो सिर्फ देशद्रोही मीडिया ही दे सकता है। देश का यही दुर्भाग्य है जो भी सच्चा ही के खिलाफ आवाज उठायेगा उसका यही हर्ष होता है क्यो कि ये देश झुटो से भ्रष्टाचार से भरा है.और नेता सब से जादा भ्रष्ट है. BBC TMC(टिएमसी का फुल फॉर्म खुद लगा लेना वरना हम लिखेंगे तो अकाउंट ब्लॉक हो जाएगा)।

मनुवाद से ग्रासित है गुजरात राज्य ये तो होगा हि जब सरकार मनुवादी हो तो बेशक होगा. Profdilipmandal scribe_it सुरक्षा मे हत्या.. क्या हो रहा हैं कैसे सम्भव हैं.. ऐसे तो ..कल को... आत्मनिर्भर बनें लगता है सत्ता हासिल करने का मकसद ही बेचना है इस चैनल का बहिष्कार करें और जितनी गन्दी गालिया इसके मालिकों को दी जा सकें दें आपकी अभियक्ति की आजादी है।

बेहद दुःखद और शर्मनाक!!😢 Gujrat Modal🤔🤔🙏🙏 India needs the army to intervene. If ever a Country and its ppl needed a Coup to bring back Law and Order and stop the killing and rapes of the oppressed. This is it. हम किस खोखले लोकतंत्र में जी रहे आखिर आदमी को आदमी से खतरा क्यों है सुरक्षा होने के बाद भी व्यक्ति की हत्या हो जाती है और हमारा सिस्टम तमाशा देखता है

BanBBC राम राज्य में यह क्या हो रहा है❓ Bjp sashit kisi v rajya dalit surakshit nhi biswas nhi to google kr k dekhlo देश सुरक्षित हाथों में कहनेवाला चौकीदार चूप है मोनीबाबा बन गया है । एक और आवाज को दबा दिया गया Yhi suraksha mili thi See, how many trend for justice of this RTI activist....Like druggist SSR

Had hi yar BBC valo tum logo ka , matlab koi crime ho to usmi jaati jarur ghusaaoge , crime bas crime hota hi 😡😡😡 वर्तमान सरकार में इससे ज्यादा गारण्टी की उम्मीद न रखे।आत्मनिर्भर बनें। भाजपा शासन में गुंडाराज-रावण राज तो फिर कैसी सुरक्षा मिली थी ब्रिटिश भंरवागीरी सेंटर का नया मुजरा । जर्नल परेशान, द्लित परेशान, OBC परेशान, सिख़ परेशान, मुसलमान परेशान, किसान परेशान, युवा परेशान, अब तो देश में मात्र दो पूंजीपति ही सुखी नज़र आते हैं, जिन्होंने आम लोगों की खुशियाँ को गिरवी डाल दिया है

BBC के रेडियो शो में कॉलर ने दी PM मोदी की मां को गाली, भड़के लोग, ट्रेंड हुआ BoycottBBC DalitLivesMatterInIndia DalitLivesMatterInIndia हक़ बात करने वालो का इस देश मे यही अंजाम होगा कब तक ज़ुल्म को बर्दाश्त करते रहेंगे जागो मूलनिवासी जागो अब वक्त आगया हैँ इंसाफ को लाने का..😔😔😔 जय मूलनिवासी सब भक्ति का खेल है स्वीकार तो कंगना अस्वीकार तो छापा पड़ना 🤣 किसान_के_समान_में_युवा_मैदान_मै TapseePannu

Rss bjp murdabad Yeah new India ha yaha kuchh v possible ha Kya iske liye uska name kafi Nahi hai Kisi ke name ko Kisi jati se Jana jata hai अंधेरा कायम है🌚 😢 दलित लिखना जरूरी नही। Although I don't want to comment on this case without knowing the facts but in general RTI activists have become menace and most of them are extortionist.

गुजरात मॉडल..? भारतीय संस्कृति हमे महिलाओं के सम्मान के लिए महाभारत और रामायण जैसे युद्ध करना सिखाती है।। इसलिए प्रधानमंत्री मोदी की माताजी के लिए अभद्र भाषा प्रसारीत करने के कारण कायर बीबीसी पर सख्त करवाई होनी चाहिए।। bbcban BanBBCIndia BanBBC BanBBC_india दुखद क्या दलित दलित लगा रखा है ,, तुम न्यूज वाले और भी ज्यादा जातिवाद फैला रहे हो ,, शर्म करो और किसी नाले में अपनी नाक डूबा लो

ॐ शांति ॐ Dawood Ibrahim has killed him Iski janch hokar Jald jald doshi ko saja do CMOGuj 😐 Is it necessary to mention his jati this is not a news channel banbbc भगवा आतंकवाद Boycottbbc