Gaganyaan, Gaganyaan, Flight Surgeon, Russia, İsro, Flight Surgeon Training, Air Force Doctor, Space Research, İndian Manav Mission İn Space, Yuri Gagarin, France

Gaganyaan, Gaganyaan

गगनयान: भारत के दो फ्लाइट सर्जन रूस में लेंगे अंतरिक्ष यात्रियों के इलाज का प्रशिक्षण

गगनयान: भारत के दो फ्लाइट सर्जन रूस में लेंगे अंतरिक्ष यात्रियों के इलाज का प्रशिक्षण #Gaganyaan @PMOIndia

10-01-2021 17:34:00

गगनयान: भारत के दो फ्लाइट सर्जन रूस में लेंगे अंतरिक्ष यात्रियों के इलाज का प्रशिक्षण Gaganyaan PMOIndia

गगनयान मिशन से जुड़े दो दो फ्लाइट सर्जन रूसी समकक्षों से अंतरिक्ष में चिकित्सा का प्रशिक्षण लेने के लिए जल्द ही रूस

बता दें, गगनयान भारत की महत्वाकांक्षी परियोजना है, जिसके तहत वर्ष 2022 में अंतरिक्ष में तीन यात्रियों को भेजने का लक्ष्य है। हालांकि, कोविड-19 महामारी की वजह से इसमें कुछ देरी हुई है।फ्लाइट सर्जन भारतीय वायुसेना के डॉक्टर हैं और उन्हें एयरोस्पेस मेडिसिन में विशेषज्ञता हासिल है। इसरो के एक अधिकारी ने बताया कि फ्लाइट सर्जन जल्द रवाना होंगे। वे रूस के फ्लाइट सर्जन से सीधे प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे।

किसानों पर ब्रिटिश संसद के कैंपस में चर्चा, भारत की कड़ी आपत्ति - BBC News हिंदी पश्चिम बंगाल चुनाव: ममता के रहते मुसलमानों के बीच ओवैसी के लिए कितनी जगह - BBC News हिंदी ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा- काश, राहुल गांधी पहले उनकी चिंता करते - BBC News हिंदी

अंतरिक्ष में मानव मिशन का सबसे अहम पहलू अंतरिक्ष यात्रियों का प्रशिक्षण है। फ्लाइट सर्जन, अंतरिक्ष यात्रियों की उड़ान के दौरान और उसके बाद की सेहत के लिए जिम्मेदार होते हैं। फ्लाइट सर्जन को संभावित अंतरिक्ष यात्री के तौर पर भी प्रशिक्षित किया जाएगा।उल्लेखनीय है कि भारतीय वायुसेना के चार टेस्ट पायलटों को भारत के पहले मानव मिशन के लिए चुना गया है और वे पिछले साल फरवरी से ही मास्को के नजदीक यूरी गागरिन रिसर्च एंड टेस्ट कॉस्मोनॉट ट्रेनिंग सेंटर में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। इस केंद्र का नाम दुनिया के पहले अंतरिक्ष यात्री के नाम पर रखा गया है।

फ्लाइट सर्जन प्रशिक्षण के लिए फ्रांस की भी यात्रा करेंगे। अधिकारी ने बताया कि फ्रांसीसी स्पेस सर्जन का प्रशिक्षण ज्यादतर सैद्धांतिक होगा। वर्ष 2018 में फ्लाइट सर्जन ब्रिगिट गोडार्ड फिजिशियन और इंजीनियर को प्रशिक्षण देने के लिए भारत आए थे। वह उस समय फ्रांसीसी अंतरिक्ष एजेंसी सीएनईएस में कार्यरत थे। headtopics.com

फ्रांस ने अंतरिक्ष चिकित्सा के प्रशिक्षण के लिए भी व्यवस्था की है। उसने सीएनईएस की अनुषंगी के तौर पर एमईडीईएस स्पेस क्लीनिक की स्थापना की है, जहां पर फ्लाइट सर्जन को प्रशिक्षण दिया जाता है। रवाना होंगे। यह जानकारी भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने रविवार को दी।

विज्ञापनबता दें, गगनयान भारत की महत्वाकांक्षी परियोजना है, जिसके तहत वर्ष 2022 में अंतरिक्ष में तीन यात्रियों को भेजने का लक्ष्य है। हालांकि, कोविड-19 महामारी की वजह से इसमें कुछ देरी हुई है।फ्लाइट सर्जन भारतीय वायुसेना के डॉक्टर हैं और उन्हें एयरोस्पेस मेडिसिन में विशेषज्ञता हासिल है। इसरो के एक अधिकारी ने बताया कि फ्लाइट सर्जन जल्द रवाना होंगे। वे रूस के फ्लाइट सर्जन से सीधे प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे।

अंतरिक्ष में मानव मिशन का सबसे अहम पहलू अंतरिक्ष यात्रियों का प्रशिक्षण है। फ्लाइट सर्जन, अंतरिक्ष यात्रियों की उड़ान के दौरान और उसके बाद की सेहत के लिए जिम्मेदार होते हैं। फ्लाइट सर्जन को संभावित अंतरिक्ष यात्री के तौर पर भी प्रशिक्षित किया जाएगा।उल्लेखनीय है कि भारतीय वायुसेना के चार टेस्ट पायलटों को भारत के पहले मानव मिशन के लिए चुना गया है और वे पिछले साल फरवरी से ही मास्को के नजदीक यूरी गागरिन रिसर्च एंड टेस्ट कॉस्मोनॉट ट्रेनिंग सेंटर में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। इस केंद्र का नाम दुनिया के पहले अंतरिक्ष यात्री के नाम पर रखा गया है।

फ्लाइट सर्जन प्रशिक्षण के लिए फ्रांस की भी यात्रा करेंगे। अधिकारी ने बताया कि फ्रांसीसी स्पेस सर्जन का प्रशिक्षण ज्यादतर सैद्धांतिक होगा। वर्ष 2018 में फ्लाइट सर्जन ब्रिगिट गोडार्ड फिजिशियन और इंजीनियर को प्रशिक्षण देने के लिए भारत आए थे। वह उस समय फ्रांसीसी अंतरिक्ष एजेंसी सीएनईएस में कार्यरत थे। headtopics.com

किसान आंदोलन पर ब्रितानी सांसदों की चर्चा से भड़का भारत - BBC News हिंदी अफ़ग़ान शांति वार्ताः क्या पाकिस्तान पचा पाएगा भारत की मौजूदगी? - BBC News हिंदी राहुल पर ज्योतिरादित्य का पलटवार: सिंधिया बोले- जितनी चिंता अब है, काश! उतनी तब होती जब मैं कांग्रेस में था

फ्रांस ने अंतरिक्ष चिकित्सा के प्रशिक्षण के लिए भी व्यवस्था की है। उसने सीएनईएस की अनुषंगी के तौर पर एमईडीईएस स्पेस क्लीनिक की स्थापना की है, जहां पर फ्लाइट सर्जन को प्रशिक्षण दिया जाता है।आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

मनसुख हीरेन की मौत का क्या है स्कॉर्पियो कनेक्शन? देखें वारदात

एंटिलिया के बाहर स्कॉर्पियो में मिले विस्फोटक का सच एनआईए पता लगाएगी. धमकी और मनसुख हीरेन की मौत में कोई रिश्ता है? एनआईए इस साजिश का भी पता लगाएगी. पहले मुंबई क्राइम ब्रांच, क्राइम यूनिट, फिर एटीएस और अब एनआईए जिस तेज़ी से जांच एजेंसियां बदल रही हैं, उसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि ये मामला या साजिश कितनी बड़ी है. हालांकि फिलहाल एनआईए एंटीलिया के के बाहर मिली विस्फोटक से भरी स्कॉर्पियो कार के मामले की ही जांच करेगी लेकिन वो स्कॉर्पियो के मालिक मनसुख हीरेन की मौत पर भी नजर बनाए हुए है. देखें वारदात, शम्स ताहिर खान के साथ.