Imd, Weatherupdate, Cyclone, Tauktaecyclone, Arabian Sea, Cyclone, First Cyclone, Weather News, İndia Meteorological Department

Imd, Weatherupdate

खतरा: अरब सागर में बन सकता है साल का पहला चक्रवाती तूफान, नाम होगा ‘तौकते’

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार देश के पश्चिमी तट पर रविवार तक साल का पहला चक्रवाती तूफान दस्तक देगा। लक्षद्वीप,

13-05-2021 02:00:00

खतरा: अरब सागर में बन सकता है साल का पहला चक्रवाती तूफान, नाम होगा ‘तौकते’ IMD WeatherUpdate Cyclone Tauktae Cyclone

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार देश के पश्चिमी तट पर रविवार तक साल का पहला चक्रवाती तूफान दस्तक देगा। लक्षद्वीप,

मौसम विभाग द्वारा अगले कुछ दिनों में पूर्वी मध्य अरब सागर पर चक्रवात बनने की भविष्यवाणी की गई है। इसके बनने के बाद इसका नाम ‘तौकते’ रखा जाएगा, जिसका अर्थ है अत्यधिक आवाज वाली छिपकली। यह नाम म्यांमार ने दिया है।इसकी वजह से 14 से 16 मई के बीच केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, और महाराष्ट्र समेत कई इलाकों में भारी बारिश हो सकती है।

चिराग पासवान ने बाग़ी सांसदों को निकाला, पारस धड़े ने चिराग को हटाया - BBC Hindi क्या बीजेपी ने नीतीश के लिए चिराग को छोड़ दिया है? - BBC News हिंदी चिराग पासवान समर्थकों का पटना में हंगामा, बाग़ी सांसदों के साथ नीतीश कुमार पर भी निशाना - BBC Hindi

16 मई तक तेज हो सकता है तूफानमौसम विभाग के अनुसार 14 मई की सुबह तक दक्षिण पूर्व अरब सागर के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। इसके दक्षिण पूर्व अरब सागर और उससे लगे लक्षद्वीप क्षेत्र में उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने और धीरे-धीरे तेज होने की संभावना है।

16 मई तक इसके चक्रवाती तूफान का रूप लेने की संभावना है। लक्षद्वीप, केरल के तट, कर्नाटक , गोवा और महाराष्ट्र के इस दौरान प्रभावित होने की संभावना है।20 मई तक कच्छ से गुजरने की संभावनारिपोर्ट के अनुसार तूफान संभवत: 20 मई को कच्छ क्षेत्र से गुजरते हुए दक्षिण पाकिस्तान का भी रुख कर सकता है। यदि ऐसा होता है तो यह गुजरात के तटीय इलाकों में 17 या 18 मई तक पहुंचेगा। मौसम विभाग के अनुसार अगले एक-दो दिनों में इसके रुख को लेकर और बेहतर जानकारियां हासिल हो सकेंगी। कुल मिलाकर अगले सप्ताह तक इसके आने की संभावना है। headtopics.com

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक 14 मई की सुबह लक्षद्वीप, मालदीव के इलाकों में 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलेंगी और बारिश होगी। 15 मई को इन इलाकों में ही हवा की स्पीड 60 से 70 किलोमीटर प्रति घंटा की होगी।आमतौर पर अप्रैल और मई में प्री-मानसून सीजन के दौरान उत्तरी हिंद महासागर के ऊपर 1-2 चक्रवात बनते हैं। इस बार अप्रैल में कोई चक्रवात नहीं बना।

विस्तार केरल, कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र और गुजरात इसके गवाह बन सकते हैं।विज्ञापनमौसम विभाग द्वारा अगले कुछ दिनों में पूर्वी मध्य अरब सागर पर चक्रवात बनने की भविष्यवाणी की गई है। इसके बनने के बाद इसका नाम ‘तौकते’ रखा जाएगा, जिसका अर्थ है अत्यधिक आवाज वाली छिपकली। यह नाम म्यांमार ने दिया है।

इसकी वजह से 14 से 16 मई के बीच केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, और महाराष्ट्र समेत कई इलाकों में भारी बारिश हो सकती है।16 मई तक तेज हो सकता है तूफानमौसम विभाग के अनुसार 14 मई की सुबह तक दक्षिण पूर्व अरब सागर के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। इसके दक्षिण पूर्व अरब सागर और उससे लगे लक्षद्वीप क्षेत्र में उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने और धीरे-धीरे तेज होने की संभावना है।

16 मई तक इसके चक्रवाती तूफान का रूप लेने की संभावना है। लक्षद्वीप, केरल के तट, कर्नाटक , गोवा और महाराष्ट्र के इस दौरान प्रभावित होने की संभावना है।20 मई तक कच्छ से गुजरने की संभावनारिपोर्ट के अनुसार तूफान संभवत: 20 मई को कच्छ क्षेत्र से गुजरते हुए दक्षिण पाकिस्तान का भी रुख कर सकता है। यदि ऐसा होता है तो यह गुजरात के तटीय इलाकों में 17 या 18 मई तक पहुंचेगा। मौसम विभाग के अनुसार अगले एक-दो दिनों में इसके रुख को लेकर और बेहतर जानकारियां हासिल हो सकेंगी। कुल मिलाकर अगले सप्ताह तक इसके आने की संभावना है। headtopics.com

भारत में कोरोना वैक्सीन से पहली मौत; सरकार बोली मौत का ख़तरा 'नगण्य' - BBC News हिंदी योगी आदित्यनाथ और राहुल गांधी बुज़ुर्ग की पिटाई के मामले में भिड़े - आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindi उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ और राहुल गांधी बुजुर्ग की पिटाई के मामले में भिड़े- आज की बड़ी ख़बर - BBC Hindi

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक 14 मई की सुबह लक्षद्वीप, मालदीव के इलाकों में 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलेंगी और बारिश होगी। 15 मई को इन इलाकों में ही हवा की स्पीड 60 से 70 किलोमीटर प्रति घंटा की होगी।आमतौर पर अप्रैल और मई में प्री-मानसून सीजन के दौरान उत्तरी हिंद महासागर के ऊपर 1-2 चक्रवात बनते हैं। इस बार अप्रैल में कोई चक्रवात नहीं बना।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

कोस्ट गार्ड के रेस्क्यू मिशन का वीडियो: मर्चेंट शिप के 50 वर्षीय कैप्टन को तबीयत बिगड़ने पर एयरलिफ्ट किया, गोवा के अस्पताल में भर्ती कराया

इंडियन कोस्ट गार्ड ने रविवार को एक मुश्किल रेस्क्यू मिशन को अंजाम देते हुए नौसेना के एक कैप्टन की जान बचाई। समुद्र के बीच शिप पर ड्यूटी के दौरान अचानक तबीयत खराब होने के बाद कैप्टन को एयरलिफ्ट कर गोवा के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस रेस्क्यू मिशन का एक वीडियो भी सामने आया है। | Indian Coast Guard Rescues Captain of Cargo Vessel for Urgent Medical Airlifted Video

इसराइल को लेकर इस्लामिक देशों में हलचल, सऊदी अरब हुआ सख़्त - BBC News हिंदीगज़ापट्टी में इसराइली हमले और यरुशलम की अल-अक़्सा मस्जिद में हिंसक झड़प को लेकर इस्लामिक देशों से काफ़ी तीखी प्रतिक्रिया आ रही है. तुर्की के राष्ट्रपति ने इस्लामिक देशों से एकजुट होने की अपील की है. Israel Is the most beautiful country in the world saify_nafis FreePalestine AllahuAkber PalestinianLivesMatter भारत का सबकुछ उखाड़ सकते हैं इजराईल का कुछ नही उखाड़ सकते केवल रो रो कर गाली दे सकते हैं।

चिकित्सकों का दावा : पानी से शरीर में नहीं फैलता कोरोना वायरस, नदी में नहाने व पानी पीने से नहीं है खतराचिकित्सकों का दावा : पानी से शरीर में नहीं फैलता कोरोना वायरस, नदी में नहाने व पानी पीने से नहीं है खतरा coronavirus covid19infection coronavirusinwater MoHFW_INDIA MoHFW_INDIA क्या यही पानी मे नहाने से और पानी पीने से नही होगा कोरोना MoHFW_INDIA Aacha means swimming pools kulwaya ja sakta h. MoHFW_INDIA Agr aisa h to abhi tk kha the ap ?

नए रोग की दस्तक: संक्रमण के साथ पहले नौ दिन काला फंगस तो जान का खतरानए रोग की दस्तक: संक्रमण के साथ पहले नौ दिन काला फंगस तो जान का खतरा BlackFungus CoronaUpdate Coronavirus Covid19 Coronavaccine drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI जनता का दुश्मन कौन है ? जनता ने जिसको वोट नही दिया वही जनता का दुश्मन है और हो सकता है कि वो अपनी दुश्मनी निभा रहा है । कोरोना क्या है वायरस है या तरंग है जो सांस के रास्ते शरीर के भीतर जाकर नुकसान कर रही है.. गली गली जो टावर लगे है इसकी जाँच हो तरंग तो टॉवर से निकलती PMOIndia drharshvardhan MoHFW_INDIA PMOIndia ICMRDELHI लोगों को जानबूझकर डराना बंद करो । सकारात्मक तो कुछ लिख नहीं पाओगे ।

अमर उजाला फाउंडेशन की पहल: किस ब्लड ग्रुप वाले को कोरोना से ज्यादा खतरा?अमर उजाला फाउंडेशन की पहल: किस ब्लड ग्रुप वाले को कोरोना से ज्यादा खतरा? LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI वयापार और विदेश नीति की समझ विदेसी दलालो को नही होती है, पहले बोले बरह्मोश मिसाइल का फार्मूला दे दो, फिर राफेल को लेकर उड़ने लगे उसके बाद भारत की वैक्सीन खराब है, फिर वैक्सीन का फार्मूला दे दो। अबे कांग्रेसियो हम लोग तुम्हारे तरह चरण चाटु नही है। तुम्हारी नियत, मनोवृत्ति पता है। PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI Always spreading fear in people life..

Covishield की एक डोज से मौत का खतरा 80% तक कमअगर किसी को भी वैक्सीन पर अब भी कोई संदेह है, तो उस संदेह को तत्काल दूर कर लेना चाहिए क्योंकि वायरस से लड़ने और जान बचाने में वैक्सीन कितनी कारगर है, इस पर इंग्लैंड से नई रिसर्च का डेटा आया है. वहां की हेल्थ मिनिस्ट्री की एजेंसी पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने दिसंबर से अप्रैल के बीच जो अध्ययन किया है, उसके मुताबिक एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन की एक डोज़, मौत के खतरे को 80 प्रतिशत तक कम कर सकती है. इसी तरह से फाइज़र-बायोएनटेक की वैक्सीन की एक डोज़ से 80 प्रतिशत तक और दूसरी डोज़ से 97 प्रतिशत तक मौत का खतरा कम हो जाता है. इस अध्ययन के मुताबिक जिन लोगों को वैक्सीन नहीं लगी, उनके मुकाबले वैक्सीनेटेड व्यक्ति को एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की सिंगल डोज़ से 55 प्रतिशत और फाइज़र की वैक्सीन की सिंगल डोज़ से 44 प्रतिशत तक खतरे से सुरक्षा मिलती है. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो. Btw without any vaccine mortality rate is 2% only. What vaccine is adding upto. Can we have vaccine which protects 99.9% and avoid all chances to get Covid. Many with double dose of vaccine getting infected and some dies. मगर डोज है कहाँ Are yaar tika bhi to ho tab to lagwaye

कोरोना: अब तीसरी लहर का खतरा, इससे लड़ने के लिए करने होंगे ये कामभारत में कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर की अवश्यंभाविता को पहचानने में नाकाम रहने के कारण एक राष्ट्र के रूप में हमने अपनी