World Health Organization, Tuberculosis, Shocking, Global Tuberculosis, 15 Lakh, Deaths, Due To Tuberculosis, Five Lakh Deaths, Occurred İn India, Treatment, Corona İnfection.

World Health Organization, Tuberculosis

क्षय रोग से सबसे ज्यादा 15 लाख मौत

क्षय रोग से सबसे ज्यादा 15 लाख मौत in a new tab)

19-10-2021 00:23:00

क्षय रोग से सबसे ज्यादा 15 लाख मौत in a new tab)

क्षय रोग को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन की ताजा रिपोर्ट बेहद चौंकाने वाली है।

रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2019 के मुकाबले 2020 में मौत के आंकड़ों में 13 फीसद की बढ़ोतरी हुई। इसकी वजह है कोरोना संक्रमण। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, दुनियाभर में कोविड-19 संक्रमण के कारण क्षय रोग के मरीजों का इलाज प्रभावित हुआ है। इन मरीजों को इलाज नहीं मिल पाया।

उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य बोले-मथुरा की तैयारी, छिड़ी बहस - BBC News हिंदी 'इन बैठकों से कुछ नहीं होने वाला' : ममता बनर्जी की मुंबई में एनसीपी, शिवसेना नेताओं से भेंट पर बीजेपी का तंज.. कार्टून: आंकड़े कहां से आएंगे? - BBC News हिंदी

रिपोर्ट के मुताबिक, दुनियाभर में एक करोड़ लोग क्षय रोग से जूझ रहे हैं। इनमें 11 लाख बच्चे भी शामिल हैं। क्षय रोग के 98 फीसद मामले ऐसे देशों से हैं, जो गरीबी की मार झेल रहे हैं। सबसे ज्यादा मरीज भारत, इंडोनेशिया, नाइजीरिया, पाकिस्तान और दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों में हैं। मौतों में मात्र 9.2 फीसद की कमी हो सकी है। मौतों के आंकड़े में 35 फीसद तक कमी किए जाने का लक्ष्य था, जो पूरा नहीं हो सका। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्ष 2015 से 2020 तक क्षय रोग से होने वाली मौत को 35 फीसद तक घटाने का लक्ष्य रखा था, लेकिन इन आंकड़ों में मात्र 9.2 फीसद की कमी देखी गई। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी रिपोर्ट में सरकारों से क्षय रोग के बेहतर इलाज के लिए निवेश करने की सलाह दी है।

कोविड ने घटाया क्षय रोग के नए मामलों का ग्राफ। रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना संक्रमण काल में इलाज न मिलने से मरीजों की मौतों में बढ़ोतरी हुई, लेकिन नए मामलों में कमी आई है। मास्क और दूसरी सावधानियों के कारण नए मरीजों की संख्या घटी। वर्ष 2019 और 2020 के बीच क्षय रोग के मामलों में 41 फीसद की गिरावट दिखी। वहीं, क्षय रोग के मामलों में इंडोनेशिया में 14 फीसद, फिलीपींस में 12 फीसद और चीन में आठ फीसद की कमी आई। headtopics.com

क्षय रोग की वजह है, शरीर में ‘मायकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस जीवाणु’ का संक्रमण होना। यह जीवाणु सीधे तौर पर फेफड़ों को प्रभावित करता है। फेफड़ों के बाद यह जीवाणु शरीर के दूसरों अंगों को प्रभावित करने लगता है।संक्रमित इंसान के मुंह से निकली लार की बूंदों में क्षय रोग के जीवाणु होते हैं, जो संक्रमण फैलाते हैं। मरीज के छींकने, खांसने, बोलने और गाना गाने से क्षय रोग का जीवाणु सामने वाले इंसान को संक्रमित कर सकता है। ऐसी स्थिति में खुद का बचाव करना चाहिए।

क्षय रोग का हर संक्रमण खतरनाक नहीं होता, बच्चों में क्षय रोग के मामले और फेफड़ों के बाहर होने वाला क्षय रोग का संक्रमण अधिक परेशान नहीं करता। शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली जीवाणु को खत्म कर देती है।क्षय रोग का असर तब दिखता है, जब रोग प्रतिरोधक प्रणाली कमजोर पड़ती है। जैस- मरीज डायबिटीज से जूझ रहा है या उसमें पोषक तत्वों की कमी हो गई है या फिर तम्बाकू और अल्कोहल का अधिक सेवन करता है। ऐसी स्थिति में संक्रमण का खतरा बढ़ता है। क्षय रोग के गंभीर मामलों में गले में सूजन, पेट में सूजन, सिरदर्द और दौरे भी पड़ सकते हैं। क्षय रोग का पूरी तरह से इलाज संभव है।

और पढो: Jansatta »

दंगल: क्या अब्बाजान और चिलमजीवी ही यूपी चुनाव के मुद्दे हैं?

उत्तर प्रदेश में चुनाव का माहौल जैसे-जैसे गर्माता जा रहा है, नेताओं की जुबान तीखी होती जा रही है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को एक बार फिर चिलमजीवी कह के घेरा है. अखिलेश अक्सर चिलम फूंकने का आरोप लगाकर योगी आदित्यनाथ को घेरते रहे हैं. लेकिन चिलम के नाम पर अखिलेश को जवाब संत समाज की ओर से मिला है. कुछ साधु संतों ने इसे संतों का अपमान बताकर अखिलेश से माफी की मांग की है. आज दंगल में देखें क्या चिलम वाले बयान पर अखिलेश ने संतों की नाराजगी मोल ले ली है? और क्या 2022 के चुनाव में इसका असर पड़ेगा? देखें वीडियो.

नोएडा में डेंगू का प्रकोप, तीन दिन में 50 मामले, रोजाना आ रहे 15 से 20 मामले; दस वर्षों की तुलना में इस बार सबसे ज्यादा बीमारजिले के कई निजी अस्पतालों के बिस्तर डेंगू मरीजों से भरे हुए हैं। कई अस्पतालों में कोई बिस्तर खाली तक नहीं हैं। हालांकि निजी अस्पताल अब भी डेंगू के मरीजों की संख्या स्वास्थ्य विभाग को नहीं बता रहे हैं।

केरल: बाढ़ में मरने वालों की संख्या 18 हुई, कई लापता - BBC News हिंदीभारी बारिश और बाढ़ से सबसे ज़्यादा प्रभावित ज़िला कोट्टायम है. इडुक्की और पथानामथिट्टा ज़िले भी बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. ঝড় বৃষ্টির জন্য খেটে খাওয়া মানুষ বেশিরভাগ সমস্যায় পড়েছে WaheGuru Ji Maher karna

देशभर के Airport जल्‍द लागू करेंगे Winter Schedule, इंदौर से सबसे ज्‍यादा उड़ान दिल्‍ली के लिएIndore Airport Winter Schedule देशभर के एयरपोर्ट इस माह के अंत तक अपना विंटर शेड्यूल लागू कर देंगे। इंदौर के देवी अहिल्याबाई होलकर अंतरष्ट्रीय एयरपोर्ट (Devi Ahilyabai Holkar International Airport) से दिल्‍ली के लिए 16 उड़ानें होंगी। ये शेडयूल 31 अक्टूबर से 26 मार्च तक लागू रहेगा।

त्योहारों से पहले राहत: 230 दिन बाद सबसे कम कोरोना मामले, एक्टिव केस भी दो लाख से नीचेदेश में 230 दिन यानी करीब आठ महीने बाद सबसे कम कोरोना मरीज सामने आए हैं। त्योहारों से ठीक पहले यह राहत के संकेत है।

Kerala Flood Live: केरल में बाढ़ से हाहाकार, अब तक छह की मौत, 20 से ज्यादा लापता, रेस्क्यू में जुटी सेनाकेरल में हो रही भारी बारिश लोगों के लिए जानलेवा साबित हो गई है। कई शहरों में बाढ़ जैसी स्थिति हो गई है। जानकारी के अनुसार और सड़क पर गाय को काटो केरल वालों।

केरल में बाढ़ से तबाही: लैंडस्लाइड में अब तक 15 लोगों की मौत, 8 लापता; 11 जिलों में भारी बारिश का अलर्टकेरल में लगातार हो रही भारी बारिश से हालात काफी बिगड़ गए हैं। राज्य में बाढ़ और लैंडस्लाइड की घटनाओं में अब तक 15 लोगों की मौत हो गई है और 8 लापता हैं। कोट्टायम, इडुक्की और पठानमथिट्टा के पहाड़ी इलाके बाढ़ से ज्यादा प्रभावित हैं। इडुक्की के थोडुपुझा और कोक्कयार, कोट्टायम के कूटिक्कल में मौतें हुई हैं। | Kerala, Rain, Flood, landslide, worsen situation, death, missing people, numbers लखनऊ समेत उप्र के सभीनगरोंमें नियमितनिःशुल्क कूड़ानिस्तारण क्योंनहीं? लखनऊमें आवासीयक्षेत्रोंकीगलियों/नालियोंकी नियमितसफाईकब? LNNमेंभ्रष्टाचारक्यों? narendramodi PMOIndia AmitShah nsitharaman CMyogiUPLKO DrMohanBhagwat NITIAayog HMOIndia LucknowNagar SanyuktaBhatia