क्रिप्टोकरेंसी खरीदने वाले ध्यान दें: हैकर्स ने 905 करोड़ रुपए के बैजर क्रिप्टो उड़ाए, पुरानी वेब टेक्नोलॉजी का उठाया फायदा

क्रिप्टोकरेंसी खरीदने वाले ध्यान दें: हैकर्स ने 905 करोड़ रुपए के बैजर क्रिप्टो उड़ाए, पुरानी वेब टेक्नोलॉजी का उठाया फायदा #Cryptocurrency #Hacking #BadgerDAO

Cryptocurrency, Hacking

04-12-2021 16:40:00

क्रिप्टोकरेंसी खरीदने वाले ध्यान दें: हैकर्स ने 905 करोड़ रुपए के बैजर क्रिप्टो उड़ाए, पुरानी वेब टेक्नोलॉजी का उठाया फायदा Cryptocurrency Hacking BadgerDAO

बीते कई महीनों से लगातार सुर्खियों में रहने वाली क्रिप्टोकरेंसी भी सुरक्षित नहीं है। हैकर्स ने ब्लॉकचेन बेस्ड डीसेंट्रलाइज्ड फाइनेंस (DeFi) प्लेटफॉर्म बेजरडीएओ (BadgerDAO) से 120 मिलियन डॉलर (करीब 905 करोड़ रुपए) कीमत के क्रिप्टो टोकन चुरा लिए हैं। प्लेटफॉर्म द्वारा साइबर अटैक को रोकने से पहले कई क्रिप्टो वॉलेट्स को खत्म कर दिया गया था। बैजर ने बताया कि उसे यूजर फंड से अनऑथोराइज्ड विड्रॉल की रिपोर... | Cryptocurrency Hacking Update; Rs 905 Crore Crypto Stolen From BadgerDAO Defi Platform; हैकर्स ने ब्लॉकचैन बेस्ड डिसेंट्रलाइज्ड फाइनेंस (DeFi) प्लेटफॉर्म बेजरजीएओ (BadgerDAO) से 120 मिलियन डॉलर (करीब 905 करोड़ रुपए) कीमत के क्रिप्टो टोकन चुरा लिए हैं।

क्रिप्टोकरेंसी खरीदने वाले ध्यान दें:हैकर्स ने 905 करोड़ रुपए के बैजर क्रिप्टो उड़ाए, पुरानी वेब टेक्नोलॉजी का उठाया फायदानई दिल्ली5 घंटे पहलेकॉपी लिंकबीते कई महीनों से लगातार सुर्खियों में रहने वाली क्रिप्टोकरेंसी भी सुरक्षित नहीं है। हैकर्स ने ब्लॉकचेन बेस्ड डीसेंट्रलाइज्ड फाइनेंस (DeFi) प्लेटफॉर्म बेजरडीएओ (BadgerDAO) से 120 मिलियन डॉलर (करीब 905 करोड़ रुपए) कीमत के क्रिप्टो टोकन चुरा लिए हैं। प्लेटफॉर्म द्वारा साइबर अटैक को रोकने से पहले कई क्रिप्टो वॉलेट्स को खत्म कर दिया गया था। बैजर ने बताया कि उसे यूजर फंड से अनऑथोराइज्ड विड्रॉल की रिपोर्ट मिली है।

बैजर ने बताया जैसा कि हमारे इंजीनियर्स ने इसकी जांच शुरू कर दी है। भविष्य में इस तरह के विड्रॉल को रोकने के लिए सभी स्मार्ट कॉन्टैक्ट को रोका गया है। साथ ही अमेरिका और कनाडा के अधिकारियों को सूचित किया गया है। इस मामले में तेजी से जांच चल रही है। हम जल्द ही इससे जुड़ी दूसरी जानकारी शेयर करेंगे।

मैलेशियस स्क्रिप्ट डालकर चुराई क्रिप्टोकरेंसीद वर्ज ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि ब्लॉकचेन सिक्योरिटी और डेटा एनालिस्ट पेकशील्ड के अनुसार हैकर्स द्वारा साइबर अटैक में चुराए गए सभी टोकन की कीमत 120 मिलियन डॉलर (करीब 905 करोड़ रुपए) है। रिपोर्ट के मुताबिक, किसी ने उनकी वेबसाइट के यूजर इंटरफेस (UI) पर मैलेशियस स्क्रिप्ट डाली थी। headtopics.com

पाक NSA का गंभीर आरोप: मोईद यूसुफ बोले- अफगानिस्तान से पाकिस्तान पर हमले किए जा रहे हैं, वहां आतंकियों की पनाहगाहें मौजूद

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी अब भी सुरक्षितइस साइबर अटैक ने ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के अंदर की खामियों को उजागर नहीं किया है। इसी टेक्नोलॉजी से क्रिप्टोकरेंसी को सुरक्षित रखा जाता है। हालांकि, हैकर्स पुरानी वेब 2.0 टेक्नोलॉजी का फायदा उठाने में कामयाब रहे। ज्यादातर यूजर्स क्रिप्टोकरेंसी के लेन-देन के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी को रिस्की क्यों माना जाता है?जब आप रुपए, डॉलर, येन या पाउंड की बात करते हैं तो उस पर उसे जारी करने वाले देश के केंद्रीय बैंक का नियंत्रण होता है। यह करेंसी कितनी और कब छपेगी, वह यह देश की आर्थिक परिस्थिति को देखकर तय करते हैं। पर क्रिप्टोकरेंसी पर किसी का कंट्रोल नहीं है, यह पूरी तरह से डीसेंट्रलाइज्ड व्यवस्था है। कोई भी सरकार या कंपनी इस पर नियंत्रण नहीं कर सकती। इसी वजह से ये रिस्की भी है।

क्या यह निवेश के लिए सुरक्षित और पारदर्शी प्लेटफॉर्म है?ब्लॉकचेन सबसे सुरक्षित और सबसे पारदर्शी फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी है। लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन 2008 की आर्थिक मंदी के बाद तेजी से आगे बढ़ी। तब से अब तक एक सिक्के की कीमत में 90 लाख प्रतिशत की उछाल है।

यूपी चुनावः सपा ने जारी की 56 प्रत्याशियों की सूची, BJP और BSP से आए कई नेताओं को मिला टिकट

पर इसके साथ दिक्कत यह है कि यह बेहद अस्थिर है। अचानक ऊपर जाती है और धड़ाम से गिर भी जाती है। इस वजह से रिस्क बहुत है। 12 साल में इसने बहुत उतार-चढ़ाव देखा है। करीब 400 बार तो इसके खत्म होने की घोषणा तक हो गई होगी। इस समय भी ऐसा ही माहौल है। दुनियाभर में ज्यादातर सरकारें क्रिप्टो करेंसी को स्वीकार करने में हिचक रही हैं। इससे पहले दिसंबर 2020 में भी सभी क्रिप्टो करेंसी रसातल में पहुंच गई थीं। अब एनालिस्ट कह रहे हैं कि बिटकॉइन फिर उठेगी। headtopics.com

कैसे तैयार होती है क्रिप्टोकरेंसी?क्रिप्टोकरेंसी को माइनिंग के जरिए तैयार किया जाता है। यह वर्चुअल माइनिंग होती है जिसमें क्रिप्टोकरेंसी पाने के लिए एक बेहद जटिल डिजिटल पहेली को हल करना पड़ता है। इस पहेली को हल करने के लिए अपने खुद के एल्गोरिद्म (प्रोग्रामिंग कोड) और साथ ही बहुत ज्यादा कंप्यूटिंग पावर की जरूरत पड़ती है। इसलिए सैद्धांतिक तौर पर कह सकते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी को कोई भी बना सकता है, लेकिन व्यावहारिक रूप से देखें तो इसे बनाना बहुत ही मुश्किल काम है।

और पढो: Dainik Bhaskar »

अल्पसंख़्यकों को डराएंगे...मोदी को हराएंगे? #TaalThokKe

और पढो >>

this is like notbandee but natio fail to understand

ओमिक्रॉन से जंग, बूस्टर डोज पर संसदीय पैनल ने की यह सिफारिशनई दिल्ली। कोविड-19 के नए स्वरूप ‘ओमीक्रोन’ पर बढ़ती चिंताओं के बीच संसदीय समिति ने कोविड-रोधी टीकों की प्रभावशीलता का मूल्यांकन किए जाने तथा कोरोना के नए स्वरूप पर काबू पाने के लिए बूस्टर खुराक की आवश्यकता की जांच के लिए अधिक अनुसंधान करने की सिफारिश की है।

वैज्ञानिकों ने बनाई अद्भुत दवा, गोली से लीजिए व्यायाम का फायदा, होगा कसरत करने जैसा अहसासआस्ट्रेलियाई शोधकर्ताओं ने एक ऐसी दवा विकसित की है जिसकी गोली लेने के बाद ठीक वैसा ही न्यूरोलाजिकल (तंत्रिका संबंधी) फायदा पहुंचाएगा जैसा कि व्यायाम करने से होता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इसे विटामिन की गोली की तरह लिया जा सकेगा... JusticeForRailwayStudents railway_groupd_examdate JusticeForRailwayStudent railway_groupd_examdate JusticeForRailwayStudent railway_groupd_examdate JusticeForRailwayStudent JusticeForRailwayStudent PMOIndia AshwiniVaishnaw

गौतम अडानी से मिलीं ममता बनर्जी, कांग्रेसी श्रीनिवास ने प्रशांत किशोर पर मारा तानाममता बनर्जी और गौतम अडानी की मुलाक़ात पश्चिम बंगाल के राज्य सचिवालय में हुई। इस दौरान दोनों के बीच की मुलाक़ात करीब डेढ़ घंटे तक चली। मुलाक़ात के बाद गौतम अडानी ने भी इसकी पुष्टि करते हुए तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट पर साझा की।

Omicron वैरिएंट की बेंगलुरु में दस्तक से बढ़ी टेंशन, कई राज्यों ने बढ़ाई सख्तीकर्नाटक में मिले ओमिक्रॉन के दोनों मरीजों की सैंपल को जीनोम सिक्वेसिंग के लिए भेज दिया गया है ताकि नये वैरिएंट की मारक क्षमता की पक्की जानकारी हासिल की जा सके. अगर ये डेल्टा वेरिएंट की तरह ख़तरनाक हुआ तो मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. Kal ke kal flight ✈️ bandh honi chahiye.... आ ही गया 🤔 Let's do all precautions in all de protocol of Covid19,but,Let's not be so much Panic as of now as it's advent has not made huge fatal to deaths in Africa or so,yet. Let de govts provide safety measures&Financial aid too,to the BPL citizens to enable them to get isolated at home!

पिछले पांच सालों में छह लाख से अधिक हिंदुस्तानियों ने छोड़ी भारतीय नागरिकता: केंद्रपिछले पांच सालों में छह लाख से अधिक हिंदुस्तानियों ने छोड़ी भारतीय नागरिकता: केंद्र Indian Citizenship HomeMinistry भारतीय नागरिकता गृहमंत्रालय जो बेचते थे दवा -ए- दर्द- ए -दिल , वो दूकान अपनी बढ़ा गए ! 6 लाख माननीय sambitswaraj जी इसमे कितने जीरो होते है इससे राज नेताओ को फ़र्क नही पड़ता Arerererere

चाइल्ड पोर्नोग्राफी रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने ऑपरेशन MASOOM, 50 से ज्यादा अरेस्टपैन दिल्ली के आधार पर विभिन्न थानों में 100 से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं और अपराधियों के खिलाफ आवश्यक कानूनी कार्रवाई की गई है. इस ऑपरेशन के दौरान अब तक कई गिरफ्तारियां की जा चुकी हैं.