क्या भारत में इलेक्ट्रिक कारों का दौर आ गया है?

Electric Vehicles: क्या भारत में इलेक्ट्रिक कारों का दौर आ गया है?

18.2.2020

Electric Vehicles: क्या भारत में इलेक्ट्रिक कारों का दौर आ गया है?

इलेक्ट्रिक कारों को लेकर भारत सरकार की नीति पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है.

Ani Image caption टीवीएस का इलेक्ट्रिक स्कूटर लॉन्च करते केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी सरकार की भूमिका भारत सरकार काफ़ी समय से स्वच्छ ईंधन पर आधारित गाड़ियों की ख़रीद को बढ़ावा देने का प्रयास कर रही है. लेकिन, इलेक्ट्रिक कारों को लेकर सरकार की नीति पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है. हाल ही में सरकार ने अपनी फ़ेम (FAME) योजना के दूसरे फ़ेज की घोषणा की थी. साथ ही सरकार ने 2019-2022 के दौरान इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए अपने फंड को दस गुना बढ़ा कर दस हज़ार करोड़ कर दिया था. सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोटिव मैन्यूफैक्चरर्स (SIAM) के महानिदेशक राजेश मेनन कहते हैं, ''आज बहुत-सी कंपनियां इलेक्ट्रिक गाड़ियां बाज़ार में उतार रही हैं. इसकी प्रमुख वजह है सरकार की FAME-2 नीति की ख़ूबियां. इससे कॉमर्शिलयल सेक्टर में इलेक्ट्रिक वाहनों, जैसे बसों, ट्रकों और टैक्सियों को बढ़ावा मिलेगा. इससे धीरे-धीरे इनकी मांग बढ़ेगी.'' लेकिन, यही समस्या की असल जड़ है. FAME यानी फास्टर एडॉप्शन ऐंड मैन्यूफैक्चरिग ऑफ़ हाइब्रिड ऐंड इलेक्ट्रिक व्हीकल्स इन इंडिया, यह केंद्र सरकार की एक योजना है, जो केवल सार्वजनिक परिवहन के लिए इलेक्ट्रिक गाड़ियां बनाने वालों और इन्हें ख़रीदने वालों को प्रोत्साहन देती है. एनआरआई कन्सल्टिंग ऐंड सॉल्यूशन्स के विश्लेषक आशिम शर्मा कहते हैं, ''सरकार की सोच अब काफ़ी व्यावहारिक हो गई है क्योंकि अब वो कुछ ख़ास सेगमेंट में ही इलेक्ट्रिक गाड़ियों को प्रोत्साहन देने पर ज़ोर दे रहे हैं. जैसे कि दुपहिया वाहन, टैक्सी और बसें. ये सेगमेंट इलेक्ट्रिक गाड़ियों को जल्द अपना सकता है. तो इससे ज़्यादा तादाद में लोगों को फ़ायदा होगा और उम्मीद यही है कि बाक़ी के लोग भी बाद में इसका अनुसरण करेंगे.'' लेकिन, ये सेगमेंट गाड़ियों के कुल बाज़ार का केवल 20 प्रतिशत हिस्सा ही है. तो, आख़िर इलेक्ट्रिक गाड़ियों तक हमारी पहुंच कब बनेगी? आख़िर निजी गाड़ियों के ख़रीदार इलेक्ट्रिक कारों या दुपहिया वाहनों को क्यों नहीं ख़रीद रहे हैं? ख़रीदारों का डर SIAM के राजेश मेनन कहते हैं कि निजी गाड़ियों के ख़रीदारों की अभी भी इलेक्ट्रिक कारों से जुड़ी तीन बड़ी आशंकाएं हैं. पहला तो ये है कि इलेक्ट्रिक कारों की क़ीमत ज़्यादा है. क्योंकि ये गाड़ियां पारंपरिक वाहनों के मुक़ाबले काफ़ी ज़्यादा महंगी हैं. दूसरी बात ये है कि इनके विकल्प बड़े सीमित हैं. हालांकि, अब इलेक्ट्रिक कारें बड़ी संख्या में बाज़ार में उतारी जा रही हैं. ग्राहकों की तीसरी चिंता इससे जुड़े बुनियादी ढांचे की कमी का होना है. मतलब ये कि शहरों में अभी भी इलेक्ट्रिक कारों को चार्ज करने की सुविधाएं बहुत कम हैं. राजेश मेनन ने बीबीसी को बताया, ''आगे चल कर बहुत से बदलाव आने वाले हैं. ख़ास तौर से तकनीकी नज़रिए से. चार्जिंग की सुविधा की दृष्टि से काफ़ी प्रगति होगी. और बैटरियों की गुणवत्ता भी बेहतर होगी. अगर हम स्थानीय स्तर पर बैटरियां बनाने का काम शुरू करते हैं, तो आगे चल कर इलेक्ट्रिक कारों की क़ीमतों में गिरावट आएगी और इन्हें ख़रीदने का फ़ैसला करना और आसान हो जाएगा.'' क्या भारत में बंद होने वाली हैं डीजल-पेट्रोल कारें? चीन पर निर्भरता? आम भारतीय हमेशा ही चीन के उत्पादों को हेय दृष्टि से देखते हैं. फिर चाहे वो इलेक्ट्रॉनिक्स के सामान हों या शुरुआती इलेक्ट्रिक वाहन. इन गाड़ियों को भारत की सड़कों के लिहाज़ से बहुत हल्का माना जाता है. लेकिन, 2019 में एमजी मोटर्स, भारत के बाज़ार में दाख़िल हुई और इसे लेकर बाज़ार में सकारात्मक माहौल देखने को मिला. इससे चीन की अन्य कंपनियों को भी भारत के बाज़ार में दाख़िल होने का हौसला मिला है. कुछ दिन पहले ख़त्म हुए दिल्ली ऑटो एक्सपो में चीन की बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी ग्रेट वॉल मोटर्स ने एलान किया कि वो अपनी एसयूवी हवाल और इलेक्ट्रिक वाहन जीडब्ल्यूएम EV को भारत के बाज़ार में उतारेगी. ग्रेट वॉल मोटर्स भारत में एक अरब डॉलर के निवेश का एलान पहले ही कर चुकी है. इस साल की दूसरी छमाही में ग्रेट वॉल मोटर्स, अमरीकी कंपनी जनरल मोटर्स के पुणे के पास स्थित प्लांट का अधिग्रहण करने वाली है. फिर, दिल्ली स्थित बर्ड इलेक्ट्रिक कंपनी भी है, जो अगले 15 से 18 महीनों में चीन से हैमा नाम की इलेक्ट्रिक कारें भारत में लाकर बेचने की तैयारी में है. कंपनी का दावा है कि ये कार एक बार चार्ज होने पर 200 किलोमीटर तक जा सकेगी. इस इलेक्ट्रिक कार की क़ीमत 10 लाख या 14 हज़ार डॉलर से भी कम रहने की उम्मीद है. हैमा, FAW समूह का एक हिस्सा है जो चीन की सरकारी ऑटोमोटिव कंपनी है. इसका मुख्यालय चैंगचुन में है. इसके अलावा, BYD की 120 से ज़्यादा इलेक्ट्रिक बसें पहले से ही भारतीय बाज़ार में हैं. बीवाईडी दुनिया की सबसे बड़ी इलेक्ट्रिक गाड़ियों की कंपनी है. BYD यानी बिल्ड योर ड्रीम्स का मुख्यालय चीन के शेनजेन में है. ये कंपनी ओलेक्ट्रा ग्रीनटेक नाम की कंपनी के साथ मिल कर चेन्नई में बसों को असेंबल करती है. चीन, दुनिया भर में इलेक्ट्रिक गाड़ियों का सबसे बड़ा बाज़ार है. अमरीका और यूरोप का नंबर इसके बाद आता है. ऐसे में ये भी तय था कि लीथियम-आयन बैटरी के कारोबार के मामले में भी चीन अव्वल है. दुनिया भर में इलेक्ट्रिक कारों की बैटरियों के निर्यात का एक बड़ा हिस्सा चीन से ही आता है. भारत बनेगा सबसे बड़ा बाज़ार वहीं दूसरी तरफ़, भारत का बाज़ार इतना बड़ा है कि इसकी अनदेखी नहीं की जा सकती है. साल 2025 तक भारत, जापान को पीछे छोड़ कर दुनिया का तीसरा बड़ा बाज़ार बन जाएगा. गोल्डमैन सैक्स के मुताबिक़, तब तक भारत में क़रीब 74 लाख इलेक्ट्रिक गाड़ियां होंगी. हालांकि, पिछले कुछ महीनों से भारत में गाड़ियों की बिक्री की रफ़्तार बेहद धीमी रही है. पिछले कुछ दशकों में भारतीय बाज़ार में गाड़ियों की बिक्री आज सबसे कम है. इसके लिए कई कारण ज़िम्मेदार हैं. घरेलू अर्थव्यवस्था इस वक़्त सुस्त है और आज ग्राहकों के ख़र्च करने की रफ़्तार ऐतिहासिक रूप से गिरावट की ओर जा रही है. इसके अलावा बाज़ार से जुड़ी नीतियों में लगातार उठापटक और वैकल्पिक ईंधन की तरफ़ फ़िक्रमंदी से बढ़ते क़दम भी इसके लिए ज़िम्मेदार हैं. सरकार चाहती है कि भारत दुनिया भर में इलेक्ट्रिक कारों के निर्माण का सबसे बड़ा केंद्र बन जाए. साथ ही सुज़ुकी और टाटा मोटर्स जैसी बड़ी कंपनियों ने भी लीथियम-आयन बैटरी के निर्माण में भारी निवेश का एलान किया है. हाल ही में टाटा मोटर्स ने एलान किया है कि वो अपनी सहयोगी कंपनियों टाटा केमिकल्स और टाटा मोटर्स के साथ मिलकर भारत में लीथियम-आयन बैटरियां बनाएगी और इनकी असेंबलिंग करेगी. लेकिन, ये काम दूसरे देशों से कोबाल्ट और लीथियम जैसे महत्वपूर्ण खनिज के आयात की मदद से ही किया जा सकता है. सरकार के आंकड़ों का क्लीन टेक्निका एनालिसिस करने से ये मालूम होता है कि भारत में लीथियम-आयन बैटरियों का आयात 2014-15 से 2018-19 के बीच छह गुना बढ़ गया. 2022 में लीथियम-आयन बैटरियों की मांग 10 गीगावाट और 2025 तक इसके 50 गीगावाट पहुंचने की संभावना है. नीति विश्लेषक नितिन पाई ने लाइवमिंट में एक लेख में लिखा है, ''अगर भारत में लीथियम-आयन बैटरियां बनाने की क्षमता का विकास करके घरेलू मांग पूरी की भी जा सके, तो भी ये चीन से आने वाली सस्ती बैटरियों का मुक़ाबला नहीं कर सकेगी.'' भारत जैसे बाज़ार में जहां क़ीमतों को लेकर लोग बहुत संवेदनशील हैं, वहां पर इलेक्ट्रिक गाड़ियों की मांग बढ़ने की राह में ये एक और बाधा है. (बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप और पढो: BBC News Hindi

गाजियाबाद: आइसोलेशन वार्ड में बिना पैंट घूम रहे तबलीगी जमात के मरीज, DM-SSP से शिकायत



केजरीवाल का ऐलान- पब्लिक सर्विस वाहन चलाने वालों को मिलेंगे 5 हजार रुपये

10 तक: जिंदगी बचाने वालों पर हमला, मुश्किल हुई कोरोना की जंग



तबलीगी जमात पर गृह मंत्रालय का एक्शन, 960 विदेशी नागरिक ब्लैक लिस्ट, वीजा रद्द

कोरोना की जांच टीम में शामिल महिला डॉक्टरों और टीम पर हमला करने वालों पर रासुका के तहत कार्रवाई करेगी सरकार



डॉक्टरों पर हमला: सुबुही खान का फूटा गुस्सा, पूछा- बाकी मुसलमान चुप क्यों?

2011 में दूसरी बार क्रिकेट वर्ल्ड कप जीतने कहानी



Abhi bharat ke bahut sare gaon aise h jaha abi tak bijli pohachi hi ni h such a big news 👏👏 Abhi time hai जनता को मंहगी बिजली और नेताओ के दल्लो को चार्जिंग स्टेशन वो भी सब्सिडाईज़ रेट पर बिजली उपलब्ध कराकर देते है। Bharat me abhi peeke paani aata hai, hugne ka toilet aayanai, bijli abhi aayee nai. Electric cars aa gayee

भारत की सुस्त अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी बन सकती है पीएम किसान सम्मान निधि योजनाAnalysis : भारत की सुस्त अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी बन सकती है पीएम किसान सम्मान निधि योजना IndianEconomy PMKisanSammanNidhiYojana EconomySlowdown pushpendrakum pushpendrakum Right pushpendrakum PM की योजनाएँ सिर्फ़ सुनने को अच्छी लगती है.... pushpendrakum Fir to pension scheme se to no. 1 stag pr aa jayegi....hr kuch hijod dety ho likes k liye 🤪lol

6,000 mAh बैटरी वाले Galaxy M31 की भारत में इतनी हो सकती है कीमतSamsung Galaxy M31 Price in India: सैमसंग गैलेक्सी एम31 भारत में 25 फरवरी 2020 को होगा लॉन्च। लॉन्च के बाद Amazon पर होगी बिक्री। जानें samsung mobile के बारे में।

Donald Trump के आने से पहले भारत पहुंचा Airforce-1, जानिए कितना है शक्तिशालीअमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दो दिनी दौरे पर भारत आने वाले हैं। ट्रंप के भारत आने से पहले ही अमेरिकी सेना का विशेष विमान Airforce-1 अहमदाबाद पहुंच गया है। आधुनिक हथियारों से लैस यह विमान दुनिया में सबसे शक्तिशाली विमान माना जाता है। Airforce-1 सबसे शक्तिशाली व्यक्ति की ताकत का प्रतीक माना जाता है।

जज ने कसा तंज- ये भारत नहीं, पाकिस्तान है, सबके लोकतांत्रिक हक की रक्षा करेंगेसुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस अतर मिनाल्लाह ने कहा कि 'हम एक लोकतांत्रिक सरकार से यह उम्मीद नहीं करते कि वह अभिव्यक्ति की आजादी पर पाबंदी लगाएगी।

24 फरवरी को भारत में लॉन्च हो रहा है Realme X50 Pro 5G, ये होगी खासियतRealme भारत में अपना पहला 5G स्मार्टफोन लेकर आ रही है. मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस में इसे लॉन्च होना था, लेकिन अब MWC 2020 कैंसिल हो चुका है. Aur aap uska prachar kar rahe ho 😒 5G का नेटवर्क कब मिलना शुरू होगा 👌👌

Honda Forza 300 हुई भारत में लांच, Royal Enfield बुलेट से भी है पावरफुल! जानें क्या है खासHonda Forza 300 को कंपनी ने पहली बार गुरुग्राम में पेश किया था। Honda ने अभी इस बात का खुलासा नहीं किया है कि, Forza 300 को भारत में CBU (कम्पलिटली बिल्ट यूनिट) के तौर पर लाया जाएगा या फिर CKD (कम्पलिटली नॉक डाउन) रूट के माध्यम से।



'अनियोजित लॉकडाउन' पर भड़कीं सोनिया, कहा- दुनिया के किसी देश ने ऐसा नहीं किया

दाढ़ी ट्रिम करवा कर नए लुक में दिखे उमर अब्दुल्ला, JK डोमिसाइल नीति पर उठाए सवाल

तबलीगी जमात का मौलाना अरशद मदनी ने किया बचाव, कहा- मरकज ने कोई गलती नहीं की

तबलीगी जमात पर बैन की मांग, यूपी अल्पसंख्यक आयोग का पीएम मोदी को खत

अहमदनगर के बाद अब ठाणे की दो मस्जिदों से मिले 21 विदेशी नागरिक, क्वारनटीन में भेजा गया

कोरोना वायरसः ममता बनर्जी ने PM मोदी को लिखा पत्र, मांगा 25000 करोड़ का पैकेज

लॉकडाउन हटने के बाद सबसे पहले क्या करेंगी दीपिका पादुकोण? किया खुलासा

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

18 फरवरी 2020, मंगलवार समाचार

पिछली खबर

कोरोना वायरस: बुज़ुर्ग और बीमार को सबसे ज़्यादा ख़तरा

अगली खबर

UP: पुलिस पर रहेगी सरकार की ‘तीसरी आंख’, अब ड्यूटी में बरती लापरवाही, तो होगी कार्रवाई
गाजियाबाद: आइसोलेशन वार्ड में बिना पैंट घूम रहे तबलीगी जमात के मरीज, DM-SSP से शिकायत केजरीवाल का ऐलान- पब्लिक सर्विस वाहन चलाने वालों को मिलेंगे 5 हजार रुपये 10 तक: जिंदगी बचाने वालों पर हमला, मुश्किल हुई कोरोना की जंग तबलीगी जमात पर गृह मंत्रालय का एक्शन, 960 विदेशी नागरिक ब्लैक लिस्ट, वीजा रद्द कोरोना की जांच टीम में शामिल महिला डॉक्टरों और टीम पर हमला करने वालों पर रासुका के तहत कार्रवाई करेगी सरकार डॉक्टरों पर हमला: सुबुही खान का फूटा गुस्सा, पूछा- बाकी मुसलमान चुप क्यों? 2011 में दूसरी बार क्रिकेट वर्ल्ड कप जीतने कहानी बैठे-बैठे करना है कुछ काम, देखें आजतक अंताक्षरी 'रामायण' की वापसी से दूरदर्शन को मिली खुशखबरी, टीआरपी रेटिंग में बनाया ये रिकॉर्ड गौतम गंभीर का बड़ा ऐलान, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में करेंगे इतना दान - Sports AajTak कोरोना: ऑस्‍ट्रेलिया में वैक्‍सीन बनाने में जुटे वैज्ञानिक, परीक्षण शुरू देशभर में फैले जमातियों से बढ़ा खतरा! देखें, कोरोना से जुड़ी 10 बड़ी खबरें
'अनियोजित लॉकडाउन' पर भड़कीं सोनिया, कहा- दुनिया के किसी देश ने ऐसा नहीं किया दाढ़ी ट्रिम करवा कर नए लुक में दिखे उमर अब्दुल्ला, JK डोमिसाइल नीति पर उठाए सवाल तबलीगी जमात का मौलाना अरशद मदनी ने किया बचाव, कहा- मरकज ने कोई गलती नहीं की तबलीगी जमात पर बैन की मांग, यूपी अल्पसंख्यक आयोग का पीएम मोदी को खत अहमदनगर के बाद अब ठाणे की दो मस्जिदों से मिले 21 विदेशी नागरिक, क्वारनटीन में भेजा गया कोरोना वायरसः ममता बनर्जी ने PM मोदी को लिखा पत्र, मांगा 25000 करोड़ का पैकेज लॉकडाउन हटने के बाद सबसे पहले क्या करेंगी दीपिका पादुकोण? किया खुलासा कोरोना वायरस: निज़ामुद्दीन मरकज़ के मरीज़ों की बाढ़ से कैसे निपटेगी दिल्ली डीएम के बाद नोएडा के CMO अनुराग भार्गव पर भी गिरी गाज, हुआ तबादला मरकज मामले पर नकवी बोले- ये तालिबानी जुल्म, होनी चाहिए कड़ी कानूनी कार्रवाई जानें, कौन हैं मौलाना साद, जिनकी एक गलती से पूरे देश में फैला कोरोना! सोनिया का PM मोदी को खत, कहा- मनरेगा मजदूरों को मिले 21 दिन की एडवांस मजदूरी