Varanasi, Weavers, Narendramodi, Loksabhaelections 2019, वाराणसी, बुनकर, नरेंद्रमोदी, लोकसभाचुनाव2019

Varanasi, Weavers

क्या बनारस में बुनकरों के लिए प्रधानमंत्री मोदी का अच्छे दिन लाने का वादा जुमला साबित हुआ?

ग्राउंड रिपोर्ट: नरेंद्र मोदी ने बनारस में बुनकरों से जुड़े कई वादे किए थे लेकिन पांच साल बाद स्थानीय बुनकर अच्छे दिनों के नारे और वादे के बीच ख़ुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं.

18.5.2019

क्या बनारस में बुनकर ों के लिए प्रधानमंत्री मोदी का अच्छे दिन लाने का वादा जुमला साबित हुआ? Varanasi Weavers NarendraModi LoksabhaElections2019 वाराणसी बुनकर नरेंद्रमोदी लोकसभाचुनाव2019

ग्राउंड रिपोर्ट: नरेंद्र मोदी ने बनारस में बुनकर ों से जुड़े कई वादे किए थे लेकिन पांच साल बाद स्थानीय बुनकर अच्छे दिनों के नारे और वादे के बीच ख़ुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं.

यहीं पर मिलते हैं . और भी कई कार्यक्रम होते हैं लेकिन जिस काम के लिए इसे बनाया गया है वो कार्यक्रम तो नहीं दिखता है.’ ट्रेड सेंटर में दुकान लगाने वाले 30 साल के गुलजार अहमद बताते हैं, ‘यहां पर सेंटर तो खुल गया है लेकिन इसका कोई प्रचार नहीं हो रहा है. ये बनारस में ही खुला है लेकिन इसे बनारस के बुनकर ही नहीं जानते हैं. मैं पिछले पांच महीने से यहां हूं और इतने दिन में केवल चार साड़ियां ही बेच पाया हूं. इस दुकान का करीब सात हज़ार रुपये महीना किराया दे रहा हूं और केवल घाटा ही घाटा हो रहा है.’ वे आगे बताते हैं, ‘बीते जनवरी में यहां पर प्रवासी सम्मेलन हुआ था लेकिन उसका कुछ भी फायदा नहीं हुआ. साड़ी खरीदना तो दूर किसी ने एक खिलौना भी नहीं खरीदा. कुछ भी बिक्री नहीं हुई है. भले ही यहां पर सेंटर बन गया है लेकिन इसका कोई फायदा नहीं है. सरकार ने ये सेंटर तो बना दिया है लेकिन इसका प्रचार-प्रसार नहीं होने से पूरी तरह से ये बर्बाद है.’ बड़ा लालपुर सेंटर के बारे में बात करते हुए अहमद अंसारी कहते हैं, ‘वाराणसी में ये सेंटर ऐसी जगह पर बना है जहां पर आम बुनकर का पहुंचना ही मुश्किल है. बनारस के 90 प्रतिशत बुनकर तो उस जगह और सेंटर के बारे जानते ही नहीं है.’ हस्तकला संकुल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य नेता (फोटो साभार: पीआईबी) सेंटर के बारे में नुरुलहोदा कहते हैं, ‘ये जो हमारे मुल्क का बादशाह है वो बड़ा झूठा है. वो बस अपनी वाहवाही के लिए कुछ भी करेगा. उनके लिए सब काम केवल दिखावा है. बुनकर केंद्र बना है तो उसका फायदा कैसे होगा, ये भी बताएं. लेकिन इनके लिए सब काम खाली हवाहवाई रहता है.’ बुनकर बिरादिराना तंजीम के अध्यक्ष और गंगा महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हाजी मुख्तार अहमद महतो का कहना है कि कि बुनकरों के हालात पहले से ही खराब रहे हैं, भाजपा और मोदी सरकार के आने के बाद हालत और खराब हो गए हैं. वे कहते हैं, ‘साड़ी के काम में कई लोग लगे होते हैं, कुछ धागा बुनाई करते हैं, कुछ साड़ी कटिंग करते हैं, कुछ लोग तानी (बुनाई में ताना-बाना) रंगाई का काम करते हैं. एक साइकिल (चक्र) में काम होता है. जब नोटबंदी हुई तो बड़े व्यापारियों ने अपना पैसा खींच लिया, इस वजह से नोटबंदी के बाद बुनकरों की कमर टूट गई. बची हुई कसर जीएसटी ने निकाल दी. बुनकर उतना पढ़े लिखे नहीं है कि उन्हें जीएसटी समझ में आ जाए. जितना वो कमा रहे हैं उससे ज्यादा दिमाग उनको जीएसटी जमा करने में खर्च लग जाता है, वो परेशान हो जाते हैं.’ वे आगे बताते हैं, ‘बुनकरों को आज जहां होना चाहिए वहां नहीं हैं. कुछ वजह तालीम की कमी है, कुछ बुनकर के हालात खराब हैं. पहले हथकरघा था, फिर पावरलूम आया और अब रेपियर आया है. हथकरघा तो धीरे-धीरे खत्म हो रहा है. पावरलूम और रेपियर से जितनी साड़ी बन रही है, उनकी मार्केटिंग नहीं है, कोई खरीदने वाला नहीं है. अगर कोई खरीद भी रहा है तो उसके दाम कम मिल रहे हैं.’ उनका कहना है कि बुनकरों के साथ लगातार नाइंसाफ़ी हुई हैं लेकिन पिछले पांच साल में ज्यादा हुई है. वे कहते हैं, ‘कमाई नाम की कोई चीज नहीं है. मोदी सरकार के आने के बाद महंगाई लगातार बढ़ती गई है, साड़ी की बिक्री कम होने लगी, दाम गिरने लगा और जब दाम गिरा तो उसका सीधा असर मजदूर की मजदूरी पर पड़ा, आज एक बुनकर परिवार (हथकरघा) मिलकर मुश्किल से महीने में चार से पांच हजार की कमाई कर पा रहा है.’ हाजी मुख़्तार का यह भी कहना है कि अफसरशाही और नेताशाही इतनी ज्यादा है कि बुनकरों को कोई सुविधा नहीं मिल रही है. वे कहते हैं, ‘पांच साल पहले बुनकर और व्यापारी (साड़ी खरीदने वाले) के बीच में जो बातचीत थी, जो समझ थी, इस सरकार के आने के बाद से वो माहौल नहीं रह गया है. उन लोगों को और भी काम मिल रहे हैं. अब तक मोदी जी करीब बीस बार बनारस आ चुके हैं लेकिन कभी किसी मुसलमान को करीब किए? और जब बुलाया भी तो केवल दिखाने के लिए? बुनकरों के नाम से बहुत से लोगों की दुकान चल रही है, बहुत सारे लोग लूट रहे हैं.’ कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी के साथ हाजी मुख़्तार महतो हाल ही में नामांकन दाखिल करने वाराणसी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रोड शो में हाजी मुख्तार ने उन्हें शॉल देकर उनका स्वागत किया था, जिसे मीडिया द्वारा मोदी के मुसलमानों की सौगात स्वीकार करने के रूप में दिखाया गया . इस बारे में हाजी मुख्तार कहते हैं, ‘वो हमारे प्रधानमंत्री हैं, जब हमारे सामने बड़े लोग आते हैं तो हम उनका इस्तकबाल करते हैं. वैसे भी मुस्लिम और भाजपा के बीच थोड़ी दूरी है अगर हम अपनी तरफ से पहल नहीं करेंगे तो जो थोड़ी दूरी है वो और बढ़ जाएगी. वे हमारे मुल्क के वजीर-ए-आजम हैं, हमने मुल्क के बादशाह की इज्जत की है. मोदी की इज्जत नहीं की है, न ही भाजपा के किसी नेता-मंत्री की इज्जत की है. ये हमारा फर्ज है कि कोई बड़ा हमारे घर के पास गुजरे तो हम उसकी इज्जत करें.’ हालांकि हाजी मुख्तार कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी से खासे नाराज नजर आते हैं. वे कहते हैं, ‘तीन साल पहले स्मृति ईरानी बनारस आई थीं. यहां एक कपड़े की कंपनी में कार्यकम था जहां उन्होंने मुझे बुलाया था. मैं उनसे मिलने के लिए गया. वहां कुछ दूर पैदल चलना था, वहां वे कदम से कदम मिलाकर मेरे साथ चल रही थीं. इस दौरान लगातार फोटोग्राफी हो रही थी. फिर जब वहां जाकर बैठे तो मेरी कुर्सी उनके पीछे थी पर उन्होंने कहकर मुझे अपने साथ बैठाया. वे इधर-उधर की ही बात कर रही थीं, हालचाल ले रही थीं और कोई बात नहीं हुई. मीडिया वाले फोटोग्राफी में लगे हुए थे और लोगों को लग रहा है कि बड़ी खास बात हो रही है लेकिन बात कुछ भी नहीं हुई, बुनकर से जुड़ी तो कोई बात ही नहीं हुई.’ वे आगे कहते हैं, ‘इसके बाद उन्होंने कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि बुनकरों की जो शिकायत है हम सुनना चाहते हैं लेकिन सभी के दर तक तो हम पहुंच नहीं पाते, हर आदमी से मिल नहीं सकते इसलिए जिसको जो भी शिकायत है वो लिखित में महतो साहब के यहां पहुंचा दे, हम दो या तीन दिन में उस मसले को हल करेंगे. उनके इस ऐलान के बाद मेरे घर पर सैकड़ों लोगों की शिकायतें आ गईं. मैंने स्मृति ईरानी को कई बार फोन किया पर फोन ही नहीं उठा. फिर मुझे कहा गया कि मैं चौक जाकर एक व्यक्ति से मिलूं. मैं उनसे मिलने गया तो उसने किसी और से मिलने की बात की, फिर मैं आगे किसी से नहीं मिला.’ वे झल्लाते हुए कहते हैं, ‘ये कौन सा तरीका है कि मेरे नाम से घोषणा करके, मेरा नाम लगाकर, मुझे फंसाकर भाग गईं, उसके बाद से आई ही नहीं. ये तो नेता लोगों का काम है कि केवल इनको-उनको फंसाना है. ये लोग बहुत झूठे होते हैं. ये नेता हैं ये झूठे वादे कर सकते हैं लेकिन हम लोग किसी से झूठा वादा नहीं करते.’ (रिज़वाना तबस्सुम स्वतंत्र पत्रकार हैं.) क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए और पढो: द वायर हिंदी

दिल्ली हिंसा: जस्टिस एस. मुरलीधर क्यों चर्चा में हैं?



MP: मुस्लिम धर्मगुरुओं को कमलनाथ का तोहफा, इमामों का बढ़ाया मानदेय

मलेशिया: महातिर ने इस्तीफ़ा देकर की ग़लती



Delhi Violence: दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर रजनीकांत ने केंद्र सरकार की आलोचना की, कहा- निश्चित तौर पर यह...'

अमरीका या रूसः सैन्य तकनीक-उपकरणों के लिए भारत किस पर ज़्यादा निर्भर?



UP: CAA विरोधी रैली में भड़काऊ भाषण देने वाले पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी पर केस दर्ज

जब एक पाकिस्तान ऊंटवाला अमरीका में बना 'हिज़ एक्सीलेंसी'



बनारस के आम बुनकरों के लिए कब खुलेंगे वैश्विक बाजार के रास्ते?कबीर चौक में रह रही मैहरुनिशां कहती हैं कि हाथ और पॉवरलूम दोनों की बनीं साड़ियां लेकर मैं और मेरे शौहर पिछले साल ट्रेड सेंटर गए थे. हमें लगा कोई रास्ता बताएगा कि कैसे हम अपनी साड़ियों के अच्छे दाम पा सकते हैं?

राजतिलक: छठे चरण के मतदान में पश्चिम बंगाल आगे, पिछड़ा उत्तर प्रदेश West Bengal registers massive voter turnout in sixth phase - Rajtilak AajTakलोकसभा चुनाव 2019 के छठे चरण में दिल्ली सहित 7 राज्यों की 59 लोकसभा सीटों पर आज मतदान पूरा हो गया है. इसमें केंद्रीय मंत्री राधामोहन सिंह, हर्षवर्धन और मेनका गांधी, सपा प्रमुख अखिलेश यादव और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया की किस्मत का फैसला होगा. छठे चरण में उत्तर प्रदेश की 14, हरियाणा की 10, बिहार और मध्य प्रदेश की 8-8, दिल्ली की सात और झारखंड की चार सीटों पर वोटिंग के बाद उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला ईवीएम में कैद हो चुका है. चुनाव आयोग के मुताबिक लोकसभा चुनाव के छठे चरण में 63.04 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया. आयोग के रात 8.50 बजे तक आए आंकड़ों के अनुसार बिहार में 59.29, हरियाणा में 66.69, मध्य प्रदेश में 64.22, उत्तर प्रदेश में 54.29, पश्चिम बंगाल में 80.35, झारखंड में 64.50 और दिल्ली में 58.93 फीसदी मतदान दर्ज किया गया है.चुनाव की हर ख़बर मिलेगी सीधे आपके इनबॉक्स में. आम चुनाव की ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के लिए सब्सक्राइब करें आजतक का इलेक्शन स्पेशल न्यूज़ लेटर gauravbh anjanaomkashyap पिछले 24 घंटे में बंगाल में- हिंदू लड़कियों की साड़ियां खीची गई। हिंदुओं की गाड़ियों व घरों में घुस के तोड़फोड़ की गई। 3 हिंदुओं को जिहादियों ने मार डाला, 1का हाथ काट दिया - ABP गायब - aajtak गायब - बिंदी_गैंग गायब - अवार्ड_वापसी गायब - बालीवुड योद्धा गायब MeraVoteModiKo gauravbh anjanaomkashyap Congrats MI to win the VIVO IPL 2019 TROPHY gauravbh anjanaomkashyap Rahul rahul Didi didi

कर्नाटक कांग्रेस नेता जमीर अहमद खान का दावा, BJP के 10 विधायक संपर्क मेंकर नाटक में फिर नाटक Shab sale ak hi thali ke chatte batte hai 23 तारीख को पता चल जायेगा कौन किसके संपर्क में है।

ग्राउंड रिपोर्ट: PM मोदी के किए गए कामों पर क्या कहता है वाराणसी का चायवाला– News18 हिंदी2014 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जब वाराणसी को लोकसभा का चुनाव लड़ने के लिए चुना, तभी से वाराणसी के लोगों में विकास की एक नई उम्मीद जग गई थी. लोगों ने इस नाम पर नरेन्द्र मोदी को जमकर वोट दिया कि वो सांसद नहीं देश का प्रधानमंत्री चुन रहे हैं. ऐसे में 2019 के चुनावों के पहले क्या वाराणसी उतना बदला, जितना लोगों को उम्मीद थी, इसका अंदाजा वाराणसी के लालबहादुर शास्त्री हवाई अड्डे पर उतरते ही मिलने लगता है. 2014 के पहले हवाई अड्डे से वाराणसी के कैंट इलाके में किसी होटल में पहुंचने का समय तय नहीं था. anilrai123 BJP4India MERA DESH JAG RHA HAI MERA DESH BADH RHA HAI anilrai123 BJP4India Itni reporting Amethi mein ki hoti to 10 saal pehle hi bhaag gaya hota pappu waha se anilrai123 BJP4India वाराणसी जितना ५ साल में बदला है उतना ५० साल में नहीं बदला था

ममता बोलीं, प्रचार का समय घटाने का फैसला चुनाव आयोग का नहीं मोदी का हैप. बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच मचा सियासी संग्राम खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। MamataOfficial AmitShah narendramodi KolkataViolence WestBengalClashes electioncommisionofindia MamataOfficial AmitShah narendramodi Didi election commission is not the patent of Modi, plz have some respect in our election commision MamataOfficial AmitShah narendramodi ममता ku$ia डायन को दीदी नही दादा गुंडी बोलो।आखिर पीएम मोदी को गुंडा कैसे बोल सकती।पूरे देश का पीएम आदरणीय है।कोई कानून नही इस चुड़ैल हरामी बुड्ढी के लिए।मुसलमान मलेच्छ गुंडो के बल पर उछल रही ये बन्दरिया बुड्ढी MamataOfficial AmitShah narendramodi Modi aayega. Har har Modi

अमित शाह के कोलकाता रोड शो में हिंसा: TMC ने मांगा EC से समय तो BJP बोली- ममता के प्रचार पर लगे बैन, 10 बड़ी बातेंभाजपा अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) के मंगलवार को कोलकाता में हुए विशाल रोड शो के दौरान भाजपा और तृणमूल कांग्रेस (TMC) समर्थकों के बीच हिंसक झड़पें हुईं. हालांकि शाह को किसी तरह की चोट नहीं आई और पुलिस उन्हें सुरक्षित स्थान पर ले गई. अधिकारियों ने बताया कि शहर के कुछ हिस्सों में हिंसा भड़क उठी जब विद्यासागर कॉलेज के भीतर से टीएमसी के कथित समर्थकों ने शाह के काफिले पर पथराव किया, जिससे दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच झड़प हुई. गुस्साए भाजपा (BJP) समर्थकों ने भी उसी तरह प्रतिक्रिया दी और कॉलेज के प्रवेशद्वार के बाहर टीएमसी प्रतिद्वंद्वियों के साथ मारपीट करते नजर आए. बाहर खड़ी कई मोटरसाइकलों को आग के हवाले कर दिया गया. ईश्वर चंद्र विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा भी झड़प के दौरान तोड़ दी गई. पुलिसकर्मी पानी भरी बाल्टियों से आग बुझाने की कोशिश करते देखे गए. रोडशो के लिए तैनात किए गए कोलकाता पुलिस (Kolkata Police) के दस्ते ने तुरंत हरकत में आते हुए इन समूहों का पीछा किया. ये सच है कि एसी तस्वीर किसी और राज्य की होती तो देश असुरक्षित क़रार दे दिया जाता। भारत छोड़ने की इच्छा प्रकट करने वालों की क़तारें लग गई होती। लोकतंत्र चूर चूर हो गया होता। भला लोकतंत्र की दो परिभाषा कैसे हो सकती है? BAN MAMTA FROM CAMPAIGN IMMEDIATELY पिक्चर में साफ़ साफ़ दीख रहा है कि भगवा कलर की कमीज़ पहने भाजपा के गुंडे पत्थरों से लाठी/डंडों से हमला कर रहे हैं...

सबसे लंबा 21.29 घंटे का रोजा आइसलैंड में, न्यूजीलैंड में सबसे छोटा 11.58 घंटे काआइसलैंड में सिर्फ 6 घंटे की रात, इफ्तार-सहरी में सिर्फ 4 घंटे फर्क रमजान सब्र के साथ भूखे प्यासे रहकर खुदा की इबादत करने का महीना गर्मियों के चलते दिन लम्बा होने से सब्र और इम्तिहान का समय भी बढ़ा | world,s longest fast of ramjan in iceland & shortest in newziland

रमजान में वोटिंग का वक्त बदलने का विरोध करेगा चुनाव आयोग, आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाईचुनाव आयोग के सूत्रों का कहना है कि मतदान अधिकारी पहले से ही बढ़े हुए घंटों में काम कर रहे हैं. साथ ही हर राज्य में सूर्योदय का समय अलग-अलग होता है. ऐसे में अगर मतदान सूर्योदय से पहले शुरू होगा तो अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था और प्रशासनिक बदलाव करने होंगे. लिहाजा, अब इसमें फेरबदल मुमकिन नहीं है. mewatisanjoo क्या नोटंकी है, पूरा चुनाव निपट गया, आखरी चरण बचा है, ओर ये रमजान में जल्दी मतदान शुरू करने की याचिका की सुनवाई आज कर रहे है।। 'ढक्कन' mewatisanjoo ये क्या बात हुई?🤔 इस हिसाब से तो मतदान रात को होना चाहिए। सब लोग अपना दिन का सारा काम और खाना खाके आराम से वोट डालने जाएँ फिर mewatisanjoo अब तो कोर्ट को याचिका रद्द कर देनी चाहिए, 6 चरणों का मतदान हो चुका है अंतिम चरण 19 को है। इस याचिका का अब क्या औचित्य है। कानून प्रणाली की आंखे खोलती यह याचिका की किस कदर कानून की लचर व्यवस्था इस देश मे जहाँ न्याय कार्य पूर्ण होने के बाद आता है। दुर्भाग्य पूर्ण स्थिति।

मल्लिकार्जुन खड़गे के बयान पर भाजपा का पलटवार, कहा- 'राहुल के प्रेम का मतलब गाली गलौज'मल्लिकार्जुन खड़गे के बयान पर भाजपा का पलटवार, कहा- 'राहुल के प्रेम का मतलब गाली-गलौज'... LokSabhaElection2019 RahulGandhi prakashjavadekar RahulGandhi BJP4India RahulGandhi BJP4India गरीबों का टीनू आनंद RahulGandhi BJP4India INCIndia का प्रेम = गाली, ईमानदारी=घोटाला लोकतंत्र=आपातकाल न्यायपालिका का सम्मान=महाभियोग अभिव्यक्ति की आजादी= देश विरोधी नारे क्रांतिकारी=नक्सली आतंकी भगतसिंह=आतंकी RahulGandhi BJP4India Sahi kaha Sir

ईरान से भारत के रिश्ते में अमेरिका का रोड़ा, तेल खरीदने का चुनाव बाद होगा फैसलाभारत के पास ईरान के साथ अपने गैर-डॉलर आधारित व्यापार को जारी रखने या अन्य स्रोतों से 'भारतीय रिफाइनरियों को कच्चे तेल Is America ko bhi KOI Ilaz talaso

PM का प्रहार- ममता ने सत्ता के नशे में घोंटा लोकतंत्र का गलाLok Sabha Elections 2019 LIVE News Updates: इससे पहले, तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) का आरोप है कि ‘‘भाजपा के गुंडों’’ ने कोलकाता में हिंसा के दौरान समाज सुधारक ईश्वर चंद्र विद्या सागर की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाया और बुधवार को इससे जुड़ा एक वीडियो जारी करते हुए पार्टी ने कहा कि वह इन्हें चुनाव आयोग (ईसी) को सौंपेगी।



गौतम गंभीर ने कपिल मिश्रा पर कार्रवाई की मांग की

दिल्ली हिंसाः पुलिस पर गोली तानने वाला शख़्स CAA समर्थक प्रदर्शन का हिस्सा था?- फ़ैक्ट चेक

हमारे अल्पसंख्यक बराबर के नागरिक: इमरान ख़ान

दिल्ली में हिंसा फैलने की पूरी कहानी

दिल्ली हिंसा में मारे गए फुरकान के भाई ने कहा- वो तो बच्चों के लिए खाना लेने गया था

LIVE- दिल्ली हिंसा में अब तक 20 लोगों की मौत

बारूद के ढेर पर बैठी दिख रही है दिल्ली: ग्राउंड रिपोर्ट

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

18 मई 2019, शनिवार समाचार

पिछली खबर

श्रीलंका को 'जिहादी आतंकवाद' से निपटने के लिए भारत ने की समर्थन की पेशकश

अगली खबर

मुंबई पुलिस ने IPL में मुहैया कराई सुरक्षा, क्रिकेट संघ ने नहीं किया इतनी राशि का भुगतान
दिल्ली हिंसा: जस्टिस एस. मुरलीधर क्यों चर्चा में हैं? MP: मुस्लिम धर्मगुरुओं को कमलनाथ का तोहफा, इमामों का बढ़ाया मानदेय मलेशिया: महातिर ने इस्तीफ़ा देकर की ग़लती Delhi Violence: दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर रजनीकांत ने केंद्र सरकार की आलोचना की, कहा- निश्चित तौर पर यह...' अमरीका या रूसः सैन्य तकनीक-उपकरणों के लिए भारत किस पर ज़्यादा निर्भर? UP: CAA विरोधी रैली में भड़काऊ भाषण देने वाले पूर्व राज्यपाल अजीज कुरैशी पर केस दर्ज जब एक पाकिस्तान ऊंटवाला अमरीका में बना 'हिज़ एक्सीलेंसी' wasim rizvi on waris pathan: दिल्ली हिंसा: वसीम रिजवी ने वारिस पठान को ठहराया जिम्‍मेदार, कहा- '100 करोड़ पर 15 करोड़ भारी' से उग्र हुए लोग - shia waqf board chairman wasim rizvi blamed on aimim leader waris pathan for delhi violence | Navbharat Times दिल्ली हिंसा को लेकर केंद्र पर भड़के रजनीकांत, कहा- सत्ता छोड़ दो दिल्ली हिंसा पर विधानसभा में बोले सीएम केजरीवाल- दंगे फसाद नहीं चाहिए Tahir Hussain: दिल्ली हिंसाः उपद्रवियों के साथ डंडा लिए दिखे आम आदमी पार्टी के नेता, IB कर्मी की हत्या का भी आरोप - bjp leader kapil mishra released delhi violence video, accuses aap councilor is behind ib staff murder | Navbharat Times Delhi Violence: केजरीवाल पर भड़के अनुराग कश्यप, बोले- 'अमित शाह ने खरीद लिया या...'
गौतम गंभीर ने कपिल मिश्रा पर कार्रवाई की मांग की दिल्ली हिंसाः पुलिस पर गोली तानने वाला शख़्स CAA समर्थक प्रदर्शन का हिस्सा था?- फ़ैक्ट चेक हमारे अल्पसंख्यक बराबर के नागरिक: इमरान ख़ान दिल्ली में हिंसा फैलने की पूरी कहानी दिल्ली हिंसा में मारे गए फुरकान के भाई ने कहा- वो तो बच्चों के लिए खाना लेने गया था LIVE- दिल्ली हिंसा में अब तक 20 लोगों की मौत बारूद के ढेर पर बैठी दिख रही है दिल्ली: ग्राउंड रिपोर्ट ट्रंप ने कहा- मोदी बहुत ही धार्मिक व्यक्ति हैं कार्टून: इंसानियत से ज़्यादा ज़रूरी चीज़ें! शांति बहाली के लिए केजरीवाल ने राजघाट पर की प्रार्थना, बोले- हिंसा पर पूरा देश चिंतित Delhi Violence: विवादित बयान देने वाले कपिल मिश्रा बोले, 'जान से मारने की दी जा रही है धमकी' दिल्ली हिंसा पर अब आया दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी का बयान, कहा- लोगों को भड़काने वालों की हो पहचान