Mayawati, मायावती, Uttar Pradesh, अखिलेश यादव, Akhilesh Yadav, Bsp, Samajwadi Party, समाजवादी पार्टी, Uttar Pradesh Assembly Election 2022, यूपी विधानसभा चुनाव 2022

Mayawati, मायावती

क्या मायावती और बर्खास्त BSP विधायकों के बीच गलतफहमी पैदा कर रहे हैं सतीश चंद्र मिश्रा?

यूपी में BSP टूट की कगार पर है. 18 में से 11 विधायकों को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए बर्खास्त किए जाने के बाद इनमें से पांच विधायकों ने मंगलवार को लखनऊ में समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव से मुलाकात की. @AmanKayamHai_

16-06-2021 09:50:00

यूपी में BSP टूट की कगार पर है. 18 में से 11 विधायकों को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए बर्खास्त किए जाने के बाद इनमें से पांच विधायकों ने मंगलवार को लखनऊ में समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव से मुलाकात की. AmanKayamHai_

यूपी में बहुजन समाज पार्टी टूट की कगार पर है. 18 में से 11 विधायकों को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए बर्खास्त किए जाने के बाद इनमें से पांच विधायकों ने मंगलवार को लखनऊ में समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ( Akhilesh Yadav ) से मुलाकात की.

Share this:अमन शर्मालखनऊ.उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी (BSP) से बीते दो साल के दौरान निष्कासित किए गए 11 विधायकों ने पार्टी सुप्रीमो मायावती (Mayawati) के भरोसेमंद सहयोगी सतीश चंद्र मिश्रा (Satish Chandra Mishra) को लेकर नाराजगी जताई है. इन विधायकों में अधिकांश ने मिश्रा पर मतभेद पैदा करने और मायावती को गुमराह करने का आरोप लगाया है.

भारत के विकास में कोरोना ने लगाया ब्रेक: GDP ग्रोथ का अनुमान घटाने पर IMF चीफ इकोनॉमिस्ट ने NDTV से कहा.. पुराने मोबाइल फोन और लैपटॉप से बने हैं Tokyo Olympics 2020 में मिलने वाले मेडल पेगासस जासूसी: ममता बनर्जी ने मोदी सरकार को दी चुनौती

अब आलम ये है कि यूपी में बहुजन समाज पार्टी टूट की कगार पर है. कुल 18 में से 11 विधायकों को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए बर्खास्त किए जाने के बाद बसपा में टूट का खतरा मंडराने लगा है. इनमें से पांच विधायकों ने मंगलवार को लखनऊ में समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) से मुलाकात की, लेकिन उन्हें सपा में शामिल नहीं होने की सलाह दी गई, क्योंकि इससे उनके दलबदल विरोधी कानून (Anti-Defection Law) में घिरने का खतरा रहेगा. ऐसे में कहा जा रहा है कि इन विधायकों ने 2022 में यूपी चुनाव लड़ने के लिए समाजवादी पार्टी से टिकट मांगा है.

OPINION: साढ़े चार साल में कुछ ऐसी रही बसपा के 'हाथी की चाल', अपना दल से भी कम रह गई विधायकों की संख्याइनमें से तीन विधायकों से News18 ने बात की. इनका कहना है कि मायावती से उनकी कोई नाराजगी या समस्या नहीं है, लेकिन विधायकों ने सतीश चंद्र मिश्रा पर उनके और मायावती के बीच गलतफहमी की खाई पैदा करने का आरोप लगाया है. बीएसपी के निलंबित विधायक असलम अली रायानी ने कहा, 'मायावती वही करती हैं, जो मिश्रा उन्हें करने के लिए कहते हैं. वह पार्टी को बर्बाद कर रहे हैं.' रायानी ने कहा कि अगर यह व्यवस्था जारी रही तो मुसलमान बीएसपी छोड़ देंगे. सुषमा पटेल और हकीम लाल बिंद जैसे अन्य विधायकों ने भी घटनाओं के लिए मिश्रा पर दोष मढ़ दिया. headtopics.com

सतीश चंद्र मिश्रा वर्षों से मायावती के भरोसेमंद सहयोगी रहे हैं. ये मिश्रा ही थे, जिनकी ब्राह्मणों तक पहुंचने की रणनीति के कारण 2007 में बीएसपी को यूपी की सत्ता मिल पाई. पंजाब में अकाली दल के साथ गठबंधन के लिए भी मायावती ने मिश्रा को ही प्रतिनियुक्त किया गया था. गठबंधन के ऐलान के वक्त वह सुखबीर सिंह बादल के साथ स्टेज पर मौजूद थे.

कहा जाता है कि उन्होंने मायावती को तब सचेत किया था, जब बीएसपी के निलंबित विधायकों में सात ने राज्यसभा चुनावों में पार्टी के फरमान का पालन नहीं किया था. हाल के पंचायत चुनावों में बीएसपी के वरिष्ठ नेताओं लालजी वर्मा और राम अचल राजबहर ने भी पार्टी के फरमान की अनदेखी की.

सतीश चंद्र मिश्रा के रिश्ते बीएसपी के वरिष्ठ नेता लालजी वर्मा और राम अचल राजभर के साथ भी तनावपूर्ण थे. इन्हें मायावती ने हाल ही में पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए बर्खास्त कर दिया. ऐसा कहा जा रहा था कि ये दोनों नेता अन्य दलों के संपर्क में थे. नसीमुद्दीन सिद्दीकी, ब्रजेश पाठक और स्वामी प्रसाद मौर्य के पार्टी से बाहर होने के बाद अब मिश्रा बीएसपी में मायावती के बाद प्रभाव के मामले में सबसे बड़े नेता बन गए हैं. उन्होंने कभी चुनाव नहीं लड़ा, लेकिन बीएसपी में बेहद ताकतवर बने हुए हैं.

राम मंदिर ट्रस्ट भूमि विवाद: बीजेपी का अखिलेश पर पलटवार, बोली- रामद्रोही को राम और उनके काम पर कैसे होगा भरोसा और पढो: News18 India »

इन राज्यों में राहत की बारिश बनी भारी आफत? देखें तस्वीरें

बारिश ने पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाकों के लोगों के सामने लिए बड़ी मुश्किलें लाकर खड़ी कर दी. एक तरफ जहां पहाड़ों पर लोग भूस्खलन से जान गंवा रहे हैं तो दूसरी तरफ मैदानी इलाकों में बाढ़ ने कहर मचा रखा है. दरभंगा में बाढ़ के पानी से कुशेश्वरस्थान के लोग परेशान तो मध्य प्रदेश के कई जिले भी बाढ़ से त्रस्त हैं. सबसे बुरी हालात में महाराष्ट्र है जहां बारिश और बाढ़ से अबतक तकरीबन 112 लोग जान गंवा चुके हैं. इन सबके अलावा कर्नाटक से लेकर तेलंगाना तक में मौसम ने अपना कहर बरपा रखा है. देखें वीडियो.

AmanKayamHai_ Good job AmanKayamHai_ अखिलेश जी को उत्तर प्रदेश की जनता बहुत अच्छी तरीके से सबक सिखाने के लिए तैयार है अगर विधायक गए हैं तो यूं समझिए गा उनके स्वयं का वोट गया हैं ,बीएसपी का वोटर सिर्फ बीएसपी को ही वोट देता है✌

गुजरात: आणंद में ट्रक से टकराई कार, हादसे में एक परिवार के 10 लोगों की मौतगुजरात के आणंद में बुधवार सुबह दर्दनाक सड़क हादसा हुआ. तारापुर हाइवे पर कार और ट्रक के बीच की टक्कर में 10 लोगों की मौके पर मौत हुई. हादसे में जान गंवाने वाले सभी एक परिवार के सदस्य थे. gopimaniar

हरियाणा: युवक की हिरासत में मौत के आरोप में 12 पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ केस दर्जपरिजनों का आरोप है कि 24 वर्षीय जुनैद को ग़लत तरीके से बीते 31 मई को फ़रीदाबाद की साइबर पुलिस ने हिरासत में लिया गया था और इस दौरान उन्हें बुरी तरह से प्रताड़ित किया गया, जिससे उनकी मौत हो गई. हालांकि पुलिस ने आरोप से इनकार करते हुए कहा है कि जुनैद की मौत किडनी संबंधी दिक्कत की वजह से हुई. मगर अफसोस सब के सब छूट जायेंगें ,गवाही नही मिलेगी .

नागपुर में वारदात: सात साल की बच्ची के साथ स्कूल के शौचालय में दुष्कर्म, आरोपी गिरफ्तारमहाराष्ट्र के नागपुर जिले में स्कूल के शौचालय में सात साल की बच्ची के साथ कथित तौर पर दुष्कर्म करने के आरोप में एक व्यक्ति Kha gya knoon vyavstha kha gaye lagata hai aage bhi aisa hi hoga jab koi baat sunta nahi hai is des ka pradhanmantri modi khuch keh ta nahi kya desh ko sabhal raha hai apni apni bhan betiyo ko drindo se vachao veti hai to sab khuch hai

दिल्ली में 22 फरवरी के बाद एक दिन में सबसे कम कोरोना के नए मामलेDelhi Coronavirus Update: दिल्ली में कोरोना के नए मामले 22 फरवरी के बाद सबसे कम सामने आए. दिल्ली में सोमवार को समाप्त 24 घंटों में कोविड के 131 नए मामले सामने आए और 16 मरीजों की मौत हो गई. यह 22 फरवरी के बाद एक दिन में सबसे कम नए मामले हैं. मौतें 5 अप्रैल के बाद एक दिन में सबसे कम हुई हैं. दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 0.22% है जो कि 21 फरवरी के बाद सबसे कम है. 19 मार्च के बाद सबसे कम एक्टिव मामले हैं. यूपी में चुनाव होने वाले हैं न इसलिए कोविड 19 कम हो रहे है।।।

Elon Musk के ट्वीट के बाद Bitcoin के भाव में फिर हुई बढ़ोतरी, जानें लेटेस्ट कीमतएलन मस्क के ट्वीट के बाद Bitcoin की कीमत में 9 प्रतिशत का उछाल आया है। इसकी वजह

लड़ेंगे कोरोना से: तीसरी लहर से निपटने के लिए तीन महीने में बनेंगे 50 मॉड्यूलर अस्पताललड़ेंगे कोरोना से: तीसरी लहर से निपटने के लिए तीन महीने में बनेंगे 50 मॉड्यूलर अस्पताल LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI थोड़ा सा प्यार हुआ है थोड़ा है बाकी