What İs Atal Academy, Aıcte Training And Learning Academy, Dr Ramesh Pokhriyal Nishank, Modi Government

What İs Atal Academy, Aıcte Training And Learning Academy

क्या है अटल अकादमी, जिसे मोदी सरकार देश के 10 और शहरों में खोलना चाहती है

क्या है अटल अकादमी, जानिए यहां

12-09-2019 12:11:00

क्या है अटल अकादमी, जानिए यहां

नरेंद्र मोदी सरकार ने देश में तकनीकी शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने पर और रिसर्च पर फोकस करने के लिए दस और शहरों में अटल (ATAL) अकादमी खोलने की तैयारी की है. यह फैसला पिछले साल खुले पांच अकादमी से आए बेहतर नतीजों के बाद लिया गया है.

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ऑल इंडिया काउंसिल ऑफ टेक्निकल एजूकेशन(AICTE) की ओर से आयोजित कार्यक्रम में तकनीकी शिक्षा में अटल अकादमी के महत्व पर चर्चा की. रमेश पोखरियाल निशंक ने देश में स्टार्टअप की जरूरतों पर भी बात की.क्या है अटल अकादमी

MOTN: उत्तर प्रदेश के CM योगी आदित्यनाथ हैं देश के सबसे अच्छे मुख्यमंत्री Air India Plane Crash Helpline No: दुबई स्थित भारतीय दूतावास ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर MOTN सर्वेः नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता बरकरार, PM पद की पहली पसंद

अटल अकादमी का पूरा नाम है एआईसीटीई ट्रेनिंग एंड लर्निंग. इसमें एआईसीटीई(अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद) का ए, ट्रेनिंग का टी और लर्निंग का एल लेकर नाम रखा गया है. तकनीकी शिक्षण संस्थानों, विश्वविद्यालयों में अटल अकादमी खोलकर इनोवेशन को बढ़ावा देने की मंशा है. अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद(AICTE) अटल अकादमी की स्थापना में मदद करता है.

पहले चरण में वडोदरा, जयपुर, गुवाहाटी, त्रिवेंद्रम, जयपुर में अटल अकादमी खोला गया. बताया जाता है कि इस अकादमी में साइबर सिक्योरिटी, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, डेटा साइंस आदि विषयों पर रिसर्च पर जोर दिया जाएगा. वर्ष 2018 में सरकार ने अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर इस तरह की अकादमी खोलने की योजना बनाई थी.

और पढो: आज तक »

मुंबई की मल्टी टैलेंटेड वुमन: 28 कैंसर पेशेंट बच्चों का सहारा बनीं गीता श्रीधर, दिन-रात इनकी सेवा में समर्प...

गीता ने टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल के कैंसर पेशेंट्स के लिए खाने का भी प्रबंध किया।,पिछले कुछ सालों से गीता ने अपने कुछ वॉलंटियर्स की मदद से फूड बैंक की शुरुआत की है। Geeta Sridhar became the support of 28 cancer patients, dedicated to her day and night and said 'Geetu Maa'

श्रीमान मध्यप्रदेश में हो रही भारी बारिश के कारण राजगढ़ जिले की तमाम फसलें चौपट हो चुकी है क्या आपका न्यूज़ चैनल इस खबर को चलाएं

इसरो के ऑफिस में कैसा है काम करने का माहौल और कितनी है सैलरीwork-culture of isro and salary of new scientist। news18hindi। इसरो के ऑफिस में कैसा है काम करने का माहौल और कितनी है सेलरी। दुनिया की टॉप फाइव स्पेस एजेंसियों में एक है भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान यानि इसरो. अब इसरो का एक बड़ा ढांचा देशभऱ में काम कर रहा है. युवा वैज्ञानिक कैसा महूसस करते हैं यहां के कामकाजी माहौल को | knowledge News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी Salary Last Year Jitni Thi us se Kam hai because Gobhi ji NE unka Bhi kaat Dia hai Hutiya Now Chant BMKJ 🚩

दिल्ली-एनसीआर है स्टार्टअप्स के लिए पसंदीदा स्थान, पीछे हैं बेंगलुरु और मुंबई‘टर्बोचार्जिंग दिल्ली-एनसीआर स्टार्ट-अप इकोसिस्टम’ शीर्ष वाली रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में कुल स्टार्टअप्स में 23 प्रतिशत दिल्ली-एनसीआर में हैं।\nरिपोर्ट के अनुसार दिल्ली-एनसीआर में स्टार्टअप्स की संख्या 7,039 है।

आग लगी है इंडोनेशिया के जंगलों में, सांस फूल रही है सिंगापुर-मलेशिया कीइंडोनेशिया के जंगलों में लगी आग के धुएं का असर 1150 किलोमीटर दूर सिंगापुर तक पहुंच गया है. वहीं, 1440 किमी दूर मलेशिया सरकार ने अपने लोगों को इस धुएं की वजह से बने स्मॉग से बचाने के लिए 50 लाख मास्क बांटे हैं. बहुत ही दुखद घटना है. इंसान तो बच भी सकता है . लेकिन बेजुबान जानवरों को कैसे राहत होगी. . इनडोनेसिया सरकार से निवेदन है कि जल्द ही आग बुझाने की कोशिश करें. जय हिंद 🙏🙏

चांद के उस हिस्से पर कैसा मौसम है, जहां है चंद्रयान का लैंडर विक्रमचांद के उस हिस्से पर कैसा मौसम है, जहां है चंद्रयान का लैंडर विक्रम | Know About Temperature and Weather of South Poll of Moon where Vikam Crash Landed | knowledge News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी भूखे पाक की भुकी नज़र लग गयी iVeenaKhan

क्या है UNHRC, जहां कश्मीर मुद्दे पर आमने-सामने होंगे भारत और पाकिस्तानक्या है UNHRC, जहां कश्मीर मुद्दे पर आमने-सामने होंगे भारत और पाकिस्तान UNHCR UNHRC currentaffairs IndiaPakistanTension edutwitter PMOIndia

Facebook को पता है आपने आखिरी बार कब बनाए संबंध, और भी बहुत कुछ...एक रिपोर्ट से ये जानकारी मिली है कि दो पीरियड ट्रैकिंग ऐप्स ने लाखों महिलाओं की गोपनीय जानकारियां फेसबुक से शेयर की हैं.