Nofakenews, Factcheck, Coronavirusoutbreak, Covid_19 İndia, Italy, Newsupdates, Shoes, Newsupdates Coronavirus Italy, China Italy India Coronavirus Latest News, China Coronavirus Death, China Coronavirus, Coronavirus Outbreak, Novel Coronavirus - नो फेक न्यूज़ न्यूज़, नो फेक न्यूज़ समाचार

Nofakenews, Factcheck

क्या जूतों के जरिए भी आप तक पहुंच सकता है कोरोनावायरस?

फैक्ट चेक / क्या जूतों के जरिए भी आप तक पहुंच सकता है कोरोनावायरस? #NoFakeNews #FactCheck #CoronavirusOutbreak #Covid_19india

10-04-2020 14:43:00

फैक्ट चेक / क्या जूतों के जरिए भी आप तक पहुंच सकता है कोरोनावायरस? NoFakeNews FactCheck CoronavirusOutbreak Covid_19india

सोशल मीडिया में वायरल हो रही पोस्ट कि, इटली में जूतों के चलते ही कोरोनावायरस के मामले इतने ज्यादा बढ़े विशेषज्ञ बोले, जूते भी हो सकते हैं कोरोनावायरस के कैरियर, बचने के लिए सावधानी जरूरी | Coronavirus Italy | Coronavirus Italy Social Media Viral Fake News Updates On COVID-19 Live on Shoes

सोशल मीडिया में वायरल हो रही पोस्ट कि, इटली में जूतों के चलते ही कोरोनावायरस के मामले इतने ज्यादा बढ़ेविशेषज्ञ बोले, जूते भी हो सकते हैं कोरोनावायरस के कैरियर, बचने के लिए सावधानी जरूरीदैनिक भास्करApr 10, 2020, 03:55 PM ISTनईदिल्ली.फेसबुक, ट्विटर समेत तमाम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर थाई भाषा (थाइलैंड की मातृभाषा) में एक पोस्ट वायरल हो रही है। इसमें दावा किया गया है कि कोरोना संक्रमितों का इलाज करने इटली गए चाइनीज डॉक्टरों ने पाया कि 'वहां कोरोनावायरस के फैलने का कारण जूते हैं। इटली के लोग घर और बाहर एक ही जूते पहनते हैं, कुछ बेडरूम में भी उसी शूज का इस्तेमाल करते हैं, जो बाहर पहनते हैं। इसी के चलते वहां कोरोनावायरस इतना ज्यादा फैला।' जूतों को लेकर यह बहस काफी दिनों से चल रही है और कई लोगों के मन में इसे लेकर सवाल हैं कि क्या फुटवियर के जरिए भी कोरोनावायरस फैल सकता है? जानिए इस वायरल दावे का सच। 

अहमदाबाद से बिहार लौटी महिला की मौत, वजह पता नहीं 35 हजार लोगों के हिस्से का अनाज चट कर सकता 4 करोड़ टिड्डियों का दल, कई राज्यों में फैला है आतंक अहमदाबाद से बिहार लौटी महिला की स्टेशन पर मौत, बच्चे की कोशिश देखिए

वायरल हो रहा थाई भाषा में लिखा मैसेज। एक्सपर्ट ने कहा, जूते कोरोनावायरस को लाने में मध्यस्थ हो सकते हैंथाइलैंड के रोग नियंत्रण विभाग के डिप्टी जनरल डायरेक्टर डॉक्टर तानारक पलिपट ने इंटरनेशनल न्यूज एजेंसीएएफपीको बताया कि जूते कोरोनावायरस को लाने में मध्यस्थ हो सकते हैं, लेकिन यह संक्रमण का प्राथमिक कारण नहीं हैं। 

7 अप्रैल को न्यूज एजेंसी से फोन पर हुई बातचीत में उन्होंने कहा कि जूते भी शर्ट, ट्राउजर की तरह हैं जो बाहर से घर में वायरस ला सकते हैं, लेकिन कोरोनावायरस के संक्रमण का यह सीधा कारक नहीं है, क्योंकि कोरोनावायरस एक सांस से संबंधित बीमारी है जो त्वचा के जरिए ट्रांसमिट नहीं हो सकती। 

न्यूयॉर्क के लेनॉक्स हिल हॉस्पिटल के इमरजेंसी फिजिशियन डॉक्टर रॉबर्ट ग्लटर नेहेल्थलाइनको बताया कि घर में घुसने से पहले जूतों को बाहर उतारना चाहिए और साफ करना चाहिए। धोते वक्त यह ध्यान रखें कि उन्हें घर या अपार्टमेंट के बाहर ही साफ किया जाए और सूखने दिया जाए। इससे वायरस के संक्रमण का खतरा कम होगा। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ अध्ययनों में यह पाया गया है कि जूतों में वायरस अधिकतम पांच दिनों तक रह सकता है। अधिकतर जूते लेदर, रबर या प्लास्टिक से बने होते हैं तो यह भी वायरस के कैरियर हो सकते हैं। 

हफिंगटन पोस्टने फैमिली प्रैक्टिशनर जॉरिन नेनोस के हवाले से लिखा कि जूते संक्रमण का संभावित सोर्स हो सकते हैं। खासकर तब जब भारी आबादी वाले क्षेत्रों में जूते पहनकर जाया जाए। जैसे, किराना दुकाना, दूध डेयरी, वर्कप्लेस आदि। नेनोस कहती हैं कि अभी तक की प्राप्त जानकारी के मुताबिक, सरफेस पर कोरोनावायरस 12 घंटे तक रह सकता है, तो निश्चित तौर पर यह जूतों में आ सकता है। संक्रामक रोग विशेषज्ञ मैरी ई श्मिट कहती हैं कि जूतों पर वायरस पांच दिन और ज्यादा समय तक भी रह सकता है। 

विशेषज्ञों के मुताबिक, सही तरीका ये है कि घर आने के बाद जूतों और कपड़ों को निकाले, उन्हें धोएं और फिर तुरंत खुद भी नहा लें। इससे संक्रमण का खतरा कम होता है। डॉक्टर पलिपट कहते हैं कि, साबुन से हाथों को बार-बार धोना फिर हैंड सैनिटाइजर से साफ करना और हाथों को चेहरे पर टच न करना कोरोनावायरस से बचने का सबसे अच्छा तरीका है। 

यूएस सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन भी सलाह देता है कि जिन सरफेज को हम बार-बार टच करते हैं, उन्हें हर रोज साफ करना चाहिए। इसके लिए हाउसहोल्ड क्लीनर्स का इस्तेमाल किया जा सकता है। क्या सावधानी रखेंघर में अंदर जाने से पहले जूते बाहर ही निकालें। 

महाराष्ट्र से लेकर यूपी तक टिड्डियों का तांडव, पंजाब हाई अलर्ट पर कोरोना वायरस ने भारतीय राजनीति को कितना बदला है? कोरोना अपडेट: लॉकडाउन पीढ़ी पर 'दशकों तक रह सकता है असर' - BBC Hindi

पानी और साबुन से जूतों को अच्छी तरह से साफ करें। जिन जूतों को मशीन में धोया जा सकता हो, उन्हें वॉशिंग मशीन में साफ करें। लेदर के जूते जो धोए नहीं जा सकते, उन्हें क्लीनर से अच्छी तरह से साफ कर संक्रमण से मुक्त करें। घर के अंदर के फुटवियर अंदर ही इस्तेमाल करें और बाहर वाले बाहर इस्तेमाल करें। बाहर के फुटवियर को अंदन न लाएं।

और पढो: Dainik Bhaskar »

कोरोनावायरस के खिलाफ रणनीति में बदलाव, टेस्टिंग का बढ़ाया गया दायरादिल्ली समेत भारत के कई राज्यों में कोरोनावायरस के हॉटस्पॉट्स की पहचान कर उन्हें सील कर दिया गया है.  इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च, जो कि कोरोनावायरस के खिलाफ जंग में नोडल संस्था का काम कर रही है, ने इन हॉटस्पॉट्स में टेस्टिंग की शुरुआत कर दी है. अभी हॉटस्पॉट्स में जिन लोगों की कोरोनावायरस को लेकर टेस्टिंग की जा रही है जिनमें कोरोनावायरस के लक्षण 1 हफ्ते से दिखाई दे रहे हैं. भले ही वे कोरोना पॉजीटिव मरीजों से संपर्क में आए हो या नहीं. बता दें कि पिछले 20 दिनों में लोगों की पांच श्रेणियों के मुताबिक ही टेस्ट किए जा रहे हैं. हर मानव का जीवन बचाना हमारा प्राथमिकता- प्रधानमंत्री माननीय प्रधानमंत्री आपने सही कहा! लॉक डाउन बढ़ाने से पहले कृपया दूसरे राज्य में फंसे मजदूरों, नेपाल सीमा पर फंसे भारतीयों का ध्यान जरूर कीजिएगा!क्योंकि इनकी जान भी आफत में हैं!narendramodi NitishKumar aajtak RahulGandhi Random testing jald se jald shuru honi chahiy. कोरोनावायरस के टेस्टिंग का दायरा बढा़या जाना बहुत आवश्यक है जितने ज्यादा टेस्ट होगें,इसकी प्र्सार की सम्भावना कम होगें

कोरोनावायरस : मास्क अनिवार्य होने के बाद हाई लेवल मीटिंग में मास्क पहनकर पहुंचे मंत्री और अधिकारीदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal), उनकी सरकार के मंत्री, उप-राज्यपाल अनिल बैजल (Anil Baijal) और सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी आज एक बैठक की और मीटिंग में सभी मास्क पहनकर पहुंचे. यह बैठक दिल्ली सरकार द्वारा कोरोना पर अपनाए जा रहे उपायों की समीक्षा को लेकर थी. दवाई देने के बदले में अमेरिका से अच्छी क्वालिटी के वेंटिलेटर की मांग भी कर सकते थे, मजबूत प्रधान मंत्री जी, 🙄🤔 Worst thing is health minister is wearing it wrong he must cover his nose that's vital . How can he issue guidelines if doesn't follow them दस्ताने नहीं पहनने.

बड़ी खबर : Lockdown के खत्म होने के बाद भी विमान में यात्रियों को नहीं मिलेगा खानानई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के कारण लगाए लॉकडाउन के खत्म होने और वाणिज्यिक यात्री विमानों के फिर से उड़ान भरने के बाद इंडिगो बार-बार अपने विमानों की अच्छे तरीके से सफाई करेगा। कुछ वक्त के लिए विमान में भोजन परोसना बंद करेगा अैर हवाईअड्डे पर चलने वाली बसों में अधिकतम 50 फीसदी सीटें ही भरेगा।

नोएडा के 22 इलाके रहेंगे सील, जरूरत के सामान के लिए यहां करें संपर्कनोएडा के इन 22 इलाकों में अब किसी भी आदमी का बाहर निकलना मुमकिन नहीं होगा. वो अपनी सोसाइटी में ही रहेंगे. उन्हें अगर कोई जरूरत का सामान चाहिए तो इलाके में सुनिश्चित किए गए व्यक्ति को संपर्क कर मंगवा सकते हैं. आज पूरा संसार कोरोना महामारी से परेशान है , हम मनुष्यों ने पृथ्वी पर बहुत अत्याचार किया । अब समय है हम अपनी बढी हुई इच्छाओं को खत्म करें । कृपया मेरा यह गीत सुनें ... Covid 19 will end soon just pray🙏

कोरोनावायरस संक्रमण के चलते दिल्ली के इन इलाकों को किया गया है सील, यहां देखें पूरी लिस्ट...उत्तर प्रदेश की तर्ज पर दिल्ली सरकार ने भी कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने के लिए दिल्ली के 21 इलाकों को हॉटस्पॉट के तौर पर पहचानते हुए सील करने का फैसला लिया है. दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली में कोरोना के 21 हॉटस्पॉट को सील किया गया. हॉटस्पॉट उन इलाकों को कहते हैं जहां कोरोना के सबसे ज्यादा मामले सामने आते हैं. इन जगहों पर जरूरी सामानों को डोर टू डोर पहुंचाया जाएगा. जमाती +केजरीवाल=कोरोना 😂😂😂 Nitesh ji aap ko abhi tak salaries kat kar de dena chahiye tha It is my humble request to Govt. that before announcement of hotspot shield area. Strictly lock all markets so that no one can move there. Then announcement the hot spot area. After that some volunteers can help every home stuck people with food/requirements.

दिल्ली के मूलचंद अस्पताल की एक नर्स कोरोना पॉजिटिव, एक मरीज भी हुआ संक्रमितदिल्ली के मूलचंद अस्पताल की एक नर्स को कोरोना पॉजिटिव पाया गया. लाजपत नगर का एक शख्स इस अस्पताल में 31 मार्च से 2 अप्रैल तक किडनी से जुड़ी बीमारी के चलते यहां रहा. उसका डायलिसिस हुआ था ,नर्स उसकी देखभाल में थी. ये शख्स कोरोनो पॉजिटिव निकला और दोनों ने एक प्राइवेट लैब में टेस्ट कराया. हालांकि अब दोनों के परिवारों को क़वारन्टीन कर दिया गया है. दोनों को अस्पताल भेजा जा चुका है. मूलचंद अस्पताल से इनके संपर्क में आये लोगों की लिस्ट मांगी गई है. दुखद Savdhani hati... durghatna ghati... Tableeg say hai kya

'2021 की शुरुआत में मिलेगा कोविड-19 का टीका', राहुल गांधी से चर्चा में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर का दावा - BBC Hindi कोरोना अपटडेटः भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या डेढ़ लाख के क़रीब, अकेले महाराष्ट्र में 52 हज़ार से ज़्यादा मामले - BBC Hindi ‘कोरोना आपदा को बदला लेने का अवसर मान रही मोदी सरकार’: छात्र नेताओं ने लगाया आरोप संकट में प्रवासी मजदूर: भूख-प्यास से बेहाल मां की स्टेशन पर ही मौत, जगाने की कोशिश करता रहा बच्चा ट्विटर ने पहली बार राष्ट्रपति ट्रंप के ट्वीट को झूठा बताया राहुल गांधी का वार- पीएम ने पहले फ्रंटफुट पर खेला, लेकिन अब बैकफुट पर हैं यूपी, बिहार में क्यों घंटों की देरी से पहुंच रही श्रमिक स्पेशल ट्रेनें? केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने क्वारंटाइन से किया किनारा, सफाई में बोले- छूट वाली कैटेगरी में आता हूं कोविड-19: तीन ख़तरनाक चरमपंथी संगठनों पर कितना असर? नेपाल ने कहा, भारत के सेना प्रमुख ने हमारे इतिहास का अपमान किया डोनाल्ड ट्रंप भारत-चीन सीमा विवाद पर मध्यस्थता के लिए तैयार