कोसी और सीमांचल में भात हुआ दुश्वार, चोखा-रोटी के लिए रार... जानिए सुपौल के किसानों का दर्द

कोसी और सीमांचल में भात हुआ दुश्वार, चोखा-रोटी के लिए रार... #Bihar #Bhagalpur

Bihar, Bhagalpur

09-12-2021 07:20:00

कोसी और सीमांचल में भात हुआ दुश्वार, चोखा-रोटी के लिए रार... Bihar Bhagalpur

कोसी और सीमांचल में इस बार धान का उत्‍पादन काफी कम हुआ है। करीब 22 हजार हेक्‍टेयर में लगी धान की फसल बाढ़ के कारण तबाह हो गई। इसका असर अब रबी फसल की बुआई पर भी दिख रही है।

जिले में अक्टूबर में जब धान की फसल तैयार होने पर थी तो अतिवृष्टि ने इसे बर्बाद कर दिया था। यहां 85 हजार हेक्टेयर में धान की फसल लगाई गई थी। सरकारी सर्वेक्षण के अनुसार जिले में 22 हजार हेक्टेयर में लगी फसल बर्बाद हो गई। अब जब किसान रबी फसल की बोआई करते तो डीएपी मिलना मुश्किल हो गया है। किसान गेहूं और आलू की खेती में इस खाद का प्रयोग करते हैं। 90 हजार हेक्टेयर में रबी फसल लगाने का लक्ष्य है।

यह भी पढ़ेंइसके लिए लगभग 16 हजार एमटी खाद की आवश्यकता है लेकिन अबतक तीन हजार एमटी की ही आपूर्ति हो पाई है। गेहूं की अगात बोआई के लिए 15 नवंबर से 15 दिसंबर तक का समय उपयुक्त माना गया है। अगात आलू की रोपाई अबतक हो जानी चाहिए थी अन्यथा ठंड बढऩे पर पाला का खतरा रहेगा। ऐसे में किसानों का कहना है कि भात पर पहले ही शामत आ चुकी है। अब चोखा-रोटी पर आफत से इंकार नहीं किया जा सकता है। भात जब दुश्वार हुआ तो चोखा-रोटी के लिए किसान रार ठाने हुए हैं। किसान खाद के लिए मारामारी करने पर उतारू हैं। जगह-जगह सड़क जाम किया जा रहा है।

यह भी पढ़ेंकोसी के इस पिछड़े इलाके में लोगों के चूल्हे किसानी के बूते ही जलते हैं। लगभग 80 फीसद से अधिक लोगों की आजीविका का साधन कृषि या इससे जुड़े अन्य कार्य हैं। धान की खेती किसानों के लिए सबसे सस्ती और अधिक आमदनी वाली होती है। इसमें किसानों को ङ्क्षसचाई नहीं के बराबर करनी पड़ती है। बारिश से ङ्क्षसचाई हो जाती है। इस साल बारिश भी अच्छी हुई। किसान फसल देख मूंछों पर ताव दे रहे थे लेकिन प्रकृति पर किसी का जोर नहीं चलता। headtopics.com

Bal Thackrey Birth Anniversary: सीएम उद्धव ठकरे ने कहा- शिवसेना ने भाजपा के साथ रहकर 25 साल बर्बाद कर दिये

यह भी पढ़ेंयास तूफान के प्रभाव से इधर भी लगभग पांच दिनों तक बारिश होती रही जिससे धान की फसल बर्बाद हो गई। मुंह के बल गिरे किसानों के समक्ष अब रबी फसल का ही सहारा है। यह खेती महंगी होती है। इसमें रासायनिक खाद की आवश्यकता होती है। इधर के किसान डीएपी और पोटाश का अधिक व्यवहार करते हैं। रबी फसल में किसान मुख्य रूप से गेहूं बोते हैं। इसके अलावा सरसों और आलू की खेती भी की जाती है। इस खेती में भी उक्त खाद की आवश्यकता रहती है लेकिन मौके पर खाद की किल्लत हो गई। हालांकि मंगलवार को नौ हजार एमटी खाद जिले को मिलने के बाद किसानों ने राहत की सांस ली है। 

और पढो: Dainik jagran »

सरकार: 2017 में BJP के भारी बहुमत से जीत के बाद Yogi Adityanath कैसे चुने गए CM?

मार्च 2017 की बात है. फागुन की पूरनमासी से पहले ही यूपी में बीजेपी की पूरनमासी हो गई. यूपी के बड़े बड़े लड़ैया मोदी के आगे ढेर हो गए. प्रचंड बहुमत से बीजेपी को जीत मिली थी, जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी. लेकिन इसके बाद चुनना था एक ऐसा चेहरा जो इस भारी भरकम जनादेश के साथ न्याय कर सकता था, उत्तर प्रदेश का नया मुख्यमंत्री. चर्चा थी तीन नामों की - यूपी के सीएम रह चुके राजनाथ सिंह, गाज़ीपुर से तत्कालीन सांसद मनोज सिंहा और तब के यूपी बीजेपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य. लेकिन जो फैसला लिया गया वो कयासों से बिलकुल उलट था. घोषणा हो गई एक ऐसे नाम की जिनकी किसी ने चर्चा ही नहीं की थी. बाकि तो छोड़िए, खुद योगी आदित्यनाथ को नहीं मालूम था कि उनकी बारी ऐसे आ जाएगी. देखें सरकार. और पढो >>

भारत के 5 सबसे सस्ते Smartphones, कीमत और फीचर्स में देते हैं JioPhone Next को टक्करCheapest Smartphones in India आज की खबर उन ग्राहकों के लिए है जो इस वक्त अपने लिए किफायती Smartphone की तलाश कर रहे हैं। हम आपको यहां 7000 रुपये से कम कीमत वाले डिवाइस के बारे में बताएंगे जिनमें आपको दमदार बैटरी से लेकर पावफुल कैमरा तक मिलेगा।

भारत में गरीबी और असमानता बढ़ी, केवल 10 फीसदी लोगों के पास 57% इनकम: रिपोर्टरिपोर्ट के मुताबिक, भारत एक गरीब और सबसे अधिक असमानता वाले देशों की सूची में शामिल हो गया है। देश में शीर्ष 10 फीसदी आबादी के पास कुल राष्ट्रीय आय का 57 फीसदी है।

55Whr बैटरी के साथ InBook X1 और InBook X1 Pro लैपटॉप भारत में लॉन्च, जानें कीमतInfinix InBook X1 सीरीज़ की सेल Flipkart के जरिए 15 दिसंबर से शुरू होगी। Ab Toh Khud BJP Bol Rahi Hai Waha China Ghusa Bhi Hai Or Basa Bhi Hai Fenku Ji 🤬🤬 BJP_हटाओ_देश_बचायो NagalandFiring TimesNowMurdabaad TimesNowMurdabad

बैंकों और मर्चेंट्स को Cryptocurrency के बारे में समझाएगी Visa, शुरू की एडवाइजरी सर्विसVisa द्वारा की गई एक ग्‍लोबल स्‍टडी से पता चला है कि लगभग 40 प्रतिशत क्रिप्टो ओनर्स अगले 12 महीने में अपने प्राइमरी बैंक को छोड़कर उसके साथ जा सकते हैं, जो उन्‍हें क्रिप्टो संबंधित प्रोडक्‍ट्स ऑफर करेगा। Visa Fud failao bina blockchainke ko samjhe phir kanha se samjh ayegi trp or views ke liye marte ho

क्रिप्टो मार्केट में मामूली उतार-चढ़ाव, Bitcoin और Ether में कुछ नुकसानफाइनेंस मिनिस्ट्री ने एक क्रिप्टो बिल तैयार किया है जिसमें प्राइवेट क्रिप्टोकरंसीज पर बैन लगाने की जरूरत बताई गई है। इसमें कानून का उल्लंघन करने वालों को गिरफ्तार करना भी शामिल है Ab Toh Khud BJP Bol Rahi Hai Waha China Ghusa Bhi Hai Or Basa Bhi Hai Fenku Ji 🤬🤬 BJP_हटाओ_देश_बचायो NagalandFiring I love this new world that we are living in

यूपी: मथुरा में ध्रुवीकरण की राजनीति के बीच क्या हैं आम जनता के असल मुद्देवीडियो: बीते छह दिसंबर को बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर मथुरा में दक्षिणपंथी संगठनों द्वारा कथित कृष्ण जन्मभूमि पर 'जलाभिषेक' की धमकी के बीच शहर में धारा 144 लगा दी गई थी और पुलिस की तैनाती रही. आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र ऐसी गतिविधियों को लेकर सरकार पर ध्रुवीकरण के प्रयास के आरोप लग रहे हैं. द वायर ने जाना कि आख़िर मथुरा के लोग क्या इस बारे में क्या कहते हैं. मथुरा और काशी वह आम जनता के ही मुद्दे हैं। बहु संख्यक दबे कुचले हिंदुओं का