कोविड वैक्सीनः अमेरिका के कई सैनिकों ने नहीं लगवाया टीका, क्या हो सकती है कार्रवाई - BBC News हिंदी

कोविड वैक्सीनः अमेरिका के कई सैनिकों ने नहीं लगवाया टीका, क्या हो सकती है कार्रवाई

01-12-2021 17:46:00

कोविड वैक्सीनः अमेरिका के कई सैनिकों ने नहीं लगवाया टीका, क्या हो सकती है कार्रवाई

यूएस नेवी ने एक आदेश में कहा था कि जिन सैनिकों ने छूट न होने के बाद भी टीकाकरण नहीं करवाया है उन्हें बाहर किया जा सकता है.

समाप्तअमेरिकी वायुसेना ने एक्टिव ड्यूटी पर रहने वाले कर्मचारियों के लिए 2 नवंबर की डेडलाइन निर्धारित की है. नेवी और मरीन कॉर्प्स ने 28 नवंबर की समयसीमा तय की. जबकि अमेरिकी सेना की इसकी डेडलाइन 15 दिसंबर हैं.रिज़र्व सैनिकों और नेशनल गार्ड (जो पार्ट-टाइम सेना के साथ हैं) के लिए समयसीमा अलग-अलग है. नेवी के रिज़र्व सैनिकों की डेडलाइन 12 दिसंबर है जबकि नेशनल गार्ड और आर्मी रिज़र्व के लिए ये 30 जून 2022 है.

कितने सैनिकों को टीका लग चुका है?नवंबर की शुरुआत तक के डेटा के मुताबिक़ एक्टिव ड्यूटी में लगे 13 लाख अमेरिकी सैनिक जो कि कुल संख्या का 97 प्रतिशत हैं वैक्सीन की कम से कम एक डोज़ लगवा चुके हैं. जबकि एक्टिव ड्यूटी में शामिल 88 फ़ीसदी सैनिकों को वैक्सीन की दोनों डोज़ लग चुकी हैं.

हालांकि रिज़र्व सैनिकों और नेशनल गार्ड को मिलाकर सिर्फ़ 69 फ़ीसदी अमेरिकी सैनिकों का ही टीकाकरण पूरा हुआ है.क्या डेल्टा से ज़्यादा ख़तरनाक हो सकता है कोरोना का नया वेरिएंट, भारत में भी अलर्टअमेरिकी सेना के अलग-अलग अंगों में मरीन कॉर्प्स में वैक्सीन न लगवाने वालों की संख्या सबसे अधिक है. रिपोर्टों के मुताबिक समयसीमा समाप्त होने तक 10 हज़ार से अधिक मरीन सैनिक ऐसे रहे जिनका टीकाकरण नहीं हुआ. headtopics.com

मरीन कॉर्प्स अमेरीकी सेना की सबसे छोटी सर्विस है और इसमें वैक्सीन को लेकर हिचक सबसे ज़्यादा थी. नवंबर के शुरुआत में कमांडेंट डेविड बर्जर ने सैनिकों को चेतावनी देते हुए वीडियो संदेश भी जारी किया था. उन्होंने कहा था कि जब तक अंतिम मरीन को वैक्सीन नहीं लगती है, मिशन को लेकर फोर्स की तैयारी में खलल पड़ सकता है.

उन्होंने कहा था, "हमारे पास अतिरिक्त मरीन सैनिक नहीं है. हम एक छोटी फोर्स हैं. हमें ये सुनिश्चित करना होगा कि हमारी टीम का हर व्यक्ति किसी भी समय तैनाती के लिए तैयार हो."वीडियो कैप्शन,कोविड 19: कोरोना की वैक्सीन कैसे बनाई गईं?वहीं अमेरिका की एयर फोर्स और स्पेस फोर्स के 326,000 एक्टिव ड्यूटी सैनिकों में से 97 फ़ीसदी को समय से पहले दोनों टीके लग चुके थे. अब क़रीब दस हज़ार ऐसे हैं जिन पर टीका न लगवाने की वजह से कार्रवाई हो सकती है.

एयर फोर्स ने एक बयान में कहा है कि अब 9,600 एक्टिव सैनिक ऐसे हैं जिन्हें टीका नहीं लगा है. अब इन पर अनुशासनात्मक कार्रवाई हो सकती है या इन्हें सेना से बाहर निकाला जा सकता है. एयर फोर्स का कहना है कि एक महीने के भीतर इनकी तरफ़ से दिए गए कारणों की समीक्षा की जाएगी. फोर्स के मुताबिक़ सिर्फ़ 800 सैनिकों ने ही सीधे वैक्सीन लगवाने से मना कर दिया था जो की कुल फोर्स के एक फीसदी से भी कम हैं.

कोविड से कितने सैनिक बीमार हुए या मारे गए?रक्षा मंत्रालय के डेटा के मुताबिक़ 17 नवंबर 2021 तक अमेरिकी सेना के 75 जवानों की मौत कोविड की वजह से हुई जबकि कुल 2,280 सैनिकों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा.सेना में संक्रमण की शुरुआत से 250,600 से अधिक मामले सामने आए हैं इनमें सबसे अधिक 87,885 यूएस आर्मी में सामने आए हैं. headtopics.com

इन आंकड़ों में सिविल डिफेंस के कर्मचारियों की हुईं 370 मौतें शामिल नहीं है. इसके अलावा आर्मी कांट्रेक्ट पर काम करने वाले 126 और सेना पर निर्भर 33 लोगों की मौत को भी इसमें शामिल नहीं किया गया है.अमेरिका के रक्षा विभाग के सभी अंगों में कुल 604 मौतें दर्ज की गई हैं.

इमेज स्रोत,Getty Imagesक्या सैनिक वैक्सीन लगवाने से मना कर सकते हैं?अमेरिकी सैनिकों के लिए वैक्सीन लगवाना अनिवार्य है और अधिकारी अनुशासनात्मक कार्रवाई और नौकरी से निकाले जाने की चेतावनी दे चुके हैं. हालांकि स्वास्थ्य और धार्मिक कारणों के आधार पर छूट दी जा सकती है.

नवंबर की शुरुआत तो अमेरिकी सेना के अलग-अलग अंगों में गिने-चुने लोगों को ही वैक्सीन से छूट दी गई थी. हालांकि इसका सटीक डेटा जारी नहीं किया गया है.अमेरिकी सेना से जुड़े क़ानून के विशेषज्ञ और नेवी जज एडोवोकेट जनरल माइक हेज़ल कहते हैं कि वैक्सीन से छूट के मामले दुर्लभ ही होंगे.

हेज़ल कहते हैं, "धर्म के आधार पर छूट देने के लिए सेना के पास इस बात को बहत ठोस सबूत होना चाहिए कि ये मान्यता मज़बूत है और ये सिर्फ़ इसी वैक्सीन से प्रभावित नहीं हो रही है. सैनिकों को कई तरह की वैक्सीन लेनी होती है. हर सैनिक ने कई टीके लगवाए होते हैं." headtopics.com

और पढो: BBC News Hindi »

अपनी मां की वजह से साधना गुप्ता के करीब आये थे Mulayam Singh, जानें कैसे शुरू हुई ये कहानी

मुलायम सिंह यादव अपनी बीमार मां का इलाज करा रहे थे. एक नर्स मुलायम सिंह की मां मूर्ति देवी को गलत इंजेक्शन लगाने जा रही थी. वहां मौजूद एक महिला ने गलत इंजेक्शन लगाने से रोक दिया. बताते हैं कि तभी से एक नई शुरुआत मुलायम सिंह की जिंदगी में हुई. वो शुरुआत थी साधना गुप्ता से रिश्ते की, जिसे साल 2003 में जाकर मुलायम सिंह ने नाम दिया. साधना गुप्ता को अपनी पत्नी का दर्जा दिया. बात 1980 के दशक की है. यूपी के औरैया जिले के बिधूना के रहने वाले कमलापति की 23 साल की बेटी साधना नर्सिंग की ट्रेनिंग कर रही थी. लेकिन वो राजनीति में कुछ करना चाहती थी. यही ललक इस लड़की को राजनीतिक कार्यक्रमों में लेकर चली गई और वहीं पर बताया जाता है मुलायम सिंह यादव ने पहली बार साधना गुप्ता को देखा. देखें लखनऊ की लड़ाई.

New world order is coming soon JusticeForRailwayStudents JusticeForRailwayStudents JusticeForRailwayStudents No jumalebaazi, बीके हुए मीडिया वालों तुम्हारी मरी हुई आत्मा को शांति PMOIndia ravishndtv AshwiniVaishnaw ndtvindia

बोलेरो नियो ने अपनी जड़ों का अहसास कराया: गुरमीत चौधरीबोलेरो नियो,महिंद्रा के दूसरे मॉडल्स की तरह दमदार है और कठिन व खराब सड़कों पर भी यात्रा को आसान बना देती है। महिंद्रा बोलेरो नियो को नदी की ओर घुमाते गुरमीत चौधरी की आंखें चमक उठीं। यह पल एक्टर गुरमीत चौधरी के लिए घर वापसी जैसा रहा, क्योंकि उन्हें इस यात्रा के जरिए एक बार फिर अपनी जड़ों से जुड़ने का मौका मिला।

उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य बोले-मथुरा की तैयारी, छिड़ी बहस - BBC News हिंदीअयोध्या में बोले, सीएम योगी आदित्यनाथ- उपासना विधि बदलने से पूर्वज नहीं बदल जाते. पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा-नया मंत्र नहीं आएगा काम. ये केसे धर्म के लोग हैं कुत्ते बस इंसानों को मरवाने पर तुले हैं मंदिर ही लोगो की भूख खत्म करेगा ऐसा बोलने वाले और सोचने वाले बहुत बड़े बेवकूफ। Sir ab nyay 💯 sahi ho Raha hai sir 💯👍

बोलेरो नियो ने अपनी जड़ों का अहसास कराया: गुरमीत चौधरीबोलेरो नियो,महिंद्रा के दूसरे मॉडल्स की तरह दमदार है और कठिन व खराब सड़कों पर भी यात्रा को आसान बना देती है। महिंद्रा बोलेरो नियो को नदी की ओर घुमाते गुरमीत चौधरी की आंखें चमक उठीं। यह पल एक्टर गुरमीत चौधरी के लिए घर वापसी जैसा रहा, क्योंकि उन्हें इस यात्रा के जरिए एक बार फिर अपनी जड़ों से जुड़ने का मौका मिला।

- YouTubeAuf YouTube findest du die angesagtesten Videos und Tracks. Außerdem kannst du eigene Inhalte hochladen und mit Freunden oder gleich der ganzen Welt teilen.