Covid 19, Nitiaayog, Vkpaul, कोविड19, नीतिआयोग, वीकेपॉल

Covid 19, Nitiaayog

कोविड-19 को लेकर सावधान रहें, अगले तीन महीने काफी महत्वपूर्ण हैं: वीके पॉल

कोविड-19 को लेकर सावधान रहें, अगले तीन महीने काफी महत्वपूर्ण हैं: वीके पॉल #Covid19 #NitiAayog #VKPaul #कोविड19 #नीतिआयोग #वीकेपॉल

24-07-2021 19:15:00

कोविड-19 को लेकर सावधान रहें, अगले तीन महीने काफी महत्वपूर्ण हैं: वीके पॉल Covid19 NitiAayog VKPaul कोविड19 नीतिआयोग वीकेपॉल

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के बैठक में नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने दिल्ली सरकार से कहा है कि अनलॉक करने की गतिविधियों से कोविड मामलों में बढ़ोतरी हो सकती है. हालांकि फिलहाल संक्रमण दर सबसे कम है. वहीं, आईसीएमआर के डॉ. समीरन पांडा ने कहा कि कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर के प्रभाव को कम करने के लिए टीकाकरण के प्रयास तेज़ किए जाने चाहिए.

नई दिल्ली:नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने दिल्ली सरकार से कहा है कि सावधान रहें, क्योंकि अगले तीन महीने काफी महत्वपूर्ण हैं और गतिविधियों को अनलॉक करने से कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी हो सकती है.दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की नौ जुलाई को हुई बैठक में उन्होंने सुझाव दिए कि राजधानी में किसी भी तरह की यात्रा पाबंदियां लगाने से पहले महानगर की सरकार केंद्र से संपर्क करे.

बांग्लादेश हिंसा: जिस देश में अल्पसंख्यक सुरक्षित नहीं, वह सभ्य कैसे कहला सकता है? दिल्ली दंगा: आरोपी को ‘अनावश्यक रूप से प्रताड़ित’ करने पर पुलिस पर जुर्माना टी-20 वर्ल्ड कप: टीम इंडिया पाक के खिलाफ नहीं खेली तो ICC कर सकता है भारत को बैन; साथ ही भरना होगा भारी जुर्माना

डॉ. पॉल ने कहा, ‘अनलॉक करने की गतिविधियों से मामलों में बढ़ोतरी हो सकती है. हालांकि फिलहाल संक्रमण दर सबसे कम है.’20 जुलाई को बैठक का ब्यौरा सार्वजनिक किया गया. नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) ने कहा, ‘अगले तीन महीने महत्वपूर्ण हैं, हमें सावधान रहने की जरूरत है.’

मुख्य सचिव विजय देव ने कोरोना वायरस के वैरिएंट डेल्टा प्लस की 12 राज्यों में मौजूदगी की बात कही और पूर्वोत्तर भारत में ज्यादा संक्रमण दर का जिक्र किया.उन्होंने कहा कि दिल्ली ने पहले कुछ पाबंदियां लगाई थीं जैसे आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों के लिए निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट दिखाना आवश्यक किया गया था. headtopics.com

पॉल ने सुझाव दिया, ‘दिल्ली से जुड़ी अंतरराज्यीय यात्रा पर किसी भी तरह की पाबंदी लगाने से पहले भारत सरकार की सलाह लेना चाहिए, क्योंकि यह देश की राजधानी है.’दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक की अध्यक्षता करने वाले उपराज्यपाल अनिल बैजल ने सुझाव दिया कि निगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट मांगने के बजाय टीकाकरण प्रमाण पत्र को मानक बनाया जाना चाहिए, क्योंकि इससे टीकाकरण को बढ़ावा भी मिलेगा.

राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 प्रबंधन की नीतियां दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण बनाता है.मुख्य सचिव देव ने बैठक में निजी सेक्टर के पास बिना इस्तेमाल के टीकों का भंडार पड़े होने का मुद्दा उठाया.पॉल ने सुझाव दिए कि दिल्ली प्रशासन इस तरह के टीका भंडार को खरीदने सहित विकल्पों की तलाश कर सकता है और समाज के खास वर्ग के जल्द टीकाकरण पर ध्यान दे सकता है.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद् (आईसीएमआर) के डॉ. समीरन पांडा ने दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण से कहा कि कोविड-19 की तीसरी लहर भी दूसरी लहर जितनी घातक होने की संभावना नहीं है.समाचार एजेंसीपीटीआईके मुताबिक, पांडा ने कहा कि दूसरी लहर के दौरान विभिन्न राज्यों को विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ा. अनिश्चितताएं थीं और कुछ राज्यों ने दूसरी लहर के चरम के करीब और कुछ ने प्रारंभिक चरण में लॉकडाउन उपायों की शुरुआत की.

डॉ. पांडा ने सुझाव दिया कि संभावित तीसरी लहर के प्रभाव को कम करने के लिए टीकाकरण के प्रयास तेज किए जाने चाहिए.गौरतलब है कि दिल्ली में महामारी की दूसरी लहर ने शहर भर के अस्पतालों में कथित तौर पर ऑक्सीजन की कमी के साथ बड़ी संख्या में लोगों की जान ले ली. 20 अप्रैल को दिल्ली में 28,395 मामले दर्ज किए थे, जो महामारी की शुरुआत के बाद से शहर में सबसे अधिक थे. headtopics.com

यूपी विधानसभा चुनाव में 40 प्रतिशत टिकट महिलाओं को देगी कांग्रेस, प्रियंका गांधी वाड्रा की बड़ी घोषणा गृह मंत्री अमित शाह ने हरी झंडी दिखाकर की 'मोदी वैन' की शुरुआत, जानें क्या हैं इसकी खूबियां योगी आदित्यानाथ ने नितिन अग्रवाल के बहाने दिखाई ताक़त ? - BBC News हिंदी

बीते 22 अप्रैल को संक्रमण का पॉजिटिविटी रेट 36.2 फीसदी था, जो अब तक का सबसे अधिक था. 3 मई को सबसे ज्यादा 448 मौतें हुई थीं.(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ) और पढो: द वायर हिंदी »

वारदात: अब जेल में ही कटेगी Ram Rahim की सारी जिंदगी, तीसरी बार उम्र कैद

25 अगस्त 2017, दो साध्वियों से यौन शोषण में राम रहीम को पहली उम्र क़ैद. 17 जनवरी 2019, पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के क़त्ल में राम रहीम को दूसरी उम्र क़ैद. और अब 18 अक्टूबर 2021, मैनेजर रंजीत सिंह के मर्डर में राम रहीम को तीसरी उम्र क़ैद. बीस साल वाली पहली उम्र क़ैद को छोड़ दें, तो बाक़ी उम्र क़ैद उम्र भर की है. 60 से ऊपर के हो चुके गुरमीत राम रहीम की बची कुची उम्र क़ायदे से अब जेल की चारदिवारी के अंदर ही गुज़रेगी. राम रहीम की सज़ाओं की फेहरिसत में नई फेहरिस्त सोमवार को जुड़ी, पंचकूला सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने डेरा सच्चा सौदा के पूर्व मैनेजर रंजीत सिंह के क़त्ल के इल्ज़ाम में राम रहीम को उम्र कैद की सज़ा दी है. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

द लॉयर यह तो सरकार और आपको देखना है, जनता प्रोटोकॉल का पालन करती ही है. Since last March everyone is cautious inspite of sometimes confusing/ contradictory dictates are given by government and other agencies तो सरकारें सब खोल क्यों रहीं हैं..🙄🤔🤔

Corona: कोविड-19 के इलाज में बेअसर एजिथ्रोमाइसिन, घातक साइड इफेक्ट की ओर एक्सपर्ट का इशाराकोरोना मरीजों दी जाने वाली ये एंटीबायोटिक दवा अब इस जानलेवा संक्रमण के खिलाफ कारगर नहीं रह गई है. एक नई स्टडी के मुताबिक, यह दवा कोरोना मरीजों के इलाज की बजाय किसी प्लेसिबो की तरह काम करती है.

कोविड 19: कोरोना वायरस की चपेट में आईं जेनिफर विंगेट, तस्वीर साझा कर दिया हेल्थ अपडेटजानी-मानी टीवी एक्ट्रेस जेनिफर विंगेट कोरोना संक्रमित पाई गई हैं। इस बात की जानकारी अभिनेत्री ने खुद अपने सोशल मीडिया jenwinget तस्वीरों से तो लग रहा वैक्सीन लगवा कर आई है

कोविड-19 की दूसरी लहर में 645 बच्चों ने अपने अभिभावक खोए: केंद्र सरकारमहिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि महामारी की दूसरी लहर में सबसे अधिक 158 बच्चे उत्तर प्रदेश में अनाथ हुए हैं. इसके बाद आंध्र प्रदेश में 119, महाराष्ट्र में 83, मध्य प्रदेश 73 और गुजरात में 45 बच्चों ने अपने माता-पिता या अभिभावकों को खोया है. क्या यह सच्चा फिगर लगता है? क्यूँ की अकसर सरकारे सच नहीं बताती है। भरोसे की कमी है ना?

कोविड-19 के प्रोटोकॉल को लेकर बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद भागलपुर दौरे के दौरान बेपरवाह दिखेलोगों को कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन करने की नसीहत देने वाली बिहार सरकार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद भागलपुर दौरे में कहीं मास्क पहने नजर नहीं आए।

टोक्यो ओलंपिक में कोरोना संक्रमण के मामले अब 100 के पार, 19 नए मामलेटोक्यो ओलंपिक में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़कर 100 से अधिक हो गए. आयोजकों ने शुक्रवार को 19 नए मामले सामने आने की घोषणा की.

'हमारे पास इसका संतोषजनक उत्तर कभी नहीं होगा' : कोविड मौतों के आंकड़ों पर बोले अरविंद सुब्रमण्यमएक नए अध्ययन के मुताबिक कोरोना वायरस के कारण देश में करीब 50 लाख मौतें हुई हैं. भारत में कोरोना से लाखों ऐसी मौतें हुई हैं जो रिकार्ड में दर्ज नहीं हुईं. इस मुद्दे पर पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम (Arvind Subramanian) ने NDTV से बात की. अरविंद सुब्रमण्यम ने कहा कि हमें बहुत स्पष्ट होने की आवश्यकता है, हमारे पास इसका संतोषजनक उत्तर कभी नहीं होगा. स्वास्थ्य सूचना प्रणाली अच्छी नहीं है, यह हमारा सबसे अच्छा अनुमान है- यह थोड़ा कम हो सकता है, यह थोड़ा अधिक हो सकता है. इतना अधिक सीरो प्रसार, इतनी बड़ी आबादी, यह (मौतों की संख्या) वह है जिसकी हम उम्मीद कर रहे थे. हम भारत में मौतों को उचित रूप से नहीं माप सकते. आपसे कोई उम्मीद भी नही कर शकता. Little Correction: हमे संतोष कभी नहीं होगा कोविड मौत का आंकड़ा सही सही पता चल जायेगा तो इससे समाज देस और व्यक्ति विषेस का क्या फायदा होगा जवाब है कुछ नही । हा ये सनसनी फैला कर तुमलोग अपना उल्लू सीधा कर सकते हो ।