कोविड-19 के सैंपल टेस्ट के लिए अब भारत को नहीं रहना पड़ेगा चीन पर निर्भर

कोरोना वायरस से संघर्ष में तेज़ी से आत्म निर्भरता की ओर बढ़ते भारत के क़दम.

23-05-2020 18:46:00

कोरोना वायरस से संघर्ष में तेज़ी से आत्म निर्भरता की ओर बढ़ते भारत के क़दम.

कोरोना वायरस से संघर्ष में तेज़ी से आत्म निर्भरता की ओर बढ़ते भारत के क़दम.

आपके सवालकोरोना वायरस क्या है?लीड्स के कैटलिन सेसबसे ज्यादा पूछे जाने वालेबीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमकोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जिसका पता दिसंबर 2019 में चीन में चला. इसका संक्षिप्त नाम कोविड-19 हैसैकड़ों तरह के कोरोना वायरस होते हैं. इनमें से ज्यादातर सुअरों, ऊंटों, चमगादड़ों और बिल्लियों समेत अन्य जानवरों में पाए जाते हैं. लेकिन कोविड-19 जैसे कम ही वायरस हैं जो मनुष्यों को प्रभावित करते हैं

News18 इंडिया LIVE TV - हिंदी न्यूज़ लाइव टीवी | Hindi News Live Watch Live TV Online on Hindi News Channel News18 India. गुजरात हाईकोर्ट की बेंच बदली तो रूपाणी सरकार को लेकर बदल गया नजरिया पुलिस की गोली से मरे 7000 से अधिक अश्वेत, अमेरिका के इन तीन प्रांतों में सबसे खराब स्थिति

कुछ कोरोना वायरस मामूली से हल्की बीमारियां पैदा करते हैं. इनमें सामान्य जुकाम शामिल है. कोविड-19 उन वायरसों में शामिल है जिनकी वजह से निमोनिया जैसी ज्यादा गंभीर बीमारियां पैदा होती हैं.ज्यादातर संक्रमित लोगों में बुखार, हाथों-पैरों में दर्द और कफ़ जैसे हल्के लक्षण दिखाई देते हैं. ये लोग बिना किसी खास इलाज के ठीक हो जाते हैं.

लेकिन, कुछ उम्रदराज़ लोगों और पहले से ह्दय रोग, डायबिटीज़ या कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ रहे लोगों में इससे गंभीर रूप से बीमार होने का ख़तरा रहता है.एक बार आप कोरोना से उबर गए तो क्या आपको फिर से यह नहीं हो सकता?बाइसेस्टर से डेनिस मिशेलसबसे ज्यादा पूछे गए सवाल

बाीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमजब लोग एक संक्रमण से उबर जाते हैं तो उनके शरीर में इस बात की समझ पैदा हो जाती है कि अगर उन्हें यह दोबारा हुआ तो इससे कैसे लड़ाई लड़नी है.यह इम्युनिटी हमेशा नहीं रहती है या पूरी तरह से प्रभावी नहीं होती है. बाद में इसमें कमी आ सकती है.

ऐसा माना जा रहा है कि अगर आप एक बार कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके हैं तो आपकी इम्युनिटी बढ़ जाएगी. हालांकि, यह नहीं पता कि यह इम्युनिटी कब तक चलेगी.कोरोना वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड क्या है?जिलियन गिब्समिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरवैज्ञानिकों का कहना है कि औसतन पांच दिनों में लक्षण दिखाई देने लगते हैं. लेकिन, कुछ लोगों में इससे पहले भी लक्षण दिख सकते हैं.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि इसका इनक्यूबेशन पीरियड 14 दिन तक का हो सकता है. लेकिन कुछ शोधार्थियों का कहना है कि यह 24 दिन तक जा सकता है.इनक्यूबेशन पीरियड को जानना और समझना बेहद जरूरी है. इससे डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को वायरस को फैलने से रोकने के लिए कारगर तरीके लाने में मदद मिलती है.

क्या कोरोना वायरस फ़्लू से ज्यादा संक्रमणकारी है?सिडनी से मेरी फिट्ज़पैट्रिकमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरदोनों वायरस बेहद संक्रामक हैं.ऐसा माना जाता है कि कोरोना वायरस से पीड़ित एक शख्स औसतन दो या तीन और लोगों को संक्रमित करता है. जबकि फ़्लू वाला व्यक्ति एक और शख्स को इससे संक्रमित करता है.

लॉकडाउन: राम माधव के अनुसार 90 फ़ीसदी प्रवासी मज़दूर अपने काम की जगह पर टिके हैं वायरल हुआ था मृत मां को जगाते हुए बच्चे का दर्दनाक वीड‍ियो, शाहरुख खान ने की मदद मोदी सरकार के ऐलान पर कांग्रेस का निशाना, कहा-इससे कर्ज भी नहीं चुका पाएगा किसान

फ़्लू और कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए कुछ आसान कदम उठाए जा सकते हैं.बार-बार अपने हाथ साबुन और पानी से धोएंजब तक आपके हाथ साफ न हों अपने चेहरे को छूने से बचेंखांसते और छींकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करें और उसे तुरंत सीधे डस्टबिन में डाल दें.आप कितने दिनों से बीमार हैं?

मेडस्टोन से नीताबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमहर पांच में से चार लोगों में कोविड-19 फ़्लू की तरह की एक मामूली बीमारी होती है.इसके लक्षणों में बुख़ार और सूखी खांसी शामिल है. आप कुछ दिनों से बीमार होते हैं, लेकिन लक्षण दिखने के हफ्ते भर में आप ठीक हो सकते हैं.अगर वायरस फ़ेफ़ड़ों में ठीक से बैठ गया तो यह सांस लेने में दिक्कत और निमोनिया पैदा कर सकता है. हर सात में से एक शख्स को अस्पताल में इलाज की जरूरत पड़ सकती है.

End of कोरोना वायरस के बारे में सब कुछमेरी स्वास्थ्य स्थितियांआपके सवालअस्थमा वाले मरीजों के लिए कोरोना वायरस कितना ख़तरनाक है?फ़ल्किर्क से लेस्ले-एनमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरअस्थमा यूके की सलाह है कि आप अपना रोज़ाना का इनहेलर लेते रहें. इससे कोरोना वायरस समेत किसी भी रेस्पिरेटरी वायरस के चलते होने वाले अस्थमा अटैक से आपको बचने में मदद मिलेगी.

अगर आपको अपने अस्थमा के बढ़ने का डर है तो अपने साथ रिलीवर इनहेलर रखें. अगर आपका अस्थमा बिगड़ता है तो आपको कोरोना वायरस होने का ख़तरा है.क्या ऐसे विकलांग लोग जिन्हें दूसरी कोई बीमारी नहीं है, उन्हें कोरोना वायरस होने का डर है?स्टॉकपोर्ट से अबीगेल आयरलैंड

बीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमह्दय और फ़ेफ़ड़ों की बीमारी या डायबिटीज जैसी पहले से मौजूद बीमारियों से जूझ रहे लोग और उम्रदराज़ लोगों में कोरोना वायरस ज्यादा गंभीर हो सकता है.ऐसे विकलांग लोग जो कि किसी दूसरी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं और जिनको कोई रेस्पिरेटरी दिक्कत नहीं है, उनके कोरोना वायरस से कोई अतिरिक्त ख़तरा हो, इसके कोई प्रमाण नहीं मिले हैं.

जिन्हें निमोनिया रह चुका है क्या उनमें कोरोना वायरस के हल्के लक्षण दिखाई देते हैं?कनाडा के मोंट्रियल से मार्जेबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमकम संख्या में कोविड-19 निमोनिया बन सकता है. ऐसा उन लोगों के साथ ज्यादा होता है जिन्हें पहले से फ़ेफ़ड़ों की बीमारी हो.लेकिन, चूंकि यह एक नया वायरस है, किसी में भी इसकी इम्युनिटी नहीं है. चाहे उन्हें पहले निमोनिया हो या सार्स जैसा दूसरा कोरोना वायरस रह चुका हो.

यूपी: मायावती बीजेपी पर नरम-कांग्रेस पर गरम, क्या है BSP-BJP के बीच सियासी केमिस्ट्री? सीएम केजरीवाल पर मनोज तिवारी का हमला, बोले- दूसरे राज ठाकरे बन रहे सैलरी देने के लिए भी पैसे नहीं, AAP प्रवक्ता ने बताया- क्यों खोला लॉकडाउन

End of मेरी स्वास्थ्य स्थितियांअपने आप को और दूसरों को बचानाआपके सवालकोरोना वायरस से लड़ने के लिए सरकारें इतने कड़े कदम क्यों उठा रही हैं जबकि फ़्लू इससे कहीं ज्यादा घातक जान पड़ता है?हार्लो से लोरैन स्मिथजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताशहरों को क्वारंटीन करना और लोगों को घरों पर ही रहने के लिए बोलना सख्त कदम लग सकते हैं, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो वायरस पूरी रफ्तार से फैल जाएगा.

फ़्लू की तरह इस नए वायरस की कोई वैक्सीन नहीं है. इस वजह से उम्रदराज़ लोगों और पहले से बीमारियों के शिकार लोगों के लिए यह ज्यादा बड़ा ख़तरा हो सकता है.क्या खुद को और दूसरों को वायरस से बचाने के लिए मुझे मास्क पहनना चाहिए?मैनचेस्टर से एन हार्डमैनबीबीसी न्यूज़

हेल्थ टीमपूरी दुनिया में सरकारें मास्क पहनने की सलाह में लगातार संशोधन कर रही हैं. लेकिन, डब्ल्यूएचओ ऐसे लोगों को मास्क पहनने की सलाह दे रहा है जिन्हें कोरोना वायरस के लक्षण (लगातार तेज तापमान, कफ़ या छींकें आना) दिख रहे हैं या जो कोविड-19 के कनफ़र्म या संदिग्ध लोगों की देखभाल कर रहे हैं.

मास्क से आप खुद को और दूसरों को संक्रमण से बचाते हैं, लेकिन ऐसा तभी होगा जब इन्हें सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए और इन्हें अपने हाथ बार-बार धोने और घर के बाहर कम से कम निकलने जैसे अन्य उपायों के साथ इस्तेमाल किया जाए.फ़ेस मास्क पहनने की सलाह को लेकर अलग-अलग चिंताएं हैं. कुछ देश यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उनके यहां स्वास्थकर्मियों के लिए इनकी कमी न पड़ जाए, जबकि दूसरे देशों की चिंता यह है कि मास्क पहने से लोगों में अपने सुरक्षित होने की झूठी तसल्ली न पैदा हो जाए. अगर आप मास्क पहन रहे हैं तो आपके अपने चेहरे को छूने के आसार भी बढ़ जाते हैं.

यह सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने इलाके में अनिवार्य नियमों से वाकिफ़ हों. जैसे कि कुछ जगहों पर अगर आप घर से बाहर जाे रहे हैं तो आपको मास्क पहनना जरूरी है. भारत, अर्जेंटीना, चीन, इटली और मोरक्को जैसे देशों के कई हिस्सों में यह अनिवार्य है.अगर मैं ऐसे शख्स के साथ रह रहा हूं जो सेल्फ-आइसोलेशन में है तो मुझे क्या करना चाहिए?

लंदन से ग्राहम राइटबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमअगर आप किसी ऐसे शख्स के साथ रह रहे हैं जो कि सेल्फ-आइसोलेशन में है तो आपको उससे न्यूनतम संपर्क रखना चाहिए और अगर मुमकिन हो तो एक कमरे में साथ न रहें.सेल्फ-आइसोलेशन में रह रहे शख्स को एक हवादार कमरे में रहना चाहिए जिसमें एक खिड़की हो जिसे खोला जा सके. ऐसे शख्स को घर के दूसरे लोगों से दूर रहना चाहिए.

End of अपने आप को और दूसरों को बचानामैं और मेरा परिवारआपके सवालमैं पांच महीने की गर्भवती महिला हूं. अगर मैं संक्रमित हो जाती हूं तो मेरे बच्चे पर इसका क्या असर होगा?बीबीसी वेबसाइट के एक पाठक का सवालजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददातागर्भवती महिलाओं पर कोविड-19 के असर को समझने के लिए वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं, लेकिन अभी बारे में बेहद सीमित जानकारी मौजूद है.

यह नहीं पता कि वायरस से संक्रमित कोई गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी या डिलीवरी के दौरान इसे अपने भ्रूण या बच्चे को पास कर सकती है. लेकिन अभी तक यह वायरस एमनियोटिक फ्लूइड या ब्रेस्टमिल्क में नहीं पाया गया है.गर्भवती महिलाओंं के बारे में अभी ऐसा कोई सुबूत नहीं है कि वे आम लोगों के मुकाबले गंभीर रूप से बीमार होने के ज्यादा जोखिम में हैं. हालांकि, अपने शरीर और इम्यून सिस्टम में बदलाव होने के चलते गर्भवती महिलाएं कुछ रेस्पिरेटरी इंफेक्शंस से बुरी तरह से प्रभावित हो सकती हैं.

मैं अपने पांच महीने के बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हूं. अगर मैं कोरोना से संक्रमित हो जाती हूं तो मुझे क्या करना चाहिए?मीव मैकगोल्डरिकजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताअपने ब्रेस्ट मिल्क के जरिए माएं अपने बच्चों को संक्रमण से बचाव मुहैया करा सकती हैं.अगर आपका शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज़ पैदा कर रहा है तो इन्हें ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पास किया जा सकता है.

ब्रेस्टफीड कराने वाली माओं को भी जोखिम से बचने के लिए दूसरों की तरह से ही सलाह का पालन करना चाहिए. अपने चेहरे को छींकते या खांसते वक्त ढक लें. इस्तेमाल किए गए टिश्यू को फेंक दें और हाथों को बार-बार धोएं. अपनी आंखों, नाक या चेहरे को बिना धोए हाथों से न छुएं.

बच्चों के लिए क्या जोखिम है?लंदन से लुइसबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमचीन और दूसरे देशों के आंकड़ों के मुताबिक, आमतौर पर बच्चे कोरोना वायरस से अपेक्षाकृत अप्रभावित दिखे हैं.ऐसा शायद इस वजह है क्योंकि वे संक्रमण से लड़ने की ताकत रखते हैं या उनमें कोई लक्षण नहीं दिखते हैं या उनमें सर्दी जैसे मामूली लक्षण दिखते हैं.

हालांकि, पहले से अस्थमा जैसी फ़ेफ़ड़ों की बीमारी से जूझ रहे बच्चों को ज्यादा सतर्क रहना चाहिए. और पढो: BBC News Hindi »

Sirf bolna se nahi hota hai ye sab kuch kaam bhi karna padta hai, agar kuhd par nhirbhar hone ki soche hote to sabse paha Mc Donald jaisa restaurant band karwate apple samsung band karwate lakin ye ulta aur kholne ki baaten karta hain Bbc aur congressi k tabiyat jo dekhte huye iska manufacturing v large scale pe kiya gaya hai

भारत जब मन बनाया तो अंग्रेज निकाल दिए। और क्या कहना-!! स्वैब iska MATLAB? आपत्तिजनक विज्ञापन देने के आरोप में सिविल डिफेंस के एक सीनियर अधिकारी को सस्पेंड कर दिया गया है। पर BBC जरूर चीन के ऊपर निर्भरसील रहेगा क्योंकि BBC अंग्रेज ओर चीन का प्रोडक्ट है इंतेज़ार करो , हिंदुस्तान क्या क्या करताहै जय हो 🇮🇳

ZeeNews KirenRijiju sudhirchaudhary IndiaFightsCorona India2ndbiggestManufacturerofPPE India2ndbiggestManufacturerofPPE India2ndbiggestManufacturerofPPE India2ndbiggestManufacturerofPPE India2ndbiggestManufacturerofPPE India2ndbiggestManufacturerofPPE Today is a very sad day, because thousands of police officers died under the political pressure of police officer Vishnu Dutt Vishnoi.

Thats too good ✌️ आत्मनिर्भर भारत 🇮🇳 Jab sharab ke bhati kholi jae jahan wahan bimari phailegi nahi to kya wahan dawa phailegi Ye BBC wale thode din se sudhar gaye ho aisa kyu lag rahaa hai..!! Wow that's great n💕💕💕🤗 यह तो बहुत गर्व की बात है भारत वर्ष के लोगोंके लिए। Major work of Modi government for last 1 year which has a mile stone in indian history मोदी है तो मुमकिन है।

Sahi khabar to aap log dete nahi.. Bus business karo aap China vaale kya tere Jeeja hain bc? जब हम टेस्ट ही नही करेंगे तो निर्भर किस पर होन्गे Have we been relaying on her since then? My goodness! आत्मनिर्भर बनेगा मेरा भारत फेंकू जी के नेतृत्व में...

नेपाल के PM बोले- भारत से फैला कोरोना चीन-इटली से ज्यादा घातक - trending clicks AajTakप्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने संसद में अपने भाषण के दौरान नेपाल में कोरोना वायरस के संक्रमण के लिए भी भारत को जिम्मेदार ठहरा दिया है. अब कुछ ज्यादा हो रहा है इसका। No words would be best to Mark this Occasion. Even if the words are joined to form a beautiful Sentence that would fall apart back in line to welcome Modi ji Make No 1 Trend HistoricOneYearOfModi2 कितना अच्छा दोस्त था कभी ये कैसी कूटनीति है

कोविड 19: प्रेस काउंसिल ने पत्रकार के खिलाफ केस को लेकर यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगी‘मीडिया ब्रेक’ वेबसाइट के संपादक आशीष अवस्थी के खिलाफ कोविड-19 महामारी के दौरान होमगार्ड के जवानों द्वारा सामना की जाने वाली समस्याओं के संबंध में एक खबर प्रकाशित करने पर उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर में केस दर्ज किया गया है.

कांग्रेस का आरोपः कोविड-19 के मरीजों से खिलवाड़ कर रही बीजेपी सरकारकांग्रेस ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि गुजरात सरकार उस कंपनी के बनाये हुए ‘‘धमन-1’’ वेंटिलेटरों को बढ़ावा देकर कोरोना वायरस रोगियों के जीवन के साथ खिलवाड़ कर रही है।

कैसा है सायन अस्पताल के कोविड ICU का हाल, देखें Exclusive रिपोर्टदुनिया का कोई देश, शहर, कोरोना के लिए तैयार नहीं था, मुंबई भी नहीं. पर हमारे डॉक्टर, कोरोना वॉरियर जिस तरह से मौजूदा हालात में काम कर रहे हैं वो सैल्यूट के लायक है. एक तो कोरोना का कहर, दूसरा मुंबई में बढ़ते कोरोना के मामलों को ख़ौफ. फिर भी मुंबई किसी योद्धा की तरह इस चैलेंज को ले रही है. अब हम आपको मुंबई के नामी-गिरामी हॉस्पिटल केईएम के अंदर का हाल दिखाएंगे. वही केईएम हॉस्पिटल जो कुछ दिन पहले एक वीडियो वायरल होने के बाद सवालों के घेरे में आ गया था. बीएमसी का ये अस्पताल मरीज़ों से भरा हुआ है, केईएम अस्पताल झुग्गी वाले इलाके के बेहद करीब है, जहां लोग प्राइवेट अस्पताल का खर्चा भी नहीं उठा सकते हैं. ऐसे में बीएमसी ने पास के नायर अस्पताल को भी कोविड अस्पताल में बदल दिया है. देखिए ये रिपोर्ट. Good work

भारत में पांच करोड़ से अधिक लोगों के पास हाथ धोने की सुविधा नहीं: रिसर्चभारत में पांच करोड़ से अधिक लोगों के पास हाथ धोने की सुविधा नहीं: रिसर्च CoronaUpdate Lockdown4 coronavirus CoronaHotSpots CoronaVirusUpdate coronaupdatesindia PMOIndia MoHFW_INDIA DrHVoffice PMOIndia MoHFW_INDIA DrHVoffice मोदी सरकार से तुम लोगो के भीतर कितनी नफरत है असंवेदनशील सरकार होती तो लॉक डाउन लगाती ही नही ट्रम्प ने लॉक doun नही लगाया क्या हाल है अमेरिका का ? देख लो.. जीवन मे विज्ञान हर जगह काम नही करता व्यवहार भी मायने रखता है । जैसे वे लोग जो जनता को नही जीत सके जनता में भरम फैला रहे है.. PMOIndia MoHFW_INDIA DrHVoffice गांव में आज भी पीली मिट्टी से हाथ धोते है जो सबसे बढ़िया उपाय है PMOIndia MoHFW_INDIA DrHVoffice आपके कहने का अर्थ यह है कि यह 5 करोड लोग सुबह शौच जाकर हाथ नहीं धोते?

अम्फान से हुए नुकसान के लिए भारत को 5 लाख यूरो की मदद देगा यूरोपियन यूनियनबाकी यूरोप न्यूज़: Amphan Cyclone ने भारत में पश्चिम बंगाल में खूब तबाही मचाई। इसे देखते हुए यूरोपियन यूनियन ने नुकसान की भरपाई में मदद के लिए भारत को 5 लाख यूरो की मदद का ऐलान किया है। eucopresident vonderleyen आप लोगों को प्रणाम

संजय राउत ने देश में कोरोना फैलने ने लिए 'नमस्ते ट्रंप' कार्यक्रम को ठहराया जिम्मेदार, कहा... e-एजेंडा: 7500 रुपये का कांग्रेसी नारा जनता चुनाव में नकार चुकी है-शाह कोरोना अपडेटः दुनिया का 7वां सबसे अधिक कोरोना प्रभावित देश बना भारत - BBC Hindi दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवालों का हो इलाज? केजरीवाल ने पब्लिक से मांगे सुझाव कर्मचारियों की सैलरी के पैसे नहीं, दिल्ली सरकार ने केंद्र से मांगे 5 हजार करोड़ रुपये चीन की चेतावनी- भारत न बने अमेरिका से जारी कोल्ड वॉर का हिस्सा केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर बोले- हमारे श्रमिक भाई थोड़े अधीर हो गए थे US में हो रहे प्रदर्शनों के बीच BJP नेता कपिल मिश्रा ने वहां के नागरिकों को दी सलाह, कही ये बात जॉर्ज फ़्लॉयड के साथ आख़िरी 30 मिनट में क्या क्या हुआ था? पापा बनने वाले हैं हार्द‍िक पंड्या, मंगेतर नताशा ने शेयर की गुड न्यूज - Entertainment AajTak खबरदार: नेपाल-भारत के बीच विवाद में चीन की भूमिका का विश्लेषण