Coronavirusindia, Coronalockdown, Coronaviruspandemic, Cautionyespanicno, कोविड-19, कोरोना वायरस, Tablighi Jamaat, Latest Coronavirus Update, Covid-19, Coronavirus News, Coronavirus Lockdown, Coronavirus India Update, Coronavirus Cases Related Tablighi Jamaat, Coronavirus, İndia Latest News

Coronavirusindia, Coronalockdown

कोरोना वायरस: तबलीगी सदस्यों का गैरजिम्मेदार रवैया जारी, इलाज करने वाले डॉक्टरों ने लगाई सुरक्षा बढ़ाने की गुहार

'कैसे करें इलाज, तबलीगी तो हम पर हैं हमलावर' #coronavirusindia #CoronaLockdown #CoronavirusPandemic #CautionYesPanicNo

03-04-2020 18:59:00

'कैसे करें इलाज, तबलीगी तो हम पर हैं हमलावर' coronavirusindia CoronaLockdown CoronavirusPandemic CautionYesPanicNo

India News: निजामुद्दीन मरकज में हुए जलसे में शामिल होने वाले तबलीगी सदस्यों को ढूंढना तो राज्यों के लिए चुनौती थी ही, अब उनका इलाज भी डॉक्टरों के लिए बड़ी चुनौती साबित हो रही है। जान को जोखिम में डालकर इलाज करने में जुटे डॉक्टर भी इनके गैरजिम्मेदार रवैये से इतने डरे हुए हैं कि सुरक्षा की गुहार लगा रहे हैं।

Chandra Pandey |03 Apr 2020, 09:18:00 PM ISTfacebookemailहाइलाइट्सनिजामुद्दीन मरकज से निकाले गए तबलीगी जमात के सदस्यों का इलाज कर रहे डॉक्टर मांग रहे सुरक्षाडॉक्टरों ने दिल्ली सरकार और दिल्ली पुलिस से अस्पतालों के अंदर-बाहर सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है

OIC में पाकिस्तान को सऊदी और UAE से भी झटका, भारत को मिला समर्थन बलबीर सिंह सीनियर का 95 की उम्र में निधन, भारत को दिलाए थे 3 ओलंपिक स्वर्ण 'पिंजरा तोड़' की लड़कियांः गिरफ़्तारी, ज़मानत और फिर पुलिस कस्टडी

डॉक्टरों का कहना है कि एक तो ये लोग सहयोग नहीं कर रहे, ऊपर से लॉ ऐंड ऑर्डर की समस्या पैदा कर रहे हैंदिल्ली में अब तक कोरोना वायरस के 384 केसों की पुष्टि हो चुकी है, अकेले मरकज से जुड़े हैं 259नई दिल्लीतबलीगी जमात के जिद्दी रवैये ने उसके ही सैकड़ों लोगों की जिंदगियां खतरे में डाल दी है। निजामुद्दीन मरकज में पिछले महीने हुए जलसे में हिस्सा लेने वाले तबलीगी सदस्य देश में

कोरोना वायरसके सबसे बड़े कैरियर के तौर पर उभरे हैं। पहले तो राज्य सरकारों के लिए उन्हें ढूंढ-ढूंढकर क्वारंटीन सेंटरों या अस्पतालों में भर्ती कराना बड़ी चुनौती साबित हुई। अब अस्पतालों में इन तबलीगी सदस्यों में से ज्यादातर अपनी शर्मनाक हरकतों से इलाज करने वाले डॉक्टरों के लिए ही खतरा बन रहे हैं।

दिल्ली में डॉक्टरों की मांग, अस्पतालों के अंदर-बाहर बढ़े सुरक्षायूपी जैसे कुछ राज्यों ने डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों के साथ बदसलूकी करने वाले तबलीगी सदस्यों के खिलाफ रासुका (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) जैसे कठोर कदम तक उठा रहे हैं, लेकिन इनका गैरजिम्मेदार रवैया रुकने का नाम नहीं ले रहा। दिल्ली के तमाम अस्पतालों के डॉक्टरों ने दिल्ली सरकार से शिकायत की है कि उनके यहां भर्ती तबलीगी जमात के सदस्य मेडिकल स्टाफ के साथ सहयोग नहीं कर रहे। सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। डॉक्टरों ने उन अस्पतालों में और उनके बाहर सुरक्षा बढ़ाने की भी मांग की है जहां मरकज से निकाले गए जमातियों को भर्ती कराया गया है।

'दिल्ली में कोरोना के 384 केस, 259 मरकज से'मरकज से लाए गए लोग इलाज में नहीं कर रहे सहयोगएक डॉक्टर ने कहा कि तबलीगी जमात के दक्षिण दिल्ली स्थित निजामुद्दीन मरकज से निकाले गए कुछ मरीज डॉक्टरों की बात नहीं मानते और दवाएं नहीं लेना चाहते। राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल के एक अन्य वरिष्ठ डॉक्टर ने दिल्ली सरकार से हाल ही में शिकायत की थी निजामुद्दीन मरकज से लाए गए लोग डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ के साथ सहयोग नहीं कर रहे।

कर्नाटक से UP तक जुमे पर बवाल, पुलिस पर बरसे पत्थरगाजियाबाद में तो नर्सों के सामने कपड़े तक उतारे थे तबलीगीपड़ोसी गाजियाबाद के जिला अस्पताल में क्वारंटीन में रखे गए तबलीगी जमात के सदस्यों द्वारा कथित रूप से नर्सों से बदसलूकी करने, उनके सामने भद्दी टिप्पणियां करने और पैंट उतारने का मामला पहले ही सामने आया है, जिसमें यूपी सरकार ने आरोपियों के खिलाफ रासुका लगाया है। बाद में इन लोगों को एक निजी शिक्षण संस्थान में बनाये गए अस्थायी आइसोलेशन वार्ड में भेज दिया गया है। कुछ गाजियाबाद स्थित एमएमजी जिला अस्पताल के क्वारंटीन वार्ड में हैं।

कोरोना: डॉक्टरों, पुलिस पर हमला करने वालों पर लगेगा NSAकोरोना वायरस के खिलाफ जंग में जहां पूरा देश एकजुट होकर खड़ा है, वहीं समाज के कुछ दुश्मन इस लड़ाई को अपनी हरकतों से नुकसान पहुंचाने में जुटे हैं। अब ऐसे लोगों के खिलाफ NSA यानी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की जा रही है।

कोरोना वायरस: राजस्थान के पास हैं ‘सबसे सस्ते कोरोना वॉरियर्स’ कोरोना वायरस: क्या भारत जुलाई में संक्रमण के मामले में कई देशों को पीछे छोड़ देगा? - BBC Hindi झूठ-फरेब का पर्दाफाश करता सत्य: श्रीराम जन्मभूमि परिसर में प्राप्त मूर्तियां सत्य का प्रत्यक्ष साक्ष्य हैं

घिनौनी हरकत करने वालों के खिलाफ लगा रासुकाउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि गाजियाबाद के अस्पताल में इस तरह की घटना में शामिल लोग 'मानवता के दुश्मन' हैं। पुलिस ने बताया कि अस्पताल में महिला कर्मियों के खिलाफ भद्दी टिप्पणियां करने और घिनौनी हरकतों के मामले में तबलीगी जमात के सदस्यों पर मामले दर्ज किए गए हैं।

कोरोना के नए केसों में 65% तबलीगी जमात सेदिल्ली में कोरोना के कुल 384 केस, अकेले मरकज से जुड़े 259बुधवार को दिल्ली सरकार ने दिल्ली पुलिस के साथ मिलकर निजामुद्दीन मरकज को खाली कराया था और वहां से 2000 से ज्यादा लोगों को बाहर निकाला गया था। अकेले दिल्ली में मरकज से जुड़े 1810 लोगों को क्वारंटीन किया गया है, जिनमें से 536 का अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को बताया कि दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 384 हो चुके हैं, जिनमें से 259 निजामुद्दीन मरकज से जुड़े हुए हैं। शुक्रवार को एक और मौत होने से दिल्ली में मौत का आंकड़ा बढ़कर 5 हो गया है। इनमें से 3 मरकज से जुड़े थे।

1- चीन: 10 दिन में अस्पतालकोरोना वायरस की शुरुआत चीन से हुई थी और चीन ने ही सबसे पहले क्वारंटीन के लिए 1500 बेड का बड़ा सा अस्पताल भी बनाया। चीन ने महज 10 दिन के अंदर ही ये अस्पताल बना लिया। दिन-रात काम कर के इस अस्पताल को बनाया गया था। बता दें कि 2003 में जब सार्स फैला था, तो मरीजों के लिए एक सप्ताह में उपचार केंद्र बनाया गया था।

गोल मशीन के नाम से मशहूर हॉकी खिलाड़ी पद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर का देहांत लद्दाख : भारत और चीन ने तैनात किए 1000 से 1200 जवान, बातचीत से भी मामला सुलझाने की कोशिश जारी N-95 मास्क पहनकर व्यायाम या दौड़ना हो सकता है घातक, रखें ये सावधानियां

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए रेलवे ने भी कमर कस ली है। ईस्‍ट-सेंट्रल रेलवे ने शुरुआत में 208 कोचों में क्वारंटीन/आइसोलेशन वॉर्ड बनाने की तैयारी की है। इस महामारी को फैलने से रोकने के लिए यात्री कोचों को चिकित्सा उपकरणों से सुसज्जित क्वारंटीन/आइसोलेशन वॉर्ड के रूप में बदल दिया जाएगा। इन्‍हें जरूरत के हिसाब से तैनात किया जाएगा। पूर्व-मध्य रेलवे द्वारा कुल 208 यात्री कोच में कुल 1664 बेड यानि प्रति कोच 8 बर्थ उपलब्ध होंगे।

जर्मनी ने तो हवाई जहाज को ही उड़ता हुआ आईसीयू बना दिया है। इसके जरिए कोरोना के मरीजों को इटली से जर्मनी के अस्पतालों में ले जाया जा रहा है। बता दें कि इस प्लेन में कुल 44 बेड हैं, जिनमें से 16 आईसीयू का काम करते हैं। इस प्लेन में करीब 25 लोगों का मेडिकल स्टाफ है।

पिछले दिनों डायमंड प्रिंसेज जहाज पर जब करीब साढ़े तीन हजार लोगों के क्वारंटीन की खबर सामने आई थी तो लोग थोड़ा हैरान हो गए थे। उसके बाद तो ऐसे कई मामले सामने आने लगे, जिसमें पानी के जहाज को ही क्वारंटीन फैसिलिटी बना दिया गया, क्योंकि उससे संक्रमण बाहर फैलने का भी खतरा है।

कोरोना वायरस की वजह से सभी स्कूल फिलहाल बंद हैं। वहीं कोरोना वायरस तेजी से बढ़ता जा रहा है। ऐसे में स्कूलों को भी क्वारंटीन की तरह इस्तेमाल करने पर विचार हो रहा है।अस्पतालों में लॉ ऐंड ऑर्डर की समस्या खड़े कर रहे मरीजइससे पहले गुरुवार को दिल्ली हेल्थ डिपार्टमेंट ने पुलिस से आधिकारिक तौर पर अस्पतालों में सुरक्षा बढ़ाने की मांग की थी, क्योंकि मरकज से लाए गए लोग और कुछ दूसरे मरीज अस्पतालों में 'कानून और व्यवस्था' की समस्या पैदा कर रहे हैं। दिल्ली के पुलिस कमिश्नर को खत लिकर हेल्थ डिपार्टमेंट ने यह गुहार लगाई है।खत में यह भी लिखा है कि गुरुवार को राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में तो मरकज से जुड़े एक मरीज ने आत्महत्या तक की कोशिश की, लेकिन उसे बचा लिया गया। इसके अलावा नरेला के क्वारंटीन वार्ड से मरकज से जुड़े 2 लोग भाग गए थे, जिन्हें बाद में पटपड़गंज से पकड़ा गया।

मोदी की 'दीया' अपील, कांग्रेस ने कहा बकवासदिल्ली के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं जमातीबुधवार को भी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान एक सीनियर डॉक्टर ने कहा था कि मरकज से लाए गए मरीज मेडिकल स्टाफ के साथ सहयोग नहीं कर रहे हैं। मरकज से निकाले गए लोगों का दिल्ली के लोकनायक हॉस्पिटल, राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल, जीटीबी अस्पताल, दीनदयाल उपाध्याय हॉस्पिटल और झज्जर के आइसोलेशन सेंटर में इलाज किया जा रहा है।

कोरोना से जंग: राज्यों को 11,092 करोड़ देगा केंद्रतुगलकाबाद में स्थानीय लोगों का आरोप, जानबूझकर छींक और थूक रहे तबलीगी सदस्यडॉक्टरों ने अस्पतालों के अलावा उन 7 क्वारंटीन सेंटरों की भी सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है, जहां मरकज से जुड़े लोग रखे गए हैं। ये क्वारंटीन सेंटर हैं- नरेला के डीडीए फ्लैट, सुल्तानपुरी के डूसिब फ्लैट, भक्करवाला और द्वारका, तुगलकाबाद रेलवे कॉलोनी, बदरपुर का गवर्नमेंट बॉयज सीनियर सेकंडरी स्कूल और दिल्ली ऐरिसोटी का होटल प्राइड प्लाजा। बुधवार को तुगलकाबाद रेलवे कॉलोनी के बाशिंदों ने भी आरोप लगाया था कि मरकज से जुड़े लोगों ने जानबूझकर खांसा, छींका और यहां तक कि सड़कों पर भी थूका। तुगलकाबाद रेलवे कॉलोनी में बनाए गए एक क्वारंटीन सेंटर में मरकज से लाए गए 167 लोगों को रखा गया है।

Web Titlecoronavirus in india tablighi members not cooperating medical staff in hospitals create law and order problem

और पढो: NBT Hindi News

TabligiJamaat ShaheenBagh RanaAyyub इस गद्दार,देश द्रोही,आतंकी कौम का पिछवाड़ा लाल करके मिर्ची ठूस दो,इलाज क्यों करते हो मरने दो सालो को।narendramodi AmitShah हिन्दुस्तान चीन से कुछ सीखो,चीन ने इस गद्दार,देश द्रोही,आतंकी कौम पर कैसे नकेल कस रखी हैं यह कौम इसी लायक हैं। जहर का सुई होगा !! send them to Army camps.

जो जमाती कोरोना फैला रहे हैं, अभद्रता कर रहे हैं, उन्हें निज़ामुद्दीन में ही बंद करके क्वारन्टाइन क्यों नहीं किया गया? उन्हें 'जन्नत मिलती और देश बच जाता। और हाँ, दिए जलाने का विरोध करने वाले क्या अंधेरा-पसंद हैं?

तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल व्यक्ति Corona पॉजिटिव, अरुणाचल में पहला मामलाईटानगर। दिल्ली के निजामुद्दीन (पश्चिम) में तबलीगी जमात के एक कार्यक्रम में शिरकत करने वाला 31 वर्षीय शख्स कोरोना वायारस (Corona virus) से संक्रमित पाया गया है। यह व्यक्ति प्रदेश के लोहित जिले में मिला है।

तबलीगी जमात 150 देशों में सक्रिय, लेकिन सऊदी अरब-ईरान में पूरी तरह बैन क्यों?दिल्ली के निजामुद्दीन में स्थित तबलीगी जमात के मरकज से दुनिया के 150 देशों से ज्यादा जमातें इस्लाम के प्रचार-प्रसार के लिए जाती हैं. लेकिन ये जानकर आपको हैरानी होगी कि सऊदी अरब जहां से इस्लाम की शुरुआत हुई, वहां और ईरान जैसे शिया मुस्लिम बहुल देशों में तबलीगी जमात पूरी तरह से बैन है. Share this msg plzz जनता की बेवकूफी की दाद देनी होगी। hemantjaiswal24

देश में कोरोना के 485 नए मामलों में 60 फीसदी से ज्यादा का तबलीगी जमात कनेक्शनIndia News: देश में गुरुवार को सामने आए 485 नए मामलों में से 60 फीसदी से ज्यादा का कनेक्शन तबलीगी जमात से मिला है। तबीलीगी जमात से लिंक वाले कुल 295 लोग गुरुवार को कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। सबसे ज्यादा कोरोना के मामलों की पुष्टि दिल्ली, महाराष्ट्र तमिलनाडु आदि राज्यों में हुई है। 100% ही लिखवादों Agenda clear क्रिया हुई सब ने देख न्यायिक प्रतिक्रिया की इंतजार में है जनता जन्माष्टमी पर संज्ञान लेने वाला कोर्ट कौन सी दीर्घकालिक छुट्टी पर चला गया इन हरकतों से जो संपूर्ण भारत को आपात स्थिति में धकेला गया है उसके लिए कौन सी सजा मुकर्रर होनी चाहिए

तबलीगी जमात के 960 विदेशी सदस्यों का वीजा कैंसिल, क्वॉरंटीन में रखे गए करीब 9000 लोगIndia News: गृह मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, 9000 तबलीगी जमात से जुड़े सदस्यों और उनके संपर्कों की पहचान की गई है और उन्हें क्वारंटीन में रखा गया है। जिन 9000 तबलीगी जमात के कार्यकर्ता और उनसे संपर्क में आए लोगों की पहचान हुई है उनमें 1306 विदेशी हैं और बाकी भारतीय हैं। Put them behind bar immediately. Introgate them, hidden agend will come out. Need little third degree. बहुत अच्छा First COVID patient from Kashmir discharged from the hospital; total positive cases now 70 Latest updates 👇 IndiaFightCorona COVID19Pandemic

कोरोना वायरस: क्या इस वीडियो में दिख रहे लोग तबलीग़ी के थे?- फ़ैक्ट चेकआरोप है कि तबलीग़ी जमात के लोगों ने पुलिस पर थूक संक्रमण फैलाने की कोशिश की. Paas jaake dekho pata chal jaayega भक्त हैं साले कर लेते हैं यक़ीन😊😊 क्या आज मोदी युग है .. है तो क्या हो रहा है देश में कुछ मुठी भर लोग पुरे देश का जीना हाराम कर रखा है , ईनपे कठोर करवाई हो

कोरोना वायरस: पिछले दो दिनों में तबलीग़ी जमात से जुड़े 647 नए मामले- ICMR - BBC Hindiआईसीएमआर ने कहा कि पिछले 24 घंटों में भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण से कुल 12 लोगों की मौत हुई है. पिछले दो दिनों में कोरोना वायरस के 647 नए मामले मिले हैं और ये तबलीग़ी जमात से जुड़े हैं. वर्षों पहले 1महान संत ने कहा था जीव जंतु पशु पक्षियों को खाने वाले भयानक बीमारियों के शिकार हो जाएंगे जीव जंतु पशु पक्षियों और मनुष्यों के रोग आपस में मिलकर भयानक महामारी को जन्म देंगें जिसका इलाज किसी के पास नहीं होगा और करोड़ों लोग मारे जाएंगे महान संतों की बातें सच होती है? हे भगवान😒 कोरोना हारेगा, विश्व जीतेगा | रामायण के एक पात्र का अनुसरण करके हम कोरोना को 100% मात दे सकते हैं। और वो पात्र हैं राम पुर न जाऊं दस चारि बरीसा 😴😴😴