Coronavirus, Rajasthan, Chest Physiotherapy, Chest Physiotherapy In Jaipur, Coronavirus Treatment

Coronavirus, Rajasthan

कोरोना मरीजों के लिए नई उम्मीद: दवाओं से नहीं निकल रहा था फेफड़ों में जमा कफ, चेस्ट फिजियोथैरेपी से कई मरीज हुए नॉर्मल; ऑक्सीजन लेवल भी नॉर्मल हुआ

कोरोना मरीजों के लिए नई उम्मीद: दवाओं से नहीं निकल रहा था फेफड़ों में जमा कफ, चेस्ट फिजियोथैरेपी से कई मरीज हुए नॉर्मल; ऑक्सीजन लेवल भी नॉर्मल हुआ #coronavirus #Rajasthan

14-05-2021 07:41:00

कोरोना मरीजों के लिए नई उम्मीद: दवाओं से नहीं निकल रहा था फेफड़ों में जमा कफ, चेस्ट फिजियोथैरेपी से कई मरीज हुए नॉर्मल; ऑक्सीजन लेवल भी नॉर्मल हुआ coronavirus Rajasthan

देशभर में कोरोना से बुरा हाल है। लगातार बढ़ते मरीजों के बीच सबसे बड़ी चिंता इस बात की है कि मरीज का इलाज आखिर कैसे हो? कोरोना की वैक्सीन आ चुकी है, लेकिन कोरोना संक्रमण के बाद इलाज को लेकर पूरी दुनिया में अलग-अलग तरह की राय है। अलग-अलग दवाइयां हैं। | Coronavirus Treatment Update; Patients Recovered After Chest Physiotherapy Started In Jaipur

Coronavirus Treatment Update; Patients Recovered After Chest Physiotherapy Started In JaipurAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐपकोरोना मरीजों के लिए नई उम्मीद:दवाओं से नहीं निकल रहा था फेफड़ों में जमा कफ, चेस्ट फिजियोथैरेपी से कई मरीज हुए नॉर्मल; ऑक्सीजन लेवल भी नॉर्मल हुआ

ट्विटर और मोदी सरकार में बढ़ा टकराव, रविशंकर प्रसाद ने पूछे कई सवाल - BBC Hindi श्री राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट द्वारा भूमि खरीद के कथित घोटाले की जांच कराए सरकार : प्रियंका गांधी Ghaziabad Loni Incident: ट्विटर इंडिया ने कहा- FIR और बुजुर्ग के पिटाई वीडियो का आकलन कर रहे हैं

जयपुरलेखक: दिनेश पालीवालकॉपी लिंकवीडियोदेशभर में कोरोना से बुरा हाल है। लगातार बढ़ते मरीजों के बीच सबसे बड़ी चिंता इस बात की है कि मरीज का इलाज आखिर कैसे हो? कोरोना की वैक्सीन आ चुकी है, लेकिन कोरोना संक्रमण के बाद इलाज को लेकर पूरी दुनिया में अलग-अलग तरह की राय है। अलग-अलग दवाइयां हैं।

इस बीच, अलग-अलग प्रदेशों में डॉक्टर अपने स्तर पर नए प्रयोग कर रहे हैं, जो कोरोना रोगियों के इलाज में मददगार भी साबित हो रहे हैं। ऐसी ही शुरुआत राजस्थान की राजधानी जयपुर में की गई है। यहां अब चेस्ट फिजियोथैरपी दी जा रही है। इस थैरेपी से बड़ी संख्या में मरीज रिकवर हो रहे हैं। headtopics.com

कोरोना संक्रमित जो मरीज ऑक्सीजन की कमी के चलते परेशान हो रहे हैं, उनके लिए चेस्ट फिजियोथैरपी कारगर साबित होती नजर आ रही है। इसके जरिए जयपुर के कई अस्पतालों में भर्ती मरीजों का न केवल सैचुरेशन (ऑक्सीजन लेवल) बढ़ा है, बल्कि मरीज के लंग्स (फेफड़ों) की रिकवरी भी तेजी से हुई है। ऐसे भी रिजल्ट सामने आए हैं कि जो मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे, इस थैरेपी से उनका ऑक्सीजन लेवल नॉर्मल हो गया।

पिछले दिनों कोरोना संक्रमितों का सैचुरेशन लेवल कुछ स्तर तक बढ़ाने के लिए डॉक्टरों ने जिस तरह प्रोनिंग करने की सलाह दी, ठीक उसी तरह चेस्ट फिजियोथैरेपी के जरिए भी मरीजों का ऑक्सीजन लेवल बढ़ाकर उसे संतुलित लेवल पर लाया जा सकता है।जयपुर के रि-लाइफ हॉस्पिटल के चीफ फिजियोथैरेपिस्ट डॉ. अवतार डोई ने बताया कि जयपुर में चेस्ट फिजियोथैरेपी को अभी दूसरे अस्पतालों में शुरू नहीं किया है, लेकिन हमने व्यक्तिगत रूप से कुछ अस्पतालों में जाकर मरीजों को ये थैरेपी दी। उन्होंने बताया कि बीते 15-20 दिन के अंदर 100 से ज्यादा मरीजों पर ये थैरेपी अपनाई है। इसके बहुत अच्छे रिजल्ट मिले हैं।

इस थैरेपी से न केवल मरीज का सैचुरेशन लेवल बढ़ा, बल्कि फेफड़ों की रिकवरी भी तेजी से हुई। इसे लेने के बाद कई मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट की भी जरूरत नहीं पड़ी। डॉ. अवतार डोई ने बताया कि ये थैरेपी केवल उन्हीं मरीजों को दी जाती है, जिनका सैचुरेशन लेवल 80 या उससे ऊपर है। इसमें हम मरीज के लंग्स में जमा स्पुटम (कफ) को ढीला करते हैं, जिससे कफ बाहर आने लगता है और मरीज की सांस लेने की कैपेसिटी बढ़ जाती है।

मरीज को ऐसे मिल जाता है आरामकोविड मरीजों के फेफड़े वायरस से डैमेज तो होते ही हैं, साथ ही कई मरीजों के फेफड़ों में टाइट स्पुटम (कफ) जमने की शिकायत भी होने लगती है। कफ जमने से फेफड़े अपनी क्षमता के मुताबिक काम नहीं करते, इसके कारण मरीज की रिकवरी भी देरी से होती है। headtopics.com

बागी MLA की अखिलेश से भेंट के मामले में BSP सुप्रीमो मायावती आगबबूला, कहा-सपा का चरित्र दलितविरोधी केरल के पत्रकार सिद्दीक कप्‍पन, साथियों पर से शांतिभंग का आशंका का केस बंद, यह है कारण.. दिल्ली में 5 हजार हेल्थ असिस्टेंट की भर्ती की जाएगी, कोरोना से निपटने के लिए सीएम केजरीवाल का ऐलान

रिकवरी की स्पीड को बढ़ाने के लिए मरीज के फेफड़ों से कफ हटाना जरूरी होता है, ताकि वह अच्छे से काम कर सकें और मरीज सांस ले सके।फेफड़ों में जमे टाइट कफ को ढीला कर बाहर निकालने के लिए डॉक्टर अलग-अलग दवाइयां देते हैं, जिसमें समय लगता है। जबकि चेस्ट थैरेपी में बिना दवाइयों के कफ को ढीला करते हैं और वह अपने आप मरीज के शरीर से बाहर निकलने लगता है।

मरीज के शरीर से जब कफ बाहर आता है तो उसे सांस लेने में आसानी होती है। संक्रमित फेफड़े भी जल्दी से ठीक होने लगते हैं।सीटी स्कैन की रिपोर्ट के आधार पर होती है थैरेपीडॉ. डोई ने बताया कि चेस्ट थैरेपी में भी तीन तरह के वॉल्यूम हैं, जो मरीज की स्थिति को देखते हुए तय किए जाते हैं। चेस्ट थैरेपी में पहले ये देखा जाता है कि फेफड़ों के किस पार्ट में ज्यादा कफ जमा है। सीधे हाथ की तरफ बने फेफड़े तीन पार्ट और उल्टे हाथ की तरफ बने फेफड़े के दो पार्ट होते हैं। इसके लिए मरीज की सीटी स्कैन रिपोर्ट देखी जाती है। इस रिपोर्ट के आधार पर अलग-अलग स्थिति में थैरेपी दी जाती है। थैरेपी में सबसे पहले मशीन से वाईब्रेशन के जरिए और उसके बाद मेन्युअली हाथों से थप्पी देते हुए टाइट कफ को ढीला किया जाता है।

कोरोना संक्रमण से उबरीं संगीता शर्मा को भी चेस्ट फिजियोथैरपी लेने के बाद काफी आराम मिल गया है।केस नं. 1 : फेफड़े होने लगे रिकवरजयपुर की संगीता शर्मा (56) 25 अप्रैल से शास्त्री नगर स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती हैं। कोरोना के कारण उनके दोनों फेफड़े काफी खराब हो गए। उनके बेटे आशुतोष शर्मा ने बताया कि पिछले एक हफ्ते से चेस्ट थैरेपी लेने के बाद फेफड़ों की स्थिति में धीरे-धीरे सुधार आने लगा है। उन्होंने बताया कि उनकी मां की एक सप्ताह पहले कोरोना रिपोर्ट भी निगेटिव आ गई, लेकिन फेफड़े डैमेज होने की वजह से हाईफ्लो ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहीं, लेकिन जब से थैरेपी शुरू की है फेफड़ों की रिकवरी होने लगी है।

मरीज सीताराम शर्मा को भी चेस्ट फिजियोथैरेपी से रिलीफ मिला है। अब ऑक्सीजन की जरूरत नहीं पड़ रही।केस नं. 2 : नहीं लेना पड़ा ऑक्सीजन सपोर्टसीताराम शर्मा दो दिन पहले कोरोना से संक्रमित हुए, जो शास्त्री नगर के एक निजी अस्पताल में भर्ती हैं। उनके बेटे पवन शर्मा ने बताया कि जब उनके पिता को यहां भर्ती किया था, तब ऑक्सीजन लेवल 88-90 के बीच रहता था और सांस लेने में भी तकलीफ होने लगी थी। डॉक्टर्स ने ऑक्सीजन सपोर्ट देने के बजाए चेस्ट फिजियोथैरेपी की सलाह दी। दो दिन से लगातार चेस्ट फिजियोथैरेपी लेने के बाद उन्हें सांस लेने की समस्या से कुछ हद तक निजात मिली है। ऑक्सीजन भी नहीं लगानी पड़ रही है। headtopics.com

और पढो: Dainik Bhaskar »

आज की पॉजिटिव खबर: 7 साल पहले 7 किसानों संग शुरू की ऑर्गेनिक खेती; अब 1200 किसानों के प्रोडक्ट की मार्केटिंग और प्रोसेसिंग से सालाना टर्नओवर 50 लाख

मध्यप्रदेश के भोपाल में रहने वालीं प्रतिभा एक किसान हैं। 41 साल की प्रतिभा पिछले 7 सालों से ऑर्गेनिक खेती करने के साथ-साथ अन्य किसानों के प्रोडक्ट को प्लेटफॉर्म दे रही हैं। भारत जैसे पुरुष प्रधान देश में प्रतिभा के लिए एक महिला किसान होना किसी चुनौती से कम नहीं था। समाज से पहले उन्हें अपने घर में ही कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। लेकिन, प्रतिभा ने न सिर्फ अपने सपने पूरे किए बल्कि 1200 से ज्यादा ... | Positive story of Pratibha Tiwari, founder of Bhumisha Organics from Bhopal\r\n7 साल पहले 7 किसानों संग शुरू की ऑर्गेनिक खेती; अब 1200 किसानों के प्रोडक्ट की मार्केटिंग और प्रोसेसिंग से सालाना टर्नओवर 50 लाख

I_am_Anil_Tyagi यह वास्तव मे बड़ा कारगर उपाय है लेकिन महामारी के दौर में फिजियोथेरेपी करने से भी लोग डर रहे हैं उम्मीद की नई किरण VERY GOOD INITIATIVE TAKEN BY DOCTORS. THANKS 🙏🙏🙏🙏

पूर्व तेज गेंदबाज RP सिंह के पिता का निधन, कोरोना वायरस से थे संक्रमितपूर्व तेज गेंदबाज आरपी सिंह के पिता का निधन हो गया है. उनके पिता शिव प्रसाद सिंह पिछले महीने कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे.

दिल्लीः दो दिन बाद फिर 13,000 से ज्यादा कोरोना के मामले, 300 मौतें, संक्रमण दर घटीराजधानी दिल्ली में दो दिन बाद फिर बुधवार को 24 घंटे में 13 हजार से ज्यादा कोरोना संक्रमित मिले हैं. हालांकि, राहत की बात ये है कि संक्रमण दर लगातार कम हो रही है. पिछले 24 घंटे में मौतों की संख्या भी घटी है. बलात्कारियों के लिए बॉर्डर पर लाइट, पानी, खाना, AC, WiFi, आदि सब व्यवस्था केजरीवाल कर देंगे। लेकिन दिल्ली के हॉस्पिटलो में बेड, वेंटिलेटर और ऑक्सीजन देना मोदी जी का काम है..

COVID-19 : त्रिपुरा में देखभाल केंद्र से भागे 25 कोरोना मरीजअगरतला। त्रिपुरा के अंबासा में एक अस्थाई कोरोनावायरस ( Coronavirus ) कोविड-19 देखभाल केंद्र से कम से कम 25 रोगी भाग गए, जिसके बाद पुलिस ने उनकी तलाश में व्यापक अभियान चलाया। हालांकि उनमें से केवल 7 लोगों को ही रेलवे पुलिस पकड़ पाई है। एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी।

Happy hypoxia: कोरोना मरीजों की खामोशी से जान ले रही ये बीमारी, जानें लक्षणहैप्पी-हाइपोक्सिया में मरीज कोई लक्षण नजर नहीं आते हैं और अचानक ऑक्सीजन लेवल बहुत कम हो जाता है. भारत में हैप्पी-हाइपोक्सिया का पहला मामला पिछले साल जुलाई में आया था लेकिन कोरोना की दूसरी लहर में इस तरह के मामले अचानक बढ़ गए हैं.

Covid-19 3rd Wave: कोरोना की तीसरी और ख़तरनाक लहर से बच्चों को कैसे बचाएं?Covid-19 3rd Wave यह लहर इस साल के अंत तक आ सकती है। इसके पीछे संभावित तर्क यह दिया जा रहा है कि अधिकांश वयस्क वैक्सीन लगवा चुके होंगे और बच्चों को वैक्सीन लगना अब भी बाकी होगा ऐसे में बच्चे इस वायरस से ज़्यादा प्रभावित हो सकते हैं। बच्चों की ही तीसरी लहर आएगी ऐसा माहौल बनाने में अमरीकी दवा कम्पनी की मदद न करें.... और यह कितनी बड़ी बिसात है आप अंदाजा लगाइये की बिडेन ने कहा है की जिसे वैक्सीन लग गयी उसे मास्क की जरूरत नहीं मतलब यह गेम सारी फार्मा कम्पनीस की ही है लाशों पर रूपये बनाना

Coronavirus Update: शहरों से निकलकर गांवों तक पहुंच रहा कोरोना संक्रमण का संकटवैश्विक संकट का एक प्रयोजन दुनिया की सभ्यताओं के परीक्षण का भी हो सकता है। कोविड से उत्पन्न स्थितियों में यह संदर्भ और भी प्रासंगिक हो चला है। इसका एक चिंताजनक पहलू यह सामने आया है कि इसके निशाने पर अब ग्रामीण इलाके भी हैं। Rural people are not aware of the consequences of Corona virus