Coronaviruspandemic, Covid 19, Coronavirus In India, Coronavirus India, कोरोना वायरस, Coronavirus Update, Jharnkhand News, Health Ministry, Rıms Of Ranchi, Nervous System, Corona Effect

Coronaviruspandemic, Covid 19

कोरोना के दिमाग पर पड़ने वाले असर गुत्थी सुलझाएगा रांची का रिम्स, शोध में चार देश होंगे शामिल

दिमाग पर कोरोना के पड़ने वाले असर गुत्थी सुलझाएगा रांची का रिम्स, शोध में चार देश होंगे शामिल #CoronavirusPandemic #covid19

29-07-2021 18:00:00

दिमाग पर कोरोना के पड़ने वाले असर गुत्थी सुलझाएगा रांची का रिम्स, शोध में चार देश होंगे शामिल CoronavirusPandemic covid19

रांची स्थित राजेंद्र इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंसेज (रिम्स) के विशेषज्ञ इस बात पर मंथन करेंगे कि कोरोना की चपेट में आने के बाद मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र से संबंधित कौन सी बीमारियां हो रही हैं। इस अंतरराष्ट्रीय शोध के लिए दुनिया के बड़े संस्थानों ने रिम्स पर भरोसा जताया है।

कोरोना वायरस हमारे तंत्रिका तंत्र (नर्वस सिस्टम) को किस तरह प्रभावित करता है, इसपर देश-दुनिया के विशेषज्ञ चिंता कर रहे हैं। कई कोरोना मरीज मस्तिष्क और न्यूरो से संबंधित बीमारियों की चपेट में भी आ रहे हैं। रांची स्थित राजेंद्र इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंसेज (रिम्स) के विशेषज्ञ अब इस बात पर मंथन करेंगे कि कोरोना की चपेट में आने के बाद लोगों को मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र से संबंधित कौन सी बीमारियां हो रही हैं। इस अंतरराष्ट्रीय शोध के लिए दुनिया के बड़े संस्थानों ने रिम्स पर भरोसा जताया है। रिम्स के साथ इस शोध में अमेरिका के अलावा यूरोप के चार देश शामिल हैं। भारत से इस शोध में शामिल एकमात्र संस्थान रिम्स है।

राजस्व में कमी की भरपाई के लिए दूसरी छमाही में 5.03 लाख करोड़ रुपये का कर्ज लेगी सरकार पाकिस्‍तान में बेरोजगारी दर सबसे उच्‍चतम स्‍तर पर, चपरासी के 1 पद के लिए 15 लाख लोगों ने किया आवेदन यूपी : CM योगी ने नवनियुक्त मंत्रियों को बांटे विभाग, जानें- किसको क्या मिला?

एनआइएच और डब्ल्यूएचओ की देखरेख में होगा शोधयह शोध अमेरिका के शोध संस्थान नेशनल इंस्टीट्यूट आफ हेल्थ (एनआइएच) और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) की देखरेख में हो रहा है। रिम्स के निदेशक डा. कामेश्वर प्रसाद बताते हैं कि न्यूयार्क विश्वविद्यालय के नेतृत्व और समन्वय में होने वाले इस अंतरराष्ट्रीय शोध के लिए रिम्स को मौका मिलना गौरव की बात है।

इस शोध में अमेरिका के न्यूयार्क विश्वविद्यालय के शोधार्थी और यूनाईटेड किंगडम (यूके), जर्मनी, स्पेन तथा इटली के चिकित्सक भी शामिल हैैं। एनआइएच ने इस शोध के लिए तीन वर्ष का समय तय किया है। एनआइएच विश्व की बड़ी शोध संस्थाओं में से एक है। इस शोध के जो भी निष्कर्ष होंगे, उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सभी जर्नल में प्रकाशित किए जाने की योजना है। headtopics.com

रिम्स के कई डाक्टर होंगे शामिलएनआइएच ने न्यूयार्क विश्वविद्यालय को इस शोध का कार्य सौंपा था। न्यूयार्क विश्वविद्यालय ने इस शोध को अंतरराष्ट्रीय शोध में बदलते हुए भारत समेत विश्व के अन्य देशों को भी इसमें शामिल किया। हाल के दिनों में रिम्स द्वारा किए गए शोध कार्य को भी देखा-परखा गया। शोध में हिस्सा ले रहे पद्मश्री डा. कामेश्वर प्रसाद पहले से ही बतौर न्यूरो कोरोना एक्सपर्ट डब्ल्यूएचओ की टीम में हैं। पूर्व में उन्होंने न्यूरो के क्षेत्र में कई विषयों पर अपना शोध प्रस्तुत किया है।

शोध में निदेशक के अलावा रिम्स के डा. अमित कुमार, डा. सुरेंद्र कुमार, डा. गणेश चौहान, डा. देवेश और डा. प्रभात कुमार सहित अन्य सहयोगी शामिल होंगे। डा. कामेश्वर प्रसाद ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शोध करने से पहले स्वास्थ्य मंत्रालय की स्क्रीनिंग कमेटी से अनुमति लेने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है।

उत्तर-पूर्वी भारत पर केंद्रित है शोधयह शोध उत्तर-पूर्वी भारत पर ही केंद्रित होगा। झारखंड में आदिवासी-जनजातीय आबादी की बहुतायत के कारण यह शोध ऐसे मरीजों पर भी हो सकेगा, जो जनजातीय समूह से आते हैं। इसे देखते हुए शोध के लिए रिम्स का चुनाव किया गया। शोध में यह भी पता चल सकेगा कि मजबूत इम्यून सिस्टम वाले जनजातीय समुदाय के लोगों पर कोरोना ने कैसा असर डाला।

ऐसे होगा शोध कार्यतीन वर्ष की अवधि वाले शोध कार्य में रिम्स में आने वाले व भर्ती हुए पोस्ट कोरोना मरीजों की पूरी जानकारी आनलाइन डाटा बेस में रखी जाएगी। देखा जाएगा कि कोरोना निगेटिव होने के बाद उनकी याद्दाश्त कैसी है, वह किस तरह की चीजों को भूल जाते हैं। उनमें बीपी व चक्कर आने की समस्या कैसी है। headtopics.com

अलवर में समुदाय विशेष के दो लोगों ने की दलित युवक की हत्या, भाजपा ने कानून-व्यवस्था पर उठाए सवाल नए राजपथ पर होगी अगले साल गंणतंत्र दिवस की परेड, तैयारियां जोरों पर भारत बंद की वजह से 50 ट्रेनों की सर्विस पर असर पड़ा: रेलवे - BBC Hindi

साथ ही, शरीर में कंपन की क्या स्थिति है। जो भी जांच कराई जाएगी। उसका भी डाटा सहेजा जाएगा। पूरा शोध कार्य इस डाटाबेस पर ही आधारित होगा। शोध के लिए रिम्स में पोस्ट कोरोना क्लिनिक बनाया जा चुका है। इसमें आए नतीजों को देखा जाएगा कि जनजातीय और गैर जनजातीय समूहों के विभिन्न आयुवर्ग के मरीजों को किस तरह की स्वास्थ्य समस्याएं पेश आ रही हैं।

रिम्स के लिए यह शोध बड़ी उपलब्धि है। इस शोध कार्य में रिम्स की न्यूरोलाजी की टीम के साथ-साथ अन्य विभागों के डाक्टरों को भी मौका दिया गया है।डा. कामेश्वर प्रसाद, निदेशक, रिम्स, रांची।दुनिया के बड़े संस्थानों के साथ समन्वय बनाकर काम करने का अनुभव खास है। इस शोध से निकले निष्कर्ष आने वाले दिनों में कोरोना मरीजों के इलाज में बहुत सहायक सिद्ध हो सकते हैं।

डा. अमित कुमार, न्यूरो विशेषज्ञ, रिम्स, रांची। और पढो: Dainik jagran »

Mahant Narendra Giri की रहस्यमयी मौत- सुसाइड या मर्डर? देखें दस्तक

जब राष्ट्रीय अखाड़ा परिषद के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि की मृत्यु की खबर आई और इस खबर के साथ ही सवाल ने जन्म लिया कि सुसाइड किया या हत्या हुई? क्योंकि यूपी पुलिस जब महंत नरेंद्र गिरि की मौत को शुरुआती जांच में सुसाइड कह रही है. तब सुसाइड नोट में जिस शिष्य का नाम है वो साजिश के तहत हत्या बता रहा है. अलग-अलग आरोप लगाए जा रहे हैं. जो नाम चल रहे हैं वो हैं आनंद गिरि, अजय सिंह, मनीष शुक्ला, अभिषेक मिश्रा और इसके अलावा दो और नाम जोड़े जा रहे हैं. सबसे बड़ा नाम आरोपी के तौर पर शिष्य आनंद गिरि का है जिसे उत्तराखंड में हिरासत में ले लिया गया है. देखें 10 तक का ये एपिसोड.

कोरोना महामारी के दौरान अप्रैल-दिसंबर 2020 के बीच पर्यटन क्षेत्र में 2.15 करोड़ नौकरियां गईंपर्यटन मंत्री जी. किशन रेड्डी ने संसद में बताया कि पिछले साल लॉकडाउन लागू होने के बाद पर्यटन क्षेत्र में बड़ी संख्या में नौकरियां गईं, जिसमें से पहली तिमाही (अप्रैल-जून) के दौरान 1.45 करोड़ नौकरियां, दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में 52 लाख नौकरियां और तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) में 18 लाख नौकरियां जाने की संभावना है. सभी क्षेत्र का हाल एहि है, बस आँकड़े नही आते। AccheDin Actual figure of people who lost their job in tourism sector much more than this. Govt is not doing anything for this sector. I would like to appeal shripadynaik tourismgoi to take note of this. CoronaPandemic Jobloss Tourismsector

'खेलों के महाकुंभ' पर कोरोना का साया: डरा रहे आंकड़े, टोक्यो में आज रिकॉर्ड 3865 मामले'खेलों के महाकुंभ' पर कोरोना का साया: डरा रहे आंकड़े, टोक्यो में आज रिकॉर्ड 3865 मामले Tokyo2020 Olympics Covid19 Coronavirus TokyoOlympics Tokyo2020

हवाई यात्र‍ियों को बड़ी राहत, कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने पर आरटीपीसीआर जरूरी नहींमुंबई व कोलकाता जाने वाले हवाई यात्री कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने वाले लोग बिना आरटी-पीसीआर के ही सफर कर सकेंगे। उन्हें केवल वैक्सीन लगवाने का प्रमाणपत्र अपने साथ रखना होगा। नया निर्देश आने के बाद गोरखपुर से मुंबई व कोलकाता जाने वाले यात्रियों की संख्या बढ़ गयी है। Same needed to one state to other state इस बात की गारंटी कौन देगा कि दोनों डोज़ ले चुके व्यक्ति को कोरोना नही होगा और यदि कोरोना हो सकता है तो फिर इस लापरवाही की वजह

देश में बुधवार को कोरोना संक्रमण के 43 हजार मामले दर्ज, 648 लोगोंं की मौतदेश में बुधवार रात साढ़े दस बजे तक 34 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में कोरोना विषाणु संक्रमण के 43,164 मामले दर्ज किए जबकि संक्रमण की वजह से 648 लोगों की मौत हुई।

दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 77 नए मामले, संक्रमण दर 0.11 फीसदीसक्रिय कोरोना मरीजों की दर लगातार दूसरे दिन 0.03 फीसदी रही. वहीं, रिकवरी दर लगातार 12वें दिन 98.21 फीसदी है.

टोक्यो में ओलंपिक के बीच बढ़ा कोरोना का खतरा, अधिकारियों ने चेतायाटोक्यो में लगातार दूसरे दिन कोरोना संक्रमण के मामलों में रिकॉर्ड बढोतरी के बाद चेतावनी Corona Coronavirus Japan IndiaTodayAtOlympics Tokyo2020 TeamIndia Cheer4India Hockey hockeyindia Olympics olympischespelen Tokyo2020 NBCOlympics