Central Government, National Pension Scheme, Travel Allowance, National Council Standing Committee, Dopt, Telangana High Court, Government Employees, Dearness Allowance, C Srikumar Aidef, All İndia Defence Employees Federation, Pm Care Fund, Leave Travel Allowance, North Block, Ex Gratia, Corona First Wave İn İndia, Coronavirus Second Wave İndia, House Rent Allowance, Government Employee Overtime Pay, National Council, Coronavirus, Covid 19, 15Th Finance Commission

Central Government, National Pension Scheme

कोरोना का असर: पांच साल तक केंद्र सरकार के कर्मियों की जेब रहेगी ढीली, 2026 तक कुछ 'स्पेशल' नहीं मिलेगा

कोरोना का असर: पांच साल तक केंद्र सरकार के कर्मियों की जेब रहेगी ढीली, 2026 तक कुछ 'स्पेशल' नहीं मिलेगा

14-06-2021 17:36:00

कोरोना का असर: पांच साल तक केंद्र सरकार के कर्मियों की जेब रहेगी ढीली, 2026 तक कुछ 'स्पेशल' नहीं मिलेगा

कोरोना की दो लहरों का असर दिखना शुरू हो गया है। केंद्र सरकार ने अपने खर्चों में बीस फीसदी कटौती कर दी है। कोरोना का असर

पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल होने का इंतजार न करें कर्मचारीकेंद्र सरकार ने कोरोना संक्रमण की पहली लहर शुरू होते ही कर्मियों के वेतन भत्तों में होने वाली वृद्धि पर रोक लगा दी थी। इसके चलते कर्मियों को 18 माह से महंगाई भत्ता तक नहीं मिला है। पेंशनर्स, महंगाई राहत मिलने की राह देख रहे हैं। दूसरे खर्चों में भी कटौती की जा रही है। कर्मचारी संगठन, सरकार पर लगातार यह दबाव डाल रहे हैं कि पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू की जाए। एनपीएस, कर्मियों के हित में नहीं है। इससे कर्मियों को आर्थिक नुकसान हो रहा है। दूसरी तरफ, सरकार ने खर्च में कटौती की घोषणा कर यह संकेत दे दिया है कि कर्मचारी, पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल होने का इंतजार न करें। विशेष वेतन भत्तों को लेकर कर्मचारी कोई उम्मीद न रखें। पेंशन फंड रेगुलेटर द्वारा नेशनल पेंशन सिस्टम में बदलाव की योजना तैयार की जा रही है। सरकार का प्रयास है कि नेशनल पेंशन सिस्टम में इस तरह के बदलाव हों, ताकि कर्मचारी इसके प्रति आकर्षित हों। वे पुरानी पेंशन व्यवस्था का ख्याल दिमाग से निकाल दें। कर व्यवस्था में बदलाव करने के अलावा सिस्टमैटिक विड्रॉल प्लान तैयार करना और वार्षिकी सूचकांक को महंगाई से जोड़ना, आदि सुविधाएं शुरू हो सकती हैं। इससे एनपीएस वाले कर्मियों को अच्छा रिटर्न मिलने की उम्मीद बढ़ जाएगी।

टेम्पो ड्राइवर की बेटी बनीं ओपनर बल्लेबाज: नागौर की संध्या 7 साल पहले पिता के साथ पहुंची हैदराबाद, स्टेडियम में मैच देखा तो क्रिकेट खेलना शुरू किया, अब हैदराबाद टीम के लिए खेलेगी चीन ने सीमा विवाद पर भारत से की शांतिपूर्ण समाधान की पेशकश, कहा- मुद्दों को विवाद नहीं बनने देना चाहिए - BBC Hindi बाइडेन के किस्से, मोदी के ठहाके...व्हाइट हाउस में दिखी दोनों नेताओं की जबरदस्त बॉन्डिंग

पेंशन और वेतन को लेकर वित्त आयोग की सिफारिशेंआयोग की रिपोर्ट में लिखा है, पेंशन और वेतन का आकलन करते हुए हमने सरकार के राजस्व प्रवाह पर संभावित दबाव तथा विशेष रूप से गैर विकासात्मक व्यय में सख्त राजकोषीय अनुशासन बनाए रखने की आवश्यकता को ध्यान में रखा है। विगत में वेतन आयोगों की अनुशंसाओं को कार्यान्वित करने के फलस्वरूप, संघ सरकार के राजस्व व्यय एवं दोनों के संदर्भ में उसके पेंशन एवं वेतन भुगतानों में उतार चढ़ाव देखे गए हैं। वेतन आयोगों के प्रभाव या रक्षा पेंशनभोगियों के 'वन रैंक वन पेंशन' जैसे एकबारगी नीति निर्णयों के प्रभाव को छोड़कर, पेंशन और वेतन पर संघ सरकार के व्यय में वृद्धि सामान्य तौर पर उसके सकल राजस्व व्यय की तुलना में कम हुई है। 2021 से 2026 की अवधि में कोई अन्य वेतन आयोग की अनुशंसा या पेंशन एवं वेतन में, सामान्य महंगाई भत्ता और वेतन बढ़ोतरी को छोड़कर, भारी वद्धि होने की उम्मीद नहीं की जाती है। यह परिदृश्य पांच वर्ष तक जारी रह सकता है। भारत सरकार ने अपने कर्मियों के लिए महंगाई भत्ता और पेंशनर्स के लिए महंगाई राहत पर जनवरी 2020 से जुलाई 2021 तक रोक लगा रखी है। केंद्र ने यह स्पष्ट किया है कि रोक हटने के बाद इन भुगतानों की बहाली उत्तरव्यापी प्रभाव से की जाएगी।

सरकार को प्रतिबद्ध खर्चों में कटौती करनी पड़ेगीकेंद्र सरकार ने पिछले साल भी खर्च में कटौती करने के लिए कुछ उपाय किए थे। इस बार भी ओवरटाइम, यात्रा भत्ता, आपूर्ति व राशन की लागत आदि के खर्च में 20 फीसदी की कटौती कर दी है। आयोग की रिपोर्ट के अनुसार, इस तरह के निर्णयों के आधार पर 2019-20 की तुलना में 2020-21 के दौरान वेतन बढ़ोतरी की उम्मीद नहीं है। राजस्व पर भारी दबाव के मद्देनजर, केंद्र सरकार अपने खर्च में कटौती करेगी, ताकि महंगाई एवं अन्य भत्तों के कारण बढ़ोतरी को प्रतिसंतुलित किया जा सके। इसके अनुसार, 2020-21 और 2021-22 के दौरान वेतन में एक फीसदी तथा पेंशन में 1.5 फीसदी की वृद्धि दर का आकलन किया है। उसके बाद ही अवधि के लिए कर्मियों की वार्षिक वेतन वृद्धि, कर्मियों एवं पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ता/राहत तथा कार्यबल में क्षयण के कारण मानकीय तौर पर आकलित बदलावों को ध्यान में रखते हुए वेतन में 5 फीसदी और पेंशन में 5.5 फीसदी की वृद्धि का मूल्यांकन किया है। आयोग द्वारा यह उम्मीद की जाती है कि कार्यदक्षता पर विशेष बल देते हुए सरकारी कार्यबल पर खर्च किए जा रहे व्यय को विवेकशील तरीके से युक्तियुक्त बनाया जाएगा। इससे व्यय उपलब्ध संसाधनों के भीतर ही रहेगा। headtopics.com

विस्तार केवल यहीं तक सीमित नहीं रहेगा, बल्कि ये लंबे समय तक परेशान करेगा। कम से कम 2026 तक केंद्र सरकार के कर्मियों को अपनी जेब ढीली रखने के लिए तैयार रहना चाहिए। 15वें वित्त आयोग की रिपोर्ट के अध्याय चार में खर्च घटाने के लिए जो सिफारिशें दी गई हैं, केंद्र सरकार उन्हीं के हिसाब से आगे बढ़ रही है। मुद्रास्फीति का परिदृश्य 2026 तक सहज हो पाएगा। इस अवधि में किसी अन्य वेतन आयोग की अनुशंसा या पेंशन एवं वेतन में सामान्य महंगाई भत्ता और वेतन वृद्धि को छोड़कर, भारी बढ़ोतरी होने की उम्मीद नहीं की जाती है। यानी कुछ 'स्पेशल' नहीं मिलेगा।

विज्ञापनपुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल होने का इंतजार न करें कर्मचारीकेंद्र सरकार ने कोरोना संक्रमण की पहली लहर शुरू होते ही कर्मियों के वेतन भत्तों में होने वाली वृद्धि पर रोक लगा दी थी। इसके चलते कर्मियों को 18 माह से महंगाई भत्ता तक नहीं मिला है। पेंशनर्स, महंगाई राहत मिलने की राह देख रहे हैं। दूसरे खर्चों में भी कटौती की जा रही है। कर्मचारी संगठन, सरकार पर लगातार यह दबाव डाल रहे हैं कि पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू की जाए। एनपीएस, कर्मियों के हित में नहीं है। इससे कर्मियों को आर्थिक नुकसान हो रहा है। दूसरी तरफ, सरकार ने खर्च में कटौती की घोषणा कर यह संकेत दे दिया है कि कर्मचारी, पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल होने का इंतजार न करें। विशेष वेतन भत्तों को लेकर कर्मचारी कोई उम्मीद न रखें। पेंशन फंड रेगुलेटर द्वारा नेशनल पेंशन सिस्टम में बदलाव की योजना तैयार की जा रही है। सरकार का प्रयास है कि नेशनल पेंशन सिस्टम में इस तरह के बदलाव हों, ताकि कर्मचारी इसके प्रति आकर्षित हों। वे पुरानी पेंशन व्यवस्था का ख्याल दिमाग से निकाल दें। कर व्यवस्था में बदलाव करने के अलावा सिस्टमैटिक विड्रॉल प्लान तैयार करना और वार्षिकी सूचकांक को महंगाई से जोड़ना, आदि सुविधाएं शुरू हो सकती हैं। इससे एनपीएस वाले कर्मियों को अच्छा रिटर्न मिलने की उम्मीद बढ़ जाएगी।

पेंशन और वेतन को लेकर वित्त आयोग की सिफारिशेंआयोग की रिपोर्ट में लिखा है, पेंशन और वेतन का आकलन करते हुए हमने सरकार के राजस्व प्रवाह पर संभावित दबाव तथा विशेष रूप से गैर विकासात्मक व्यय में सख्त राजकोषीय अनुशासन बनाए रखने की आवश्यकता को ध्यान में रखा है। विगत में वेतन आयोगों की अनुशंसाओं को कार्यान्वित करने के फलस्वरूप, संघ सरकार के राजस्व व्यय एवं दोनों के संदर्भ में उसके पेंशन एवं वेतन भुगतानों में उतार चढ़ाव देखे गए हैं। वेतन आयोगों के प्रभाव या रक्षा पेंशनभोगियों के 'वन रैंक वन पेंशन' जैसे एकबारगी नीति निर्णयों के प्रभाव को छोड़कर, पेंशन और वेतन पर संघ सरकार के व्यय में वृद्धि सामान्य तौर पर उसके सकल राजस्व व्यय की तुलना में कम हुई है। 2021 से 2026 की अवधि में कोई अन्य वेतन आयोग की अनुशंसा या पेंशन एवं वेतन में, सामान्य महंगाई भत्ता और वेतन बढ़ोतरी को छोड़कर, भारी वद्धि होने की उम्मीद नहीं की जाती है। यह परिदृश्य पांच वर्ष तक जारी रह सकता है। भारत सरकार ने अपने कर्मियों के लिए महंगाई भत्ता और पेंशनर्स के लिए महंगाई राहत पर जनवरी 2020 से जुलाई 2021 तक रोक लगा रखी है। केंद्र ने यह स्पष्ट किया है कि रोक हटने के बाद इन भुगतानों की बहाली उत्तरव्यापी प्रभाव से की जाएगी।

सरकार को प्रतिबद्ध खर्चों में कटौती करनी पड़ेगीकेंद्र सरकार ने पिछले साल भी खर्च में कटौती करने के लिए कुछ उपाय किए थे। इस बार भी ओवरटाइम, यात्रा भत्ता, आपूर्ति व राशन की लागत आदि के खर्च में 20 फीसदी की कटौती कर दी है। आयोग की रिपोर्ट के अनुसार, इस तरह के निर्णयों के आधार पर 2019-20 की तुलना में 2020-21 के दौरान वेतन बढ़ोतरी की उम्मीद नहीं है। राजस्व पर भारी दबाव के मद्देनजर, केंद्र सरकार अपने खर्च में कटौती करेगी, ताकि महंगाई एवं अन्य भत्तों के कारण बढ़ोतरी को प्रतिसंतुलित किया जा सके। इसके अनुसार, 2020-21 और 2021-22 के दौरान वेतन में एक फीसदी तथा पेंशन में 1.5 फीसदी की वृद्धि दर का आकलन किया है। उसके बाद ही अवधि के लिए कर्मियों की वार्षिक वेतन वृद्धि, कर्मियों एवं पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ता/राहत तथा कार्यबल में क्षयण के कारण मानकीय तौर पर आकलित बदलावों को ध्यान में रखते हुए वेतन में 5 फीसदी और पेंशन में 5.5 फीसदी की वृद्धि का मूल्यांकन किया है। आयोग द्वारा यह उम्मीद की जाती है कि कार्यदक्षता पर विशेष बल देते हुए सरकारी कार्यबल पर खर्च किए जा रहे व्यय को विवेकशील तरीके से युक्तियुक्त बनाया जाएगा। इससे व्यय उपलब्ध संसाधनों के भीतर ही रहेगा। headtopics.com

Quad Summit Updates: मौलिक अधिकारों में क्वाड का विश्वास, आस्ट्रेलिया-जापान ने दिया मुक्त और खुले इंडो पैसिफिक क्षेत्र पर जोर मोदी-बाइडेन मुलाकात: US प्रेसिडेंट बोले- मैंने 15 साल पहले कह दिया था, 2020 तक भारत-अमेरिका सबसे करीबी देश होंगे कुत्ते को बारिश से बचाने के लिए शख्स ने छाता किया शेयर, रतन टाटा बोले- दिल को छू लेने वाला पल

विज्ञापनआगे पढ़ेंविज्ञापनआपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है?

और पढो: Amar Ujala »

US दौरे पर PM मोदी, अब होगा आतंक पर वार! देखें हल्ला बोल

दो साल बाद अमेरिका के लिए पीएम मोदी की उड़ान तेजी से बदलती दुनिया में भारत की आन-बान और शान को दमदार अंदाज़ में दर्ज कराएगी. ये पहला मौका होगा जब प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर जो बाइडेन आमने सामने मुलाकात करेंगे. माना जा रहा है कि पीएम मोदी और जो बाइडेन की मुलाकात में अफगानिस्तान में तालिबान राज और उसके बाद के बढ़ते खतरे पर भी बात होगी. भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूती देने के अलावा प्रधानमंत्री के एजेंडे में आतंकवाद पर दुनिया को कड़ा संदेश देना भी शामिल होगा. SCO की बैठक में पीएम मोदी आतंकवाद को लेकर चीन और पाकिस्तान के सामने खरी-खरी सुना चुके हैं. आज हल्ला बोल में देखें इसी मुद्दे पर चर्चा.

Also freeze DA....

कोरोना काल में अलग-अलग चुनौतियों का सामना करते बच्चों में जगाएं सुपर हीरो का एहसासमहामारी में जिस प्रकार बच्चों-किशोरों ने खुद को संभाला है। बेशक बच्चे खुद को संपूर्णता में अभिव्यक्त नहीं कर पा रहे लेकिन उनके डर एवं संकोच को दूर करना जरूरी है। उन्हें एहसास दिलाना है कि वे किसी सुपर हीरो से कम नहीं हैं...

Kolkata: कोरोना काल में बदला सफर का अंदाज, साइक‍िल का बढ़ा इस्तेमालपश्चिम बंगाल में लॉकडाउन के समय में यात्रा का स्वरूप पूरी तरह बदल चुका है. बस और ट्रेन बंद होने के कारण, ज्यादातर लोग सफर करने के लिए साइकिल का इस्तेमाल कर रहें हैं. हजारों की संख्या में साइकिल सवार यात्री हर जगह देखने को मिल रहे हैं. कोई 30 किलोमीटर तो कोई 40 किलोमीटर साइकिल चला कर काम पर जा रहा है. देखिए कोलकाता से आजतक संवाददाता अनुपम मिश्रा की ये रिपोर्ट. सात साल में सौ करोड़ का खाना खाने वाले प्रधानमंत्री ने पेट्रोल डीज़ल के दाम बढ़ा कर जनता को साइकिल से चलने पर मजबूर कर दिया है अरे गोदी मीडिया अंदाज नही बदला. पेट्रोल के पैसे नही है. तुमको रातको निंद कैसे आती बे

उत्तराखंड में 22 जून तक बढ़ा कोरोना कर्फ्यू, चारधाम यात्रा के लिए जानिए क्या हुआ फैसलाअन्य प्रदेशों की तरह ही उत्तराखंड में भी लगातार कोरोना केस कम हो रहे हैं. हालांकि, इसके बावजूद भी राज्य सरकार ने कोरोना कर्फ्यू को 22 जून तक बढ़ा दिया है. उत्‍तराखंड आने वालों के लिए आरटी-पीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट अब भी अनिवार्य है. कोविड कर्फ्यू में वर्तमान व्यवस्था में कुछ और रियायत भी दी गई है.

बंगाल में कोरोना से जुड़ी पाबंदियां 1 जुलाई तक बढ़ाई गईं, रेस्टोरेंट व विनिर्माण इकाइयां खुलेंगीपश्चिम बंगाल में कोरोना से जुड़ी पाबंदियां 1 जुलाई तक बढ़ाई गईं. हालांकि इसके साथ ही कुछ रियायतें भी दी गई हैं. रेस्टोरेंट व विनिर्माण इकाइयां खुलेंगी I think it is a good move

कोरोना: भारत समेत 26 देशों पर पाकिस्तान ने लगाया प्रतिबंध, अगले आदेश तक यात्रा पर बैनभारत समेत 26 देशों को पाकिस्तान ने सी कैटेगरी में रख दिया है और यहां से आने वाले सभी हवाई यात्रियों पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है। Pakistan कुछ वी कर लो यें ये नही सुंदर सकता विश्वगुरु के साथ ऐसा बर्ताव !! म्हारो मोदी अब इन्हें नहीं छोड़ेगा अछा अंतरष्ट्रिय चुटकुला है ये : की खुद T ( Terrorist ) कैटेगरी का ये देश Pakistan दूसरे देशों को C कैटेगरी में रख रहा है ।

बंगाल: एक जुलाई तक बढ़ा कोरोना लॉकडाउन, ममता सरकार ने जारी की गाइडलाइंसबंगाल में 16 जून से सरकारी दफ्तर 25 फीसदी स्टाफ के साथ खुलेंगे. वहीं प्राइवेट और कॉरपोरेट ऑफिस भी सुबह 10 बजे से शाम के 4 बजे तक खुले रहेंगे. हालांकि इस दौरान दफ्तर में सिर्फ 25 फीसदी स्टाफ की मौजूदगी की अनुमति रहेगी. इस दौरान ई-पास भी अनिवार्य रहेगा.