Madrashc, Coronadeath, Coronareport, मद्रासहाईकोर्ट, कोरोनामौतें, कोरोनारिपोर्ट

Madrashc, Coronadeath

कोरोना वायरस के कारण होने वाली मौतों की सटीक रिपोर्ट दी जानी चाहिए: मद्रास हाईकोर्ट

कोरोना वायरस के कारण होने वाली मौतों की सटीक रिपोर्ट दी जानी चाहिए: मद्रास हाईकोर्ट #MadrasHC #CoronaDeath #CoronaReport #मद्रासहाईकोर्ट #कोरोनामौतें #कोरोनारिपोर्ट

13-06-2021 03:30:00

कोरोना वायरस के कारण होने वाली मौतों की सटीक रिपोर्ट दी जानी चाहिए: मद्रास हाईकोर्ट MadrasHC CoronaDeath CoronaReport मद्रासहाईकोर्ट कोरोनामौतें कोरोनारिपोर्ट

मद्रास हाईकोर्ट ने कहा कि देशभर से ऐसी शिकायतें आ रही हैं कि कोरोना से होने वाली सभी मौतों के आंकड़ों को ठीक से दर्ज नहीं किया जा रहा है. अदालत ने कहा कि यह वास्तव में महामारी के पैमाने को समझने के प्रयास को बाधित कर सकता है और परिवारों को उस राहत की मांग करने से भी वंचित सकता है, जिसके वे हक़दार हैं.

नई दिल्लीःमद्रास हाईकोर्ट ने बीते शुक्रवार को कहा कि देशभर से ऐसी शिकायतें आ रही हैं कि कोरोना से होने वाली सभी मौतों के आंकड़ों को ठीक से दर्ज नहीं किया जा रहा है.अदालत ने कहा कि यह वास्तव में महामारी के पैमाने को समझने के प्रयास को बाधित कर सकता है और परिवारों को उस राहत की मांग करने से भी वंचित सकता है, जिसके वे हक़दार हैं.

राजस्थान : श्रीगंगानगर में किसानों ने BJP नेता को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, फाड़े कपड़े हॉकी में भारत का शानदार प्रदर्शन जारी: आखिरी पूल मैच में जापान को 5-3 से रौंदा; 49 साल बाद पूल स्टेज में 4 मैच जीती टीम इंडिया पीवी सिंधु के 3 नए हथियार: कोच विमल बोले- बेहतर डिफेंस, कॉन्फिडेंस और जोरदार बैक हैंड ने सिंधु को बनाया गोल्ड का दावेदार

लाइव लॉकी रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्य न्यायाधीश संजीब बनर्जी और जस्टिस सेंथिलकुमार राममूर्ति की खंडपीठ ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की. इसमें कोविड-19 के सभी मामलों में अंतरराष्ट्रीय मानकों सहित आईसीएमआर (भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद) के दिशानिर्देशों और अन्य प्रासंगिक मानकों के अनुसार मृत्यु का कारण संबंधित प्रमाण पत्र/आधिकारिक दस्तावेज में ठीक से और सही ढंग से उल्लिखित हो, इसकी मांग की गई है.

साथ ही यह सुनिश्चित करने के लिए तमिलनाडु सरकार को एक प्रभावी नीति लागू करने के लिए निर्देश देने का भी अनुरोध किया गया है. याचिका में कहा गया है कि इससे परिवार बिना किसी बाधा के सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकेंगे.अदालत ने कहा, ‘जहां तक तमिलनाडु का सवाल है, किसी शख्स की मृत्यु को तब तक कोविड-19 के कारण हुई मौत के तौर पर दर्ज नहीं किया जाता जब तक कि कोरोना की पॉजिटिव रिपोर्ट जारी नहीं की जाती.’ headtopics.com

अदालत ने कहा कि कोविड-19 की वजह से होने वाली मौतों को सही तरीके से दर्ज करने से भविष्य में इस तरह की महामारी से निपटने के लिए किए जा रहे अध्ययनों में मदद मिलेगी. कुछ मामलों में चिंता यह है कि जिस व्यक्ति की मृत्यु कोविड-19 के कारण हुई है, उसके परिवार को तब तक राहत नहीं मिलेगी, जब तक उसके मृत्यु प्रमाण-पत्र में मौत का कारण कोरोना नहीं लिखा गया होगा.

पीठ ने कहा, ‘यह सामान्य है कि किसी शख्स को हुई बड़ी बीमारी की वजह से दिल का दौरा पड़ सकता है और इससे उसकी मृत्यु हो सकती है. हालांकि ऐसे मामले में मौत का कारण उचित रूप से सिर्फ दिल का दौरा नहीं माना जा सकता है, बल्कि दिल पर दौरा होने के अंतर्निहित कारण को वास्तविक कारण माना जाना चाहिए. तो क्या यह कोविड-19 से होने वाली मौतों के मामले में किया जाना चाहिए, भले ही वह व्यक्ति कई बीमारियों से पीड़ित हो.’

अदालत का कहना है कि यदि आवश्यक हो तो मौत के कारणों का पता लगाने के लिए एक विशेष टीम द्वारा उचित अध्ययन किया जाना चाहिए.पीठ ने कहा, ‘उचित तो यह होगा कि जरूरत पड़ने पर संशोधित कर मृत्यु प्रमाण-पत्र को पहले ही जारी कर दिया जाए.’अदालत ने कहा कि वह 28 जून को इस बारे में अधिक विस्तार से सुनवाई करेंगे. उन्होंने राज्य सरकार से 28 जून तक राज्य में कोविड-19 मौतों पर एक प्रारंभिक रिपोर्ट पेश करने को कहा है.

और पढो: द वायर हिंदी »

इन राज्यों में राहत की बारिश बनी भारी आफत? देखें तस्वीरें

बारिश ने पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाकों के लोगों के सामने लिए बड़ी मुश्किलें लाकर खड़ी कर दी. एक तरफ जहां पहाड़ों पर लोग भूस्खलन से जान गंवा रहे हैं तो दूसरी तरफ मैदानी इलाकों में बाढ़ ने कहर मचा रखा है. दरभंगा में बाढ़ के पानी से कुशेश्वरस्थान के लोग परेशान तो मध्य प्रदेश के कई जिले भी बाढ़ से त्रस्त हैं. सबसे बुरी हालात में महाराष्ट्र है जहां बारिश और बाढ़ से अबतक तकरीबन 112 लोग जान गंवा चुके हैं. इन सबके अलावा कर्नाटक से लेकर तेलंगाना तक में मौसम ने अपना कहर बरपा रखा है. देखें वीडियो.

Its About More Than 25 Lakhs. चिल्लाता रहे कोर्ट कौन इसकी सुन रहा है

कोरोना सोमनिया से बचें: कोरोना के दौर में तेजी से बढ़ी नींद से जुड़ी बीमारियां, इससे जुड़े 15 सवालों के जवाब में जानिए अपनी नींद की समस्या का हलकोरोना वायरस ने बीते एक साल में बहुत कुछ बदल दिया है। इसमें सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है हमारी लाइफस्‍टाइल जिसका एक महत्वपूर्ण पार्ट है हमारी नींद। हाल ही में हुई एक स्टडी में पता चला है कि महामारी के दौरान इनसोमनिया के मरीज तेजी से बढ़े हैं। साल भर में इनसोमनिया के मरीज 20% से बढ़कर 60% हो गए। | कोरोना वायरस ने बीते एक साल में बहुत कुछ बदलकर रख दिया है। इसमें सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है हमारी लाइफस्‍टाइल जिसका एक महत्वपूर्ण पार्ट है हमारी नींद। हालही में हुई एक स्टडी में पता चला है कि महामारी के दौरान इन्सोमेनिया के मरीज तेजी से बढ़े हैं। साल भर में इन्सोमेनिया के मरीज 20% से बढ़कर 60% हो गए।

कोरोना से बचाव में कौन से मास्क ज्यादा कारगर, वैज्ञानिकों ने किया अध्‍ययन, आप भी जानेंकोरोना वायरस (कोविड-19) से मुकाबले में मास्क की अहम भूमिका जाहिर हो चुकी है। मास्क को लेकर एक नया अध्ययन किया गया है। कोरोना संक्रमण से बचाव में कौन से मास्‍क ज्यादा कारगर हैंं। पढ़ें यह रिपोर्ट ...

अमेरिकी राज्यों द्वारा कोरोना से जुड़े आंकड़े अपडेट करने में लेटलतिफी से हेल्थ एक्सपर्ट्स चिंतितअमेरिका में आधे राज्य ही कोविड-19 से जुड़े प्रतिदिन के आंकड़े बता रहे हैं। जिसमें नए मामले एक्टिव केस मृत्यु और वैक्सीनेशन से जुड़ी जानकारी शामिल है। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यह ट्रेंड कुछ पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट्स को चिंतित कर रहा है।

ब्रिटेन में फरवरी के बाद सबसे ज्यादा कोरोना के मामले, डब्ल्यूएचओ ने यूरोप को डेल्टा वैरिएंट के खतरे से किया आगाहविश्व स्वास्थ्य संगठन यूरोप के निदेशक डा. हेंस क्लूज ने यूरोपीय देशों को डेल्टा वैरिएंट को लेकर गंभीर चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि इस वैरिएंट की चपेट में यूरोप का अधिकांश क्षेत्र है और जरूरी नहीं कि इस वैरिएंट पर सभी वैक्सीन कारगर हो जाएं।

कोरोना: दिल्ली में कई होटल बंद, कुछ जगहों पर सिर्फ 10 प्रतिशत स्टॉफ के साथ कामकरोलबाग़ और पहाड़गंज में तो 30 प्रतिशत होटल बंद हो गए हैं, वहीं वहां पर काम कर रहे स्टाफ में भी भारी कमी आ गई है. बताया गया कि कई दूसरे लोग जिनका रोजगार होटलों की वजह से चलता था, अब वो सब भी ठप हो चुका है. Ramkinkarsingh कुछ तो कोरोना कुछ मिडिया की हाय-तौबा ।

एलोपैथी के आलोचक बाबा रामदेव अब लगवाएंगे कोरोना की वैक्सीन, डॉक्टरों को बताया 'देवदूत'एलोपैथी दवाओं की प्रभावोत्पादकता पर सवाल उठाकर एलोपैथिक चिकित्सकों के निशाने पर रहे योग गुरु रामदेव (Baba Ramdev) ने गुरुवार को इस मसले पर यू टर्न लेते हुए कहा कि वह जल्द ही कोविड-19 टीका (Corona Vaccine) लगवाएंगे और डॉक्टर ‘‘धरती पर के देवदूत हैं. डर सबको लगता है 😂😂😂😂 रामदेव को क्या जरूरत है योग है ना Ese dogle logo ko...pata nahi kaun itna maan samman deta he...!!! Sach me Hamara Desh Mahan Hé...!!!!