Coronavirus, Tuberculosis, Corona, Coronavirus İndia, Coronavirus, Coronavirus Vaccine, Corona İn İndia, Tuberculosis, Tuberculosis Test, Tuberculosis Symptoms, Tuberculosis Treatment, Tuberculosis İn İndia, Nikshay Database, Bihar, Uttar Pradesh, Covid -19, Covid19india, Covid 19 Vaccine, कोरोना, कोरोनावायरस, कोरोना अपडेट, क्षयरोग, क्षय रोग के लक्षण, क्षय रोग के कारण, उत्तर प्रदेश, बिहार

Coronavirus, Tuberculosis

कोरोना लॉकडाउन के बीच क्षय रोग के मामलों में आई कमी, जानें क्या है पूरी सच्चाई

कोरोना लॉकडाउन के बीच क्षय रोग के मामलों में आई कमी, जानें क्या है पूरी सच्चाई #coronavirus #tuberculosis

19-04-2020 12:59:00

कोरोना लॉकडाउन के बीच क्षय रोग के मामलों में आई कमी, जानें क्या है पूरी सच्चाई coronavirus tuberculosis

क्षय रोग का आधिकारिक डाटा देने वाला निक्षय डैशबोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक 14 फरवरी से 29 फरवरी तक 1,14,460 क्षय रोग के मामले

एक अप्रैल से 14 अप्रैल के बीच क्षय रोग के मरीजों की संख्या में अचानक गिरावट देखने को मिली। इन 14 दिनों में मरीजों की संख्या 19,145 रही जिसमें से 15,813 मामले सरकारी अस्पताल से आए। लॉकडाउन के तीन हफ्तों में क्षय रोग के मरीजों की कुल संख्या 34,566 रही। ये तब है जब सरकारी आंकड़ा कहता है कि इस बीमारी से देश में हर दिन औसतन 1400 मरीजों की मौत होती है।

ट्रंप ने चीन को लेकर की दो बड़ी घोषणाएं, WHO से अमरीका को किया अलग बिहार में सियासी घमासान तेज, नीतीश सरकार पर आगबबूला लालू परिवार PM मोदी- अब हमें अपने पैरों पर खड़ा होना ही होगा, जनता को लिखे पत्र की 13 खास बातें

क्षय रोग की अधिसूचना में तेज गिरावट को लेकर स्वास्थ्य जानकार चिंतित हैं। उनका कहना है कि मरीज को स्वास्थ्य सुविधा ना मिलने से सिर्फ संक्रमण बढ़ने का ही डर नहीं है बल्कि बड़े स्तर पर हालात और खराब हो सकते हैं।देश में सबसे ज्यादा क्षय रोग के मामले उत्तर प्रदेश से आते हैं। राज्य ने क्षय रोग के मरीजों को ढूंढ़ने के लिए चल रहे कैंपेन को फिलहाल स्थगित कर दिया है, ये कैंपेन 20 अप्रैल से 30 अप्रैल तक राज्य के 31 जिलों में चलना था।

क्षय रोग के अधिकारी संतोष गुप्ता ने बताया कि सभी जमीनी कार्यकर्ता कोरोना से लड़ने में जुटे हैं, सरकारी अस्पतालों में ओपीडी सेवा बंद हैं और निजी अस्पतालों भी बंद हैं। यहां तक कि जिन मरीजों में क्षय रोग के लक्षण दिखाई दे रहे हैं, उनकों भी सुविधा नहीं मिल पा रही है। इसलिए इसकी अधिसूचना को फिलहाल रोक दिया गया है।

संतोष गुप्ता ने आगे बताया कि अभी देश में 4,75,000 सक्रिय मामले हैं। उनके लिए दवाइयों का इंतजान करना काफी कठिन काम है। अधिकारियों की ओर से यही कोशिश रहती है कि इन मरीजों के इलाज में कोई भी बाधा ना आए।अधिसूचना क्षय रोग के इलाज के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है। इसकी मदद से मरीज के पूरे इलाज का ख्याल रखा जाता है और हर महीने पांच सौ रुपये का पौष्टिक आहार दिया जाता है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2025 तक क्षय रोग को संपूर्ण तरीके से खत्म करने की प्रतिज्ञा ली है।

डॉ मधुकर पाई का कहना है कि भारत को क्षय रोग से निपटने के लिए जल्द कुछ बड़ा एलान करना होगा। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के बीच भी क्षय रोग के मरीजों को इलाज की सुविधा मिलनी चाहिए और उनकी दवाई कुरियर के माध्यम से मरीजों तक पहुंचानी चाहिए।केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को गाइडलाइंस जारी की जिसमें इबोला के समय स्वास्थ्य सुविधाओं को पटरी पर लाने के लिए किए गए कार्यों का उल्लेख है। 2014-15 के इबोला के विश्लेषण से ये बात सामने आती है कि इबोला से मरने वालों की संख्या इतनी इसलिए बढ़ी क्योंकि खसरा, मलेरिया, एचआईवी और क्षय रोग के मरीजों ने स्वास्थ्य सुविधाओं पर असर डाला था।

बिहार के क्षय रोग अधिकारी के एन सहाय का कहना है कि 80 फीसदी स्टाफ कोविड-19 के इलाज में जुटे हैं और फिलहाल में राज्य में 1,25,000 क्षय रोग के मरीज हैं। अधिकारियों की कोशिश यही है कि मरीजों तक दवाइयां पहुंचाई जाए लेकिन ये बहुत मुश्किल काम है।लॉकडाउन की वजह से बिना पास के कार नहीं चल पा रही है और मरीज भी अस्पताल तक नहीं आ पा रहे हैं। 2012 से क्षय रोग की मरीजों की सूचना जारी हो रही है। पूरे विश्व में देखें तो भारत में क्षय रोग के सबसे ज्यादा मामले हैं।

क्षय रोग को खत्म करने वाला नेशनल स्ट्रैटेजिक प्लान 2017-25 के मुताबिक भारत में क्षय रोग गंभीर समस्या रहने वाली है। क्षय रोग से सालाना औसतन 4,80,000 लोगों की मौत होती है और हर साल दस लाख मामले लापता सूची में आ जाते हैं और ज्यादातर मामलों का डायनोग्सिस ही नहीं होता।

सपा नेता अबू आजमी के खिलाफ दर्ज हुई FIR, लेडी पुलिस ऑफिसर से अभद्रता का आरोप राजस्थान के पूर्व बीजेपी अध्यक्ष भंवरलाल शर्मा का 95 साल की उम्र में निधन खबरदार: दिल्ली-NCR, हरियाणा समेत देश के कई इलाकों में भूकंप के झटके

कोरोना वायरस के खतरे के बीच स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने जरूरी स्वास्थ्य सेवाओं के प्रबंध को बनाए रखने पर जोर दिया है। इस वक्त ज्यादातर स्वास्थ्य सुविधाएं कोरोना के खिलाफ लड़ने में व्यस्त है, ऐसे में क्षय रोग एक बड़ी जनहानि के तौर पर उभर सकती है।

विज्ञापन सामने आए। जिनमें से 83,697 सरकारी अस्पताल और बचे 30,763 निजी अस्पताल से आए। हालांकि कोरोना को कहर मार्च की शुरुआत में रडार पर आया था।एक अप्रैल से 14 अप्रैल के बीच क्षय रोग के मरीजों की संख्या में अचानक गिरावट देखने को मिली। इन 14 दिनों में मरीजों की संख्या 19,145 रही जिसमें से 15,813 मामले सरकारी अस्पताल से आए। लॉकडाउन के तीन हफ्तों में क्षय रोग के मरीजों की कुल संख्या 34,566 रही। ये तब है जब सरकारी आंकड़ा कहता है कि इस बीमारी से देश में हर दिन औसतन 1400 मरीजों की मौत होती है।

क्षय रोग की अधिसूचना में तेज गिरावट को लेकर स्वास्थ्य जानकार चिंतित हैं। उनका कहना है कि मरीज को स्वास्थ्य सुविधा ना मिलने से सिर्फ संक्रमण बढ़ने का ही डर नहीं है बल्कि बड़े स्तर पर हालात और खराब हो सकते हैं।देश में सबसे ज्यादा क्षय रोग के मामले उत्तर प्रदेश से आते हैं। राज्य ने क्षय रोग के मरीजों को ढूंढ़ने के लिए चल रहे कैंपेन को फिलहाल स्थगित कर दिया है, ये कैंपेन 20 अप्रैल से 30 अप्रैल तक राज्य के 31 जिलों में चलना था।

क्षय रोग के अधिकारी संतोष गुप्ता ने बताया कि सभी जमीनी कार्यकर्ता कोरोना से लड़ने में जुटे हैं, सरकारी अस्पतालों में ओपीडी सेवा बंद हैं और निजी अस्पतालों भी बंद हैं। यहां तक कि जिन मरीजों में क्षय रोग के लक्षण दिखाई दे रहे हैं, उनकों भी सुविधा नहीं मिल पा रही है। इसलिए इसकी अधिसूचना को फिलहाल रोक दिया गया है।

संतोष गुप्ता ने आगे बताया कि अभी देश में 4,75,000 सक्रिय मामले हैं। उनके लिए दवाइयों का इंतजान करना काफी कठिन काम है। अधिकारियों की ओर से यही कोशिश रहती है कि इन मरीजों के इलाज में कोई भी बाधा ना आए।अधिसूचना क्षय रोग के इलाज के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है। इसकी मदद से मरीज के पूरे इलाज का ख्याल रखा जाता है और हर महीने पांच सौ रुपये का पौष्टिक आहार दिया जाता है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2025 तक क्षय रोग को संपूर्ण तरीके से खत्म करने की प्रतिज्ञा ली है।

डॉ मधुकर पाई का कहना है कि भारत को क्षय रोग से निपटने के लिए जल्द कुछ बड़ा एलान करना होगा। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के बीच भी क्षय रोग के मरीजों को इलाज की सुविधा मिलनी चाहिए और उनकी दवाई कुरियर के माध्यम से मरीजों तक पहुंचानी चाहिए।केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को गाइडलाइंस जारी की जिसमें इबोला के समय स्वास्थ्य सुविधाओं को पटरी पर लाने के लिए किए गए कार्यों का उल्लेख है। 2014-15 के इबोला के विश्लेषण से ये बात सामने आती है कि इबोला से मरने वालों की संख्या इतनी इसलिए बढ़ी क्योंकि खसरा, मलेरिया, एचआईवी और क्षय रोग के मरीजों ने स्वास्थ्य सुविधाओं पर असर डाला था।

केंद्र जारी करे लॉकडाउन की गाइडलाइंस, राज्यों पर छोड़े फैसला लेने की आजादी: सचिन पायलट रिम्स के कोरोना वार्ड में ड्यूटी कर रही डॉक्टर से रेप की कोशिश, आरोपी सीनियर डॉक्टर फरार PM मोदी का जनता के नाम पत्र, कहा- 1 साल में लिए गए फैसले बड़े सपनों की उड़ान

बिहार के क्षय रोग अधिकारी के एन सहाय का कहना है कि 80 फीसदी स्टाफ कोविड-19 के इलाज में जुटे हैं और फिलहाल में राज्य में 1,25,000 क्षय रोग के मरीज हैं। अधिकारियों की कोशिश यही है कि मरीजों तक दवाइयां पहुंचाई जाए लेकिन ये बहुत मुश्किल काम है।लॉकडाउन की वजह से बिना पास के कार नहीं चल पा रही है और मरीज भी अस्पताल तक नहीं आ पा रहे हैं। 2012 से क्षय रोग की मरीजों की सूचना जारी हो रही है। पूरे विश्व में देखें तो भारत में क्षय रोग के सबसे ज्यादा मामले हैं।

और पढो: Amar Ujala »

लोक डाउन में मरीज अस्पतालो तक नहीं पहुंच रहे है उसका प्रभाव है ना कि बीमारी खत्म हो गई।

12 राज्यों के 22 जिलों में 14 दिन से कोई मरीज नहीं है: स्वास्थ्य मंत्रालयलव अग्रवाल ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय आंकड़ों का लगातार विश्लेषण कर रहा है. स्टेट लेवल और जिला स्तर पर किए गए काम के द्वारा हमें अच्छे रिजल्ट मिलने लगे हैं. 23 राज्यों के 45 जिलों में पॉजिटिव ट्रेंड नोट किया गया है. Thanks God Markaj jamati is more dangerous virus than korona virus... sir plz help bihar student in kota we are suffering from very critical situation. PLZ sir HELP US.

coronavirus Update: देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के सुधार के संकेत, नए मामलों में कमीदेश में कोरोना वायरस से संक्रमण में कुछ सुधार के संकेत मिले हैं। कुछ राज्यों को छोड़कर वायरस के प्रसार में कमी आई है और पिछले चार-पांच दिनों से नए मामलों में भी कमी आ रही है। यहाँ रोज 1000 के आसपास मामले आ रहे है... इसमें सुधार कैसा ? जब तक कोई कारगार उपचार नही निकलता। तब तक लड़ते रहिए कोरोना से...

कोरोना संकट के बीच न्यूयॉर्क के गवर्नर के ख़िलाफ़ क्यों बोले ट्रंप?गुरुवार को अमरीका में एक दिन में कोरोना के कारण 4,591 मौतें हुई हैं. इससे पहले एक दिन में इतनी मौतें नहीं हुई थीं. ये साला भी अमरीका का मोदी ही है 😀😀😀 He loves the money, money, money. He doesn't care about American, he is worried of elections. लगता है यह अपना राष्ट्रपति पद गंवा कर ही मानेगा।🤔

Coronavirus Pandemic: कोरोना वायरस से 'जंग' में केरल के 28 दिन के क्‍वारंटाइन के बाद उठा सवाल, 'क्‍या 14 दिन पर्याप्‍त हैं..'मेडिकल ऑफिसर के नारायण नाइक ने NDTV को बताया, हाई रिस्‍क केटेगरी से आए लोगों के टेस्‍ट में कोरोना के लक्षण नजर नहीं आने के बावजूद हम उन्‍हें 28 दिन के लिए आइसोलेशन में यानी अलग-थलग रख रहे हैं. इस चिंता करने की कोई बात नहीं है, यह ऐहतियात के तौर पर किया जा रहा है. Corontine 28 din ka hona chahie, Kyunki bahut se kaise mei dekha gaya hai ki 17 se 20 din ke bad log infected hue hain, toh behtar yahi hoga mamare desh ke liye ki corontine 28 din yah kam se kam 21 din ka ker de MoHFW_INDIA safety of everyone is more important. StayHome

दिन भर, 17 अप्रैल : लॉकडाउन के 24वें दिन मिलने लगे राहत के संकेतभारत में कोरोना वायरस के मामलों की रफ़्तार में चालीस फ़ीसदी की गिरावट, भारतीय रिज़र्व बैंक ने अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए जारी किया पचास हज़ार करोड़ का पैकेज और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ से ख़ास बातचीत, सुनिए 17 अप्रैल के 'दिन भर' में पूनम कौशल के साथ. poonamkaushel Aap dekho bichare constable Bina khaye piye lagatar duty de re h....kisi KE pas ek vardi kisi KE pas do vardi...apne gharvalo SE itni dur...itni garmi me....na unhe khane ka na fresh hone ka na kapde dhone ka time mil Ra h...fir b duty Kare ja re h poonamkaushel क्या कोई यह बताएगा कि बैंक से हमें बिना नोटिस के क्यों निकाला जा रहा है? हम कहां जाएंगे और क्या खाएंगे? Vijay Kumar mishra Idfc First Bank poonamkaushel

Covid-19 महामारी के मद्देनजर पाकिस्तान में मौलानाओं और सरकार के बीच 20 बिंदुओं पर रजामंदी कोरोना वायरस के खतरे और लॉकडाउन की बंदिशों के बीच रमजान के महीने में नमाज अदा करने को लेकर पाकिस्तान सरकार और उलेमाओं ImranKhanPTI pid_gov मानेगा भी कौन? जब भारत मे मुस्सलमान नहीं मानते तो फिर पाकिस्तान में ऐसी कल्पना भी करना बेकार है।

सोनिया गांधी की डिमांड- प्रवासी मजदूरों के लिए खजाना खोले मोदी सरकार चीन के साथ सरहद पर तनाव को लेकर पीएम मोदी का 'मूड ठीक नहीं' है: ट्रंप खबरदार: पुलवामा पार्ट-2 में पाकिस्तान की भूमिका का विश्लेषण दिल्ली: AAP विधायक प्रकाश जारवाल की जमानत अर्जी कोर्ट से खारिज राहुल की मांग- लोगों को कर्ज नहीं, पैसे की जरूरत, 6 महीने तक गरीबों को आर्थिक मदद दे सरकार मोदी सरकार में मध्यम वर्ग क्या ताली और थाली ही बजाएगा? कोरोना पर बोले उद्धव ठाकरे, शुरुआत में नहीं की गई सही तरीके से जांच चीन को घेरने के लिए बनाया चक्रव्यूह! किसी भी चाल को कामयाब नहीं होने देगा भारत PM से हुआ प्रभावित, 10वीं के छात्र ने बना डाली 'टचलेस ऑटोमेटिक सेनेटाइजर मशीन' बिहारः सुशील मोदी बोले- RJD के 15 साल के शासनकाल में उद्योग-धंधे हो गए बंद कोविड-19 जैसे लक्षण दिखने पर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा अस्पताल में भर्ती